Posts

Showing posts from June, 2022

कर्मप्रधान विश्व रचि राखा

दुर्योधन ने एक अबला स्त्री को दिखा कर अपनी जंघा ठोकी थी, तो उसकी जंघा तोड़ी गयी। दु:शासन ने छाती ठोकी तो उसकी छाती फाड़ दी गयी। महारथी कर्ण ने एक असहाय स्त्री के अपमान का समर्थन किया, तो श्रीकृष्ण ने असहाय दशा में ही उसका वध कराया। भीष्म ने यदि प्रतिज्ञा में बंध कर एक स्त्री के अपमान को देखने और सहन करने का पाप किया, तो असँख्य तीरों में बिंध कर अपने पूरे कुल को एक-एक कर मरते हुए भी देखा...। भारत का कोई बुजुर्ग अपने सामने अपने बच्चों को मरते देखना नहीं चाहता, पर भीष्म अपने सामने चार पीढ़ियों को मरते देखते रहे। जब-तक सब देख नहीं लिया, तब-तक मर भी न सके... यही उनका दण्ड था। धृतराष्ट्र का दोष था पुत्रमोह, तो सौ पुत्रों के शव को कंधा देने का दण्ड मिला उन्हें। सौ हाथियों के बराबर बल वाला धृतराष्ट्र सिवाय रोने के और कुछ नहीं कर सका। दण्ड केवल कौरव दल को ही नहीं मिला था। दण्ड पांडवों को भी मिला। द्रौपदी ने वरमाला अर्जुन के गले में डाली थी, सो उनकी रक्षा का दायित्व सबसे अधिक अर्जुन पर था। अर्जुन यदि चुपचाप उनका अपमान देखते रहे, तो सबसे कठोर दण्ड भी उन्ही को मिला। अर्जुन पितामह भीष्म को सबसे अधिक प

पूजा अर्चना में वर्जित काम

Image
१) गणेश जी को तुलसी न चढ़ाएं २) देवी पर दुर्वा न चढ़ाएं ३) शिव लिंग पर केतकी फूल न चढ़ाएं ४) विष्णु को तिलक में अक्षत न चढ़ाएं ५) दो शंख एक समान पूजा घर में न रखें ६) मंदिर में तीन गणेश मूर्ति न रखें ७) तुलसी पत्र चबाकर न खाएं ८) द्वार पर जूते चप्पल उल्टे न रखें ९) दर्शन करके बापस लौटते समय घंटा न बजाएं १०) एक हाथ से आरती नहीं लेना चाहिए ११) ब्राह्मण को बिना आसन बिठाना नहीं चाहिए १२) स्त्री द्वारा दंडवत प्रणाम वर्जित है १३) बिना दक्षिणा ज्योतिषी से प्रश्न नहीं पूछना चाहिए १४) घर में पूजा करने अंगूठे से बड़ा शिवलिंग न रखें १५) तुलसी पेड़ में शिवलिंग किसी भी स्थान पर न हो १६) गर्भवती महिला को शिवलिंग स्पर्श नहीं करना है १७) स्त्री द्वारा मंदिर में नारियल नहीं फोडना है १८) रजस्वला स्त्री का मंदिर प्रवेश वर्जित है १९) परिवार में सूतक हो तो पूजा प्रतिमा स्पर्श न करें २०) शिव जी की पूरी परिक्रमा नहीं किया जाता २१) शिव लिंग से बहते जल को लांघना नहीं चाहिए २२) एक हाथ से प्रणाम न करें २३) दूसरे के दीपक में अपना दीपक जलाना नहीं चाहिए २४.१)चरणामृत लेते समय दायें हाथ के नीचे एक नैपकीन रखें ताकि एक

शुरुआती कक्षाओं के बच्चों की शिक्षा के लिए चुनौतीपूर्ण दौर से निपटने के लिए करना होगा आवश्यक उपाय

  शुरुआती कक्षाओं के बच्चों की शिक्षा के लिए चुनौतीपूर्ण दौर से निपटने के लिए करना होगा आवश्यक उपाय – एक लम्बे समय बाद फिर से स्कूल खुल गये गए है l बच्चों की चहल स्कूलों में बढ़ने लगी है l स्कूल परिसर में फिर से रौनक आने लगी हैl मासूम बच्चे फिर विद्या के मंदिर के पुजारी बनने की तैयारी से चल पड़े है l बच्चों के माता-पिता उनके सपनो को सजाने फिर से अपनी गाढ़ी कमाई को शिक्षा के लिए नौछावर करने के लिए निकल पड़े है l हर माता-पिता का एक सपना होता है कि उसका बच्चा उनसे भी अच्छा पद पर आसीन होकर जीवन के अच्छे से अच्छे मुकाम हासिल करे l इसके लिए वह हर संभव पढ़ाने की कोशिश करते है; और अपने बच्चों के भविष्य को सवारने के लिए शिक्षक रुपी गुरु के हाथो सौप देते है l गुरु की महिमा से हम सब परिचित है; गुरु बच्चों की कमजोर बुद्धि को कुशाग्र करने में अपना पूरा हुनर लगा देता है, तब कही बच्चे भविष्य के लिए सभ्य समाज में अपने कुशल नेतृत्व से रहने व सभी जीवन जीने के लिए तैयार हो पाते है l अभी कोरोनाकाल के बाद एक लम्बे समय बाद स्कूल अपने पूर्व गति से पुनः लगने के लिए तैयार है l हर स्कूल ने बच्चों को पढ़ाने का एक माइं

मिट्टी के घर खिलौनों की दुनिया

  खिलौनों की दुनिया के वो मिट्टी के घर याद आते हैं। -प्रियंका 'सौरभ' सदियों से मिटटी के घर बनाने की जो परम्परा चली आ रही है; भारत में 118 मिलियन घरों में से 65 मिलियन मिट्टी के घर हैं? यह भी सच है कि कई लोग अपने द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभों के लिए मिट्टी के घरों को पसंद करते हैं। दिलचस्प बात यह है कि हम शहरी केंद्रों में भी एक छोटा बदलाव देख रहे हैं, घर के मालिकों को लगता है कि उनके दादा-दादी के पास यह सही था। मिट्‌टी की झोपड़ी... फूस या खपरैल की छत। अगर यह विवरण सुनकर आप भारत के किसी दूर-दराज के पिछड़े गांव की तस्वीर दिमाग में बना रहे हैं तो आप गलत हैं। बदलते दौर में यह तस्वीर अब अमेरिका जैसे विकसित देश के मॉन्टेना या एरिजोना जैसे राज्यों में आपको दिख सकती है।  कोरोनाकाल के बाद लोगों को खर्च कम करने के साथ ही पर्यावरण की भी चिंता हुई। इसकी वजह से कई लोग वैकल्पिक आवासीय प्रणालियों की ओर आकर्षित हो रहे हैं। आज के आधुनिक समय में सभी लोग सीमेंट से बने घर में रहना पसंद करते हैं और मिट्टी से बने घर में किसी को भी रहना अच्छा नहीं लगता है। अब तो ज्यादातर गाँव में ही मिट्टी से बने घ

मंदी क्यों है व्यापार में ?

  मंदी क्यों है व्यापार में ??? बर्तन का व्यापारी परिवार के लिये जूते ऑनलाइन खरीद रहा है... जूते का व्यापारी परिवार के लिये मोबाइल ऑनलाइन खरीद रहा है... मोबाइल का व्यापारी परिवार के लिए कपडे ऑनलाइन खरीद रहा है... कपड़े का व्यापारी परिवार के लिये घड़ी ऑनलाइन ख़रीद रहा है... घडी का व्यापारी बच्चों के लिए खिलोने ऑनलाइन ख़रीद रहा है... खिलोने का व्यापारी घर के लिये बर्तन ऑनलाइन खरीद रहा है ... और ये सब रोज सुबह अपनी-अपनी दुकान खोल कर अगरबत्ती लगा कर भगवान से प्रार्थना कर रहे हैं कि आज धंधा अच्छा हो जाये... कहाँ से होगी बिक्री ??? खरीददार आसमान से नहीं आते हम ही एक दूसरे का सामान खरीद कर बाजार को चलाते हैं क्योंकि हर व्यक्ति कुछ न कुछ बेच रहा है और हर व्यक्ति खरीददार भी है... ऑनलाइन खरीदी करके आप भले 50-100 रु की एक बार बचत कर लें लेकिन इसके नुक्सान बहुत हैं क्योंकि ऑनलाइन खरीदी से सारा मुनाफा बड़ी बड़ी कंपनियों को जाता है जिनमें काफी विदेशी कंपनियां भी हैं... ये कम्पनियाँ मुठ्ठीभर कर्मचारियों के बल पर बाजार के एक बहुत बड़े हिस्से पर कब्जा कर लेती हैं, ये कम्पनियां बेरोजगारी पैदा कर रही हैं और

पूजा अर्चना में वर्जित काम

Image
१) गणेश जी को तुलसी २) देवी पर दुर्वा ३) शिव लिंग पर केतकी फूल ४) विष्णु को तिलक में अक्षत ५) दो शंख एक समान ६) तीन गणेश ७) तुलसी चबाना ८) द्वार पर जूते चप्पल उल्टे ९) दर्शन करके बापस लौटते समय घंटा १०) एक हाथ से आरती लेना ११) ब्राह्मण को बिना आसन बिठाना १२) स्त्री द्वारा दंडवत प्रणाम १३) बिना दक्षिणा ज्योतिषी से पूछना १४) घर में अंगूठे से बड़ा शिवलिंग १५) तुलसी पेड़ में शिवलिंग १६) गर्भवती महिला को शिवलिंग स्पर्श १७) स्त्री द्वारा मंदिर में नारियल फोडना १८) रजस्वला स्त्री का मंदिर प्रवेश १९) परिवार में सूतक हो तो पूजा प्रतिमा स्पर्श २०) शिव जी की पूरी परिक्रमा २१) शिव लिंग से बहते जल को लांघना २२) एक हाथ से प्रणाम २३) दूसरे के दीपक में अपना दीपक जलाना २४) अगरबत्ती जलाना बांस की सींक वाली २५) देवता को लोभान या लोभान की अगरबत्ती २६) स्त्री द्वारा हनुमानजी शनिदेव को स्पर्श २७) कन्या ओ से पैर पडवाना २८) मंदिर में परस्त्री को ग़लत निगाह से देखना २९) मंदिर में भीड़ में परस्त्री से धक्का मुक्की ३०) साईं की अन्य प्रतिमाओं के साथ स्थापना ३१) शराबी का भैरव के अलावा अन्य मंदिर प्रवेश ३२) किसी ता

चलो साथ दे दो जीत हम जाएंगे

वक्त की आंधियां आओ सह लें चलो लड़खड़ाते कदम फिर संभल जाएंगे आओ हम ही चलो आज झुक जाएंगे टूटते रिश्ते फिर से संभल जाएंगे..।। रिश्तों के खेत में हो उपज प्रेम की खुशियों के उर्वरक से ही हरियाली हो काट लें आओ मिलकर फसल प्रेम की मन के खलिहान फिर से संवर जाएंगे..।। जो कभी थे हमारे वो अब क्यों नहीं प्रीति सच्ची थी पहले तो अब क्यों नहीं आओ छोड़ो शिकायत ख़तम करते हैं आज फिर पहले जैसे निखर जाएंगे..।। अपनों से खेद ज्यादा उचित भी नहीं रख लो मत भेद मन भेद फिर भी नहीं अपनों से जीत जाना भी इक हार है हार मानो चलो एक हो जाएंगे..।। सच्ची निष्ठा प्रतिष्ठा सदा प्रेम से जीवन में बस प्रगति अपनों के साथ से एक जुटता से ही मिलता संबल सदा साथ दे दो चलो जीत हम जाएंगे..।। साथ दे दो चलो जीत हम जाएंगे..।। ् विजय कनौजिया

बंटवारा दो भाइयों के बीच का

Image
  दो भाइयों के बीच "बंटवारे" के बाद की बनी हुई तस्वीर है। बाप-दादा के घर की देहलीज को जिस तरह बांटा गया है यह हर गांव घर की असलियत को भी दर्शाता है। दरअसल हम "गांव" के लोग जितने खुशहाल दिखते हैं उतने हैं नहीं। जमीनों के केस, पानी के केस, खेत-मेढ के केस, रास्ते के केस, मुआवजे के केस,बंजर तालाब के झगड़े, ब्याह शादी के झगड़े , दीवार के केस,आपसी मनमुटाव, चुनावी रंजिशों ने समाज को खोखला कर दिया है। अब "गांव" वो नहीं रहे कि "बस" या अन्य 'वाहनो' में गांव की लडकी को देखते ही सीट खाली कर देते थे बच्चे। दो चार "थप्पड" गलती पर किसी बड़े बुजुर्ग या ताऊ ने ठोंक दिए तो इश्यू नहीं बनता था तब। लेकिन अब..आप सब जानते ही है अब हम पूरी तरह बंटे हुए लोग हैं। "गांव" में अब एक दूसरे के उपलब्धियों का सम्मान करने वाले, प्यार से सिर पर हाथ रखने वाले लोग संभवतः अब मिलने मुश्किल हैं।वह लगभग गायब से हो गये हैं ... हालात इस कदर "खराब" है कि अगर पडोसी फलां व्यक्ति को वोट देगा तो हम नहीं देंगे। इतनी नफरत कहां से आई है लोगों में ये सोचने और

पतीला का दाल भात

Image
पहले तसला, भगौना, पतीला (खुला बर्तन) में दाल-भात बनता था, अदहन जब अनाज के साथ उबलता था तो बार-बार एक मोटे झाग की परत जमा करती थी, जिसे अम्मा रह-रह के निकाल के फेक दिया करती थी। पूछने पर कहती कि "ई से तबियत खराब होत है । बाद में बड़े होने पर पता चला वो झाग शरीर मे यूरिक_एसिड बढ़ाता है और अम्मा इसीलिए वो झाग फेंक दिया करती थी। अम्मा ज्यादा पढ़ी लिखी तो नही थी पर ये चीज़े उन्होंने नानी से और नानी ने अपनी माँ से सीखा था। अब कूकर में दाल-भात बनता है, पता नही झाग कहा जाता होगा, ज्यादा दाल खाने से पेट भी खराब हो जाते हैं। डॉक्टर कहते हैं एसिडिटी है। पुराने ज्ञान को याद करिये विज्ञान छुपा है ।

डरता है मुर्दा, कहीं कफ़न बिक न जाए

बिक रहा पानी, पवन बिक न जाए, बिक गयी धरती, गगन बिक न जाए !  अब तो चाँद पर भी बिकने लगी है ज़मीं  डर है कि सूरज की तपन बिक न जाए !  देकर दहेज खरीदा गया है दुल्हे को  कहीं उसी के हाथों दुल्हन बिक न जाए !  धर्म लाचार है ठेकेदारों के पैरों तले,  डर है कि कहीं ये अमन बिक न जाए !  हर काम की रिश्वत ले रहे हैं नेता.  उनके हाथों कहीं ये वतन बिक न जाए !  सरेआम बिकने लगे हैं अब तो सांसद,  डर है कि संसद भवन बिक न जाए !  आदमी मरा तो भी आखें खुली हुई है,  डरता है मुर्दा, कहीं कफ़न बिक न जाए !!

राजा विक्रमादित्य के नवरत्नों को जानने का प्रयास

Image
  महाराजा विक्रमादित्य के नवरत्नों की कोई चर्चा पाठ्यपुस्तकों में नहीं है। जबकि सत्य यह है कि अकबर को महान सिद्ध करने के लिए महाराजा विक्रमादित्य की नकल करके कुछ धूर्तों ने इतिहास में लिख दिया कि अकबर के भी नौ रत्न थे । राजा विक्रमादित्य के नवरत्नों को जानने का प्रयास करते हैं। राजा विक्रमादित्य के दरबार में मौजूद नवरत्नों में उच्च कोटि के कवि, विद्वान, गायक और गणित के प्रकांड पंडित शामिल थे, जिनकी योग्यता का डंका देश-विदेश में बजता था। चलिए जानते हैं कौन थे। ये हैं नवरत्न – 1– #धन्वन्तरि - नवरत्नों में इनका स्थान गिनाया गया है। इनके रचित नौ ग्रंथ पाये जाते हैं। वे सभी आयुर्वेद चिकित्सा शास्त्र से सम्बन्धित हैं। चिकित्सा में ये बड़े सिद्धहस्त थे। आज भी किसी वैद्य की प्रशंसा करनी हो तो उसकी ‘धन्वन्तरि’ से उपमा दी जाती है। 2– #क्षपणक - जैसा कि इनके नाम से प्रतीत होता है, ये बौद्ध संन्यासी थे। इससे एक बात यह भी सिद्ध होती है कि प्राचीन काल में मन्त्रित्व आजीविका का साधन नहीं था अपितु जनकल्याण की भावना से मन्त्रिपरिषद का गठन किया जाता था। यही कारण है कि संन्यासी भी मन्त्रिमण्डल

खाटू श्याम बाबा की कहानी

Image
राजस्थान के सीकर जिले में श्री खाटू श्याम जी का सुप्रसिद्ध मंदिर है. वैसे तो खाटू श्याम बाबा के भक्तों की कोई गिनती नहीं लेकिन इनमें खासकर वैश्य, मारवाड़ी जैसे व्यवसायी वर्ग अधिक संख्या में है. श्याम बाबा कौन थे, उनके जन्म और जीवन चरित्र के बारे में जानते हैं इस लेख में. खाटू श्याम जी का असली नाम बर्बरीक है. महाभारत की एक कहानी के अनुसार बर्बरीक का सिर राजस्थान प्रदेश के खाटू नगर में दफना दिया था. इसीलिए बर्बरीक जी का नाम खाटू श्याम बाबा के नाम से प्रसिद्ध हुआ. वर्तमान में खाटूनगर सीकर जिले के नाम से जाना जाता है. खाटू श्याम बाबा जी कलियुग में श्री कृष्ण भगवान के अवतार के रूप में माने जाते हैं. श्याम बाबा घटोत्कच और नागकन्या नाग कन्या मौरवी के पुत्र हैं. पांचों पांडवों में सर्वाधिक बलशाली भीम और उनकी पत्नी हिडिम्बा बर्बरीक के दादा दादी थे. कहा जाता है कि जन्म के समय बर्बरीक के बाल बब्बर शेर के समान थे, अतः उनका नाम बर्बरीक रखा गया. बर्बरीक का नाम श्याम बाबा कैसे पड़ा, आइये इसकी कहानी जानते हैं. बर्बरीक बचपन में एक वीर और तेजस्वी बालक थे. बर्बरीक ने भगवान श्री कृष्ण और अपनी माँ मौरवी से य

“मैंने दहेज़ नहीं माँगा”

  साहब मैं थाने नहीं आउंगा, अपने इस घर से कहीं नहीं जाउंगा, माना पत्नी से थोड़ा मन-मुटाव था, सोच में अन्तर और विचारों में खिंचाव था, पर यकीन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा” . मानता हूँ कानून आज पत्नी के पास है, महिलाओं का समाज में हो रहा विकास है। चाहत मेरी भी बस ये थी कि माँ बाप का सम्मान हो, उन्हें भी समझे माता पिता, न कभी उनका अपमान हो । पर अब क्या फायदा, जब टूट ही गया हर रिश्ते का धागा, यकीन मानिए साहब, “मैंने दहेज़ नहीं माँगा” . परिवार के साथ रहना इसे पसंद नहीं है, कहती यहाँ कोई रस, कोई आनन्द नही है, मुझे ले चलो इस घर से दूर, किसी किराए के आशियाने में, कुछ नहीं रखा माँ बाप पर प्यार बरसाने में, हाँ छोड़ दो, छोड़ दो इस माँ बाप के प्यार को, नहीं माने तो याद रखोगे मेरी मार को, . फिर शुरू हुआ वाद विवाद माँ बाप से अलग होने का, शायद समय आ गया था, चैन और सुकून खोने का, एक दिन साफ़ मैंने पत्नी को मना कर दिया, न रहूँगा माँ बाप के बिना ये उसके दिमाग में भर दिया। बस मुझसे लड़कर मोहतरमा मायके जा पहुंची, . 2 दिन बाद ही पत्नी के घर से मुझे धमकी आ पहुंची, माँ बाप से हो जा अलग, नहीं सबक सीखा