विज्ञापन

विज्ञापन

Saturday, May 9, 2020

 महाराणा प्रताप

चढ़ चेतक पर जो हुंकार लगाता था


जिसके आने पर हर दुश्मन घबराता था

जिसकी तलवार से पापी का सिर अलग हो जाता था

मातृभूमि को बचाने के लिए वो भूखा सो जाता था

छत विछत कर डाला जिसने बड़ी हुकूमत को

ऐसे शूरवीर प्रताप की ख़ातिर ये धरती अभिमानी है

थी धन्य उनकी वीरता अमर उनकी कहानी है

 


No comments:

Post a Comment