विज्ञापन

विज्ञापन

Thursday, October 31, 2019

कठिन उपासना

आया पर्व उपासना का
साफ होते घाट
डाला दौड़ा सज रहे
माताएँ करे उपवास।।
आरोग निरोग मन्नतें का
डूबते उगते सूर्य का
गंगा के तटपर देखो
दूध से हो रहा अभिषेक।।
बज रही है हर तरफ 
छठी मैया की गीत
वातावरण में फैला
मीठे मीठे संगीत।।
आस्था की बाढ सी आयी
जिसे देखो वो छठी मैया के गुण गायी
चार दिनो की उपासना करते है लोग
गंगा में डूबकी लगा पवित्र होते हैं लोग।
पटना का छठ है मनोरम
फैलाता जन मानस को संदेश
स्वच्छता पवित्रता का यह पर्व
आपसी भाईचारे का देता संदेश
आओ सब मिलकर बनायें और विशेष।।


                                आशुतोष


लोक संस्कृति से मिलता है संस्कार

छात्रों में गजब की संघर्ष करनेएपरिस्थति से लड़ने के साथ.साथ अपनी प्रतिभा को निखारने के लिए जुझारूपन होता है। विशेषर ग्रामीण छात्रों मेंए इनका संघर्ष प्रायः बचपन से ही शूरू हो जाता है।बस निखारने के लिए थोडी देख रेख की जरूरत होती है। गाँव की लोक संस्कृति से इनका लगाव शूरू से होता है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों को देखते गाँव में ये पलते है बचपन में स्कूल और कोचिंग के साथ घर और खेतो में काम मवेशियों की देखभाल और पढाई करना तो पडता ही है साथ ही गरीबी से जूझना भी पडता है न मन पसंद कपडे होते और न खाने की मनपसंद चीजेंए दिक्कतों से नित रू.ब. रू होकर जैसे तैसे मैट्रिक तो गाँव में पास कर लेते हैं फिर शहरो में एडमिशन और खाने की भी गंभीर संकट से गुजरना होता हैए पर इतनी छोटी उम्र में भी इनकी परिपक्वता देखते ही बनती है।जो इन्हें लोक नाटको और पौराणिक कहानियो के जरिये बचपन में मिलता है।वही इनकी स्टेमिना को बरकरार रखता है।साथ ही साथ हमारे पर्व त्योहारो पर उनकी आस्था और  बीतते वक्त के साथ प्रगाढ होता जाता है जो कही न कही उन्हें आत्मबल और लोगो से जोडता जाता है साथ ही साथ उनका संस्कार भी अच्छा हो जाता है।समाजिक गतिविधियों का ज्ञान जितना बढेगा संस्कार उतने ही निखरेंगे और सफलता मिलेगी।
पिताजी किसी तरह कर्ज लेकर या खेतो को गिरवी रखकर पढाई कराते है । विद्यार्थी भी चित से पढता है पर मन तो शहर की रंग विरंगी दुनिया देखकर हर कदम पर खर्च करना चाहता है।दोस्तो के आगे कई बार लज्जित होना पडता है। शहर की चाटूकारिता से अनभिज्ञ गाँव का लड़का मन मसोस मसोस कर फिर कभी के लिए टाल जाता है।दरअसल सीमित पैसे जो उसके पढाई के लिए दिए जाते उसकी जिम्मेदारी को निभाकर वो सिर्फ अपनी मंजिल की ओर देखता रहता है। कभी भूलचूक से कुछ खर्च हो भी जाता है तो वह अफसोस करता है। अपने पिता के परिश्रम के लिए सोचता भी है।शहर के माहौल में धीरे धीरे वह गति पकडता है।बोलचाल भाषा को लेकर भी दिकक्ते आती है जिसके कारण लज्जित होकर नित सीखना पड़ता है। इसी तरह कुछ खट्टे कुछ मीठे अनुभवो के साथ काँलेज की पढाई पूरी होती है।
               दर असल शुरू से गाँव के परिवेश में रहकर शहर आये लड़को को कई दैनिक परेशानियों से गुजरना होता है जिसमें भोजन कपडे बुक फीस कई ऐसी चीजे है जिसकी परेशानी से लड़कर वह परिपक्वता हासिल करता है उसमें परिस्थिति से लड़ने और समयानुकूल कार्य करने की आदत बन जाती है जो उसके सफलता का मार्ग बनाता है जब वह हाईयर एजुकेशन प्राप्त कर लेता है तो एक परिपक्व मानसिकता के साथ बडा से बडा कम्पीटीशन फेश कर अव्वल दर्जे से पास करता है।यही कारण है कि शहर  के लडकेध्लडकियों के मुकाबले गाँव की सफलता दर ज्यादा है वैसे भी गाँव ने ही अव्वल दर्जे के सबसे ज्यादा प्रशासनिक अधिकारीए सेना के अधिकारी जवान देश को दिए है जो निरंतर जारी है।इनमें देशभक्ति का जज्वा कूटकूट कर भरा होता है।इसलिए तो कहा गया है ग्रामीण लोक संस्कृति और उसका ज्ञान ही हमारी पूँजी है। 


Wednesday, October 30, 2019

लोकतंत्र में बहुमत की राय का आदर और वोटर को इज्जत सिर्फ ढकोसला

पॉलिटिकल साइंस के सेमिनार में एक विद्यार्थी का बयान था कि मेरा तो यक़ीन लोकतंत्र पर से सन 1996 में ही उठ गया था..
कहने लगा कि ये उन दिनों की बात है जब एक शनिवार को मैं मेरे बाक़ी तीनों बहन भाई, मम्मी पापा के साथ मिलकर रात का खाना खा रहे थे ।
पापा ने पूछा:- कल तुम्हारे चाचा के घर चलें या मामा के घर?
हम सब भाइयों बहनों ने मिलकर बहुत शोर मचा कर चाचा के घर जाने को कहा, सिवाय मम्मी के जिनकी राय थी कि मामा के घर जाया जाए।
बात बहुमत की मांग की थी और अधिक मत चाचा के खेमे में पड़े थे ...बहुमत की मांग के मुताबिक़ तय हुआ कि चाचा के घर जाना है। मम्मी हार गईं। पापा ने हमारे मत का आदर करते हुए चाचा के घर जाने का फैसला सुना दिया। हम सब भाई बहन चाचा के घर जाने की ख़ुशी में जा कर सो गये।
रविवार की सुबह उठे तो मम्मी गीले बालों को तौलिए से झाड़ते हुए बमुश्किल अपनी हंसी दबा रहीं थीं..उन्होंने हमसे कहा के सब लोग जल्दी से कपड़े बदल लो हम लोग मामा के घर जा रहें हैं।
मैंने पापा की तरफ देखा जो ख़ामोशी और तवज्जो से अख़बार पढ़ने की एक्टिंग कर रहे थे.. मैं मुंह ताकता रह गया..
बस जी! मैंने तो उसी दिन से जान लिया है कि लोकतंत्र में बहुमत की राय का आदर... और वोटर को इज़्ज़त ... सब ढकोसले है।
"असल फैसला तो बन्द कमरे में उस वक़्त होता है जब ग़रीब जनता सो रही होती है"
इसके बाद उस विद्यार्थी ने पोलिटिकल साइंस छोड़कर इकोनॉमिक्स ले ली।


क्या मोदी जी आजादी का इतिहास दोहराने की कोशिश तो नहीं कर रहे?

देश का जब संविधान लिखा जा रहा था तो जवाहरलाल नेहरू को नींद नहीं आ रही थी क्योंकि संविधान को एक अछूत बाबा साहब अम्बेडकर  लिख रहे थे।  
    नेहरू रात में ही गाँधी के पास गया, गांधी सो रहा था,नेहरू ने गाँधी को जगाया । नेहरू ने गांधी से कहा-बापू आप सो रहे हैं और मुझे नींद नहीं आ रही है क्योंकि अम्बेडकर संविधान लिख रहा है न जाने अपने लोगों के लिए क्या-क्या लिख देगा।  गांधी ने मुस्करा कर कहा - अरे पंडित क्यों चिंता करता है, लागू तो तुझे ही करना है । 


  बाबा साहब अम्बेडकर ने संविधान में दलित व पिछड़ों के लिए आरक्षण की व्यवस्था की। संविधान लागू हो गया।  आजाद भारत में प्रथम आम चुनाव हो गया था पूरे देश में कांग्रेस की सरकार बनी। सभी राज्यों में कांग्रेस के मुख्यमंत्री बने। सरकारी कर्मचारियों की भर्ती होनी थी। नेहरू ने गांधी से पूछा कि - बापू आरक्षण का क्या करना है? तब गांधी ने एक छोटी सी पर्ची पर गुप्त तरीके से लिख कर दिया कि- "पंडित  वेकेंसी निकालो और भर्ती की पूरी प्रक्रिया पूरी करो लेकिन दलित व पिछड़ों को नहीं लेना है और उनकी खाली वेकेंसी के सामने लिखना है कि-कोई योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला " यह सुन कर नेहरू खुश हो गया और बोला कि बापू मैं समझ गया। 


   पूरे देश में कर्मचारियों की भर्ती निकाली,प्रक्रिया पूरी की गयी लेकिन पूरे देश के मुख्यमंत्रियों पर वह गांधी की  पाती गुप-चुप पहुंचायी गयी।  दलित पिछड़ों को भर्ती नहीं किया गया । उनकी वेकेंसी के सामने लिख दिया गया कि  " कोई योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला " यह देख कर बाबा साहब अम्बेडकर  बहुत दुखी हुए तब उन्होंने कहा कि - " शिक्षित बनो "


आज वही गांधी की पाती सरकार द्वारा फिर अमल में लायी जा रही है।  61 फीसदी वेकेंसी के लिए योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला कह कर वेकेंसी खाली छोड़ दी गयीं हैं।


मेरे चंद गुनाहों की किताब

वो मेरे चंद गुनाहों की किताब रखता है
नौसिखिया है, इश्क़ में हिसाब रखता है  

नींद आएगी नहीं उसे किसी भी सूरत में
आँखों में बे - हिसाब मेरे ख्वाब रखता है

कहता है  कि मेरे निशाँ तक  मिटा  देगा
और आँगन में  मुझे  माहताब*  रखता है

बुझा कर रौशनी  पूरे घर में  सूना बैठा है
और पलकों में छुपाके मेरे आब रखता है

जिन सवालों से मुझे घेरने की कोशिशें हुईं
अपने होंठों पर उनके खूब जवाब रखता है  

*आब-चमक  
*माहताब-चाँद

सलिल सरोज
कार्यकारी अधिकारी
लोक सभा सचिवालय
संसद भवन
नई दिल्ली 


 

 

 संपूर्ण समर्पण और त्याग का छठ  पर्व

पुराण में छठ पूजा के पीछे की कहानी राजा प्रियंवद को लेकर है। कहते हैं राजा प्रियंवद को कोई संतान नहीं थी तब महर्षि कश्यप ने पुत्र की प्राप्ति के लिए यज्ञ कराकर प्रियंवद की पत्नी मालिनी को आहुति के लिए बनाई गई खीर दी। इससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई लेकिन वो पुत्र मरा हुआ पैदा हुआ। प्रियंवद पुत्र को लेकर श्मशान गए और पुत्र वियोग में प्राण त्यागने लगे। उसी वक्त भगवान की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने राजा से कहा कि क्योंकि वो सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं, इसी कारण वो षष्ठी कहलातीं हैं। उन्होंने राजा को उनकी पूजा करने और दूसरों को पूजा के लिए प्रेरित करने को कहा।



राजा प्रियंवद ने पुत्र इच्छा के कारण देवी षष्ठी की व्रत किया और उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। कहते हैं ये पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को हुई थी और तभी से छठ पूजा होती है। इस कथा के अलावा एक कथा राम-सीता जी से भी जुड़ी हुई है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब राम-सीता 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे तो रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए उन्होंने ऋषि-मुनियों के आदेश पर राजसूर्य यज्ञ करने का फैसला लिया। पूजा के लिए उन्होंने मुग्दल ऋषि को आमंत्रित किया । मुग्दल ऋषि ने मां सीता पर गंगा जल छिड़क कर पवित्र किया और कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को सूर्यदेव की उपासना करने का आदेश दिया। जिसे सीता जी ने मुग्दल ऋषि के आश्रम में रहकर छह दिनों तक सूर्यदेव भगवान की पूजा की थी।



एक मान्यता के अनुसार छठ पर्व की शुरुआत महाभारत काल में हुई थी। इसकी शुरुआत सबसे पहले सूर्यपुत्र कर्ण ने सूर्य की पूजा करके की थी। कर्ण भगवान सूर्य के परम भक्त थे और वो रोज घंटों कमर तक पानी में खड़े होकर सूर्य को अर्घ्य देते थे। सूर्य की कृपा से ही वह महान योद्धा बने। आज भी छठ में अर्घ्य दान की यही परंपरा प्रचलित है। छठ पर्व के बारे में एक कथा और भी है। इस कथा के मुताबिक जब पांडव अपना सारा राजपाठ जुए में हार गए तब दौपदी ने छठ व्रत रखा था। इस व्रत से उनकी मनोकामना पूरी हुई थी और पांडवों को अपना राजपाठ वापस मिल गया था। लोक परंपरा के मुताबिक सूर्य देव और छठी मईया का संबंध भाई-बहन का है। इसलिए छठ के मौके पर सूर्य की आराधना फलदायी मानी गई।


किंवदंती के अनुसार, ऐतिहासिक नगरी मुंगेर के सीता चरण में कभी मां सीता ने छह दिनों तक रह कर छठ पूजा की थी। पौराणिक कथाओं के अनुसार 14 वर्ष वनवास के बाद जब भगवान राम अयोध्या लौटे थे तो रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए ऋषि-मुनियों के आदेश पर राजसूय यज्ञ करने का फैसला लिया। इसके लिए मुग्दल ऋषि को आमंत्रण दिया गया था, लेकिन मुग्दल ऋषि ने भगवान राम एवं सीता को अपने ही आश्रम में आने का आदेश दिया। ऋषि की आज्ञा पर भगवान राम एवं सीता स्वयं यहां आए और उन्हें इसकी पूजा के बारे में बताया गया। मुग्दल ऋषि ने मां सीता को गंगा छिड़क कर पवित्र किया एवं कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष षष्ठी तिथि को सूर्यदेव की उपासना करने का आदेश दिया। यहीं रह कर माता सीता ने छह दिनों तक सूर्यदेव भगवान की पूजा की थी।


एक मान्यता के अनुसार, लंका पर विजय पाने के बाद रामराज्य की स्थापना के दिन कार्तिक शुक्ल षष्ठी को भगवान राम और माता सीता ने उपवास किया और सूर्यदेव की पूजा की। सप्तमी को सूर्योदय के वक्त फिर से अनुष्ठान कर सूर्यदेव से आशीर्वाद प्राप्त किया था। यही परंपरा अब तक चली आ रही है।


छठ पूजा का महत्व एवं विधि


 


छठ पूजा : अस्ताचलगामी और उदीयमान सूर्य को देते हैं अर्घ्य


नवरात्रि और दूर्गा पूजा की तरह छठ भी हिंदूओं के प्रमुख त्यौहारों में से एक है। छठ पूजा को लेकर हिन्दुओं में काफी आस्था होती है। हालांकि अब यह पर्व हर जगह मनाया जाने लगा है, लेकिन मुख्य रुप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश और नेपाल के तराई क्षेत्रों में इस पर्व को लेकर एक अलग ही उत्साह देखने को मिलता है। छठ पूजा मुख्य रूप से सूर्यदेव की उपासना का पर्व है। इस दौरान डूबते और उगते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार छठ सूर्य देव की बहन हैं और सूर्योपासना करने से छठ माता प्रसन्न होकर घर परिवार में सुख-शांति व धन-धान्य प्रदान करती हैं।


कार्तिक छठ पूजा का है विशेष महत्व


भगवान भाष्कर की आराधना का यह पर्व साल में दो बार मनाया जाता है, चैत्र शुक्ल की षष्ठी व कार्तिक शुक्ल की षष्ठी को। चैत्र शुक्ल की षष्ठी को काफी कम लोग यह पर्व मनाते हैं, लेकिन कार्तिक शुक्ल की षष्ठी को मनाया जाने वाला छठ पर्व मुख्य माना जाता है। चार दिनों तक चलने वाले कार्तिक छठ पूजा का विशेष महत्व है।


क्यों की जाती है छठ पूजा


छठ पूजा मुख्य रूप से सूर्य देव की उपासना कर उनकी कृपा पाने के लिये की जाती है। भगवान भास्कर की कृपा से सेहत अच्छी रहती है और घर में धन धान्य की प्राप्ति होती है। संतान प्राप्ति के लिए भी छठ पूजन का विशेष महत्व है।


कौन हैं छठ माता और कैसे हुई उत्पत्ति?


छठ माता को सूर्य देव की बहन बताया जाता है, लेकिन छठ व्रत कथा के अनुसार छठ माता भगवान की पुत्री देवसेना बताई गई हैं। अपने परिचय में वे कहती हैं कि वह प्रकृति की मूल प्रवृत्ति के छठवें अंश से उत्पन्न हुई हैं यही कारण है कि उन्हें षष्ठी कहा जाता है। संतान प्राप्ति की कामना करने वाले विधिवत पूजा करें, तो उनकी मनोकामना पूरी होती है। यह पूजा कार्तिक शुक्ल की षष्ठी को करने का विधान बताया गया है।


पौराणिक ग्रंथों में इसे रामायण काल में भगवान श्री राम के अयोध्या वापसी के बाद माता सीता के साथ मिलकर कार्तिक शुक्ल षष्ठी को सूर्योपासना करने से भी जोड़ा जाता है।


चार दिनों तक चलती है छठ पूजा


छठ पूजा चार दिनों तक चलती है और इसे काफी कठिन और विधि-विधान वाला पर्व माना जाता है। इसके लिए पूजा से पहले काफी साफ-सफाई की जाती है। घर के आस-पास भी कहीं गंदगी नहीं रहने दी जाती।


नहाय-खाय


पूजा के पहले दिन नहाय खाय होता है। इसकी शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को होती है। मान्यता है कि इस दिन व्रती स्नान कर नए वस्त्र धारण करते हैं और शाकाहारी भोजन करते हैं। इस दिन लौकी-भात (लौकी की सब्जी और चावल, दाल आदि) की परंपरा है। पूजा के दौरान बाजार में लौकी की कीमत भी काफी बढ़ जाती है। नहाय खाय के दिन व्रती के भोजन करने के पश्चात ही घर के अन्य सदस्य भोजन करते हैं।


खरना


छठ पूजा के तहत नहाय-खाय के दूसरे दिन खरना होता है। कार्तिक शुक्ल पंचमी को पूरे दिन व्रत रखा जाता है और शाम को व्रती भोजन ग्रहण करते हैं। इसे खरना कहा जाता है। इस दिन अन्न व जल ग्रहण किए बिना उपवास किया जाता है। शाम को चावल और गुड़ से खीर बनाकर खायी जाती है और लोगों के बीच इसका प्रसाद भी वितरित किया जाता है। इसमें  नमक व चीनी का इस्तेमाल नहीं किया जाता। खीर बनाने में भी गुड़ का इस्तेमाल होता है।


खरना के दूसरे दिन घी में बनता है प्रसाद


खरना के दूसरे दिन षष्ठी को छठ पूजा का प्रसाद बनाया जाता है। इसमें ठेकुआ का विशेष महत्व होता है। अर्घ्य के लिए ठेकुआ बनता है वह पूरी तरह से घी में ही बनाया जाता है। ठेकुआ बनाने के लिए <span style="font-f


...


Tuesday, October 29, 2019

वर्तमान भारत और गाँधी जी

 आज देश के राजनैतिक दलों की जो हालत है उनमें जो भ्रष्टाचार और दुराचार व्याप्त हैए सत्ता पर कब्जा करने के लिए जो अनीतिपूर्ण हथकण्डे अपनाये जा रहे हैं और उससे देश की जो बरबादी हो रही हैए ऐसे संकटपूर्ण अवसर पर गाँधी जी की याद आना स्वाभाविक है। गाँधी जी का उपदेश था कि किसी ऊँचे उद्देश्य में सफलता प्राप्त कर लेना ही काफी नहीं हैंए उस सफलता प्राप्त करने के साधन भी शुद्ध और नैतिक होना चाहिएए धर्म बिना राजनीति वेश्या समान हैएष्ष् उन्होंने कहा किजहाँ हिन्दू ष्ष्धर्म को स्थान नहीं है वहाँ मैं रहना नहीं चाहूँगा।ष्ष् उनके आश्रम में कोई दुराचारी भ्रष्टाचारी व्यक्ति घुस नहीं सकता था। वे आश्रम के एक.एक पैसे का हिसाब रखवाते थे। उन्होंने अपने परिवार वालों का कभी पक्ष नहीं लिया। गाँधी जी के जीवन पर विश्व में सैकड़ों पुस्तकें लिखी गई हैं और दुनियाँ में जितना आदर उनको प्राप्त है उतना किसी को भी नहीं है। भारत के अधिकतर उद्योगपति व बुद्धजीवी यह मानते हैं कि गाँधी जी से नफरत के आधार पर जो हिन्दुत्व बनेगा वह हमें नहीं चाहिए।
 आज राजनैतिक दल किसी अशुद्ध अनैतिक साधन से रत्ता पर कब्जा करना उचित समझते हैंै। इससे देश में भ्रष्टाचार और दुराचार फैल रहा है। गाँधी जी का कहना था गलत साधनों से आजादी प्राप्त कर लेना मुझे स्वीकार नहीं हैं। उन्होंने जीवन भर संयम ब्रह्मचर्यए सत्य अहिंसाए रामधुन गोरक्षाए हरिजनोद्धारए धर्मपरिवर्तन विरोधए नारी उद्धार गाँवों का उद्धार इत्यादि में बिताये और अहिंसा के भगीरथ प्रयत्न द्धारा सारे देश को एक करके 700 वर्ष की गुलामी को दूर करके भारतवासियों को आजादी दिलाने में अपना योगदान दिया तत्पश्चात विश्व के 112 देशों को बिना हिंसा के आजादी प्राप्त हुई। यह दुर्भाग्य पूर्ण है कि दुनियाँ के देशों में इनकी महानता को नहीं समझा अन्यथा दुनियाँ में आज इतनी हिंसा नहीं होती और भारत को इसका श्रेय प्राप्त होता।
 देश के राजनैतिक दलों ने गाँधी जी के त्यागपूर्णए तपस्वी जीवन रद्दी की टोकरी ने डाल दियाए इससे देश में आदर्शपूर्ण संयमी जीवन मूर्खतापूर्ण माना जाने लगा और सर्वत्र भोग विलास और गरीबों का शोषण ही जीवन का उद्देश्य हो गया।
 गाँधी जी का कहना था कि अन्याय सहन करना सबसे बड़ा पाप है इससे अन्याय के विरूद्ध मीडिया में जोरदार प्रचार होना चाहिए। इसीसे जनता जागृत होकर देश की रक्षा करेगीए पर गाँधी जी की सबसे बड़ी भूल यह थी कि उन्होंने पाकिस्तान से अदला बदली नहीं की अन्यथा आज भारत का नक्शा दूसरा होता। पक्के गाँधी वादी मोरारजी देसाई के अनुसार आज गाँधी जी की अहिंसा से आतंकवाद का सामना नहीं हो सकता। गीता के वाक्य के अनुसार ष्ष्विनाशाय च दुष्कृतामष्ष् सज्जनों की रक्षा के लिए दुुर्जनों का विनाश होना चाहिएए यही सत्य है।


उपेक्षा से आहत हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी

 पाण्डवों का यक्ष रूप में अवतरित-धर्म के ब्यूह में फँसना और धर्मराज युधिष्ठिर का अपने चारों भाइयों को काल के ग्रास से निकालने की कथा लगभग हम सबको पता है। प्रश्नों की श्रृंखला में यक्ष ने युधिष्ठर से स्वतंत्र राष्ट्र की परिभाषा भी पूछी थी तो युधिष्ठिर का उत्तर था-
 ''वह राष्ट्र जिसकी अपनी पताका, अपनी भूमि और अपनी राष्ट्र भाषा होती है वह स्वतन्त्र होता है।''
 हिन्दू हिन्दी भाषी बहुल राष्ट्र की विडम्बना है कि हिन्दी आज विदेशी भाषा अँग्रेजी की चाकरी कर रही है। यह भारत एवं भारतीय जन मानस का दुर्भाग्य है कि आज राष्ट्र स्तरीय नेता जब हिन्दी दिवस पर भाषण देते हैं तो वह हिन्दी दिवस का उच्चारण हिन्दी डे करते हैं। यह भारतीयता के साफ दामन पर लगा एक बदनुमा दाग है कि आम भारतीय हर उस व्यक्ति को अपने से श्रेष्ठ समझता है जो अँग्रेजी बोलना जानता हो। किए गये सर्वेक्षण के अनुसार देश में कुल हिन्दी भाषी 95ः एवं अँग्रेजी भाषी 5ः हैं यह 5ः व्यक्ति 95ः लोगों पर अपना आधिपत्य जमाये हुए हैं।
 एक जातक कथा प्रसिद्ध है-एक व्यक्ति के पास बरगद का एक बहुत छोटा पल्लवित वृक्ष था। आसपास के क्षेत्रों में यह एक महान आश्चर्य का विषय था क्योंकि सामान्यतया बरगद के वृक्ष विशालकाय होते हैं। जब उसके किसी साथी ने इसका कारण जानना चाहा तो उस व्यक्ति ने बताया कि वह माह में दो बार पेड़ की जड़े काट देता था।
 वह व्यक्ति पेड़ की जड़े काटता था और भारत सरकार आज पूर्ण तत्परता के साथ वटवृक्ष हिन्दी की जड़े काटने में रत है।
 दुर्भाग्य है कि अपनी भाषा नीति होते हुए भी अधिनियम, संसाधन, धन आदि सब कुछ होते हुए भी हम हिन्दी भाषा को उन्नति की बुलंदियों पर पहुँचाना तो दूर उसकी हीन दशा के विषय में बोलना और सोचना भी पसंद नहीं करते हैं। हमें स्वतंत्र हुए 60 वर्ष हो चुके हैं और अभी तक सरकारी कार्यालयों में हिन्दी का तिरस्कार एवं अंग्रेजी का महत्व नहीं घटा है बल्कि उसमें वृद्धि हुई हैं।
 सरकारी कार्यालयों एवं संस्थानों में हिन्दी का प्रयोग बहुत धीमी गति से हो रहा है। प्रत्येक राष्ट्र में भाषा भाव एवं विचारों में एक रूपता होनी चाहिए। परन्तु वर्तमान में हमारा लोकतंत्र वर्गों में विभाजित हो चुका है। आज देश का 5ः अंग्रेजी भाषी 95ः हिन्दी भाषी जनसमूह पर शासन कर रहा है। आज गाँव एवं नगर की भाषा अलग है जिसके कारण कि देश के शासन में 95ः लोगों की भागीदारी नहीं हो पा रही है। अग्रेजियत हमारे अन्दर पैठकर चुकी है और उसका प्रत्यक्ष उदाहरण है महानगर मुम्बई जहाँ पर हिन्दी में लिखें नाम पट्टों का प्रतिशत 10ः से कम है। बापू ने राष्ट्रभाषा हिन्दी की उपयोगिता पर कहा था-
 ''राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र गूँगा होता है।''
 उनकी आत्मा हिन्दी की इस अधोन्नति को देखकर निश्चित रूप से कचोट रही होगी, उसमें एक टीस उठ रही होगी कि राष्ट्रभक्ति का पाठ पढ़ाने से पूर्व मुझे भारतीयों को राष्ट्रभाषा की शिक्षा देनी चाहिए थी।
 भारतेन्दु कृत-''निज भाषा उन्नति अहे, सब उन्नति को मूल'' की पंक्तियाँ हममें से अधिकांश ने पढ़ी होंगी और वास्तव में यह हमारा कर्तव्य बन जाता है कि राष्ट्रभाषा हिन्दी को सम्बद्धता एवं सशक्ता की पराकाष्ठा तक पहुँचाया जाए, हमें कार्य केवल इतना करना है कि हम अपने आचार विचार व्यवहार में हिन्दी को लाएँ। हिन्दी में बोलें, हिन्दी में लिखें और हिन्दी में पढ़ें-
 जैसा कि आयरिश कवि टाॅमस ने लिखा है-
 ''कोई भी देश अपनी राष्ट्रभाषा की अवहेलना करके राष्ट्र नहीं कहला सकता है। राष्ट्रभाषा की रक्षा सीमाओं की रक्षा से भी अधिक आवश्यक है क्योंकि वह विदेशी आक्रमण को रोकने में पर्वतों नदियों और सेनाओं से अधिक समर्थ है।''
 हम बहुत सो चुके हैं और अब हमंे जागना ही होगा क्योंकि बहुत अधिक सोना मृत्यु की निशानी है।


अधिक तृष्णा नहीं करनी चाहिए

 किसी वन प्रदेश में एक भील रहा करता था। वह बड़ा साहसी, वीर और श्रेष्ठ धनुर्धर था। वह नित्य-प्रति वन्य जन्तुओं का शिकार करता और उससे अपनी आजीविका चलाता तथा परिवार का भरण-पोषण करता था। एक दिन जब वह वन में शिकार के लिए गया हुआ था तो उसे काले रंग का एक विशालकाय जंगली सूअर दिखाई दिया। उसे देखकर भील ने धनुष को खींचकर एक तीक्ष्ण बाण से उस पर प्रहार किया। बाण की चोट से घायल सूअर ने क्रुद्ध हो साक्षात् यमराज के समान उस भील पर बड़े वेग से आक्रमण किया और उसे सँभलने का अवसर दिये बिना ही अपने दाँतो से उसका पेट फाड़ दिया। झील वही मरकर भूमि पर गिर पड़ा। सूअर भी बाण की चोट से घायल हो गया था, बाण ने उसके मर्मस्थल को वेध दिया था अतः उसकी भी वहीं मृत्यु हो गयी।
 उसी समय भूख-प्यास से व्याकुल कोई सियार वहाँ आया। सूअर तथा भील दोनों को मृत पड़ा हुआ देखकर वह प्रसन्न मन से सोचने लगा-मेरा भाग्य अनुकूल है, परमात्मा की कृपा से मुझे यह भोजन मिला है। अतः मुझे इसका धीरे-धीरे उपयोग करना चाहिये, जिससे यह बहुत समय तक मेरे काम आ सके।
 ऐसा सोचकर वह पहले धनुष में लगी ताँत की बनी डोरी को ही खाने लगा। उस मूर्ख सियार ने भील और सूअर के मांस के स्थान पर ताँत की डोरी को खाना शुरू किया। थोड़ी ही देर में ताँत की रस्सी कटकर टूट गयी, जिसमें धनुष का अग्रभाग वेग पूर्वक उसके मुख के आन्तरिक भाग में टकराया और उसके मस्तक को फोड़कर बाहर निकल गया। इस प्रकार तृष्णा के वशीभूत हुए सियार की भयानक एवं पीड़ादायक मृत्यु हुई। इसीलिए नीति बताती है-''अधिक तृष्णा नहीं करनी चाहिए।''


टी.वी. मित्र अथवा शत्रु

 वर्तमान समय बड़ी जटिलताओं और विसंगतियों से गुजर रहा है। कुछ ऐसे प्रश्न हैं जिन पर हमारा ध्यान जल्दी जाता ही नहीं हैं। टेलीविजन क्या हमारा सच्चा मित्र है अथवा पठनीय अमूल्य पुस्तकें।
 टी0 वी0 को हम सभी जान गये हैं कि यह आज घर-घर की शान और शोभा बन चुका है और यह भी कहने में अतिशयोक्ति न होगी कि निर्धन से लेकर धनवान की यह जरूरत बनता जा रहा हे। इसका आविष्कार वैज्ञानिक जे0 एल0 बेयर्ड द्वारा किया गया था, लेकिन उन्होंने भी कल्पना नहीं की होगी कि लोग इसके इतने दीवाने हो जायेंगे कि दीवानगी में आविष्कारकर्ता का नाम ही भूल जायेंगे।
 टी0 वी0 घर में एक अलग मुक्त संस्कृति को जन्म दे रहा है जिसे टी0 वी0 संस्कृति ही कहना अधिक उपयुक्त होगा। मनुष्य की पूरी दिनचर्या ही बदल रही है। बच्चे और युवा इसे अपनाकर एक नया हिन्दुस्तान बना रहे हैं। अपने से बड़ों और गुरूजनों का सम्मान मात्र औपचारिकता बनकर रह गया है। पढ़ने-लिखने के प्रति रूचि घटती जा रही है और आवश्यकतायें दिन-दूनी रात-चैगुूनी बढ़ती जा रही हैं, आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए संरक्षक गलत-सलत काम करने से भी परहेज नहीं कर रहे हैं। अधिक से अधिक धनवान बनने की होड़ लगी हुई है। देश का भविष्य ये बच्चे अपने संरक्षकों से क्या और कैसे संस्कार ग्रहण करेंगे?आज इसका उत्तर हमारे पास बहुत खोजने से भी नहीं मिल पा रहा है।
 बच्चे और बड़े सहजता का जीवन न अपनाकर बात-बात में झूठ बोलने का सहारा ले रहे हैं। एक अलग ही समाज बन रहा है। युवा वर्ग तो टी0 वी0 संस्कृति को पूरी तरह समर्पित हो रहा है। सत्य, श्रम, कर्मठता, देशभक्ति जैसे शब्द उनके जीवन में बेमानी से लगने लगे हैं। उनकी दृष्टि में भारतीय संस्कृति पिछड़ी और बौनी होती जा रही है। टी0 वी0 संस्कृति की भेंट चढ़ता जीवन आज और कल को खोखला कर रहा है तथा दिनचर्या को अनियमित कर रहा है, अच्छा और बुरा सब कुछ गडमड होता नजर आ रहा है।
 पुस्तकों की पृष्ठभूमि और इतिहास बहुत ही प्राचीन है या ये कहे कि जब से सृष्टि का निर्माण हुआ है तभी से ही इनकी ज्ञान गंगा बहती चली जा रही है, चार वेदों के रूप में, पुस्तकें मानव की बहुत पुरानी मित्र हैं यही मन-मस्तिष्क की खुराक हैं या कहें कि प्रत्येक मनुष्य का अच्छा जीवन बनाने की एक अमूल्य धरोहर है।
 राष्ट्रपिता महात्मागाँधी कहते हैं, ''पुस्तकें हमारी सच्ची मित्र हैं, ये कभी हमें धोखा नहीं दे सकती।'' अनेक महापुरूषों ने अतिरिक्त समय में पुस्तकों को ही अपना मित्र बनाया था जिससे वह कठिन परिस्थितियों से लोहा लेकर जीवन मूल्यों को स्थापित करने में समर्थ रहे।
 हम अच्छी ज्ञानवर्धक पुस्तकें तथा अपनी कक्षा के विषयों से सम्बन्धित पुस्तकों का लगन व परिश्रम से अध्ययन कर ऊँचाइयों पर चढ़ सकते हैं। कक्षा में, विद्यालय में और देश में अपना नाम कर सकते हैं। आगे बढ़ते हुए कड़ी मेहनत से ही प्रशासनिक अधिकारी, वैज्ञानिक, डाक्टर, इंजीनियर, प्रोफेसर आदि बन सकते हैं।
 साधारण मनुष्यों के जीवन को इन पुस्तकों ने ही महापुरूष बनाया है। इनसे इतिहास के अनेक पृष्ठ स्वर्ण अक्षरों में अंकित हो चुके हैं जिसमें हमारे देश के प्रथम राष्ट्रपति श्री राजेेन्द्र प्रसाद जी, प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी आदि दिवंगत हो गये हैं तथा वर्तमान में पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी, प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह जी व महामहिम राष्ट्रपति डाॅ0 ए0 पी0 जे0 अब्दुल कलाम आदि हमारे लिए उदाहरण स्वरूप प्रेरणा के श्रोत हैं।
 वर्तमान में अच्छी पुस्तकों का पढ़ने का शौक ज्यादातर कम होता जा रहा है। विचारहीन पत्र-पत्रिकायें, उपन्यास काॅमिक्स आदि पढ़ने में कुछ बच्चे और बड़े अपना अमूल्य समय नष्ट कर रहे हैं। ऐसी घटिया पुस्तकों को पढ़कर वे टी0 वी0 संस्कृति के मित्र बन रहे हैं। और न ही उन्हें उससे कुछ मिल पा रहा है, और न ही वे इससे समाज का कोई उपकार कर पा रहे हैं, हाँ, अपकार करने में अपना सहयोग कर रहे हैं। क्या यही जीवन की सार्थकता है, तनिक एकान्त में सोचिए?
 हम अच्छी पुस्तकें पढ़कर ही उन महापुरूषों, विद्वानों, साहित्यकारों, वैज्ञानिकों से प्रेरणा ले सकते हैं जिन्होंने समाज और देश के लिए अपना सर्वस्व अर्पण कर दिया। आज ये समाज और देश उन्हीं, की बदौलत जीवित है। हमें ज्ञानवर्धक पुस्तकें पढ़ने में रूचि लेनी चाहिये, यदि अच्छी पत्र-पत्रिकाओं, पुस्तकों पर हर माह खर्च भी करना पड़े तो अकारथ नहीं जायेगा। उससे हमको इतना प्राप्त हो जायेगा कि उसकी अनुभूतियाँ और उसके अपरोक्ष लाभ हम शब्दों में अभिव्यक्त नहीं कर सकते।
 कौन सी कविता, कहानी, लेख, विचार हमारे तनाव युक्त जीवन को ससमय-सुखमय बना दें। जब हमें पढ़ने-पढ़ाने का शौक ही नहीं होगा तो कैसे बदलेगा जीवन, और हम संसार से बिना कुछ लिए और दिये यूँ ही अन्धकार और अहंकार में प्रस्थान कर लेंगे।
 आज अधिकांश बच्चे और बड़ों ने टी0 वी0 को अपना सच्चा और अच्छा मित्र बना लिया है तथा ज्ञानवर्धक पुस्तकें उन्हें निरर्थक शत्रुवत् लग रही हैं। इसी कारण घर-घर में तनाव, अशान्ति और भय, सुरसा से मुँह फैला रहे हैं। इसी कारण बच्चे और बड़ों के चेहरों से स्वाभाविकता, सहजता दूर कहीं सुदूर में प्रस्थान करती जा रही है। टी0 वी0 संस्कृति या कहें कि पश्चिमी संस्कृति हमें लक्ष्यहीन जीवन बिताने को प्रेरित कर रही है। खूब धन कमाओं, खूब खाओ, मौज मनाओ और असन्तोष को बढ़ाते हुए लक्ष्य विहीन बन जाओ।
 लक्ष्यविहीन प्रवृत्तियाँ हमें कभी ऊँचा नहीं उठा सकती, इनसे बचकर ही हम सार्थक जीवन की ओर बढ़ सकते हैं तथा समाज में एक-दूसरें को सुखों का आदान-प्रदान कर सकते हैं।
 काश! यह सम्पूर्ण समाज ही पूर्ण शिक्षित होकर मानवीय धर्म अपना लेता और महापुरूषों के प्रेरणाश्रोत बनाता तथा पुस्तकों को सच्चा मित्र, तो आज चहूँ ओर हिंसा'मारकाट, झूठ-फरेब और भय के आवरण में न जीना पड़ता। पूरी धरती के लोग ही सहज जीवन जी रहे होते।
 अति सर्वदा वर्जते। अति किसी भी चीज की नहीं होनी चाहिए। टी0 वी0 को भी वर्तमान में पूर्णतः नकारा नहीं जा सकता, लेकिन बच्चे और बड़े टी0 वी0 देखने में ज्यादा ही अति कर रहे हैं या कहें कि समय का दुरूपयोग कर रहे हैं। इसी कारण तीस प्रतिशत से भी अधिक बच्चे और बड़ों की आँखों में चश्मा चढ़ता जा रहा है, साथ ही अनेक मानसिक, शारीरिक विकृतियाँ बच्चों व बड़ों में बढ़ती जा रही हैं। अधिकतर लोग टी0 वी0 के पास बैठकर ही उसका चछुपान कर रहे हैं।
 जलपान या भोजन करते-करते टी0 वी0 आम प्रचलन में आ गया है, इसी कारण जीभ से निकलने वाले रस पाचन प्रक्रिया में स्वाभाविक रूप से नहीं मिल पा रहे हैं, जिसके कारण कब्ज, सिरदर्द, गैस जैसी बीमारी आम हो गयी है इससे बड़े तो बड़े बच्चे भी इसके आगोश में आते जा रहे हैं।
 टी0 वी0 ने बच्चे और युवाओं को एक नये मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है।
 वास्तव में यदि हमें अपना और समाज का सर्वांगीण विकास करना है तो बच्चे और बड़ो को ज्ञान वर्धक पुस्तकों को ही सच्चा मित्र बनाना होगा तथा टी0 वी0 को मात्र एकाध घण्टे का कच्चा मित्र, वह भी अच्छा सीरियल या समाचार सुनने के लिए।


किसान और सारस

 एक किसान पक्षियों से बहुत तंग आ गया था। उसका खेत जंगल के पास था। उस जंगल में पक्षी बहुत थे। किसान जैसे ही खेत में बीज बोकर, पाटा चलाकर घर जाता, वैसे ही झुंड के झुंड पक्षी उसके खेत में आकर बैठ जाते और मिट्टी कुरेद-कुरेदकर बोये बीज खाने लगते। किसान पक्षियों को उड़ाते-उड़ाते थक गया। उसके बहुत से बीज चिड़ियों ने खा लिये। बेचारे को दुबारा खेत जोतकर दूसरे बीज डालने पड़े। इस बार किसान बहुत बड़ा जाल ले आया। उसने पूरे खेत पर जाल बिछा दिया। बहुत से पक्षी खेत में बीज चुगने आये और जाल में फंस गये। एक सारस पक्षी भी उसी जाल में फंस गया।
 जब किसान जाल में फँसी चिड़ियों को पकड़ने लगा तो सारस ने कहा-आप मुझ पर कृपा कीजिये। मैंने आपकी कोई हानि नहीं की है। मैं न मुर्गी हूँ, न बगुला और न बीज खाने वाला पक्षी। मैं तो सारस हूँ। खेती को हानि पहुँचाने वाले कीड़ों को खा जाता हूँ। मुझे छोड़ दीजिये।
 किसान क्रोध में भरा था। वह बोला- 'तुम कहते तो ठीक हो, किन्तु आज तुम उन्हीं चिड़ियों के साथ पकड़े गये हो, जो मेरे बीज खा जाया करती हैं। तुम भी उन्हीं के साथी हो। तुम इनके साथ आये हो तो इनके साथ दण्ड भोगो।
 जो जैसे लोगों के साथ रहता है, वैसा ही समझा जाता है। बुरे लोगों के साथ रहने से बुराई न करने वालों को भी दण्ड और अपयश मिलता है। उपद्रवी चिड़ियों के साथ आने से सारस को भी बन्धन में पड़ना पड़ा।


बालकों के लिए संस्कार-माला

 बालक यदि निम्न बातों पर ध्यान देंगे तो उनका जीवन सदैव सुखी रहेगा।
1. विद्यालय में ठीक समय पर पहुँच जाना और भगवत्स्मरणपूर्वक मन लगाकर पढ़ना चाहिये। किसी प्रकार का ऊधम न करते हुए मौन रहकर भगवान के नाम का जप-और स्वरूप की स्मृति रखते हुए प्रतिदिन जाना-आना चाहिये।
2. विद्यालय की स्तुति-प्रार्थना आदि में अवश्य शामिल होना और उनको मन लगाकर प्रेमभाव पूर्वक करना चाहिये।
3. पिछले पाठ को याद रखना और आगे पढ़ाये जाने वाले पाठ को उसी दिन याद कर लेना उचित है, जिससे पढ़ाई के लिए सदा उत्साह बना रहे।
4. पढ़ाई को कमी कठिन नहीं मानना चाहिये।
5. अपनी कक्षा में सबसे अच्छा बनने की कोशिश करनी चाहिये।
6. किसी विद्यार्थी को पढ़ाई में अग्रसर होते देखकर खूब प्रसन्न होना चाहिये और यह भाव रखना चाहिये कि यह अवश्य उन्नति करेगा तथा इसकी उन्नति से मुझे और भी बढ़कर उन्नति करने का प्रोत्साहन एवं अवसर प्राप्त होगा।
7. अपने किसी सहपाठी से ईष्र्या नहीं करनी चाहिये और न यही भाव रखना चाहिये कि वह पढ़ाई में कमजोर रह जाय, जिससे उसकी अपेक्षा मुझे लोग अच्छा कहें।
8. किसी भी विद्या अथवा कला को देखकर उसमें दिलचस्पी के साथ प्रविष्ट होकर समझने की चेष्टा करनी चाहिये, क्योंकि जानने और सीखने की उत्कण्ठा विद्यार्थियों का गुण है।
9. अपने को उच्च विज्ञान मानकर कभी अभिमान न करना चाहिये, क्योंकि इससे आगे बढ़ने में बड़ी रूकावट होती है।
10. नित्य प्रति बड़ों की तथा दीन-दुःखी प्राणियों की कुछ न कुछ सेवा अवश्य करनी चाहिये।
11. किसी भी अंगहीन, दुःखी, बेसमझ, गल्ती करने वाले को देखकर हँसना नहीं चाहिये।
12. न्याय से प्राप्त हुई चीज को ही काम में लाना चाहिये।
13. माता, पिता, गुरू आदि बड़ों की आज्ञा उत्साहपूर्वक तत्काल पालन करें। बड़ों के आज्ञा का उत्साहपूर्वक तत्काल पालन करेे। बड़ों की आज्ञा पालन से उनका आर्शीवाद मिलता है, जिससे लौकिक और पारमार्थिक उन्नति होती हैं।
14. गुरूजनों की कमी हँसी न उड़ाये, प्रत्युत उनका आदर-सत्कार करें तथा जब पढ़ाने के लिये अध्यापक आवें और जायें, तब खड़े होकर और नमस्कार करके उनका सम्मान करें।
15. समान अवस्था वाले और छोटों से प्रेमपूर्वक बर्ताव करें।
16. सभा में भाषण या प्रश्नोत्तर सभ्यतापूर्वक करें तथा सभा में अथवा पढ़ने के समय बात-चीत न करें।
17. सबकों अपने प्रेम भरे व्यवहार से संतुष्ट करने की कला सीखें।
18. कभी किसी का अपमान या तिरस्कार न करे।
19. किसी भी काम को कभी असम्भव न माने, क्योंकि उत्साही मनुष्य के लिए कठिन काम भी सुगम हो जाते हैं।
20. सदा अपने से बड़े और उत्तम आचरण वाले पुरूषों के साथ रहने की चेष्टा करें तथा उनके सद्गुणों का अनुकरण करे।
21. अपने से छोटे बालक में कोई दुव्र्यवहार या कुचेष्टा दीखे तो उसको समझायें अथवा उस बालक के हित के लिये अध्यापक को सूचित कर दें।
22. अपने में से दुर्गुण-दुराचार हट जाय और सदाचार आयें इसके लिए भगवान से सच्चे हृदय से प्रार्थना करें और ईश्वर के बल पर सदा निर्भय रहें।


शिष्टाचार की बातें

 दैनिक जीवन में शिष्टाचार की कितनी अहमियत है, यह हम सब समझ सकते हैं। जो शिष्टाचार का पालन करता है, वह निर्धन और कम पढ़ा लिखा होने पर भी आदर पाता है लेकिन धनिक और शिक्षित को अशिष्ट व्यवहार करने पर निरादर ही मिलता हे। शिष्टाचार के गुण जन्मजात भी हो सकते हैंै। लेकिन परिवार के अतिरिक्त संगी-साथियों का व्यवहार आचार विचारों को प्रभावित करते रहते हैं। देखा जाता हैं कि पन्द्रह वर्ष की आयु तक आचार विचार के सीखे, समझे गुण आजीवन उसके व्यतित्व पर हावी रहते हैं। अतः हर माता-पिता का यह फर्ज बनता है कि वह अपनी संतानों को नैतिक शिक्षा का पाठ पढ़ायें, उन्हें किससे किस तरह व्यवहार करना चाहिए इसकी जानकारी देनी चाहिए। आजकल व्यस्तता की वजह से अधिकतर माता-पिता अपनी संतानों को उतना समय नहीं दे पाते जितना देना चाहिए, यह ठीक नहीं है। हमारे बच्चे कल सुसंस्कृत एवं शिष्ट नागरिक बनें, यह सोच रखना बहुत जरूरी हैं।
 विद्यार्थी और शिष्टाचार
1. छात्रों को अपने अध्यापक के सामने सावधान की स्थिति में खड़े होना चाहिए।
2. अध्यापक के कक्षा में प्रवेश होते ही खड़े होकर अभिवादन करना चाहिए।
3. अध्यापक के रहते हुए कक्षा में शोर करना या मजाक बनाना अच्छा नहीं हैं।
4. अध्यापक के निकट अथवा उनकी कुर्सी पर बैठना अशिष्टता है।
5. कई बच्चे रबड़ को दाँतों से काटते हैं, पेंसिल कान में या मुँह में डालते हैं, यह आदत ठीक नहीं है।
6. अपने सहपाठी से ली गई कोई भी चीज उसे समय पर और सुरक्षित रूप में वापस करनी चाहिए।
7. अपनी पुस्तकों, काँपियों और बस्तों को साफ-सुथरा रखें।
8. स्कूल में गन्दगी न करें, गन्दगी को दूर करने की कोशिश करें।
9. अपने सहपाठी से हँसी-मजाक तो करें लेकिन असभ्य भाषा का इस्तेमाल न करें।
10. विद्यालय में साफ और स्वच्छ परिधान पहिनकर आना चाहिये।
11. सदैव अच्छे और शिष्ट छात्रों से दोस्ती करें।


नारी बिना साहित्य जगत है अधूरा 

साहित्य मानवीय संवेदनाओं के चिंतन एवं चित्रण की श्रेश्ठतम अभिव्यक्ति है। नारी सजल संवेदनाओं का मूर्तरूप है। अतः साहित्य नारी के बिना आधा अधूरा एवं एकांगी है। सृश्टि के ऊशाकाल से ही नारी पुरूश की सुकोमल भावनाओं में चेतना का संचार करती और उसकी विविध कल्पनाओं को निरभ्र गगन में उड़ान भरने के लिये प्रेरित करती रही है। इसी कारण नारी साहित्य के साम्राज्य पर सदैव ही अधिश्ठित और प्रतिश्ठित रही है। साहित्यकार मानते हैं कि कविता का उद्गम स्त्रोत नारी प्रेरित है। नारी स्वयं एक कविता हैं, नारी स्वयं एक परिपूर्ण साहित्य है। नारी की पवित्रता, षुचिता, सौंदर्य के बिना साहित्य की कल्पना तक नहीं की जा सकती है।
 सजल संवेदना की अविरल धारा जब स्थिर होकर रूपायित हुई तो उसमें नारी का रूप निखर उठा और जब इसकी अभिव्यक्ति हुई तो साहित्य का प्रादुर्भाव हुआ। अतः नारी और साहित्य का सम्बंध अनन्य और अखण्ड रहा है। नारी के संवेदनषील गर्भ से साहित्य की सृजन धारा फूट पड़ी है। सृजन की इस महती प्रक्रिया में नारी का योगदान प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष दोनों रूपों में हुआ है। अप्रत्यक्ष रूप से पुरूश द्वारा नारी का भरपूर उपयोग किया गया है और इसका कारण है- (1) सौंदर्यानुभूति (2) नैतिक एवं सांस्कृतिक अभिव्यक्ति (3) सामाजिक परिवेष का चित्रण।
 ये तीन संवेदनायें ही मानवी मन को साहित्य सृजन के लिये प्रेरित करती है। जिसमें सौंदर्यानुभूति किसी भी साहित्यकार की साहित्य-साधना का मूल आधार रही है। भारतीय साहित्य में पुरातन से अद्यतनकाल तक सौंदर्य एवं श्रंगार को विषिश्ट स्थान प्राप्त है और हो भी क्यों न, क्योंकि संवेदना की धारा जब उमड़ती है, सौंदर्य एवं श्रंगार स्वतः स्फूर्त, आलोड़ित-उद्वेलित होते हैं। यह सौंदर्य कल्याणकारी एवं सत्य की आभा से मंडित होता था, जिसमें षील एवं षुचिता आधार बने हुये थे। जैसे ही ये आधार टूटने-बिखरने लगे, सौंदर्य एवं श्रृंगार की दिषा अधोगामी हो गई और साहित्य जीवन प्रदायक अमृत से जीवन हरने वाला विश बन गया, परंतु साहित्य की प्राचीन एवं श्रेश्ठ सौंदर्याभिव्यक्ति कालिदास, जायसी, तुलसी से लेकर पंत, प्रसाद और निराला आदि तक अविच्छिन्न रूप से निखरी है।
 नैतिक, सामाजिक और सांस्कृतिक रूप में भी नारी ने साहित्य को अपूर्व योगदान प्रदान किया है। संस्कृति को सींचने के लिये नारियों ने स्वयं को खपा दिया है। नारी अपने दरद को लेखिनी के माध्यम से उठाती रही है। सांमती मानसिकता पर करारा प्रहार करने वाली नारी लेखिकाओं की कमी नहीं है। रामधारी सिंह दिनकर नें यहाँ तक कहा है कि सांस्कृतिक संवेदना नारी के बिना अपंग-अपाहिज के समान है। सांस्कृतिक ध्वजा को साहित्य के गगन में कम संख्या में ही सही, लेकिन दमदार ढंग से नारियों ने लहराया है। ठीक इसी प्रकार नैतिकता एवं सामाजिकता के अनेक विशयों को नारियों ने साहित्य से जोड़ा और अपनी अस्मिता और अस्तित्व को बोध कराया है।
 साहित्य साधिकाओं में मीराबाई का नाम ध्रुवतारा के समान प्रदीप्त है। मीरा हिन्दी साहित्य के काव्य फलक पर महान कवियत्री के रूप में प्रतिश्ठित है। मीरा की कविता के बिना हिंदी साहित्य का लालितय अधूरा माना जायेगा। महादेवी वर्मा हिंदी साहित्य को छायावाद, रहस्यवाद, प्रतीकयोजन, वेदना, गीतकला, प्रकृति चित्रण रूपी अनेक अनुपम उपहार देने के रूप में जानी जाती है।
 वैदिककाल की नारियाँ जैसे अपाला, घोशा, गार्गी, विष्ववारा, अरूंधती अनसूया आदि ने भी अपने चिंतन से नारी जगत में नयी दिषा दी। ठीक इसी प्रकार आधुनिक काल में अमृता प्रीतम, चंद्रकिरण, ऊशादेवी मित्रा, षषि प्रभा षास्त्री, मृणाल पाण्डेय, सूर्यबाला, नासिरा षर्मा, षिवानी आदि तमाम रचनाकारों की सषक्त कृतियों से समृद्ध होती हुई आज नारी चेतना सम्पन्न एवं सुदृढ़ धरती तक पहुँच गई है। लेखिकाओं ने जहाँ संवेदनषील मानवीय संबधों को रचनाओं में उकेरा है, वहीं सामयिक ज्वलंत प्रष्नों को भी रेखांकित किया है। 'इक्कीसवीं सदी नारी सदी' की संभावना को साकार करने का यह श्रेश्ठ एवं पुण्यकार्य है, जिसे किसी भी कीमत पर करना ही चाहिये।
 'पुस्तक से रहित कमरा आत्मा से रहित षरीर के समान है। (सिसरो)


कोल्ड ड्रिंक एक खतरनाक पेय

 कोल्ड ड्रिंक हमारे षरीर के लिये कितना घातक हो सकता है, इस बात का अहसास लोगों को नहीं है। अमेरिका की 'दि अर्थ आइलैण्ड जनरल' ने एक षोध प्रस्तुत किया है, उसके अनुसार आजकल धड़ल्ले से बिक रहे विदेषी कम्पनियों के षीतल पेय की एक बोतल में 40 से 72 मि0 ग्राम तक नषीले तत्व ग्लिसरीन अल्कोहल, ईस्टरगम व पषुओं से प्राप्त ग्लिसरोल पाये जाते हैं, अतः षाकाहारी किसी भ्रम में न रहें कि यह मांसाहार का एक रूप नहीं है, सर्वाधिक आष्चर्यचकित तो उनकी अन्य खोजे हैं, साइट्रिक एसिड होने के कारण षौचालय में किसी भी साफ्ट ड्रिंक को एक घण्टे के लिए डाल दें तो वह फिनाइल की तरह उसे साफ कर देगा। कहीं जंग लग गया हो तो इस पेय में कपड़ा गीला करके रगड़ दें, वह हट जाएगा। वस्त्रों पर ग्रीस लग गई हो तो साबुन के साथ उसे कोल्ड ड्रिंक में गीला कर दे, वह दाग को बिल्कुल हटा देगी। इंसान की हड्डियों व दांतों को गलाने में मिट्टी को कई साल लग जातें हैं, पर साफ्ट ड्रिंक पीकर अपनी अंतड़ियों, यकृत तथा षरीर को भारी नुकसान पहुँचा रहे हैं। क्या फिर भी आप कोल्ड ड्रिंक्स पीना या पिलाना चाहेंगे?विवेकषील मनुश्य होने के नाते आपसे उम्मीद कि आप जान-बूझकर जहर न स्वयं पीना चाहेंगे और न अपने ईश्ट-मित्र को पिलाना चाहेंगे। जब अन्तर्राश्ट्रीय ख्याति के वैज्ञानिकों ने यह सिद्ध कर दिया है कि पेप्सी-कोला, कोक आदि कोल्ड ड्रिंक्स मनुश्य के षरीर में विभिन्न अंगों को भारी नुकसान पहुँचाते हैं। तब निष्चित ही कोल्ड ड्रिंक्स पीना विश-पास के समान है। आप स्वयं ही उससे दूर रहे और अपने सभी संगी-साथियों को उनके पान करने से परहेज करने की सलाह दें।


जीवन के शुद्ध दृष्टिकोण की निर्मिति

 आज हमारे सामाजिक जीवन में चारों ओर समस्यायें ही दिखाई पड़ती है। जीवन के षुद्वदृश्टिकोण का अभाव ही हमारी प्रमुख समस्या है, जिसके रहते षेश समस्यायें लाख प्रयत्न करने पर भी सुलझ न पायेंगी। अतः जीवन का सत्य षुद्वदृश्टिकोण क्या होना चाहिये, जिसे लेकर चलने से मानव जीवन की सम्पूर्ण समस्याओं पर विजय प्राप्त करना सुलभ हो जाता है।
 हमारी संस्कृति के सर्वोत्कृश्ट भारतीय षास्त्रों के अनुसार इस समस्त विष्व में एकमेव अखण्ड परमेष्वर ओत-प्रोत है, किन्तु उसके अव्यक्त स्वरूप को समझना कठिन है। मनुश्य होने के नाते हमें सर्वसाधारण रीति से मानव समाज तक सीमित कल्पनाओं की अनुभूति ही सरलता से हो सकती है। अतएव अव्यक्त परब्रह्म की अनुभूति सरल रीति से करा देने के लिये मनुश्य-समाज को उस अव्यक्त परब्रह्म का विषाल एवं विराट रूप मानने और प्रत्येक मनुश्य को इसी दिव्य-देव के षरीर का घटक अवयव समझने का षास्त्र ने आदेष दिया है।
 इस दृश्टि से मनुश्य समाज का प्रत्येक व्यक्ति हमारे लिये पूज्य और सुसेव्य हो जाता हैं। भगवान का केवल षिर ही पूज्य है, पैर नहीं'-ऐसा सोचना मूर्खता है। जितना पवित्र और पूज्य उसका सिर है, वैसे ही उसके पाँव तथा षरीर का प्रत्येक घटक अवयव भी पवित्र है, पूज्य है और परमेष्वर के पाँव को तो षास्त्र ने परम पवित्र बताया है, जिससे स्पर्ष हुई धूलि और जिससे निकल हुआ जल भी परम पवित्र कहा गया है।
 समाज के सारे अंग-उपांग समान हैं और हमारे लिये सदैव सुसेव्य हैं। उनमें ऊँच-नीच का भेद न करते हुये सभी की सेवा समान षक्ति एवं तत्परता से करने की आवष्यकता है। इस विचार के अनुसार समाज की सेवा में भगवत-पूजा का भाव चाहिये और सच्ची भगवत्पूजा जीवन में प्राप्त श्रेश्ठतम भोग पदार्थों को भगवान की सेवा के निमित्त प्रगाढ़ श्रद्वायुक्त अन्तःकरण से समर्पित कर देने में ही हैं।
 जीवन के सार-सर्वस्व से प´च तत्व-प्राप्ति तक भगवत पूजा करते रहना ही षास्त्रों में जीवन का चरम लक्ष्य कहा गया है। अपनी समस्त सम्पत्ति सारी सम्पदा का नैवेध रूप में इस समाज परमेष्वर को समर्पित करके अपने भौतिक जीवन को पवित्र बनायें यहीं जीवन का सच्चा दृश्टिकोण है।
 इस प्रकार जिसने समाज में परमेष्वर के विराट रूप का साक्षात्कार किया है और जो उसकी सेवा में जीवन सर्वस्व लगाकर दक्ष रहता है उसे ऐसे लाखों की संख्या में इतस्ततः फैले हुये दीन-हीन निराश्रित प्राणी-परमात्मा के सर्वप्रथम पूजनीय रूप में ही दिखाई देंगे और वह उनकी सेवा में सम्पूर्ण षक्ति लगाने के लिये विकल हो उठेगा।
 नर के रूप में प्रकट नारायण को हम पहचानें। उनकी सुख-सुविधा के लिये तन-मन से कुछ कश्ट उठाने का प्रसंग भी आये, तो उसे भगवत्कृपा-प्रसाद समझकर सहर्श धारण करें। उसके निमित्त की गयी दौड़-धूप और उठाई गई असुविधा में त्याग की नहीं, पूजा की भावना चाहिये। सब कुछ करके भी मैने किसी पर उपकार नहीं किया, केवल स्वाभाविक कर्तव्य की पूर्ति मात्र की है। यही दृढ़ धारणा होनी चाहिये। इसमें अहंकार और आत्मष्लाधा के लिये काई स्थान नहीं है।
 इस दृश्टिकोण को यदि जीवन में लाने का प्रयत्न किया जाय, तो अनुभव होगा कि वैयक्तिक अथवा पारिवारिक, जो कुछ भी मेरी प्राप्ति है, वह कितनी भी अच्छी और प्रचुर मात्रा में क्यों न हो, उस पर मेरा कोई अधिकार नहीं। यह भगवान की पूजा का नैवेद्य है। मै तो केवल प्रसाद मात्र का अधिकारी हूँ। जीवन-यात्रा में निर्वाह के लिये जितना परमावष्यक है, उतना ही मैं अपने उपयोग के लिये रखकर समाज की सेवा में समर्पित कर दूँ।
 भगवान की पूजा उत्तमोत्तम रीति से करने के निमित्त अधिकतम भोग-सामग्री एकत्र करूँगा, तन-मन का सारा सामथ्र्य द्रव्य पदार्थ संचित करूँगा किन्तु उसमें से अपने उपयोग के लिये केवल उतना ही रखूँगा, जिसके अभाव में समाज-परमेष्वर की अर्चा में अड़चन का योग न बन पावे। उससे अधिक पर अधिकार करना अथवा अपने व्यक्तिगत उपयोग में लाना भगवान की सम्पत्ति का अपहरण है। जो सर्वथा निन्दनीय और षास्त्र वर्जित है।
 जिस मनुश्य जीवन में राश्ट्र निर्माण के पवित्र कार्य करने का हमें अत्यन्त सौभाग्यपूर्ण अवसर और सामथ्र्य प्राप्त हुआ हैं, उसकों मृग तृश्णा के पीछे दौड़ने में नश्ट न कर दें। अतः भारतीय जीवन-रचना के इस सांस्कृतिक दृश्टिकोण को लेकर समश्टि (समाज) में परमात्मा का साक्षात्कार करते हुये कार्य-रूप से, षब्द-मात्र से नहीं, इस समज रूप पुराण-पुरूश की निरीह और अकिंचन भाव से पूजा करें। यह दृश्टि यदि अपने अन्दर रही तो एक समश्टि पुरुष अभिन्न रीति से आसेतु हिमाचल को व्याप्त किये हुये दिखाई देगा। कोई छुद्र भावना हृदय को छू न पायेगी और उस परम-पुरुश की आराधना में अपना सर्वस्व होम करके भी परम षान्ति का ही अनुभव होगा तथा जीवन के षुद्ध दृश्टिकोण की निर्मित होगी।


परिश्रम का विकल्प नहीं

 महर्शि कणाद अपने षिश्यों के साथ जंगल में आश्रम बनाकर वहाँ रहा करते थे आश्रम में सभी कार्य षिश्य स्वयं ही किया करते थे, आश्रम के जीवन में पवित्रता थी, अतः वहाँ किसी भी प्रकार का कश्ट नहीं था।
 वर्शा ऋतु निकट ही थी महर्शि ने अपने षिश्यों को बुलाकर कहा-''देखो, वर्शा ऋतु आने वाली है हमें हवन तथा भोजनादि के लिये लकड़ी एकत्रित कर लेनी चाहिये।''
 गुरूदेव की इच्छा को आज्ञा मानने वाले षिश्य कुल्हाड़ी आदि लेकर जंगल की ओर चल पड़े बड़ी लगन तथा परिश्रम से उन्होनें लकड़ियाँ इकट्ठी कर गट्ठर बाँधें और कन्धों पर लाद कर आश्रम में ले आये। गुरू जी बहुत प्रसन्न हुये। उन्होंने षिश्यों को षुभाषीश दिया।
 कुछ समय के पष्चात् सभी षिश्य ऋशि कणाद के साथ नदी में स्नान करने गये। मार्ग में वहीं जंगल पड़ा जहाँ से षिश्य लकड़ी काटकर आश्रम में ले गये थे सबके आष्चर्य का ठिकाना नहीं रहा जब वन में उन्हें चारों ओर रंग-बिरंगे, सुगन्धित सुन्दर पुश्प दिखाई दियें सारा जंगल सुगन्धित था षिश्यों ने गुरू से पूछा-''गुरूवर, ये रंग-बिरंगे फूल कहाँ से आ गये, वायुमण्डल में सुगन्ध व्याप्त है, यह चमत्कार कैसे हुआ।'' ऋशि कणाद हँसे और कहने लगे-''यह सब तुम्हारे अथक परिश्रम का फल है, तुम्हारे षरीर से निकले षुद्ध, सच्चे पसीने की बूँदो का ही यह परिणाम है कि तुमको यहाँ का वातावरण मनमोहक सुन्दर तथा चमक दमक वाला दिखाई दे रहा है जहां भी तुम्हारा पसीना गिरा था, वही पुश्प उग गया, शिष्यों को बात ध्यान में आ गयी कि परिश्रम का कोई विकल्प (बदल) नहीं है, महान् बनने के लिये कठोर परिश्रम करना होता है और करना चाहिए।''


खेलकूद और अनुशासन

 अनुषासन विद्यालय का एक महत्वपूर्ण अंग है। अनुषासन की स्थापना में खेलकूद का विषेश योगदान है इसी सेविष्व के अनेक देषों में अनुषासन की स्थापना में खेलकूद के महत्व को स्वीकार करते हुए विद्यालयों में खेलकूद की व्यवस्था अनिवार्य कर दी गई है लेकिन हमारे देष में अभी विषेश ध्यान नहीं दिया गया है। प्रायः लोगों की मानसिकता है कि बच्चों को खेलकूद से दूर रखकर पाठ्य पुस्तक द्वारा एवं आचार संहिता द्वारा विद्यालय में अनुषासन की नींव सुदृढ़ की जा सकती है। लेकिन प्लेटों ने कहा ''बालक को दण्ड की अपेक्षा खेल द्वारा नियंत्रित करना कहीं अच्छा है।'' आजकल खेलकूद की उपेक्षा के कारण आए दिन हड़ताल, तोड़फोड़, परीक्षा में सामूहिक नकल का प्रयास, षिक्षकों के साथ दुव्र्यवहार आदि घटनाएँ छात्रों द्वारा हो रही हैं। भारत जैसे विषाल देष में विद्यालयों में पनपती अनुषासनहीनता घातक सिद्ध हो रही है।
 खेलकूद की उपेक्षा से अनुषासनहीनता पनपती है। अनुषासन की स्थापना में खेलकूद विभिन्न प्रकार से सहयोगी है।
 (1) सामाजिक भावना - खेलकूद बच्चों को आपस में मिलजुल कर रहना, आपसी बैरभाव समाप्त करना, विभिन्न जाति व सम्प्रदाय के साथ आपसी तालमेल द्वारा निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करना सिखाता है। फलस्वरूप उनमें सामाजिक सहयोग के भाव उत्पन्न होते हैं जो उन्हें अनुषासन प्रिय बनाने में सहायक सिद्ध होते हैं। खेलकूद के अभाव में बच्चे इस लाभ से वंचित रह जाते हैं। जब विभिन्न देषों की टीमें खेलती हैं उनके सदस्यों में सहज ही मैत्रीभाव का विकास हो जाता है। क्रीड़ा जगत में एक साथ भाग लेने वाले खिलाड़ी परस्पर प्रतिस्पर्धा तो करते हैं परन्तु द्वेशभाव से दूर रहते हैं। खिलाड़ी हार-जीत को जब खिलाड़ी की भावना से लेने की षिक्षा पाते हैं तो वे जीवन में भी सफलता-असफलता के अवसरों पर सन्तुलन बनाये रखने में सफल होते हैं।
 (2) मस्तिश्क एवं षरीर पर प्रभाव - खेलकूद द्वारा छात्रों के स्वास्थ्य में वृद्विहोती है। खेलने के दौरान प्रत्येक मांसपेषियाँ काम करती हैं तथा रक्त तीव्रता से षरीर में दौड़ने लगता है जिससे बालक का षरीर निरोग बना रहता है और निरोग षरीर में स्वस्थ मस्तिश्क होता है उसमें अच्छे-बुरे समझने की षक्ति होती है जिससे चारित्रिक दुर्बलताएँ मस्तिश्क में प्रवेष नहीं कर पाती हैं। खेलते समय बालक के अन्दर संयम, दृढ़ता, वीरता, गम्भीरता, एकाग्रता तथा सहयोग की भावना का विकास होता है इसके विपरीत खेलकूद के अभाव में छात्रों का षारीरिक एवं मानसिक विकास अवरूद्ध हो जाता है और उनमें आत्मविष्वास की कमी उन्हें आत्मानुषासित बनाने में बाधक होती है। और वह कुण्ठाग्रस्त होकर गलत मार्ग की ओर अग्रसर हो जाते हैं
 (3) अतिरिक्त विकास- बालकों में किषोरावस्था में अतिरिक्त षक्ति होती है। खेलकूद द्वारा उनकी अतिरिक्त षक्ति को सरलता से रचनात्मक कार्यों मेें लगाया जा सकता है। और अतिरिक्त षक्ति का सदुपयोग हो जाता है। यदि अतिरिक्त षक्ति को खेलकूद में न लगाया जाए तो वह षक्ति बुरे कार्यों में लग सकती है।
 (4) अवकाष - खेलकूद के माध्यम से अवकाष का सदुपयोग होता है। प्रायः विद्यालयों में फैलती अनुषासनहीनता का प्रमुख कारण छात्रों को अवकाष के सदुपयोग की सुविधा न देना है। जहाँ अध्ययन के पष्चात् खेलकूद की सुविधा उपलब्ध होती है वहाँ प्रायः किसी प्रकार की अनुषासनहीनता नहीं होती है क्योंकि बालक खेलकूद में इतना व्यस्त रहते हैं कि उन्हें बुरा देखने बुरा कहने-सुनने व करने का समय नहीं मिल जाता है। इसके विपरीत बच्चे उपद्रव मचाते हैं।
 (5) आत्मनियन्त्रण की भावना - छात्र जब किसी अन्य विद्यालय के छात्रों से मैच या किसी प्रतियोगिता में भाग लेता है तो वह ऐसा कोई कार्य नहीं करता जिससे उसकी तथा उसके स्कूल की बदनामी हो।
  फलतः उसमें आत्म नियन्त्रण की भावना जाग्रत होती है और वह अनुषासित ढंग से व्यवहार प्रदर्षन करता है। इसके विपरीत खेलकूद के अभाव में छात्र आत्मनियन्त्रित नहीं हो पाते।
 (6) उचित मार्ग दर्षन- कुछ विद्यार्थियों की पढ़ाई की अपेक्षा खेलकूद में अधिक रूचि होती है। उनकी रूचि के अनूकूल खेलकूद के क्षेत्र में उचित मार्गदर्षन किया जाए तो वे अच्छे खिलाड़ी बनकर भारत का गौरव बढ़ा सकते हैं।
 खेल के समय खिलाड़ी को प्रत्येक अवसर पर तत्क्षण निर्णय लेना होता है। वह किधर से आगे बढ़े कब किस गेंद को किस प्रकार खेलें आदि। इस दृश्टि से खेल व्यक्ति के मस्तिश्क को अनुषासन में बाँध देते हैं।
 उपरोक्त विवेचना के अनुसार खेलकूद और अनुषासन के अन्तरंग सम्बन्ध हैंै। आज की षिक्षा का उद्देष्य बालक का बहुमुखी विकास करना है। एकांगी नहीं।
अतः मानसिक विकास के साथ षारीरिक विकास आवष्यक है तभी छात्र मानसिक रूप से एकाग्रचित, नियन्त्रित अर्थात् अनुषासित रह सकते हैं।
 इस प्रकार अनुषासन के लिए खेलकूद अति आवष्यक है। खेलकूद बालक के सर्वांगीण विकास में सहयोगी व आवष्यक है। अतः खेलकूद के महत्व को स्वीकारते हुए विद्यालय में खेलकूद की उचित व्यवस्था होनी चाहिए जिससे बालक का बहुमूखी विकास हो सके।


शारीरिक शिक्षा की उत्पति, विद्यालय में शारीरिक शिक्षा की उपयोगिता

 शिक्षा शब्द से उत्पत्ति शारीरिक शिक्षा की हुई है क्योकि चाहें वह रामायण काल हो या महाभारत काल जिस प्रकार भगवान श्रीराम या कौरव और पाड्व गुरूकुल में शिक्षा ग्रहण करने के लिए गये थे उनके साथ शारीरिक शिक्षा का भी पाठ्यक्रम रखा जाता था। परन्तु वह किस रूप में विकसित थी धनु विद्या तलवारबाजी, गदा युद्ध, कुश्ती आदि।
 उ0 प्र0 माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा शारीरिक शिक्षा को एक अनिवार्य विषय के रूप में प्रस्तुत किया गया है। क्योंकि खेल का स्वर लगातार नीचे गिरने से दो साल से शारीरिक शिक्षा को अनिवार्य विषय कर दिया गया है। शारीरिक शिक्षा का कार्यक्रम अति व्यापक है। लेकिन कुछ विद्वान शारीरिक शिक्षा के पाठ्यक्रम को समझ नहीं पाते है। छोटी-मोटी खेल की प्रतियोगिता कराकर अपने पाठ्यक्रम को खत्म कर देते हैं। लेकिन विद्यालय में नियमित रूप से शारीरिक शिक्षा का पाठ्यक्रम बनाना चाहिए। जिससे छात्रों का समुचित रूप से विकास हो सके। शारीरिक शिक्षा का अथ्र  विद्यार्थी को स्वस्थ व निरोग रखने और मानसिक, विकास बुद्ध क्रियायें, ऐथलेटिक, योगा, जिमनास्टिक, हाॅकी, क्रिकेट, फुटबाॅल आदि का  निर्माण रूप से अभ्यास कराना चाहिए। जिससे विद्यार्थी का अपना लक्ष्य प्राप्त करने में आसानी रहे। विद्यार्थी के अन्दर शारीरिक शिक्षा के कार्यक्रम से निम्न गुण विकसित होते है-
1. शारीरिक गुण का विकास होना।
2. चारितिक गुण का विकास होना।
3. सामाजिक गुण का विकास होना।
4. मानसिक गुण का विकास होना।
5. अनुशासन की भावना का विकास होना।
6. नैतिकता की भावना का विकास होना।
7. खेल भावना का विकास होना।
 जिस प्रकार शिक्षा के पाठ्यक्रम में एक पीरियड खेल का इसलिए रखा जाता है कि सभी छात्र/छात्राओं का ध्यान खेल की तरफ केन्द्रित हो तो वह सारा दुःख और सुख छोड़कर खेल की तरफ केन्द्रित हो जाता है। जिससे उन्हें एक नयी ऊर्जा प्राप्त होती है। और उनके आगे नेये भविष्य के लिये मार्ग बनता हैं। वह पुनः पढ़ाई के लिये तत्पर हो जाते हैं।


समय 

 कल्पन कीजिए एक ऐसे बैंक की जो हर सुबह आपके खाते को $86,400 से क्रेडिट करता है। यह कोई अतिरिक्त बैलेन्स नहीं रखता और हर शाम यह उस राशि को मिटा देता है। जिसे आप उस दिन के अन्दर उपयोग नहीं कर सके इस ंिस्थति में आप क्या करेंगे?यही कि आप अपना सारा पैसा निकाल लेंगे।
 हम सभी के पास ऐसा ही बैंक होता है। जिसका नाम है, 'समय' यह हर सुबह आपके 86,400 सैकेण्ड को क्रेडिट करता हे। और हर रात यह उन सैकेन्डस को आपसे ले लेता है। जिन्हें आप दिन भर में किसी अच्छे उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं कर सके या नहीं बचा पाये।
 हर रात यह आपके बचे हुए समय को समाप्त कर देता है। क्योंकि यह निरन्तर चलता रहता है। अगर आप अपने दिन के समय को अच्छी तरह नहीं भोग पाये तो यह आपका नुकसान होगा। यहाँ पीछे जाने का कोई रास्ता नहीं है। और न ही आप समय को निकाल कर रख सकते हैं। कल के लिए आपको सिर्फ 'आज' में ही जीना पड़ता है। इसलिए आप कुछ ऐसा इन्वैस्ट कीजिए जिससे आप को सफलता, स्वास्थ्य व खुशी मि सके समय की घड़ी चलती रहती है। आज का इस्तेमाल करना सीखिए।
1.  एक 'साल' की कीमत फेल विद्यार्थी से जानिए।    
2.  एक 'महीने- की कीमत उस माँ से जानिए जिसने एक प्रीमेच्योर बच्चे को जन्म दिया हो।
3.  एक 'हफ्ते' की कीमत उससे पूछिये जो बोकली न्यूजपेपर का एडीटर हो।
4.  एक 'घंटे' की कीमत प्रेमियों से जानिए जो मिलने के लिए बेचैन रहते हैं।
5.  एक 'मिनट' की कीमत उससे जानिए जो अपनी ट्रेन मिस कर चुका है।
6.  एक 'सेकेण्ड' की कीमत उससे जानें जिसक एक्सीडेन्ट होने से बचा हो।
 याद रखिए समय किसी का इन्तजार नहीं करता।


सार्थक स्वप्न

 तीन साधू अलग-अलग जाति के होते हैं। एक हिन्दू, एक मुस्लमान, एक ईसाई होता है। एक दिन तीनों साथ में टहलते हैं। उनको टहलते-टहलते रात हो जाती है। तो तीनों साधू एक गरीब परिवार में जातें हैं और रात भर रूकेने का निवेदन करते हैं। उस घर में केवल एक ही आदमी था। जो उन तीनों साधुओं को रूकने के लिए एक कमरा दे देता है। तो वे तीनों साधु अपने भोजन के लिए आग्रह करते हैं। तो वह आदमी उनके लिए खीर बना कर लाता है। तीनों के मन में एक विचार आता है। वे कहते हैं कि रात में जो अच्छा स्वप्न देखेगा, वही इस खीर को खाएगा। रात में तीनों को नींद तो आती नहीं है और तीनों अपने मन में अच्छे-अच्छे स्वप्न के बारे में सोचते हैं। तो थोड़ी ही देर बाद मुसलमान और ईसाई को नींद आ जाती है। परन्तु हिन्दू उन दोनों के सो जाने का लाभ उठात है। वह उठकर सारी खीर खा जाता है। और सुबह तीनों हाथ-मुँह धोकर बैठते हैं। और अपने स्वप्न के बारे में बताने लगते हैं।
मुसलमान:- रात में हमारे अल्लाह जी आए थे और उन्होंने हमें बहुत सा पैसा दिया और प्यार भी किया।
ईसाई:- रात में हमारे ईसा-मसीह जी आए थे, उन्होंने हमें बहुत सा धन दिया और उन्होंने हमें गोद में बिठा कर अच्छी-अच्छी बाते बतायीं। अब हिन्दू की बारी आयी!
हिन्दू:- हमारे हनुमान जी तो हकीकत में आए थे।
दोनों साधु:- वे तुम्हारे लिए क्या कर गए?
हिन्दू:- आए और हमें अपने गदे से मार-मार कर सारी खीर-लिखा गए।
दोनों:- क्या तुम हकीकत में सारी-खीर खा गए?
हिन्दु:- जब हनुमान जी हकीकत में आए थे तो हमें मार-मार कर सारी खीर भी हकीकत में लिखा गए।


समाज में नारी की भूमिका

प्रस्तावना- ऋग्वेद में कहा गया है कि: यत्र नार्यस्तु पूज्यते रमन्ते तत्र देवता' यह कथन मनु का है इसका अर्थ है कि ''जहाँ नारी की पूजा होती है' वहीं देवता निवास करते है।'' पूजा का अर्थ है किसी स्त्री को गौरव दीजिए उसका सम्मान करो, उसकी शिक्षा की उचित व्यवस्था हो, उसके जीवन स्तर में सुधार हो जिसके फलस्वरूप प्रत्येक देश में स्त्रियों के जीवन में सुधार की विशेष आवश्यकता का अनुभव किया गया है। भारत जैसे प्रगतिशील देश के लिये तो स्त्री जीवन का विकास अत्यन्त आवश्यक है। धार्मिक रूढ़ियों में बँधे हुए अन्धविश्वसनीय भारत की स्त्री के जीवन के विकास के लिए स्वतंत्र भारत में हर सम्भव प्रयास हो रहे है।
 ''जो हाथ पालने को झुलाता है, वह संसार का शासन भी करता है'' यह अंग्रेजी भाषा की कहावत है। इससे स्पष्ट होता है कि माँ का बालकों के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है। एक बार नेपोलियन ने कहा था  “If you give me good mathers, I will give you a good nation.”
ऐतिहासिक पृष्ठभूमि: जहाँ तक मेरा विचार है कि प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल में प्रत्येक (काल) युग में नारी का किसी न किसी रूप में शोषण होता रहा है। यदि हम प्रत्येक युग में नजर डाले तो तस्वीर उभरती है।
प्राचीन काल: वैदिक काल में नारी को वे सम्पूर्ण आर्थिक राजनैतिक धार्मिक, सांस्कृतिक अधिकार प्राप्त वैदिक काल तक समाज ने नारी के जीवन को नरक बनाना शुरू कर दिया था।
बौद्धकाल: बौद्धकाल में महात्मा बुद्ध ने स्त्रियों का संघ में प्रवेश वर्जित कर दिया था लेकिन अपने प्रिय शिष्य 'आनन्द' के विशेष आग्रह पर गौतम बुद्ध ने नारियों को संघ में प्रवेश की अनुमति दे दी लेकिन उस समय तक स्त्रियों की दशा दयनीय स्थितियों की ओर प्रवेश कर चुकी थी।
मुगलकाल- मुगलकाल में नारियों की दशा बहुत ही सोचनीय हो गयी थी। अनेक प्रकार की कुप्रथायें और स्त्रियों को अनेक बन्धनों में जकड़ दिया गया था।
आधुनिक काल- आधुनिक काल में नारियों की दशा बहुत खराब हो गयी। अनेक समाज सुधारकों का ध्यान इस ओर आकर्षित हुआ उन्होंने उनकी स्थिति को सुधारने के लिए अनेक प्रयास किये। उदाहरणार्थ- स्वामी विवेकानन्द, दयानन्द सरस्वती, राजा राममोहन राॅय, रवीन्द्रनाथ टैगोर, महात्मा गाँधी, महात्मा ज्योतिबा राव फुले आदि।
नारी के जीवन में आने वाली बाधाएँ- नारी के कष्टों व उसकी दुर्दशा को देखकर मुझे सुमित्रानन्दन पन्त की कविता स्मरण हो जाती है।
''अबला जीवन हाय, तुम्हारी यही कहानी।
आँचल में दूध और आँखों में पानी।''
आज समाज में नारी के विकास में सबसे बड़ी बाधा है। नारी का अशिक्षित होना। वह उन प्राचीन कुप्रथाओं व रूढ़ियों को मानने के लिए विवश है। जिनका कोई औचित्य नहीं है। समाज को नारियों के प्रति अपना दृष्टिकोण बदलना चाहिए। इसके लिए हम सभी को आगे जाना चाहिए। समाज में आज भी पर्दा-प्रथा, बाल-विवाह प्रचलित है तो और दहेज के दानव ने विकराल रूप धारण कर लिया है जिसमें अनेक कन्याओं की बलि दी जा रही है। साथ ही आजकल कन्या भ्रूण हत्या एक बहुत बड़ी समस्या के रूप में समाज में प्रचलित हो गयी है उन्हीं दहेज लोभियों को कविता के माध्यम से सम्बोधित करते हुए मैं कह रहा हूँ।
''चूर किये मासूम स्वप्न सब कन्या का जीवन मुरझाया। ओ मेरे युग के प्रहरी तुम, इस कलंक का करो सफाया।।''
 नारी जीवन के विकास के लिये प्रयत्न: नारी जीवन के विकास के लिए समाज को ही नहीं सरकार को भी प्रयत्न करना चाहिए सबसे पहले प्रत्येक बालिका को शिक्षित करना होगा और जिनकी आर्थिक स्थित अच्छी न हो उन्हें छात्रवृत्ति देकर शिक्षा की ओर प्रेरित किया जाना चाहिए और समाज में जो दहेज प्रथा, पर्दा प्रथा, बाल विवाह, आदि सामाजिक कुरीतियों के लिए कड़े नियम कानून बनाने होंगे। समाज में जागरूकता पैदा करनी चाहिए। संसद में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण बिल पास कर उनके विकास के मार्ग को प्रशस्त करना चाहिए।
अन्त में: जहाँ तक मेरा मानना कि नारी के विकास को लेकर प्रत्येक व्यक्ति ऊँची-ऊँची बातें करते हैं, लेकिन वास्तविकता कुछ और ही है। उदाहरण के तौर पर भारतीय संसद में ही महिला का कितना प्रतिनिधित्व है जो एक गणना मात्र है। हर नेता व मंत्रीगण महिलाओं के विकास की बातें करते हैं। लेकिन जहाँ संसद में 33 प्रतिशत आरक्षण का मामला आता है। इसका विरोध होता है। ये है इनके चेहरे का असली मुखौटा। अतः मेरा विचार है कि समाज को नारी विकास में एक अहम् भूमिका निभानी होगी। समाज से कुप्रथा को बाहर कर एक स्वस्थ समाज का निर्माण करना होगा, जिसमें महिलाओं की समान भागीदारी होगी क्योंकि नारी और पुरूष दोनों एक गाड़ी के दो पहियों के समान है। जिससे परिवार रूपी संस्था चलती है। स्वस्थ परिवार से ही स्वस्थ समाज की स्थापना होती है। समाज में नारी के विभिन्न रूप है। माँ, पत्नी, पुत्री, बहन जो अपने कर्तव्यों का सफलता पूर्वक निर्वाह करती है। विश्वविख्यात साहित्यकार डाॅ0 रवीन्द्र नाथ टैगोर ने नारियों की गरिमा को बढ़ाते हुये कहा ''पवित्र नारी दुनिया की सर्वोत्तम कृति है।'' अतः समाज को नारियों के प्रति अपना दृष्टिकोण बदलना चाहिए। नारी शक्ति का प्रतीक है। इसी के साथ मैं अपना लेख समाप्त करता हूँ।
''कोमल है कमजोर नहीं, शक्ति का नाम ही नारी है।
सबको जीवन देने वाली, मौत तुझी से हारी है।।


जीवन की डोर

 जीवन की डोर बहुत कमजोर होती है। कब टूट जाये इसका कोई भरोसा नहीं। इस जीवन में कई मोड़ आते हैं। उनमें सबसे महत्वपूर्ण मोड़ सुख तथा दुःख का होता है। जिस मनुष्य ने दुःख का अनुभव किया है वही सुख की कल्पना कर सकता है। आज तक बहुत कम लोगों ने जीवन का अर्थ समझा है। आज कल के तो नवयुवक जीवन का अर्थ यह बताते हैं कि जीवन सिर्फ मनोरंजन है। चाहे कोई मरे या जिए हमें उससे कोई मतलब नहीं है। अब यह दुनिया कितनी स्वार्थी हो गई है। उन्हें किसी से मतलब नहीं है। अगर मैं कुछ अच्छी बातें नवयुवकों को बताऊँ तो इसको एक कान से सुनकर दूसरे कान से निकाल देंगे। मैं 16 वर्षीय छात्रा हूँ। मैंने जीवन के थोड़े से पहलुओं को समझा है। मैं चाहती हूँ कि दूसरे मनुष्य जीवन के पहलुओं को समझो, उस पर अमल करे और उन पहलुओं को अपने जीवन में प्रयोग करें। पर ऐसा हो नहीं सकता है क्योंकि सबकी आँखों पर स्वार्थ तथा लालच की पट्टी बंधी हुई है। सभी मनुष्य स्वार्थी है।। मैं भी स्वार्थी हूँ। पूरे संसार में ऐसा कोई मनुष्य नहीं है। जो स्वार्थी न हो। सभी स्वार्थी हैं जैसे - (1) हम भगवान की पूजा इसलिए करते हैं कि भगवान हमारी सारी इच्छा पूरी करें तथा हमें सुखी रखें। (2) एक दोस्त दूसरे दोस्त से मेलजोल इसलिए बढ़ाता है क्योंकि मुसीबत में उसकी सहायता करे और जब उसकी मुसीबत टल जाती है तो वह अपने मित्र से मेलजोल खत्म कर लेता है। इससे पता चलता है कि वह उसका स्वार्थ था। अगर स्वार्थ के बारे में और बताऊँ तो उसका लेख कभी खत्म नहीं होता।


आज का मानव

 हम सब मनु जी की सन्तान हैं। इसलिए हम मनुष्य कहलाते हैं। हम मनुष्य या मानव कहलाने के अधिकारी तभी हो सकते हैं जब हमारे मानवी गुण यथादया, क्षमा, उदारता, साहस, निर्भीकता, सहनशीलता, सहिष्णुता, सत्यता, अहिंसा, अलोलुपता तथा संयम आदि समाहित हो।
 एक समय था जब मानव अपने कुटुम्ब, ग्राम, जनपद, राज्य देश तथा विश्व का शुभ चिन्तन करता था। हमें निम्न श्लोक कुछ इसी ओर संकेत करता सा प्रतीक होता है।
सर्वेच भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः।
सर्वे भद्वाणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःख भाग भवेत।।
 परन्तु खेद है। कि जब हम आज के मानव के संकीर्ण क्रिया-कलापों तथा उसके विचारों की ओर दृष्टिपात करते हैं। तो शर्म से हमारी नरजें नीचे हो जाती हैं। आज के मानव के क्या विचार हैं?
भगवान हमें ऐसा वर दो।
सारे जग की सारी सम्पत्ती मेरे घर भर दो!
भगवान हमें..................
कार्य हमारा जो भी होवे आप स्वयम् कर जावे!
हमतो मारे मौज मजे से, खाने को हल्लुवा ही पावे!!
जो भी हमसे टक्कर लेवे, उसको शक्कर आँखें ही गिर जावे!!
जिसकी ओर नजर भर देखूँ, उसकी आँखें ही गिर जावे!!
यदि हमको आ कर कर क्षुधा सताये तो खाने को घी शक्कर दो!!
भगवान हमें ऐसा वर दो!
 हाय! धन्य है। आज का मानव और उसके स्वार्थ भरे विचार। मैं आज के मानव की जो भी प्रशंसा करू, वह सूर्य को दीपक दिखाने के समान ही होगा।
 एक समय था जब हमारे पूर्वजो ने ''बसुधैव कुटुम्बकम'' का नारा ही नहीं दिया था बल्कि इसे अपने स्वभाव में ढाल कर के भी दिखाया था। कि पृथ्वी के सारे मानव मेरे कुटुम्बी हैं। और सारी धरती मेरा घर है। इसलिए हमारे पूर्वज गाया करते थे- 
विश्व है। मेरा सुन्दर धाम। करू मैं शत शत् इसे प्रणाम।।
विश्व में मंगल हो सब ओर। शंति का सागर करे हिलोर।।
विश्व हो सुन्दर स्वर्ग समान। मनुज का मनुज करे कल्यान।।
विश्व के मनुुज सभी है एक। एक में लगता हमें अनेक।। 
प्रभू का अंश जीव हर एक। भेद का करना, नहीं विवेक।।
 लेकिन जब हम आज के मानव के गीत सुनते हैं। तो हमें उसकी वैज्ञानिक बुद्धि पर तरस आता है। वह अपने कुटुम्ब के साथ तक रहना पसन्द नहीं करता है। उसका तो कहना है कि-
नोट: अरे आगे बढ़कर आओ! अरे आगे!!
  माता पिता को मारो गोली मां
 माता से नाता तोड़ो!
 अपना दरबा अलग बसाओ!!
 उनकी ड्यूटी खत्म हो गयी!
 तुम भी कुछ ब्यूटी दिखलाओ!!
अहा! आज का मानव की क्या सुन्दर धारणाएँ हैं। जिसकी प्रशंसा के लिए मेरे पास कोई शब्द ही नहीं है। एक समय था जब मानव अपनी जान की बाजी लगा कर दूसरों के हित के लिए अपने प्राण तक उत्सर्ग करने को उत्सुक रहता था। जिसके उदाहरण ऋषि दधिच, राजशिव, दानवीरकर्ण, राजा रन्तिदेव आदि दिये जा सकते हैं।
 परन्तु आज का मानव कैसा है। यह हम सब भली भाँति जानते है। दुराचार और विश्वासघास में तो वह अपने सगे सम्बन्धियों तक को नहीं छोड़ता। उसे अपने गुणों या दुर्गुणों की कोई परवाह ही नहीं है। उसे ईश्वर पर तो रंच-मात्र विश्वास नहीं रहा कि अगर हम गलत कार्य करेंगे तो ईश्वर हमें दंड देगा। चोरी, नशाखोरी, धूसखोरी, जमाखोरी, अनर्ग, प्रलाप तथा विश्वासघात तो आज के मानव की बाल-क्रीडाएं हैं। वह रात-दिन धन दौलत पाने के संकल्पों की माला फेरा करता है।
 आज का मानव विज्ञान में जो भी उपलब्धियाँ आज तक प्राप्त कर सका है। तो इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है। इन सब की प्राप्ति, हमारे पूर्वज ''प्राप्ति'' नामक सिद्धि के द्वारा प्राप्त कर लिया करते थे। तथा योग साधना के द्वारा ध्यान के द्वारा सारे संसार की जानकारी रखते थे।
 हमारे पूर्वजो ने अभी तक के मानवों की तीन श्रेणियाँ ही स्थापित की थी। परन्तु आज मानव चतुर्थ श्रेणी में आ गया सा प्रतीत होता है। चारों श्रेणियाँ इस प्रकार हैं।
1. देव कोटि - वे मानव जो अपना हित त्याग कर हित करते हैं।
2. मानव कोटि - वे मानव जो अपनों का भी हित करते हैं। और दूसरों का भी हित करते हैं।
3. दानव कोटि - वे मानव जो अपना तो हित करते हैं और दूसरों का अहित करते हैं।
4. पिशाच या प्रेत कोटि - वे मानव जो अपना भी अहित कर के दूसरों का अहित करते हैं।
आज के मानव को चाहिए कि वह अपने धर्म पंथ पर चलते हुये कबीर, गुरूनानक, महाप्रभू, चैतन्य देव, मुहम्मद साहब, ईसामसीह, मुईन उद्दीन चिश्ती, आदि के उपदेशों को ग्रहण करें। तथा आत्मनिरीक्षण करें। अपने दुर्गुणों को दूर कर सद्गुणों का विकास करे। जाति रंग भेद, अस्पृश्यता आदि भेदभाव भूलकर ''वसुधैव कुटुम्बकम्, को साकार बनावे। अपने अन्धकार सत्य, दया, क्षमा उदारता, साहसिकता, निडरता, सहिष्णुता, सहनशीलता, अलोलुपता, संयमता, अहिंसा, आदि मानवीय गुणों का विकास करें। तथा विश्व को एक नया मार्ग प्रशस्त करें। हमारे विचार वाणी, कर्म पवित्र हो मंगल भावना से ओत प्रोत हो।
 आज के मानव को इस बात की महती आवश्यकता है कि वह विश्व कल्पमाण की कामना में रत रहने का संकल्प वृत ले, तभी विश्व कल्याण का स्वप्न साकार हो सकेगा।


होली की उपादेयता

श्री मनीष शर्मा
 विश्व मंे भारत उपमहाद्वीप ही ऐसा है जहाँ छः ऋतुओं का काल चक्र पूरा होता है। ऋतुराज वसंत के अगमन से प्रकृति में नवचेतना की बहार छा जाती है। रंग-बिरंग फूलों की चादर वाड़ियों में लहरा उठती है तो ऊसर भूमि में भी अंकुर फूट पड़ते हैं। नई उमंग उल्लास से मादकता नस नस में थिरकने लग जाती है। प्रत्येक प्राणीवान की। फूलों की सुगन्ध से गमकी शीतल मन्द समीर स्फुरित करती हुयी बहती है। खरीफ की फसल से प्राप्त भरपूर अन्न एवं रवी की पूर्ण रूपेण भरी फसल चनों के भाड़ गेहूँ जौ की इठलाती बालियों को भून कर खाने, होरी के सुखद कल्पना, नववर्ष सानन्द समृद्धिदायक होने की कामनाओं मंे उल्लासित मानव मन मादक वातवारण में झूम उठता है। कंठ स्वरों से स्वतः ही कीर्तिगान फूट पड़ता है। अपने प्रिय के प्रति अपने हाथ अधम्य शुभचिंतकों के प्रति।
 आदि से मानव को सर्वप्रथम जिस तत्व का ज्ञान हुआ वह तत्व है अग्नि वेदों में सर्व प्रथम ऋग्वेद का प्रथम यंत्र अग्रि का प्रतीक है। अग्रि के बिना कोई भी प्राणी जीवित नहीं रह सकता। अग्नि देवता ही सर्वाधर हैं। निरूक्त में सविता को ही अग्नि कहा गया है। इस सृष्टि की उत्पत्ति भी अग्नि से ही निरूपित हुयी है। मानव ने रसना का स्वाद भी इसी से पाया तो भोजन को शरीर में 'जठारग्नि' के कारण पहचानने का आभास भी। रक्त जमा देने वाले भयंकर शीत के त्राण प्राप्त किया अलाव जला कर। मानव गहरे अन्धकार से घबड़ा कर उस महा शक्ति से प्रार्थना कर उठा 'तमसो मा ज्योतिर्गमय'
 ऐसे आत्म आनन्द दायक पर्व पर कोई स्वजन प्रियजन वंचित न रह जाये, अपने से दूर न चला जाय-इसके लिए मानव ने होली के आठ रोज पहले सभी सुभयात्रायें एवं शुभकार्य वर्जित कर दिये जाते हैं। कालान्तर में असुर राज हिरण्यकशिपु ने अपने ईश्वर भक्त पुत्र प्रहलाद के प्राण हरण हेतु अपनी राक्षसी बहिन होलिका के साथ अग्नि पीरक्षा का षडयंत्र रच कर आठ रोज पूर्व ही इस सामूहिक अग्नि पूजन अलाव को असुर राज के निर्णय से क्षुब्ध होकर सत्तप्त जनों ने इन आठ रोज के सभी शुभ कार्यों का परित्याग कर दिया। ईश्वर भक्त प्रहलाद अग्नि परीक्षा में खरा उतरा।
 मानव समुदाय ने जब यह दृश्य देखा तो आनन्द से झूम उठा मस्त हो गया। तथा उस प्रकृति की अद्भुत देन रंग विरंगे फूलों के रंगों से अपने प्रिय स्वजनों बन्धु बांधकों को रंगना शुरू कर दिया। कुमकुम केषर गुलाब मिश्रित सुगन्धित पावन जल से सरोवर कर दिया धरती के कण को। तभी से प्रारम्भ हुयी रंग लगाने की प्रथा का सुखद स्वरूप।
समानी वः आकृतिः समानाहृदयनि वः
समान यस्तु वो मनो यथा वः सुस सहासति
 आप सब के संकल्प अध्यवसाय एक प्रकार के ही आप सब के हृदय मंे एक रंग स्तर मन सत्य की कामना हो। आप सब के अन्तः करण में जो सत्य है शिव है-सुन्दर है जो समाज रूप से शुभकारी है-उसी की पूर्ण कृपा समान रूप से आप सब पर हो।
सबके लिए एक, एक के लिए सब समर्पित हो।


पुत्री

मनोज कुमार शर्मा
(1) ''हा दैव! क्या मेरे भाग्य में बदा था?मैंने कौन-सा ऐसा पाप किया था?''
पुरूषोत्तम दादा अपने गाँव के पुरोहित थे। वे ब्रह्माणों में उपाध्याय थे। बहुत गरीब थे। वर्ष का कोई ही ऐसा सौभाग्य का दिन होता, जिस दिन उन्हें और उनके बच्चों राजेश और विमला को पेट भर रोटी मिलती। राजेश 13 वर्ष का था तथा बिमला 16 वर्ष की बालिका थी।
गाँव के लोग रोज न सही तो होली दीवाली को अवश्य प्रसन्नचित रहते। मनोविनोद करते। परन्तु पुरूषोत्तम दादा के मुख पर बसन्त में भी प्रसन्नता की रेख न झलकती। हमेशा उनके घर में गमी सी रहती। बिमला को देखते ही उनके नयनाम्बर से आँसू टपकने लगते। हृदय अधीर हो जाता। रह रह कर कराह उठते ''हा दैव! क्या मेरे भाग्य में यही बदा था। मैंने कौन-सा ऐसा पाप किया था।
 बैसाख का महीना था। सुबह 8 बज चुके थे। ठंडी ठंडी हवा चल रही थी। पक्षी बोल रहे थे। दीप्तिमान दिनकर प्रसन्नता पूर्वक दैनिक यात्रा में चल पड़े थे। आज पुरूषोत्तम दादा के मुख पर प्रसन्नता थी। कहीं की तैयारी कर रहे थे एकाएक आवाज आयी।
''दादा! जल्दी तैयार होइये।'' पुरूषोत्तम ने दरवाजा खोला। राजा को द्वार पर खड़े देख बोले ''तैयार हो गये राजा। आओ बैठो! मैं शीघ्र ही आता हूँ।'' ऐसा कहते हुये पुरूषोत्तम ने चारपाई बिछा दी और घर के भीतर चले गये।   
(2) भगवान भुवन भाष्कर तेजी से सर पर चमक रहे हैं। हवा कुछ मन्द हो चुकी है। धूप चमचमा रही थी। पास में कोई भी वृक्ष न था। गाँव भी दूर है। तीन पुरूष ऐसे समय में चले जा रहे हैं।
''अभी कितनी मंजिल है।'' ''कोई लगी है। राजा!  यहाँ कहीं पानी न मिलेगा।''
''यहाँ तो नहीं मिल सकता दादा। थोड़ी दूर और चलो आगे उस कुयें पर पिया जायेगा'' राजा ने कहा। कुछ दूर जाने पर पुरूषोत्तम ने फिर कहा ''राजा! अब नहीं चला जाता। इससे तो मृत्यु ही भली।'' ''धैर्य रखो दादा! अब की काम बन गया मानो मुक्ति मिल गयी।'' राजा ने पुरूषोत्तम से कहा। ''बन जाय तब तो ना।'' पुरूषोत्तम ने उदास होकर कहा। ''ईश्वर पर भरोसा रखो। वह चाहे तो सब ठीक हो जायेगा।'' राजा ने ढाढस बंधाते हुये पुरूषोत्तम का मुख कमल की तरह खिल गया। मानो रंक को निधि मिल गयी। सारी थकान और प्यास गायब हो गयी। प्रसन्न मुद्रा में बोले ''अच्छा राजा! चला! वहीं पानी पियेंगे। पहले बातचीत तो कर लो।'' पुरूषोत्तम की बातचीत सुनकर राजा, राजेश और पुरूषोत्तम की बातचीत सुनकर राजा, राजेश और पुरूषोत्तम दादा के साथ शुकुल के बैठके की ओर चल दिये। सभी प्रसन्न हैं। पुरूषोत्तम ने दीन भाव से प्रार्थना की। 'भगवान! अबकी बार काम करो। शुकुल के कण्ठ में बसो। शादी तय हो जाए! घर पहुँचते ही कथा सुनेंगे।'' इस प्रकार सभी प्रार्थना करते हये आगे बढ़े। 
(3) एक युवती अपने दृग बिन्दुओं से धवलित सुगंधित पुष्पों की माल पिरो रही है। हृदय में तीर सा लगा। हृदय व्याकुल हो उठा। आँखों में आँसू निकल पड़े। हाथ रूक गये। माला पिरोना बन्द हो गया। एक चीख के साथ बोल पड़ी ''हाय मेरे कारण ही दादा और राजेश को इतना दुःख उठाना पड़ रहा है। मैं कितनी आभागिन हूँ। खुद तो दुख सह ही रही हूँ साथ ही भाई बाप को भी ले डूब रही हूँ। भगवान! अब मेरे भाई बाप को इस दुःख से मुक्त करो।'' ऐसा कहती हुयी कुछ धीरज बाँधा। करे क्या। माला बेचकर ही सही। किसी न किसी प्रकार खाना आदि खिला कर अपने भाई बाप की तकलीफ कम करना चाहती है। माला पिरोना शुरू किया। आँखों से आँसू अब भी जारी है। द्वार पर किसी की आहट सुनाई पड़ी,धीरे-धीरे दरवाजा खुला। शान्त रूप से शान्ती रूप से शान्ती अन्दर आयी विमला की आँखों में आँसू देखकर कहा ''विमला! पागल तो नहीं हो गयी। जब देखो रोती ही मिलती हो। सदैव का रोना भी ठीक नहींे होता। कुछ तो धीरज बाँधों।'' शान्ती को देखते ही विमला ने आँसू पोछे तथा मुद्रा बदलने की चेष्ठा करते हुये दवे स्वर में कहा ''क्या करूँ शान्ती?अब नहीं सहा जात। दादा तथा राजेश की हालत नहीं देखी जाती है। मुझे अपनी कोई चिन्ता नहीं है। चिन्ता जो है सो भाई बाप की। जो मेरे लिये इतने कष्ट सह रहे हैं। मुझे क्या न भी कुछ हुआ तो मर कर तो शान्ति पा ही सकती हूँ।'' ''घबड़ाओ नहीं बहिन! समय सदैव एक सा नहीं रहता। धैर्य रखा! अबकी भगवान ने चाहा तो सब ठीक हो गया।'' इस प्रकार कहते हुये शान्ती ने आगे कहा ''लो यह आटा! खाना बनाओ। दादा भैया आते होंगे। थके भूखें होंगे खाना खिलाना। ''नहीं बहन, मैं यों नहीं लूँगी। दादा ने शिक्षा दी है कि बिना किसी प्रकार की सहायता किये किसी से कोई चीज कभी न लेना चाहिए। या तो हमें कोई काम बताओ वरन् ऐसे मैं नहीं लूँगी बहन।'' विमला ने शान्ती से कहा। विमला की बात पर शान्ती ने कहा ''बहन मैं तुम्हें अपनी तरफ से देती हूँ। जाओ खाना बनाओ। घर ही तो यह भी है।'' ''नहीं बहन! कुछ तो कहना ही पड़ेगा'' विमला ने कहा। शान्ती ने कहा 'अच्छा बहन! यदि यही इच्छा है तो मुझे यह माला दे दो।'' ऐसा कह कर विमला प्रसन्न मुख माला पिरोने लगी।
(4) बेनी माधव शुक्ल अपने बैठके में बैठे थे। बगल में चारपाई पड़ी थी। राजा राजेश तथा पुरूषोत्तम के साथ जाकर चारपाई पर बैठ गये। ''कहो भाई राजा! कैसे कष्ट किया आज यहाँ तक ।'' बेनी माधव ने राजा से पूछा। ''यह हमारे पुरोहित जी हैं। बहुत गरीब है। अपनी लड़की की शादी आपके श्याम बाबू के साथ करना चाहते हैं। इसी सम्बन्ध में आया हूँ।'' राजा ने कहा। ''ठीक है। परन्तु ----'' बेनीमाधव आगे कुछ बोल न सके। ''रूक क्यों गये शुकुल जी! जो बात हो साफ-साफ कहो।'' राजा ने बेनीमाधव से पूछा। ''और कोई बात नहीं राजा! परसों परोसिन के भागीरथ मिश्रा आये हुये थे। लड़की मिडिल पास थी। वे 800 रु0 दहेज में देना चाहते थे। और हम 1000 माँग रहे थे। रही बात आपकी। आप तो हमारे मित्र ही हैं। जैसे हमारा लड़का वैसे आपका। जैसा उचित समझें तैं कर लें। यदि आप ही बता दीजिए शुुकुल जी। पं0 जी की भी स्थिति हम बता चुके, अब आप भी हैं पं0 जी भी हैं, तैंकर लीजिए।'' राजा ने पीछा छुड़ाते हुये कहा। ''शुकुल जी हम बहुत गरीब हैं केवल लड़की ही हमारे पास समझिये। राजा जी सब हालत हमारी जानते हैं। अब हम आपकी शरन में आये हैं। जैसे बने धर्म रखिए जैसी हमारी लड़की वैसे आपकी।'' पुरूषोत्तम ने हाथ जोड़कर बेनीमाधव से दीन शब्दों में कहा। ''अरेे भाई आप गरीब हैं तो 100, 200 कम दे दीजिए।'' ''हमारे पास इस समय 800 पैसे का भी ठिकाना नहीं हैं शुकुल जी। हाँ लड़की अलवत् योग्य और सुन्दर है। उसमें कोई, सक नहीं है। राजा से पूँछ सकते है। जो कुछ हम छिपाते है।'' ''हाॅ! लड़की तो सुन्दर सुशील और योग्य है'' राजा ने बेनीमाधव से कहा। ''योग्यता और सुन्दरता को चूल्हे लगाना है पर जो चार जगह की रीति है, वही हम भी माँग रहे हैं। क्या अधिक माँग रहे हैं।'' बेनीमाधव ने कुछ जोश से कहा। ''आपके लिये नहीं परन्तु मेरे लिए तो पहाड़ है शुकुल जी'' राजेश ने कहा। ''अरे पहाड़ है तो बैठाले रहो। कहीं सेंत की शादी थोड़े ही हो जाती है।'' क्रोध से बेनीमाधव ने कहा। शुक्ल जी शादी कर लीजिए गरीब है। आपका भी भला होगा। जो होगा 100, 200 हम चन्दा लगा के दे देंग।'' बेनीमाधव ने कहा। ''शुकुल मैं कुछ नहीं दे सकता। मेरे कन्या का धर्म आप ही के हाथ है चाहे राखें चाहे बोर दें।'' रोते हुये पुरूषोत्तम ने अपना मस्तक बेनीमाधव के पैरों पर रख दिया। ''तो क्या तेरे लिए लड़के की जिन्दगी खो दूँ। चला है असगुन करने। जाइये शादी नहीं होगी।'' बेनीमाधव पैर छिटक कर अन्दर चले गये। सभी निराश हो गये। यह 8 वीं बार पुरूषोत्तम को दहेज के कारण लौटना पड़ा। अपने भाग्य पर रोते घर की ओर चल दिया।
(5) दिन भर की मंजिल के बाद दैनिक पथिक आराम की लालसा से अस्ताचल पर जा डटा। खग वृन्द मोहक स्वरों से जयघोष कर रहे थे। पवन भी मंद गति से स्वागत कर रही थी। पवन भी कमलिनी कुल अत्यन्त दुखी था। पुरूषोत्तम दादा अपनी चारपाई पर पड़े थे। एकाएक युवती विमला की मूर्ति उनके सामने आ उपस्थित हुई। ध्यान आते ही आँखां में आँसू आ गये। ''हे सूर्य देव। क्या मेरी विमला कभी सुख ऐश्वर्य की अधिकारिणी न हो सकेगी। अब आप ही मेरे धर्म की रक्षा कीजिए। मेरी विमला का सोहाग अमर कीजिए।'' पुरूषोत्तम ने रोते हुये प्रार्थना की। पुरूषोत्तम की आँखों में आँसू देख राजेश उत्तेजित हो उठा ''दादा अब मुझसे नहीं रहा जाता। खूब देख चुका समझ चुका और सहन कर चुका। मुझे आज्ञा दीजिए। जब तक इन दहेज वालों को दहेज न अदा कर दूँगा तब तक विश्राम न लूँगा।'' राजेश ने क्रोध से कहा। ''नहीं राजेश! ऐसा न सोचो मुझे कुछ दिन जीने दो। ऐसा गलत विचार हृदय से निकाल दो।'' पुरूषोत्तम ने आँसू पोंछते हुये कहा।
 ''पिता जी, मुझे चैन नहीं पड़ सकता। बहन विमला के जीवन के लुटेरों को उसका मजा चखायें बिना मुझे चैन नहीं पड़ सकता'' राजेश ने कहा। ''बेटा! पागल न बन। बोश का कार्य कितना कठोर, निन्दनीय है। क्या तुम भी बोश का कार्य करोगे।'' पुरूषोत्तम ने आश्चर्य से कहा। ''मेरी समझ में नहीं आता कि आप बोश के नाम से क्यों घृणा करते है।। इन जुल्मी अन्यायियों, स्वार्थियों के प्रति आप इतने दार क्यों हैं, आखिर इन्हीं चाण्डालों के परिवार से ही आज यह दिन देखना पड़ा वरन् बहन बिमला एश्वर्य की अधिकारिणी ही क्यों न हो जाती।'' रमेश ने कहा। पुरूषोत्तम ने कहा ''पुत्र मरते दम तक मैं अपने स्वार्थ सेे दूसरों को दुःखी नहीं देख सकता। यह स्वार्थपरता की बात तो इन दहेज वालों के लिए ही उचित होगी।'' रमेश ने कहा ''आखीर कब तक आप ऐसा सोचेंगे और सहेंगे दादा! सीधी अंगुली घी नहीं निकलता। जब तक ये मेरी अवस्था को प्राप्त होंगे। इनका जुल्म खतम हो न होगा। इन्हीं के जुर्मो से बहन बिमला का जीवन काटों से बिंध गया है। असंख्या गरीब घराने की बहन बेटियों को आत्महत्या करनी पड़ी, तमामों को भ्रष्टाचार के लिए बाध्य होना पड़ा। यह याद आते ही खून उबल पड़ता है।'' ठीक है राजेश! तुम्हें मालूम है कि मैं हमेशा लोगों को शिक्षा देता रहा हूँ कि स्वार्थ के लिए दूसरों को न तड़पाओं। यदि मैं कुमार्ग पर चलूं तो लोग क्यों कर मेरी बात मानेंगे उल्टे खिल्ली उड़ावेंगे। राजेश! शिवि ऐसे महान् व्यक्तियों ने अपना शरीर त्याग कर परोपकार किया है! बेटा! तुम्हीं बताओ यदि मैं अब विचार बदल दूँ तो निन्दा करेंगे।'' पुरूषोत्तम ने राजेश से कहा। ''इस दहेज की प्रथा विवरण करके असंख्य गरीब बहनों का सोहाग अमर करना, क्या पाप होगा। दादा। यदि मेरा बस चले तो इन अन्यायिायों को उन अबलाओं की भाँति एक बार अवश्य तड़पा दूँ।'' राजेश ने क्रोध से कहा। ''बेटा! यह सब ठीक है। परन्तु मेरी बुढ़ापे के तुम ही सहारे हो। यदि तुम्हें मेरा कहना न मानोगे तो---।'' आगे पुरूषोत्तम बोल न सके। गला रूंध गया। आँखों से आँसू टपकने लगे। पिता के आँखों में आँसू देख राजेश का जोशीला हृदय भी क्षण भर के लिए अधिर हो उठा। उसके दृग से बिन्दु लुढ़क कर कपोलों से मिले।  
(6) संध्या का समय है, पुरूषोत्तम के गाँव में आज बड़ी चहल पहल है। आज किशोर की बारात आयेगी। सभी प्रसन्न हैं। बाजे की आवाज गाँव में गूँजने लगी। पुरूषोत्तम दादा द्वार पर बैठे अपने भाग्य पर रो रहे थे। बाजे की आवाज कान में पड़ते ही हृदय व्याकुल हो उठा। बोले 'हे देव! क्या मेरे भाग्य में यही बदा था। मैंने कौन-सा ऐसा पाप किया था।'' भगवान अब तो दया करो। विमला से छोटी-छोटी लड़कियों की शादी हुयी जा रही है। दहेज वालों, कुछ तो रहम करो। मेरी बेटी की भी नैया पार करो।'' आँखों से आँसू निकलने लगे। खिसक कर कमरे में चले गये। मुँह ढक कर भाग्य पर रोते चारपाई पर बैठ गये धीरे-धीरे द्वार खुला विमला भीतर बोली ''दादा! उठो चलो खाना खालो।'' ''नहीं बेटी! अभी नहीं फिर खा लूँगा।'' ऐसा कर कर पुरूषोत्तम ने आँसू पोंछे रोते पिता को देख विमला की जटरग्रि भभक उठी सोचा ''आह! मेरे कारण मेरे पिता की यह दशा?हाय! मैं कितनी अभागिनी हूँ। हाय रे समाज आज तूने मुझे अच्छा अवसर दिया। आज ही मैं पुनः भारतीय नारियों की कहानी दुहरा सकूँगी। चुपचाप किवाड़ा खोला और बाहर निकल गई। चलते-चलते जंगल में पहुँच गयी सोचा! आत्म समर्पण कर दूँ। संभव है इससे पिता को दुःख कम हो जाय।'' रात के 10 बज गये हैं। विमला चुपचाप चली जा रही है। एकाएक पीछे किसी की आहट सुनाई पड़ी। विमला ने पीछे देखकर कहा। कौन! तुम कौन हो।'' ''मेरा नाम बोश है।'' युवक ने उत्तर दिया। ''बोश आखीर तुम मेरे पीछे क्यों पड़े हो।'' विमला ने पूछा। ''सिर्फ इसलिए कि तुम्हारी आड़ में मैं उन दहेज वालों को दहेज का मजा चखा सकूँ।'' बोश ने क्रोध से कहा। जब मुझे उन दीन दुखियों की याद आती है। जिन्हें इसी दहेज की प्रथा के कारण आत्म हत्या तथा भ्रष्टाचार के लिए बाध्य होना पड़ रहा है। बहन! मेरे इस दस्यु वेश ग्रहण करने का केवल यही एक कारण है। हाँ! यह बता कि तुम इतनी रात को यहाँ कैसे?'' ''विमला ने बात छिपाते हुये कहा ''भाई राजेश की खोज में।'' ''अच्छा तो चलो! राजेश दस्यु किले में हैं। वहीं मिलेगा।''
(7) ''अरे यह क्या! इसमें आदमी कैसे दिखाई दे रहा है।'' ''वही चोर! सिघाड़े तोड़ रहा है। परन्तु यह तो बेहोश पड़ा।''
दोनों युवक सरोवर में हिले और एक वृद्ध को खींचकर बाहर लाये। ''हाय! हाय! कैसी सोचनीय दशा है। शरीर पर साबित कपड़े भी नहीं हैं। बेचारा बुड्ढा जाने कहाँ का निवासी है। क्या मुसीबत हो। प्राणान्त की लालशा से सरोवर की शरण ली है'' कुछ अन्धेरा हो गया था। अन्धेरी रात थी साफ सुझता नहीं था। दोनों युवकों को बुड्ढे की दशा पर तरश आया उन्होंने उसे कन्धे में उठाया और घर ले आये।
''कहो राजेश! यह क्या है।''
''बेचारा गरीब वृद्ध। इसकी दसा पर मुझ दस्युओं का भी हृदय पिघल गया।''
''तुमने बहुत अच्छा किया। हमने विमला को मरने से बचाया। आप लोगों ने वृद्ध को। आज का दिन धन्य है। जन्म के पाप से मुक्त हो गये।'' --बोश! तुमने विमला की जान बचाई। कहां है यह विमला! कहां की रहने वाली है।'' बोस-''वही विमला। जिसे तुम अच्छी तरह जानते हो।'' राजेश-''बोश हमारा हृदय फटा जा रहा है। सच बताओ। कौन और कहाँ है।''
बोश-'वही राजेश। तुम्हारी ही बहन विमला।' राजेश-मेरी बहन विमला। कहां है। ''वृद्धा को जमीन पर लिटा दिया और विमला की ओर बढ़ा। विमला भी भाई राजेश को पहिचान गयी। उसे गले से लगा लिया। ''भैया राजेश! तुम धन्य हो। दस्युवेश में भी तुमने वृद्ध को बचाया धन्य। चलो उसकी चिकित्सा करनी चाहिए। बाद में मेरी कहानी। सभी वृद्ध को घेर कर बैठ गये दीपक उठा कर नजदीक लाया गया। विमला ने ही वृद्ध के मुख से कम्बल हटाया। मुख देखते ही चिल्ला उठी। ''दादा! दादा! दादा! आपके प्रस्ताव हेतु मैंने आत्म हत्या उचित समझी थी। आप पहले ही चल दिये हाँ दादा।'' विमला मूर्छित होकर गिर पड़ी।
(8) ''पुत्री विमला! क्या तुम मेरी अभिलाषा पूर्ण करोगी, मेरे वचन का पालन करोगी।'' पुरूषोत्तम ने कहा। विमला पुरूषोत्तम की बात सुनकर बोली ''दादा! मैं आपकी प्रत्येक बात मानने को तैयार हूँ। आप शीघ्र ही आज्ञा दीजिए।'' 
 ''पुत्री! मैं तुम्हें आज से बोष के हाथ सौंपता हूँ जिसका नाम सुनने मात्र से मुझे घृणा थी, समाज के द्वारा पंगु बना दिये जाने पर आज से बोश को दामाद के रूप में स्वीकार करने का निश्यच कर लिया है। क्या तुम मेरे अपराध को क्षमा करके मुझे पुत्रि-भार से मुक्त करोगी।'' पुरूषोत्तम ने आँसू पोंछते हुये करूण स्वर में विमला से कहा। ''दादा! मुझे आपकी प्रत्येक बाद मंजूर है।'' विमला ने उत्तर दिया। विमला ने इस उत्तर को सुनते ही पुरूषोत्तम का मुख कमल के समान खिल उठा। राजेश को बुलाया। उससे भी पूछा। राजेश ने सहर्ष स्वीकार कर लिया। तब पुरूोत्तम ने वोश को बुलाया और अपनी पुत्री विमला का उसके साथ विवाह कर दिया। बोले ''पुत्री! मेरी अभिलाषा, पूर्ण करना। अपने संतान के बल पर समाज के अन्धकाल को दूर करना।''
हृदय और मस्तिष्क
डाॅ0 जगदीश शर्मा 'निर्मल', एम0 ए0 पी-एच0 डी0, प्रबन्ध ''भौतिक वादी युग ने मनुष्य को यंत्रवत बना दिया है। भौतिकता की अधिकता के कारण हृदय और मस्तिष्क का जो सुखद सम्बन्ध था वह विच्छिन्नहो गया है मानवता में स्वार्थ हिंसा और घृणा का अधिक्य हो रहा है। लेखक ने हृदय और मस्तिष्क के कल्याणकारी सम्बन्ध के विषय में अपने विचार प्रगट किये हैं।''
उत्थान-पतन जीवन-मरण दुःख-सुख एवं दिन-रात का जो शाश्वत सम्बन्ध है, वही सम्बन्ध हृदय और मस्तिष्क के मध्य है।
 शरीर में गर्दन के ऊपरी हिस्से को जिसमें आँख, नाक, मुंह, शिर आदि अंग शरीर के प्रहरी की भाँति खड़े हैं- इसी  भाग के अन्दर सोचने विचारने एवं अनुभव की सूक्ष्म तत्व रूपी शक्ति को मस्तिष्क कहते हैं। मानव के पास यही वह दैवी देन है कि जिसके बल पर वह श्रेश्ठतम प्राणी सिद्ध हुआ है। प्रगतिशील युग की सम्पूर्ण क्रियाओं का केन्द्र बिन्दु मस्तिष्क है! इसे शरीर का नायक कहो पालक कहो अथवा कर्ता कहो।
 बुद्धि मस्तिष्क की एक मात्र परामर्श दात्री है, किन्तु मस्तिष्क के आदेश की अवहेलना करना उसके सामाथ्र्य की बात नहीं! जिस प्रकार शरीर में आत्मा का वाश है उसी प्रकार मस्तिष्क में बुद्धि का! इसका रूप रंग देखने को न मिलेगेा, किन्तु इसके अस्त्वि को स्वीकार न करना किसी अविवेकी व्यक्ति के ही साहस के सम्भव है।
 मस्तिष्क के प्रत्येक आदेश पर बुद्धि अपना निर्णय देती है, बुद्धि के निर्णय में अतीत, वर्तमान, एवं भावी की झाकियों का समावेश होता है! अर्थात् किसी भी कार्य का क्या रूप रहा अथवा अमुक कार्य से मिलते जुलते कार्योे का क्या रूप होगा! तथा इस विशिष्ट कार्य का क्या रूप है एवं आगे चलकर इसकी क्या रूप रेखा बनेगी बुद्धि इन सब पर गम्भीरता पूर्वक चिार करती है!
 विषय-मंथन के बाद तत्व रूपी निर्णय मस्तिष्क के समक्ष प्रस्तुत करती है। मस्तिष्क निर्णय को स्वीकार भी कर लेता है किन्तु कभी विशेषाधिकार से निर्णय को ठुुकरा भी देता है! परिणाम अच्छे भी होते हैं बुरे भी! यह आवश्यक नहीं कि बुद्धि का पत्येक निर्णय अपने में पूर्ण एवं सही ही हो। हाँ अधिकार सही होते हैं। किन्तु जब बुद्धि स्वार्थ के सहयोग से किसी विषय पर विचार करती है तब व्यक्तिगत निष्ठा से पूर्ण मानवी धरातल पर उपहास के कारण अवश्य बनते हैं। इसके अतिरिक्त दैवी परिस्थितियों एवं आकस्मिक घटना मंे बुद्धि के निर्णय में परावर्तन ला देती है। यथा परिणाम भी निम्न दशा में होते हैं। अस्तु कभी-कभी बुद्धि की अवहेलना भी कल्याण कारी हो जाती है।
 मनुष्य की प्रवृत्तियों के अनुसार ही बुद्धि अपना आसन ग्रहण करती है। एक विवेकशील व्यक्ति चोरी करके अपनी इस विवेकशीलता पर लज्जा और ग्लानि का अनुभव करेगा वही कार्य एक अशिक्षित एवं संकीर्ण वृत्ति का व्यक्ति करेगा तो सम्भव है वह अपनी इस धृष्टता युत्त चातुरी पर प्रसन्न ही हो! प्रथम प्रकार के व्यक्ति के मस्तिष्क ने जब चोरी करने की घोषणा की होगी तब निश्चय ही बुद्धि ने सौ बार चोरी न करने का विरोध किया होगा और वही कार्य जब अशिक्षित जीव ने किया होगा तब इस बुद्धि ने दो एक बार ही विरोध किया हो सम्भव है न भी विरोध किया हो। 
 सुसंस्कृत व्यक्तियों की बुद्धि अनुचित कार्य करने का विरोध करती है! समाज में उनका स्थान! उन्हें अपने कृत्य पर सोचने की विशेष क्षमता देता है! यह भी सही है कि शक्ति एवं साधन के अभिमान में चूर श्रेष्ठतम व्यक्ति भी अमानवीय व्यक्तित्व कर परिचय देते हैं, किन्तु जब उनके जीवन में ऐसी घटनायें घटने लगे तो उनके अस्तित्व का अवसान समझना चाहिए!!
 मस्तिष्क कार्य के प्रति करना है- हृदय से करूण दया, क्रोध, भय, घृणा आदि भाव लेकर बुद्धि अच्छे और बुरे उचित और अनुचित विचार का परिणाम की ओर इंगित करती है।
 मस्तिष्क यदि विचारों की गहराई नापने का साधन है, तो बुद्धि विचारों का सागर है, जहाँ से भाव तरेंगे उठकर विचारत्मक नौका पर फल रूपी मल्लाह का स्वागत करती है। हृदय से जैसे-जैसे भाव उठेंगे बुद्धि वैसा ही विचार करेगी, अतः यदि कहा जाय कि बुद्धि हृदय की चेरी है तो अतिशयोक्ति न होगी।
 किसी के दुख से दुखी न होना, सुख से प्रसन्न न होना हृदय हीनता का प्रतीक है! हाँ यदि व्यक्तिगत किसी शत्रु के प्रति ऐसी भगवान बन जाय तो क्षम्य है, किन्तु यदि यह भावना प्रवृत्ति बन जाय तो अवश्वमेव ऐसा व्यक्ति स्त्री हो या पुरूष, बालक हो या वृद्ध, कठोर, पत्थर, निर्दयी अथवा जो कुछ भी इसी अर्थ में कहा जाय थोड़ा ही समझना चाहिए।
 अब प्रश्न उठता है कि हृदय पत्थर कठोर समान कठोर भी होता! जिसमें दया प्रेम सहानुभूति का अभाव होता है! जिसमें स्नेह, करूणा, परोपकार की भावना मिट जाती है ऐसा जीव कठोर से कठोर, पतित से पतित दानवी कुकृत्य को सरलता से कर लेता है! मनुष्यों की हत्या उसके लिए कीड़े मकोड़ो से भी कम महत्व रखती है! दूसरे की इज्जत से वह खिलवाड़ कर सकता है! समाज का भय आन्तिरिक ग्लानि एवं राजकीय आतंक उसके कार्यों में अवरोध उत्पन्न नहीं कर पाते! समाज उन्हें हृदय से सम्मान नहीं देता-किन्तु 'बिन भय होय न प्रीत' तुलसी दास इन शब्दों का लाभ उठा कर यह लोग भी समाज से सम्मान करा लेते हैं! डाकू, चोर, व्यभिचारी कातिल आदि सब इसी पथ के पथिक हृदय कितना व निर्दयी हो सकता है इस पर हमने विचार किया अब हृदय के दूसरे पक्ष पर भी विचार करना आवश्यक है! यह हृदय का दूसरा पक्ष पहले पक्ष की विपरीत दिशा का नेतृत्व करता है! किसी को दुःखी देख कर घन्टों उस दुःख का अनुभव करना, किसी पीड़ा देख कर अपनी आँखों को सावन भादों की भाँति अश्रु वर्षा करना! हाय! यह कितना दुःखी है। भगवान ने इसे क्यों इतना कष्ट दिया! इसकी पीड़ा को मैं कैसे हरण कर पाऊँ! आदि भावों में स्वयं अपने को वैसा ही कष्टमय अनुभव करने लगा! तथा किसी को हर्षित, आनन्दित एवं सुखी देख कर स्वयं आनन्द का अनुभव करने लगा तथा तदाम्य की स्थापना कर लेना एक दयालु, सौहार्द एवं साधु हृदय की निशानी है।
 प्रश्न उठता है कि पत्थर अधिक कठोर मोम से अधिक तरल एक हृदय के यह दो भिन्न रूप हो जाते हैं?हृदयों की भिन्नता में वतावरण एवं परिस्थितियों तथा वंशानुक्रमिकता ही मूल कारण हैं! व्यक्ति विशेष का पालन पोषण जैसे वातावरण में होगा उसका हृदय वैसा ही बनेगा! किन्तु पुनः प्रश्न उठता है कि एक ही व्यक्ति कभी कठोंरता एवं कभी दयालुता का परिचय देता है। मनुष्य जाति हत्या करने वाला भी चीटियों को चीनी चुगाता देख जाता है क्यों?यह परिस्थितियाँ हैं जो व्यक्ति की मनोदशा एवं प्रवृत्तियों को बदल देती है जिससे हृदय परिवर्तन के लिए बाध्य हो जाता है!
 आज के वैज्ञानिक युग के प्रगतिशील मानव बुद्धि एवं मस्तिष्क के समन्वय से जो नवीन संस्कृति पर सृष्टि का झीना आवरण देता जा रहा है! उसका रूप निरन्तर कल्याणकारी होगा यह नहीं कहा जा सकता! हाँ अप्रा कृतिक एवं अमानवीय प्रवृत्तियों के पनपने की निरन्तर सम्भावना बढ़ती जा रही है! विश्व रंग मंच पर स्वार्थी का यह अभिनय खेला जा रहा है कि मानवता निशिवासर सशंकित क्षणों में जीवन व्यतीत कर रही है। ऐसा क्यों है?यदि कुछ समय के लिए ही सही भूल से अथवा उपेक्षा भावना से ही विचार कर लिया गया होता तो निश्चय ही यह पहेली न रह जाती!! वस्तुतः मस्तिष्क की कलाकारी में मानव ने हृदय के योग से सम्बन्ध विच्छेद कर दिया। हृदय निरादर के साथ मस्तिष्क का प्रत्येक कृत्य अकल्याणकारी ही होगा। आधुनिक युग इसका प्रतीक है।
 अस्तु यदि भावी जीवन को तरह लचीली चीज और कोई नहीं है। बन्द की भाप की तरह जितना दबाव इस पर पड़ता है उतनी ही शक्ति से यह दबाव के साथ बढ़ती है, जितना अधिक का इस पर आ पड़ता है उतना ही अधिक यह उसे पूरा कर देती है। अज्ञात
मनुष्य का हृदय एक अथाह सागर है, जहाँ कमल के फूलों के साथ रत्क की प्यासी जोंकें भी उत्पन्न होती रहती हैं। अज्ञात
हाथ हाथ का अनुसरण करते हैं, नेत्र पर ठहरते हैं और इस प्रकार माहरे हृदय का कार्य प्रारम्भ होता है।


नारी जागरण

युग-युग से नर की दासी बन, जिसने सही यातना भारी।
शूर सपूतों की हो जननी, महापीड़िता भारत नारी।।
रही सदा अनुरूप नरों के, किन्तु उपेक्षित दास अभी है।
जब नारी सम्मान बढ़ेगा, भारत का कल्याण तभी है।।
 यदि मानव समाज को एक गाड़ी मान लिया जाये तो स्त्री-पुरूष उसके दो पहिये हैं दोनों स्वस्थ और मजबूत होने आवश्यक हैं। दोनों में से यदि एक भी कमजोर रहा तो गाड़ी, गाड़ी न रहकर ईधन हो जायेगी। चलती का नाम गाड़ी है; समाज का कर्तव्य है कि वह नारी नर समाज के इन दोनों पक्षों को सबल और उन्नत बनाने का प्रयत्न करें दोनों के बीच स्वस्थ संबधों का होना भी आवश्यक है। ब्रह्म के पश्चात् इस भूतल पर मानव का अवतरित करने वाली नारी का स्थान सर्वोपरि है माँ बहन पुत्री एवं पत्नी रूपों में वह देती ही है। वह ही मानव का समाज से सम्बन्ध स्थापित करने वाली है, किन्तु दुर्भाग्य यह रहा है कि इस जगत धर्ती को समुचित सम्मान न देकर पुरूष ने प्रारम्भ से अपने वशीभूत रखने का प्रयत्न किया। प्राचीन काल में भारत के ऋषि मुनियों ने नारी, के महत्व को भलीभाँति समझा था सीता जैसी साध्वी सावित्री जैसी पतिव्रता गार्गी और मैत्रेयी जैसी विदुषियों ने इस देश की भूमि को अलंकृत किया समय के परिवर्तित होते होते ही नारी का महत्व घटना शुरू हुआ। स्त्री देवी न रहकर विलास की सामग्री बनने लगी। बिना नारी के विकास के यह समाज अधूरा है जिस प्रकार पत्नी पति की अर्धागिनी है, ठीक इसी प्रकार नारी समाज का ही अंग है अर्ध अंग के अस्वस्थ तथा अविकसित होने पर पूरा अंग ही रोगी और अविकसित रहता है। यदि मनुष्य शिव है तो नारी शक्ति यदि पुरूष विश्वासी है तो नारी श्रद्धामयी, यदि पुरूष पौरूषमय है तो नारी लक्ष्मी, किसी भी दृष्टि से वह पुरूष से कम नहीं है। वह पुत्री के रूप में पोषणीय पत्नी के रूप अभिस्मरणीय तथा माता के रूप पूजनीय है। उसमें संसार की अपूर्व शक्ति निहित है, प्रसन्न होने पर वह कमल के समान कोमल और रूष्ट होने पर चण्डी भी है वास्तव में नारी अनेक शक्तियों से युक्त अनेक रूपा है। उसके कल्याण एवं विकास की कामना प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य है।


समय दीजिए

1.  अध्ययन के लिए समय दीजिए क्योंकि यह विवेक का आधार है।
2.  ईश्वर की प्रार्थना के लिए समय दीजिए, क्योंकि यह रहस्योद्घाटन की सीढ़ी है।
3.  मन चिन्तन के लिए समय दीजिए क्योंकि यह सत्य का स्त्रोत है।
4.  खेलकूद के लिए समय दीजिए क्योंकि यह यौवन का यन्त्र है।
5.  पे्रममय व्यवहार के लिए समय दीजिए क्योंकि यह परमात्मा का स्वरूप।
6.  काम करने के लिए समय दीजिए क्योंकि यह सफलता की सीढ़ी है।
7.  नेकी के लिए समय दीजिए, क्योंकि यह अशान्ति का मार्ग है।
8.  हँसने के लिए समय दीजिए, क्योंकि यह जीवन का लक्ष्य है।
9.  सेवा के लिए समय दीजिए क्योंकि यह जीवन का लक्ष्य है।
10.  माता-पिता की सेवा के लिए समय दीजिए क्योंकि यह शिक्षा का आधार है।
11.  परिश्रम के लिए समय दीजिए क्योंकि यह शिक्षा का आधार है।
12.  सोचने के लिए समय दीजिए क्योंकि यह बुद्धि का यन्त्र है।
13.  परोपकार के लिए समय दीजिए क्योंकि यह सम्मान का द्वार है।


पहेलियाँ

1. एक हाथ है रखा कमर पर,
   हाथ दूसरा सिर के, ऊपर।
   लगा रही चक्कर कुछ ऐसे
   घूम रहा हो लट्टू जैसे।
2. अगर कहीं मुझको, पड़ जाता,
   बड़े प्रेम से तोता खाता,
   बच्चे बूढ़े अगर खा जाते,
   व्याकुल हो आंखे भर लाते।
3. चाहे रखो जेब के भीतर,
   चाहे रखना इसको घर पर।
   देश-विदेशों तक  हो आए,
   सभी तरह की खबरें लाए।
4. मैं पड़ता हूँ नहीं दिखाई,
   सबसे ज्यादा गति है पाई।
   पल में पटना, पल में दिल्ली,
   खूब उड़ाऊं सबकी खिल्ली।
5. उछल कूद कर काटूँ डाल,
   मानव हैं मेरे ही लाल।
   बजे मदारी का डमरू,
   बांध पांव में नाचू घुंघरू।
6. एक नारी के हैं दो बालक,
   दोनों एक ही रंग।
   पहला चले, दूसरा सोवे,
 फिर भी दोनो संग।
7. हाथ-पैर में जंजीर पड़ी है।
   फिर भी दौड़ लगाता 
    टेढ़े-मेढ़े रास्तों से गांव-शहर घूम आता।।
8. मैं जिसके पीछे लगऊं,
   गुणवक्ता को और बढ़ाऊँ।
   हूँ हिसाब का अंक अजूबा,
   पूरा कर हूँ मैं मंसूबा।
9. सभी ग्रहों का मैं ही मुखिया,
   मुझसे जगमग पूरी दुनियां।
   सुबह-सुबह मैं आ जाता हैूँ।
   मुखड़े पर लाली लाता हूँ।
9. सवा लाख के मेरे दांत,
   खाता नहीं, दिखाता हूँ।
   छोटे आंख सूप सा कान,
   नाक हिलाता जाता हूँ।
10. दो भाई एक रंग के,
    गहरा उसका नाता।
    एक भाई बिछड़ गया तो,
    दूजा काम न आता।
11. एक बना जादू का थैला,
    बाहर उसका अंदर मैला।
    राजा रानी उसके दास,
    वह थैला है सबसे पास।
उ0- 1. कठपुतली 2. चक्की 3. हरी मिर्च          4. साइकिल 5. शन्यू 6. मोबाइल फोन 7. सूरज     8. मन 9. हाथी 10. बंदर 11. जूता 12. पेट


मेरी संगम यात्रा

इलाहाबाद के बारे मंे मैं बहुत सुन चुकी थी पर कभी जानें का अवसर न मिला इस समय इलाहाबाद में कुंभ के मेलें की बहुत चर्चा थी। हमें कुल तीन दिन का विद्यालय से अवकाश प्राप्त हुआ तभी योजना बनी संगम यात्रा की। संध्या समय ही हमारे पूरें परिवार की बैठक हुई। पिताजी ने प्रश्न किया संगम यात्रा के लिए कौन-कौन तैयार है मेरी वहाँ जाने की अधिक लालसा के कारण मेरा हाथ पहले उठा और पिता जी ने अवकाश होने के कारण मेरी वहाँ जाने की हामी भी भरी। उसी दिन तैयारी होने लगी कुंभ जाने की। पिताजी ने कहा कम से कम बोझ के साथ हमें संगम यात्रा करनी चाहिए। अगले दिन हम अपना-अपना समान लेकर पिताजी के आने का इंतजार कर रहे थे सारी तैयारी हो चुकी थी। संध्या को जब पिताजी आए तो नाश्ता करके तंुरत ही चलने की ठानी। हालाकि हमने तीन बजे जाने के लिए कहा था लेकिन शाम के पाँच बज चुके थे। फिर हमें कल्यानपुर से बस और भइया दोनों को पिकअप करना था। उधर मेंरे बड़े भाई भी तैयार थे। हमने सबसे पहले कल्यानपुर से झकरकटी तथा फिर वहाँ से इलाहाबाद की बस पकड़ी। पूरें पाँच घण्टे की यात्रा के बाद हम इलाबाद के आलीशान चर्च के सामने कुद देर के लिए रूकें उस समय रात के एक बज रहे थे। उसके बाद हम आगे बढ़े सीक्वेरटी के कारण हमें आगे बढ़ने में बाधा थी। मेरे बड़े भाई ने इलाहाबाद में अपने कई दिन व्यतीत किए इस कारण उन्हें छोटे रास्तों का पता था। वे हमें पुल के नीचें वाले रास्ते से सीधे संगम तट पर ले गए। सुबह तीन बजे हमने संगम में स्नान किया। फिर एक ऊँची पहाड़ी से कुभ की लाइटिंग सिस्टम देखने लगे कुछ देर रूककर हम आगे बढ़े। ठंड अधिक होने के कारण हमे आग का सहारा लेना पड़ा। तीन चार चाय और कुद नाश्ता करने के बाद हम अखाड़े देखने गए। अखाड़े का मतलब यहाँ कुश्ती लड़ने वाले स्थान से नहीं बल्कि गुरूओं के ठहरने वाले स्थान से है। सबकी अपनी अलग-अलग शोभा है। वहाँ हमने भारतीय गुरूओं व संतो के अलावा भारतीय संस्कृति से मुग्ध होकर भारतीय गुरूओं से दीक्षा लिए हुए गोरे लोगो की भी देखा। वे भारतीय गुरूओं व संतो की वेशभूषा में संगम की सुन्दरता को अपने कैमरों के अंदर कैद करने की पूरी कोशिश कर रहे थे। अखाड़े घूमने के बाद हम पाताल में गए। यकीन नहीं होगा आप लोगों को कि हम जहाँ एक किले पर गए। काफी पुराना किला जहां एक पतले से रास्ते से पाताल की ओर वहाँ हर भगवान की मूर्ति रखी थी जहाँ पर कुछ नुमाइंदे भगवाद के नाम पर लोगों को लूटने की पूरी कोशिश कर रहे थे। वहाँ मुझे कुछ खास प्रसन्नता नहीं हुई लेकिन वहाँ की सुन्दरता अपने में ही एक विशेषता रखती है। वहाँ से हम बड़े हनुमान जी के मन्दिर गए वहाँ हनुमान जी की लेटी हुई प्रतिमा है। कुछ लोगों ने उस प्रतिमा के बारे में हमें बताया कि अंग्रेजों ने प्रतिमा उठाने की बहुत कोशिश कि लेकिन जितना उसे उठाना चाहा वह उतना ही धसती गयी तथा वहाँ की यह विशेषता है कि जब भी गंगा तट पर बाढ़ आती है। तो संगम की लहरें इन्हीं के पैरों का स्पर्श करके वापस चली जाती हैं। हम वहाँ से थोड़े विश्राम के लिए पार्क में गए और वहाँ नाश्ता करने के बाद मैं, दीदी और बड़े भाई के साथ कंुभ का मेला देखने गए। वहाँ से कुछ ज्वेरली खरीद कर हम वापस पार्क में आए तथा आश्रम में गए वहाँ सत्संग के पश्चात रात का खाना होटल पर खाने के बाद। हम फिर आश्रम में लौट आए तथा रात में विश्राम वहीं किया। सुबह हम फिर पहुँचे गंगा के तट पर स्नान हमने सुबह 4 बजे ही कर लिया उस समय सर्दी का कोई ठिकाना न था। टेम्परेचर 0.50 था। सुबह की चाय व नाश्ते के बाद ही हम वहाँ के प्रसिद्ध मन्दिर गए जो कि पाँच मन्जिल का बना हुआ है फिर परिवार के लिए मार्केट से कुछ न कुछ खरीद कर हम एक नयी ऊर्जा तथा ढेर सारी थकावट लेकर कानपुर लौट आए। सचमुच संगम का बखान करना बहुत कठिन। वहाँ की व्यवस्था देखने यो
गय है पाँच साल के अन्तर्गत यह कुभ मेला लगता है। यहाँ की व्यवस्था सर्वश्रेष्ठ है। यहाँ पर आकर शरीर में तथा मस्तिष्कि में एक नयी ऊर्जा का संचार होता है। संगम में हर जगह भक्ति रस बहता है जिसें हम हर क्षण ग्रहण करते हे। मैं संगम यात्रा एक बार फिर करूगी यह संकल्प लेकर मैं वहाँ से रवाना हुयी। यहाँ पर सिर्फ हम लोग ही नहीं अपितु देश-विदेश से कई लोग आते है तथा इस मोहक सुन्दरता से लुब्ध होकर हमारे धर्म तथा संस्कृति की दीक्षा लेते है। इसीलिए इलाहाबाद के संगम की ''तीर्थराज'' के नाम से जाना जाता है। 


क्या है आई.टी.आई.

आप लोग कम्प्यूटर पर कई गेम्स खेलते होगे और कागज का राॅकेट भी बनाने होंगे। लेकिन क्या आप खुद कम्प्यूटर बनाना चाहते हैं?
चलिए, आपको भारत के इंजीनियरिंग के सबसे बड़े स्कूल आई आई टी (इंडियन इंस्ट्टियूट) आॅफ टेक्नोलाॅजी को आई. आई. टी. के नाम से जाना जाता है। भारत में इस समय रगत शहरों में आई. आई. टी. है। आई आई टी कानपुर, दिल्ली, चेन्नई, मुम्बई, खड़गपुर, रूड़की और गुवाहाटी।
 इंजीनियर बनने के लिए आपको 12 वीं मंे साईस (फिजिक्स, कैमिसट्री, मैथ्स) की पढ़ाई करनी होगी। बी.ए., बी. काम डिग्री-कोर्स तीन साल का है। लेकिन इंजीनियर का ग्रेजुएट प्रोग्राम अमूमन चार साल को होता है। इन साल आई आई टी में बी. टेक, बी काॅम, बी. आक, में एडमिशन लेने के लिए लगभग ढाई लाख बच्चे हर साल परीक्षा देते हैं। इनमें से सिर्फ पाँच हजार बच्चों को ही प्रवेश मिल पाता है।
 जो भी बी. टेक. या फिर, बी.एस. सी. के लिए आई आई टी में एडमिशन लेना चाहता हैं, उसे सबसे पहले जे. ई. ई. (ज्वांइट एंटेªए एग्जाम) देना पड़ता है। स्श्रोता आई आई टी और देश के एक-दो और अच्छे-अच्छे इंजीनियरिग कालेज में प्रवेश के लिए एंटेªस टेस्ट होता है। लेकिन हर आई आई टी में अलग-अलग एंटेªस टेस्ट न होकर ही टेस्ट होता है। और इस ही कहते है, जे. ई. ई.।
 मान लीजिए कि आप इंजीनियर बनना चाहते हैं। और आई आई टी कानपुर या आई आई टी गुवाहाटी में एडमिशन लेना चाहते हैं। तो आप, दिल्ली में ही जे. ई. ई. एग्जाम दे सकते हैं। यानि कि आपको इन स्श्रतों आई-आई टी में अलग-अलग फार्म भरकर टेस्ट देने की जरूरत नहीं है। एक ही टेस्ट के बाद उतने ही ऊपर आपका रैंक होगा, उतने ही आप इंजीनियर बनने के एक कदम नजदीक आते जाएंगे और अपने मनपंसद आई आई टी में पढ़ पाएंगे।
 इंजीनियरिंग के कई तरह के कोर्स होते हैं। जैसे-ऐरोस्पेस, बोया टेक्नोलाजी, केमिकल, सिविल, कम्प्यूटर साइंस, इलेक्ट्रिकल, इलेक्ट्रानिक्स, इनफार्मेशन टेक्नोलाॅजी आदि।
 इसके अलावा आप पाँच साल के इंटीग्रेटेड एम. टेक. प्रोगाम में भी एडमिशन ले सकते हैं। आई आई टी के विभिन्न संस्थानो में अब मैनेजमेट की भी पढ़ाई करवायी जाती है। जैसे कि एम. बी. ए., इन टेक्नोलाजी मैनजमेंट, एम. बी. ए., इन मैनेजमेट सिस्टम और एम. बी. ए. इन टेलीकाॅम सिस्टम मैनेजमेट और है। आई आई टी से आप पी. एच. डी. की डिग्री भी हासिल कर सकते हैं।
आई आई टी का इतिहास
 हमारे देश में आजादी से पहले कोई भी ऐसा कालेज नहीं था जहाँ टेक्नोलाजी की पढ़ाई होती है। द्वितीय विश्वयुद्ध के बाद वायसराय की कार्य कारी समिति ने एक टेक्नोलाजी इंस्टिट्यूट बनाने की सलाह दी। फिर पं. बंगाल के मुख्यमंत्री डाॅ. बी. सी. राॅय ने एक कमेटी बनाई, जिसने कहा कि हमारे देश में टेक्नोलाजी की जरूरत को समझते हुए उत्तर दक्षिण और पूर्व-पश्चिम में एक-एक इंस्ट्टियूट बनाना चाहिए। इसके बाद पहला आई. आई. टी. 1950 में खड़गपुर, में बनाया गया। फिर 1958  में मुंबई, 1959 में कानपुर और चेन्नई तथा 1961 में दिल्ली में आई आई टी की शुरूआत हुई। फिर 1994 में असम और 2001 में पहले से ही चल रही यूनिवर्सिटी आॅफ रूडकी को आई. आई. टी. रूडकी में बदला गया।