विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, May 12, 2020

बुजुर्ग महिला को ग्राम पंचायत सचिव व प्रधान मृतक दिखाकर पेंशन कटवा दिया बुजुर्ग महिला को नहीं मिल रहा है न्याय




जिला  संवाददाता विनय सिंह

विकासखंड सिद्धौर क्षेत्र के अंतर्गत एक जीवित बुजुर्ग महिला को ग्राम पंचायत सचिव और ग्राम प्रधान सत्यापन रिपोर्ट में मृतक दिखाकर पेंशन कटवा दी पीड़ित ग्राम प्रधान ग्राम पंचायत सचिव से लेकर ब्लाक मुख्यालय के अधिकारियों के चक्कर काट रही है  देश के प्रधानमंत्री  और प्रदेश सरकार    और गरीबों  के लिए आर्थिक सहायता पहुंचाने में लगी हुई है तो उन्हीं के कर्मचारी जिंदा व्यक्ति को मृतक दर्शा कर उनके जीवन यापन के लिए मिलने वाली पेंसन  को बन्द करवाने का कार्य कर रहे है पीड़ित बुजुर्ग महिला ने आज इसकी शिकायत डीएम से लेकर सीएम तक की है

कोरोना  वैश्विक महामारी के चलते  प्रधानमंत्री  और मुख्यमंत्री  गरीबों  मजदूरों बुजुर्गों  श्रमिकों  की आर्थिक सहायता के लिए लगातार    आर्थिक सहायता और जीवन यापन के लिए वृद्धा पेंशन भेजने  मैं लगी हुई है तो उन्हीं के कुछ भ्रष्ट कर्मचारी और अधिकारी  बुजुर्गों   के साथ  जिंदा को मुर्दा  दिखाकर  लाभ से वंचित करने में लगे हुए हैं सिद्धौर ब्लाक की ग्राम पंचायत सुहावा निवासी बुजुर्ग नंदरानी पत्नी छेदा लाल को वृद्धा पेंशन मिल रही थी  10 जून 2019 को ग्राम पंचायत सचिव पुष्पेंद्र कुमार और ग्राम प्रधान ने वृद्धा पेंशन पात्रों  सत्यापन की रिपोर्ट  समाज कल्याण विभाग को भेजी थी जिसमें जिंदा बुजुर्ग नंदरानी को मृतक दिखा दिखाकर वृद्धा पेंशन कटवा दी नंदरानी को इस बात को कोई जानकारी नहीं थी    बैंक कर्मचारियों द्वारा बताया गया की उनके खाते पर अभी तक  पेन्सन की धनराशि नहीं आई जिसके बाद ग्राम प्रधान पति विजय कुमार और ग्राम पंचायत सचिव से संपर्क किया जिस पर उन्होंने आश्वासन दिया कि मार्च तक आपके खाते में पेंशन आ जाएगी लेकिन अभी तक पेंशन नहीं आई  नंदरानी ने विकास भवन जिला मुख्यालय पहुंचकर जानकारी की तो पता चला कि  मृतक दिखाकर   उसकी पेंशन काट दी गई है  पीड़ित बुजुर्ग महिला ने मंगलवार को जिला अधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश से शिकायत की है की साहब अभी तक जिंदा हूं फिर मुझे मृतक कैसे कर दिया गया है जिन लोगों ने  कृत्य किया है उनके खिलाफ कार्यवाही कर न्याय की गुहार  लगाई है

खंड विकास अधिकारी सिद्धौर सरिता गुप्ता का कहना है ग्राम पंचायत सचिव द्वारा भेजी गई सत्यापन रिपोर्ट में यदि जीवित महिला को मृतक दिखाया गया है तो इससे घोर लापरवाही उजागर होती है और ग्राम पंचायत सचिवों द्वारा भेजी जाने वाली रिपोर्ट घर पर ही तैयार कर भेजी जाती ऐसा करने वाले सचिव के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी


 

 



 

No comments:

Post a Comment