प्रशासन की नाक के नीचे चल रही बंगाली तंबाकू की कालाबाजारी, आखिर प्रशासन मौन क्यों



शाहाबाद,हरदोई।(अयोध्या टाइम्स)कोरोना वायरस के प्रकोप व लॉकडाउन को लेकर तम्बाकू बेचने व खरीदने पर रोक लगी हुई है। जिला प्रशासन की हिदायत के बावजूद शाहाबाद में प्रशासन की नाक के नीचे बेधड़क बंगाली तम्बाकू खरीदा व बेचा जा रहा है। बंगाली तंबाकू बनाने का कारखाना हरदोई जिले के शाहाबाद  नगर के मोहल्ला बरुआ बाजार में है जहाँ तंबाकू बनाई जाती थी लेकिन लाख डाउन के बाद सरकार ने तंबाकू के निर्माण व बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था।  लेकिन बंगाली तंबाकू के मालिकान ने  तंबाकू बिक्री का एक नया जरिया ढूंढ लिया है  बंगाली  तंबाकू के मालिकान   रात में  तंबाकू का निर्माण करवाते हैं और उन्हें एक-एक किलो के पैकेटों में भरकर बेचा जा रहा है ₹70 किलो वाली बंगाली तंबाकू अब ₹300 किलो बेंची जा रही हैं अब देखना यह है कि खबर चलने के बाद प्रशासन क्या कार्रवाई करता है


बाजार में तम्बाकू की किल्लत हो गई है। वहीं  खाने वाले परेशान हैं। किराना दुकानों व गुमटियों में बंगाली तम्बाकू  चोरी-छिपे बेचा जा रहा है। लॉकडाउन के दौरान सरकार ने गुटका, तंबाकू और सिगरेट पर प्रतिबंध भी लगा दिया है। लेकिन प्रतिबंध के बाद भी तम्बाकू काफी अधिक दामों में बेचा जा रहा है। इस समय पाँच रुपये में बिकने वाली बंगाली तम्बाकू 20 रुपये में बिक रही  है। प्रतिबंध की वजह से सख्ती हो गई है। तम्बाकू पर प्रतिबंध लगते ही गली-मोहल्लों की दुकानों पर इसकी कालाबाजारी हो रही है। लॉकडाउन के दौरान ही सरकार ने सार्वजनिक जगहों पर पान, गुटखा, तंबाकू आदि का सेवन कर जहां-तहां थूकने वालों पर कड़ी कार्रवाई के निर्देश भी जारी किए हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि सार्वजनिक जगहों पर पान, गुटखा या खैनी खाकर थूकने से कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ता है।


 

 



 

Comments