विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, May 11, 2020

रमज़ान

मैं रोज़ा रहू और तुम्हारे साथ इफ्तारी हो जॉए 

काश नफरतें ख़त्म हो और अपनी यारी हो जाए । 

 

इक महीना ख़ुदा की इबादत में मशगूल हो जाओ 

ताकि अपनी भी कुछ हश्र की तैयारी हो जाए ।

 

शहर में ताले पड़ गए और हम घरों में कैद बैठे है 

दुआ करों तुम की अब ये ख़त्म बीमारी हो जाए । 

 

कोई ग़म से परेशां , कोई नफरत के आग़ोश में है 

क्यू न मोहब्बत भी एक दूसरे की जिम्मेदारी हो जाए।

 

ख़ल्वत में तुम्हें सोचने की आदत सी पड़ गयी 

काश तुम्हारी यादें भी यहां सरकारी हो जाए । 

 

सब एक हो , मोहब्बत से रहना लाज़िम हो 'अनवर'

इस मुल्क में अब ऐसा भी बयान जारी हो जाए । 

 

 

- हसीब अनवर 

  (बिहार) 

 

 

No comments:

Post a Comment