Posts

Showing posts from October, 2019

कठिन उपासना

आया पर्व उपासना का साफ होते घाट डाला दौड़ा सज रहे माताएँ करे उपवास।। आरोग निरोग मन्नतें का डूबते उगते सूर्य का गंगा के तटपर देखो दूध से हो रहा अभिषेक।। बज रही है हर तरफ  छठी मैया की गीत वातावरण में फैला मीठे मीठे संगीत।। आस्था की बाढ सी आयी जिसे देखो वो छठी मैया के गुण गायी चार दिनो की उपासना करते है लोग गंगा में डूबकी लगा पवित्र होते हैं लोग। पटना का छठ है मनोरम फैलाता जन मानस को संदेश स्वच्छता पवित्रता का यह पर्व आपसी भाईचारे का देता संदेश आओ सब मिलकर बनायें और विशेष।।                                 आशुतोष

लोक संस्कृति से मिलता है संस्कार

छात्रों में गजब की संघर्ष करनेएपरिस्थति से लड़ने के साथ.साथ अपनी प्रतिभा को निखारने के लिए जुझारूपन होता है। विशेषर ग्रामीण छात्रों मेंए इनका संघर्ष प्रायः बचपन से ही शूरू हो जाता है।बस निखारने के लिए थोडी देख रेख की जरूरत होती है। गाँव की लोक संस्कृति से इनका लगाव शूरू से होता है। सांस्कृतिक कार्यक्रमों को देखते गाँव में ये पलते है बचपन में स्कूल और कोचिंग के साथ घर और खेतो में काम मवेशियों की देखभाल और पढाई करना तो पडता ही है साथ ही गरीबी से जूझना भी पडता है न मन पसंद कपडे होते और न खाने की मनपसंद चीजेंए दिक्कतों से नित रू.ब. रू होकर जैसे तैसे मैट्रिक तो गाँव में पास कर लेते हैं फिर शहरो में एडमिशन और खाने की भी गंभीर संकट से गुजरना होता हैए पर इतनी छोटी उम्र में भी इनकी परिपक्वता देखते ही बनती है।जो इन्हें लोक नाटको और पौराणिक कहानियो के जरिये बचपन में मिलता है।वही इनकी स्टेमिना को बरकरार रखता है।साथ ही साथ हमारे पर्व त्योहारो पर उनकी आस्था और  बीतते वक्त के साथ प्रगाढ होता जाता है जो कही न कही उन्हें आत्मबल और लोगो से जोडता जाता है साथ ही साथ उनका संस्कार भी अच्छा हो जाता है।समाजिक

लोकतंत्र में बहुमत की राय का आदर और वोटर को इज्जत सिर्फ ढकोसला

पॉलिटिकल साइंस के सेमिनार में एक विद्यार्थी का बयान था कि मेरा तो यक़ीन लोकतंत्र पर से सन 1996 में ही उठ गया था.. कहने लगा कि ये उन दिनों की बात है जब एक शनिवार को मैं मेरे बाक़ी तीनों बहन भाई, मम्मी पापा के साथ मिलकर रात का खाना खा रहे थे । पापा ने पूछा:- कल तुम्हारे चाचा के घर चलें या मामा के घर? हम सब भाइयों बहनों ने मिलकर बहुत शोर मचा कर चाचा के घर जाने को कहा, सिवाय मम्मी के जिनकी राय थी कि मामा के घर जाया जाए। बात बहुमत की मांग की थी और अधिक मत चाचा के खेमे में पड़े थे ...बहुमत की मांग के मुताबिक़ तय हुआ कि चाचा के घर जाना है। मम्मी हार गईं। पापा ने हमारे मत का आदर करते हुए चाचा के घर जाने का फैसला सुना दिया। हम सब भाई बहन चाचा के घर जाने की ख़ुशी में जा कर सो गये। रविवार की सुबह उठे तो मम्मी गीले बालों को तौलिए से झाड़ते हुए बमुश्किल अपनी हंसी दबा रहीं थीं..उन्होंने हमसे कहा के सब लोग जल्दी से कपड़े बदल लो हम लोग मामा के घर जा रहें हैं। मैंने पापा की तरफ देखा जो ख़ामोशी और तवज्जो से अख़बार पढ़ने की एक्टिंग कर रहे थे.. मैं मुंह ताकता रह गया.. बस जी! मैंने तो उसी दिन से जान लिया ह

क्या मोदी जी आजादी का इतिहास दोहराने की कोशिश तो नहीं कर रहे?

देश का जब संविधान लिखा जा रहा था तो जवाहरलाल नेहरू को नींद नहीं आ रही थी क्योंकि संविधान को एक अछूत बाबा साहब अम्बेडकर  लिख रहे थे।       नेहरू रात में ही गाँधी के पास गया, गांधी सो रहा था,नेहरू ने गाँधी को जगाया । नेहरू ने गांधी से कहा-बापू आप सो रहे हैं और मुझे नींद नहीं आ रही है क्योंकि अम्बेडकर संविधान लिख रहा है न जाने अपने लोगों के लिए क्या-क्या लिख देगा।  गांधी ने मुस्करा कर कहा - अरे पंडित क्यों चिंता करता है, लागू तो तुझे ही करना है ।    बाबा साहब अम्बेडकर ने संविधान में दलित व पिछड़ों के लिए आरक्षण की व्यवस्था की। संविधान लागू हो गया।  आजाद भारत में प्रथम आम चुनाव हो गया था पूरे देश में कांग्रेस की सरकार बनी। सभी राज्यों में कांग्रेस के मुख्यमंत्री बने। सरकारी कर्मचारियों की भर्ती होनी थी। नेहरू ने गांधी से पूछा कि - बापू आरक्षण का क्या करना है? तब गांधी ने एक छोटी सी पर्ची पर गुप्त तरीके से लिख कर दिया कि- "पंडित  वेकेंसी निकालो और भर्ती की पूरी प्रक्रिया पूरी करो लेकिन दलित व पिछड़ों को नहीं लेना है और उनकी खाली वेकेंसी के सामने लिखना है कि-कोई योग्य अभ्यर्थी नहीं मिल

मेरे चंद गुनाहों की किताब

Image
वो मेरे चंद गुनाहों की किताब रखता है नौसिखिया है, इश्क़ में हिसाब रखता है   नींद आएगी नहीं उसे किसी भी सूरत में आँखों में बे - हिसाब मेरे ख्वाब रखता है कहता है  कि मेरे निशाँ तक  मिटा  देगा और आँगन में  मुझे  माहताब*  रखता है बुझा कर रौशनी  पूरे घर में  सूना बैठा है और पलकों में छुपाके मेरे आब रखता है जिन सवालों से मुझे घेरने की कोशिशें हुईं अपने होंठों पर उनके खूब जवाब रखता है   *आब-चमक   *माहताब-चाँद सलिल सरोज कार्यकारी अधिकारी लोक सभा सचिवालय संसद भवन नई दिल्ली     

 संपूर्ण समर्पण और त्याग का छठ  पर्व

Image
पुराण में छठ पूजा के पीछे की कहानी राजा प्रियंवद को लेकर है। कहते हैं राजा प्रियंवद को कोई संतान नहीं थी तब महर्षि कश्यप ने पुत्र की प्राप्ति के लिए यज्ञ कराकर प्रियंवद की पत्नी मालिनी को आहुति के लिए बनाई गई खीर दी। इससे उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई लेकिन वो पुत्र मरा हुआ पैदा हुआ। प्रियंवद पुत्र को लेकर श्मशान गए और पुत्र वियोग में प्राण त्यागने लगे। उसी वक्त भगवान की मानस पुत्री देवसेना प्रकट हुईं और उन्होंने राजा से कहा कि क्योंकि वो सृष्टि की मूल प्रवृति के छठे अंश से उत्पन्न हुई हैं, इसी कारण वो षष्ठी कहलातीं हैं। उन्होंने राजा को उनकी पूजा करने और दूसरों को पूजा के लिए प्रेरित करने को कहा। राजा प्रियंवद ने पुत्र इच्छा के कारण देवी षष्ठी की व्रत किया और उन्हें पुत्र की प्राप्ति हुई। कहते हैं ये पूजा कार्तिक शुक्ल षष्ठी को हुई थी और तभी से छठ पूजा होती है। इस कथा के अलावा एक कथा राम-सीता जी से भी जुड़ी हुई है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब राम-सीता 14 वर्ष के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे तो रावण वध के पाप से मुक्त होने के लिए उन्होंने ऋषि-मुनियों के आदेश पर राजसूर्य यज्ञ करने का फै

वर्तमान भारत और गाँधी जी

 आज देश के राजनैतिक दलों की जो हालत है उनमें जो भ्रष्टाचार और दुराचार व्याप्त हैए सत्ता पर कब्जा करने के लिए जो अनीतिपूर्ण हथकण्डे अपनाये जा रहे हैं और उससे देश की जो बरबादी हो रही हैए ऐसे संकटपूर्ण अवसर पर गाँधी जी की याद आना स्वाभाविक है। गाँधी जी का उपदेश था कि किसी ऊँचे उद्देश्य में सफलता प्राप्त कर लेना ही काफी नहीं हैंए उस सफलता प्राप्त करने के साधन भी शुद्ध और नैतिक होना चाहिएए धर्म बिना राजनीति वेश्या समान हैएष्ष् उन्होंने कहा किजहाँ हिन्दू ष्ष्धर्म को स्थान नहीं है वहाँ मैं रहना नहीं चाहूँगा।ष्ष् उनके आश्रम में कोई दुराचारी भ्रष्टाचारी व्यक्ति घुस नहीं सकता था। वे आश्रम के एक.एक पैसे का हिसाब रखवाते थे। उन्होंने अपने परिवार वालों का कभी पक्ष नहीं लिया। गाँधी जी के जीवन पर विश्व में सैकड़ों पुस्तकें लिखी गई हैं और दुनियाँ में जितना आदर उनको प्राप्त है उतना किसी को भी नहीं है। भारत के अधिकतर उद्योगपति व बुद्धजीवी यह मानते हैं कि गाँधी जी से नफरत के आधार पर जो हिन्दुत्व बनेगा वह हमें नहीं चाहिए।  आज राजनैतिक दल किसी अशुद्ध अनैतिक साधन से रत्ता पर कब्जा करना उचित समझते हैंै। इससे द

उपेक्षा से आहत हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी

 पाण्डवों का यक्ष रूप में अवतरित-धर्म के ब्यूह में फँसना और धर्मराज युधिष्ठिर का अपने चारों भाइयों को काल के ग्रास से निकालने की कथा लगभग हम सबको पता है। प्रश्नों की श्रृंखला में यक्ष ने युधिष्ठर से स्वतंत्र राष्ट्र की परिभाषा भी पूछी थी तो युधिष्ठिर का उत्तर था-  ''वह राष्ट्र जिसकी अपनी पताका, अपनी भूमि और अपनी राष्ट्र भाषा होती है वह स्वतन्त्र होता है।''  हिन्दू हिन्दी भाषी बहुल राष्ट्र की विडम्बना है कि हिन्दी आज विदेशी भाषा अँग्रेजी की चाकरी कर रही है। यह भारत एवं भारतीय जन मानस का दुर्भाग्य है कि आज राष्ट्र स्तरीय नेता जब हिन्दी दिवस पर भाषण देते हैं तो वह हिन्दी दिवस का उच्चारण हिन्दी डे करते हैं। यह भारतीयता के साफ दामन पर लगा एक बदनुमा दाग है कि आम भारतीय हर उस व्यक्ति को अपने से श्रेष्ठ समझता है जो अँग्रेजी बोलना जानता हो। किए गये सर्वेक्षण के अनुसार देश में कुल हिन्दी भाषी 95ः एवं अँग्रेजी भाषी 5ः हैं यह 5ः व्यक्ति 95ः लोगों पर अपना आधिपत्य जमाये हुए हैं।  एक जातक कथा प्रसिद्ध है-एक व्यक्ति के पास बरगद का एक बहुत छोटा पल्लवित वृक्ष था। आसपास के क्षेत्रों में य

अधिक तृष्णा नहीं करनी चाहिए

 किसी वन प्रदेश में एक भील रहा करता था। वह बड़ा साहसी, वीर और श्रेष्ठ धनुर्धर था। वह नित्य-प्रति वन्य जन्तुओं का शिकार करता और उससे अपनी आजीविका चलाता तथा परिवार का भरण-पोषण करता था। एक दिन जब वह वन में शिकार के लिए गया हुआ था तो उसे काले रंग का एक विशालकाय जंगली सूअर दिखाई दिया। उसे देखकर भील ने धनुष को खींचकर एक तीक्ष्ण बाण से उस पर प्रहार किया। बाण की चोट से घायल सूअर ने क्रुद्ध हो साक्षात् यमराज के समान उस भील पर बड़े वेग से आक्रमण किया और उसे सँभलने का अवसर दिये बिना ही अपने दाँतो से उसका पेट फाड़ दिया। झील वही मरकर भूमि पर गिर पड़ा। सूअर भी बाण की चोट से घायल हो गया था, बाण ने उसके मर्मस्थल को वेध दिया था अतः उसकी भी वहीं मृत्यु हो गयी।  उसी समय भूख-प्यास से व्याकुल कोई सियार वहाँ आया। सूअर तथा भील दोनों को मृत पड़ा हुआ देखकर वह प्रसन्न मन से सोचने लगा-मेरा भाग्य अनुकूल है, परमात्मा की कृपा से मुझे यह भोजन मिला है। अतः मुझे इसका धीरे-धीरे उपयोग करना चाहिये, जिससे यह बहुत समय तक मेरे काम आ सके।  ऐसा सोचकर वह पहले धनुष में लगी ताँत की बनी डोरी को ही खाने लगा। उस मूर्ख सियार ने भील और सू

टी.वी. मित्र अथवा शत्रु

 वर्तमान समय बड़ी जटिलताओं और विसंगतियों से गुजर रहा है। कुछ ऐसे प्रश्न हैं जिन पर हमारा ध्यान जल्दी जाता ही नहीं हैं। टेलीविजन क्या हमारा सच्चा मित्र है अथवा पठनीय अमूल्य पुस्तकें।  टी0 वी0 को हम सभी जान गये हैं कि यह आज घर-घर की शान और शोभा बन चुका है और यह भी कहने में अतिशयोक्ति न होगी कि निर्धन से लेकर धनवान की यह जरूरत बनता जा रहा हे। इसका आविष्कार वैज्ञानिक जे0 एल0 बेयर्ड द्वारा किया गया था, लेकिन उन्होंने भी कल्पना नहीं की होगी कि लोग इसके इतने दीवाने हो जायेंगे कि दीवानगी में आविष्कारकर्ता का नाम ही भूल जायेंगे।  टी0 वी0 घर में एक अलग मुक्त संस्कृति को जन्म दे रहा है जिसे टी0 वी0 संस्कृति ही कहना अधिक उपयुक्त होगा। मनुष्य की पूरी दिनचर्या ही बदल रही है। बच्चे और युवा इसे अपनाकर एक नया हिन्दुस्तान बना रहे हैं। अपने से बड़ों और गुरूजनों का सम्मान मात्र औपचारिकता बनकर रह गया है। पढ़ने-लिखने के प्रति रूचि घटती जा रही है और आवश्यकतायें दिन-दूनी रात-चैगुूनी बढ़ती जा रही हैं, आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए संरक्षक गलत-सलत काम करने से भी परहेज नहीं कर रहे हैं। अधिक से अधिक धनवान बनने की हो

किसान और सारस

 एक किसान पक्षियों से बहुत तंग आ गया था। उसका खेत जंगल के पास था। उस जंगल में पक्षी बहुत थे। किसान जैसे ही खेत में बीज बोकर, पाटा चलाकर घर जाता, वैसे ही झुंड के झुंड पक्षी उसके खेत में आकर बैठ जाते और मिट्टी कुरेद-कुरेदकर बोये बीज खाने लगते। किसान पक्षियों को उड़ाते-उड़ाते थक गया। उसके बहुत से बीज चिड़ियों ने खा लिये। बेचारे को दुबारा खेत जोतकर दूसरे बीज डालने पड़े। इस बार किसान बहुत बड़ा जाल ले आया। उसने पूरे खेत पर जाल बिछा दिया। बहुत से पक्षी खेत में बीज चुगने आये और जाल में फंस गये। एक सारस पक्षी भी उसी जाल में फंस गया।  जब किसान जाल में फँसी चिड़ियों को पकड़ने लगा तो सारस ने कहा-आप मुझ पर कृपा कीजिये। मैंने आपकी कोई हानि नहीं की है। मैं न मुर्गी हूँ, न बगुला और न बीज खाने वाला पक्षी। मैं तो सारस हूँ। खेती को हानि पहुँचाने वाले कीड़ों को खा जाता हूँ। मुझे छोड़ दीजिये।  किसान क्रोध में भरा था। वह बोला- 'तुम कहते तो ठीक हो, किन्तु आज तुम उन्हीं चिड़ियों के साथ पकड़े गये हो, जो मेरे बीज खा जाया करती हैं। तुम भी उन्हीं के साथी हो। तुम इनके साथ आये हो तो इनके साथ दण्ड भोगो।  जो जैसे लोगों के स

बालकों के लिए संस्कार-माला

 बालक यदि निम्न बातों पर ध्यान देंगे तो उनका जीवन सदैव सुखी रहेगा। 1. विद्यालय में ठीक समय पर पहुँच जाना और भगवत्स्मरणपूर्वक मन लगाकर पढ़ना चाहिये। किसी प्रकार का ऊधम न करते हुए मौन रहकर भगवान के नाम का जप-और स्वरूप की स्मृति रखते हुए प्रतिदिन जाना-आना चाहिये। 2. विद्यालय की स्तुति-प्रार्थना आदि में अवश्य शामिल होना और उनको मन लगाकर प्रेमभाव पूर्वक करना चाहिये। 3. पिछले पाठ को याद रखना और आगे पढ़ाये जाने वाले पाठ को उसी दिन याद कर लेना उचित है, जिससे पढ़ाई के लिए सदा उत्साह बना रहे। 4. पढ़ाई को कमी कठिन नहीं मानना चाहिये। 5. अपनी कक्षा में सबसे अच्छा बनने की कोशिश करनी चाहिये। 6. किसी विद्यार्थी को पढ़ाई में अग्रसर होते देखकर खूब प्रसन्न होना चाहिये और यह भाव रखना चाहिये कि यह अवश्य उन्नति करेगा तथा इसकी उन्नति से मुझे और भी बढ़कर उन्नति करने का प्रोत्साहन एवं अवसर प्राप्त होगा। 7. अपने किसी सहपाठी से ईष्र्या नहीं करनी चाहिये और न यही भाव रखना चाहिये कि वह पढ़ाई में कमजोर रह जाय, जिससे उसकी अपेक्षा मुझे लोग अच्छा कहें। 8. किसी भी विद्या अथवा कला को देखकर उसमें दिलचस्पी के साथ प्रविष्ट होकर सम

शिष्टाचार की बातें

 दैनिक जीवन में शिष्टाचार की कितनी अहमियत है, यह हम सब समझ सकते हैं। जो शिष्टाचार का पालन करता है, वह निर्धन और कम पढ़ा लिखा होने पर भी आदर पाता है लेकिन धनिक और शिक्षित को अशिष्ट व्यवहार करने पर निरादर ही मिलता हे। शिष्टाचार के गुण जन्मजात भी हो सकते हैंै। लेकिन परिवार के अतिरिक्त संगी-साथियों का व्यवहार आचार विचारों को प्रभावित करते रहते हैं। देखा जाता हैं कि पन्द्रह वर्ष की आयु तक आचार विचार के सीखे, समझे गुण आजीवन उसके व्यतित्व पर हावी रहते हैं। अतः हर माता-पिता का यह फर्ज बनता है कि वह अपनी संतानों को नैतिक शिक्षा का पाठ पढ़ायें, उन्हें किससे किस तरह व्यवहार करना चाहिए इसकी जानकारी देनी चाहिए। आजकल व्यस्तता की वजह से अधिकतर माता-पिता अपनी संतानों को उतना समय नहीं दे पाते जितना देना चाहिए, यह ठीक नहीं है। हमारे बच्चे कल सुसंस्कृत एवं शिष्ट नागरिक बनें, यह सोच रखना बहुत जरूरी हैं।  विद्यार्थी और शिष्टाचार 1. छात्रों को अपने अध्यापक के सामने सावधान की स्थिति में खड़े होना चाहिए। 2. अध्यापक के कक्षा में प्रवेश होते ही खड़े होकर अभिवादन करना चाहिए। 3. अध्यापक के रहते हुए कक्षा में शोर करना

नारी बिना साहित्य जगत है अधूरा 

साहित्य मानवीय संवेदनाओं के चिंतन एवं चित्रण की श्रेश्ठतम अभिव्यक्ति है। नारी सजल संवेदनाओं का मूर्तरूप है। अतः साहित्य नारी के बिना आधा अधूरा एवं एकांगी है। सृश्टि के ऊशाकाल से ही नारी पुरूश की सुकोमल भावनाओं में चेतना का संचार करती और उसकी विविध कल्पनाओं को निरभ्र गगन में उड़ान भरने के लिये प्रेरित करती रही है। इसी कारण नारी साहित्य के साम्राज्य पर सदैव ही अधिश्ठित और प्रतिश्ठित रही है। साहित्यकार मानते हैं कि कविता का उद्गम स्त्रोत नारी प्रेरित है। नारी स्वयं एक कविता हैं, नारी स्वयं एक परिपूर्ण साहित्य है। नारी की पवित्रता, षुचिता, सौंदर्य के बिना साहित्य की कल्पना तक नहीं की जा सकती है।  सजल संवेदना की अविरल धारा जब स्थिर होकर रूपायित हुई तो उसमें नारी का रूप निखर उठा और जब इसकी अभिव्यक्ति हुई तो साहित्य का प्रादुर्भाव हुआ। अतः नारी और साहित्य का सम्बंध अनन्य और अखण्ड रहा है। नारी के संवेदनषील गर्भ से साहित्य की सृजन धारा फूट पड़ी है। सृजन की इस महती प्रक्रिया में नारी का योगदान प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष दोनों रूपों में हुआ है। अप्रत्यक्ष रूप से पुरूश द्वारा नारी का भरपूर उपयोग किया

कोल्ड ड्रिंक एक खतरनाक पेय

 कोल्ड ड्रिंक हमारे षरीर के लिये कितना घातक हो सकता है, इस बात का अहसास लोगों को नहीं है। अमेरिका की 'दि अर्थ आइलैण्ड जनरल' ने एक षोध प्रस्तुत किया है, उसके अनुसार आजकल धड़ल्ले से बिक रहे विदेषी कम्पनियों के षीतल पेय की एक बोतल में 40 से 72 मि0 ग्राम तक नषीले तत्व ग्लिसरीन अल्कोहल, ईस्टरगम व पषुओं से प्राप्त ग्लिसरोल पाये जाते हैं, अतः षाकाहारी किसी भ्रम में न रहें कि यह मांसाहार का एक रूप नहीं है, सर्वाधिक आष्चर्यचकित तो उनकी अन्य खोजे हैं, साइट्रिक एसिड होने के कारण षौचालय में किसी भी साफ्ट ड्रिंक को एक घण्टे के लिए डाल दें तो वह फिनाइल की तरह उसे साफ कर देगा। कहीं जंग लग गया हो तो इस पेय में कपड़ा गीला करके रगड़ दें, वह हट जाएगा। वस्त्रों पर ग्रीस लग गई हो तो साबुन के साथ उसे कोल्ड ड्रिंक में गीला कर दे, वह दाग को बिल्कुल हटा देगी। इंसान की हड्डियों व दांतों को गलाने में मिट्टी को कई साल लग जातें हैं, पर साफ्ट ड्रिंक पीकर अपनी अंतड़ियों, यकृत तथा षरीर को भारी नुकसान पहुँचा रहे हैं। क्या फिर भी आप कोल्ड ड्रिंक्स पीना या पिलाना चाहेंगे?विवेकषील मनुश्य होने के नाते आपसे उम्मीद कि आ

जीवन के शुद्ध दृष्टिकोण की निर्मिति

 आज हमारे सामाजिक जीवन में चारों ओर समस्यायें ही दिखाई पड़ती है। जीवन के षुद्वदृश्टिकोण का अभाव ही हमारी प्रमुख समस्या है, जिसके रहते षेश समस्यायें लाख प्रयत्न करने पर भी सुलझ न पायेंगी। अतः जीवन का सत्य षुद्वदृश्टिकोण क्या होना चाहिये, जिसे लेकर चलने से मानव जीवन की सम्पूर्ण समस्याओं पर विजय प्राप्त करना सुलभ हो जाता है।  हमारी संस्कृति के सर्वोत्कृश्ट भारतीय षास्त्रों के अनुसार इस समस्त विष्व में एकमेव अखण्ड परमेष्वर ओत-प्रोत है, किन्तु उसके अव्यक्त स्वरूप को समझना कठिन है। मनुश्य होने के नाते हमें सर्वसाधारण रीति से मानव समाज तक सीमित कल्पनाओं की अनुभूति ही सरलता से हो सकती है। अतएव अव्यक्त परब्रह्म की अनुभूति सरल रीति से करा देने के लिये मनुश्य-समाज को उस अव्यक्त परब्रह्म का विषाल एवं विराट रूप मानने और प्रत्येक मनुश्य को इसी दिव्य-देव के षरीर का घटक अवयव समझने का षास्त्र ने आदेष दिया है।  इस दृश्टि से मनुश्य समाज का प्रत्येक व्यक्ति हमारे लिये पूज्य और सुसेव्य हो जाता हैं। भगवान का केवल षिर ही पूज्य है, पैर नहीं'-ऐसा सोचना मूर्खता है। जितना पवित्र और पूज्य उसका सिर है, वैसे ही

परिश्रम का विकल्प नहीं

 महर्शि कणाद अपने षिश्यों के साथ जंगल में आश्रम बनाकर वहाँ रहा करते थे आश्रम में सभी कार्य षिश्य स्वयं ही किया करते थे, आश्रम के जीवन में पवित्रता थी, अतः वहाँ किसी भी प्रकार का कश्ट नहीं था।  वर्शा ऋतु निकट ही थी महर्शि ने अपने षिश्यों को बुलाकर कहा-''देखो, वर्शा ऋतु आने वाली है हमें हवन तथा भोजनादि के लिये लकड़ी एकत्रित कर लेनी चाहिये।''  गुरूदेव की इच्छा को आज्ञा मानने वाले षिश्य कुल्हाड़ी आदि लेकर जंगल की ओर चल पड़े बड़ी लगन तथा परिश्रम से उन्होनें लकड़ियाँ इकट्ठी कर गट्ठर बाँधें और कन्धों पर लाद कर आश्रम में ले आये। गुरू जी बहुत प्रसन्न हुये। उन्होंने षिश्यों को षुभाषीश दिया।  कुछ समय के पष्चात् सभी षिश्य ऋशि कणाद के साथ नदी में स्नान करने गये। मार्ग में वहीं जंगल पड़ा जहाँ से षिश्य लकड़ी काटकर आश्रम में ले गये थे सबके आष्चर्य का ठिकाना नहीं रहा जब वन में उन्हें चारों ओर रंग-बिरंगे, सुगन्धित सुन्दर पुश्प दिखाई दियें सारा जंगल सुगन्धित था षिश्यों ने गुरू से पूछा-''गुरूवर, ये रंग-बिरंगे फूल कहाँ से आ गये, वायुमण्डल में सुगन्ध व्याप्त है, यह चमत्कार कैसे हुआ।'

खेलकूद और अनुशासन

 अनुषासन विद्यालय का एक महत्वपूर्ण अंग है। अनुषासन की स्थापना में खेलकूद का विषेश योगदान है इसी सेविष्व के अनेक देषों में अनुषासन की स्थापना में खेलकूद के महत्व को स्वीकार करते हुए विद्यालयों में खेलकूद की व्यवस्था अनिवार्य कर दी गई है लेकिन हमारे देष में अभी विषेश ध्यान नहीं दिया गया है। प्रायः लोगों की मानसिकता है कि बच्चों को खेलकूद से दूर रखकर पाठ्य पुस्तक द्वारा एवं आचार संहिता द्वारा विद्यालय में अनुषासन की नींव सुदृढ़ की जा सकती है। लेकिन प्लेटों ने कहा ''बालक को दण्ड की अपेक्षा खेल द्वारा नियंत्रित करना कहीं अच्छा है।'' आजकल खेलकूद की उपेक्षा के कारण आए दिन हड़ताल, तोड़फोड़, परीक्षा में सामूहिक नकल का प्रयास, षिक्षकों के साथ दुव्र्यवहार आदि घटनाएँ छात्रों द्वारा हो रही हैं। भारत जैसे विषाल देष में विद्यालयों में पनपती अनुषासनहीनता घातक सिद्ध हो रही है।  खेलकूद की उपेक्षा से अनुषासनहीनता पनपती है। अनुषासन की स्थापना में खेलकूद विभिन्न प्रकार से सहयोगी है।  (1) सामाजिक भावना - खेलकूद बच्चों को आपस में मिलजुल कर रहना, आपसी बैरभाव समाप्त करना, विभिन्न जाति व सम्प्रदाय क

शारीरिक शिक्षा की उत्पति, विद्यालय में शारीरिक शिक्षा की उपयोगिता

 शिक्षा शब्द से उत्पत्ति शारीरिक शिक्षा की हुई है क्योकि चाहें वह रामायण काल हो या महाभारत काल जिस प्रकार भगवान श्रीराम या कौरव और पाड्व गुरूकुल में शिक्षा ग्रहण करने के लिए गये थे उनके साथ शारीरिक शिक्षा का भी पाठ्यक्रम रखा जाता था। परन्तु वह किस रूप में विकसित थी धनु विद्या तलवारबाजी, गदा युद्ध, कुश्ती आदि।  उ0 प्र0 माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा शारीरिक शिक्षा को एक अनिवार्य विषय के रूप में प्रस्तुत किया गया है। क्योंकि खेल का स्वर लगातार नीचे गिरने से दो साल से शारीरिक शिक्षा को अनिवार्य विषय कर दिया गया है। शारीरिक शिक्षा का कार्यक्रम अति व्यापक है। लेकिन कुछ विद्वान शारीरिक शिक्षा के पाठ्यक्रम को समझ नहीं पाते है। छोटी-मोटी खेल की प्रतियोगिता कराकर अपने पाठ्यक्रम को खत्म कर देते हैं। लेकिन विद्यालय में नियमित रूप से शारीरिक शिक्षा का पाठ्यक्रम बनाना चाहिए। जिससे छात्रों का समुचित रूप से विकास हो सके। शारीरिक शिक्षा का अथ्र  विद्यार्थी को स्वस्थ व निरोग रखने और मानसिक, विकास बुद्ध क्रियायें, ऐथलेटिक, योगा, जिमनास्टिक, हाॅकी, क्रिकेट, फुटबाॅल आदि का  निर्माण रूप से अभ्यास कराना चाहिए

समय 

 कल्पन कीजिए एक ऐसे बैंक की जो हर सुबह आपके खाते को $86,400 से क्रेडिट करता है। यह कोई अतिरिक्त बैलेन्स नहीं रखता और हर शाम यह उस राशि को मिटा देता है। जिसे आप उस दिन के अन्दर उपयोग नहीं कर सके इस ंिस्थति में आप क्या करेंगे?यही कि आप अपना सारा पैसा निकाल लेंगे।  हम सभी के पास ऐसा ही बैंक होता है। जिसका नाम है, 'समय' यह हर सुबह आपके 86,400 सैकेण्ड को क्रेडिट करता हे। और हर रात यह उन सैकेन्डस को आपसे ले लेता है। जिन्हें आप दिन भर में किसी अच्छे उद्देश्य के लिए इस्तेमाल नहीं कर सके या नहीं बचा पाये।  हर रात यह आपके बचे हुए समय को समाप्त कर देता है। क्योंकि यह निरन्तर चलता रहता है। अगर आप अपने दिन के समय को अच्छी तरह नहीं भोग पाये तो यह आपका नुकसान होगा। यहाँ पीछे जाने का कोई रास्ता नहीं है। और न ही आप समय को निकाल कर रख सकते हैं। कल के लिए आपको सिर्फ 'आज' में ही जीना पड़ता है। इसलिए आप कुछ ऐसा इन्वैस्ट कीजिए जिससे आप को सफलता, स्वास्थ्य व खुशी मि सके समय की घड़ी चलती रहती है। आज का इस्तेमाल करना सीखिए। 1.  एक 'साल' की कीमत फेल विद्यार्थी से जानिए।     2.  एक 'मही

सार्थक स्वप्न

 तीन साधू अलग-अलग जाति के होते हैं। एक हिन्दू, एक मुस्लमान, एक ईसाई होता है। एक दिन तीनों साथ में टहलते हैं। उनको टहलते-टहलते रात हो जाती है। तो तीनों साधू एक गरीब परिवार में जातें हैं और रात भर रूकेने का निवेदन करते हैं। उस घर में केवल एक ही आदमी था। जो उन तीनों साधुओं को रूकने के लिए एक कमरा दे देता है। तो वे तीनों साधु अपने भोजन के लिए आग्रह करते हैं। तो वह आदमी उनके लिए खीर बना कर लाता है। तीनों के मन में एक विचार आता है। वे कहते हैं कि रात में जो अच्छा स्वप्न देखेगा, वही इस खीर को खाएगा। रात में तीनों को नींद तो आती नहीं है और तीनों अपने मन में अच्छे-अच्छे स्वप्न के बारे में सोचते हैं। तो थोड़ी ही देर बाद मुसलमान और ईसाई को नींद आ जाती है। परन्तु हिन्दू उन दोनों के सो जाने का लाभ उठात है। वह उठकर सारी खीर खा जाता है। और सुबह तीनों हाथ-मुँह धोकर बैठते हैं। और अपने स्वप्न के बारे में बताने लगते हैं। मुसलमान:- रात में हमारे अल्लाह जी आए थे और उन्होंने हमें बहुत सा पैसा दिया और प्यार भी किया। ईसाई:- रात में हमारे ईसा-मसीह जी आए थे, उन्होंने हमें बहुत सा धन दिया और उन्होंने हमें गोद में

समाज में नारी की भूमिका

प्रस्तावना- ऋग्वेद में कहा गया है कि: यत्र नार्यस्तु पूज्यते रमन्ते तत्र देवता' यह कथन मनु का है इसका अर्थ है कि ''जहाँ नारी की पूजा होती है' वहीं देवता निवास करते है।'' पूजा का अर्थ है किसी स्त्री को गौरव दीजिए उसका सम्मान करो, उसकी शिक्षा की उचित व्यवस्था हो, उसके जीवन स्तर में सुधार हो जिसके फलस्वरूप प्रत्येक देश में स्त्रियों के जीवन में सुधार की विशेष आवश्यकता का अनुभव किया गया है। भारत जैसे प्रगतिशील देश के लिये तो स्त्री जीवन का विकास अत्यन्त आवश्यक है। धार्मिक रूढ़ियों में बँधे हुए अन्धविश्वसनीय भारत की स्त्री के जीवन के विकास के लिए स्वतंत्र भारत में हर सम्भव प्रयास हो रहे है।  ''जो हाथ पालने को झुलाता है, वह संसार का शासन भी करता है'' यह अंग्रेजी भाषा की कहावत है। इससे स्पष्ट होता है कि माँ का बालकों के जीवन पर क्या प्रभाव पड़ता है। एक बार नेपोलियन ने कहा था  “If you give me good mathers, I will give you a good nation.” ऐतिहासिक पृष्ठभूमि: जहाँ तक मेरा विचार है कि प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल में प्रत्येक (काल) युग में नारी का किसी न कि

जीवन की डोर

 जीवन की डोर बहुत कमजोर होती है। कब टूट जाये इसका कोई भरोसा नहीं। इस जीवन में कई मोड़ आते हैं। उनमें सबसे महत्वपूर्ण मोड़ सुख तथा दुःख का होता है। जिस मनुष्य ने दुःख का अनुभव किया है वही सुख की कल्पना कर सकता है। आज तक बहुत कम लोगों ने जीवन का अर्थ समझा है। आज कल के तो नवयुवक जीवन का अर्थ यह बताते हैं कि जीवन सिर्फ मनोरंजन है। चाहे कोई मरे या जिए हमें उससे कोई मतलब नहीं है। अब यह दुनिया कितनी स्वार्थी हो गई है। उन्हें किसी से मतलब नहीं है। अगर मैं कुछ अच्छी बातें नवयुवकों को बताऊँ तो इसको एक कान से सुनकर दूसरे कान से निकाल देंगे। मैं 16 वर्षीय छात्रा हूँ। मैंने जीवन के थोड़े से पहलुओं को समझा है। मैं चाहती हूँ कि दूसरे मनुष्य जीवन के पहलुओं को समझो, उस पर अमल करे और उन पहलुओं को अपने जीवन में प्रयोग करें। पर ऐसा हो नहीं सकता है क्योंकि सबकी आँखों पर स्वार्थ तथा लालच की पट्टी बंधी हुई है। सभी मनुष्य स्वार्थी है।। मैं भी स्वार्थी हूँ। पूरे संसार में ऐसा कोई मनुष्य नहीं है। जो स्वार्थी न हो। सभी स्वार्थी हैं जैसे - (1) हम भगवान की पूजा इसलिए करते हैं कि भगवान हमारी सारी इच्छा पूरी करें तथा ह

आज का मानव

 हम सब मनु जी की सन्तान हैं। इसलिए हम मनुष्य कहलाते हैं। हम मनुष्य या मानव कहलाने के अधिकारी तभी हो सकते हैं जब हमारे मानवी गुण यथादया, क्षमा, उदारता, साहस, निर्भीकता, सहनशीलता, सहिष्णुता, सत्यता, अहिंसा, अलोलुपता तथा संयम आदि समाहित हो।  एक समय था जब मानव अपने कुटुम्ब, ग्राम, जनपद, राज्य देश तथा विश्व का शुभ चिन्तन करता था। हमें निम्न श्लोक कुछ इसी ओर संकेत करता सा प्रतीक होता है। सर्वेच भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः। सर्वे भद्वाणि पश्यन्तु मा कश्चिद् दुःख भाग भवेत।।  परन्तु खेद है। कि जब हम आज के मानव के संकीर्ण क्रिया-कलापों तथा उसके विचारों की ओर दृष्टिपात करते हैं। तो शर्म से हमारी नरजें नीचे हो जाती हैं। आज के मानव के क्या विचार हैं? भगवान हमें ऐसा वर दो। सारे जग की सारी सम्पत्ती मेरे घर भर दो! भगवान हमें.................. कार्य हमारा जो भी होवे आप स्वयम् कर जावे! हमतो मारे मौज मजे से, खाने को हल्लुवा ही पावे!! जो भी हमसे टक्कर लेवे, उसको शक्कर आँखें ही गिर जावे!! जिसकी ओर नजर भर देखूँ, उसकी आँखें ही गिर जावे!! यदि हमको आ कर कर क्षुधा सताये तो खाने को घी शक्कर दो!! भगवान हमे

होली की उपादेयता

श्री मनीष शर्मा  विश्व मंे भारत उपमहाद्वीप ही ऐसा है जहाँ छः ऋतुओं का काल चक्र पूरा होता है। ऋतुराज वसंत के अगमन से प्रकृति में नवचेतना की बहार छा जाती है। रंग-बिरंग फूलों की चादर वाड़ियों में लहरा उठती है तो ऊसर भूमि में भी अंकुर फूट पड़ते हैं। नई उमंग उल्लास से मादकता नस नस में थिरकने लग जाती है। प्रत्येक प्राणीवान की। फूलों की सुगन्ध से गमकी शीतल मन्द समीर स्फुरित करती हुयी बहती है। खरीफ की फसल से प्राप्त भरपूर अन्न एवं रवी की पूर्ण रूपेण भरी फसल चनों के भाड़ गेहूँ जौ की इठलाती बालियों को भून कर खाने, होरी के सुखद कल्पना, नववर्ष सानन्द समृद्धिदायक होने की कामनाओं मंे उल्लासित मानव मन मादक वातवारण में झूम उठता है। कंठ स्वरों से स्वतः ही कीर्तिगान फूट पड़ता है। अपने प्रिय के प्रति अपने हाथ अधम्य शुभचिंतकों के प्रति।  आदि से मानव को सर्वप्रथम जिस तत्व का ज्ञान हुआ वह तत्व है अग्नि वेदों में सर्व प्रथम ऋग्वेद का प्रथम यंत्र अग्रि का प्रतीक है। अग्रि के बिना कोई भी प्राणी जीवित नहीं रह सकता। अग्नि देवता ही सर्वाधर हैं। निरूक्त में सविता को ही अग्नि कहा गया है। इस सृष्टि की उत्पत्ति भी अग्नि

पुत्री

मनोज कुमार शर्मा (1) ''हा दैव! क्या मेरे भाग्य में बदा था?मैंने कौन-सा ऐसा पाप किया था?'' पुरूषोत्तम दादा अपने गाँव के पुरोहित थे। वे ब्रह्माणों में उपाध्याय थे। बहुत गरीब थे। वर्ष का कोई ही ऐसा सौभाग्य का दिन होता, जिस दिन उन्हें और उनके बच्चों राजेश और विमला को पेट भर रोटी मिलती। राजेश 13 वर्ष का था तथा बिमला 16 वर्ष की बालिका थी। गाँव के लोग रोज न सही तो होली दीवाली को अवश्य प्रसन्नचित रहते। मनोविनोद करते। परन्तु पुरूषोत्तम दादा के मुख पर बसन्त में भी प्रसन्नता की रेख न झलकती। हमेशा उनके घर में गमी सी रहती। बिमला को देखते ही उनके नयनाम्बर से आँसू टपकने लगते। हृदय अधीर हो जाता। रह रह कर कराह उठते ''हा दैव! क्या मेरे भाग्य में यही बदा था। मैंने कौन-सा ऐसा पाप किया था।  बैसाख का महीना था। सुबह 8 बज चुके थे। ठंडी ठंडी हवा चल रही थी। पक्षी बोल रहे थे। दीप्तिमान दिनकर प्रसन्नता पूर्वक दैनिक यात्रा में चल पड़े थे। आज पुरूषोत्तम दादा के मुख पर प्रसन्नता थी। कहीं की तैयारी कर रहे थे एकाएक आवाज आयी। ''दादा! जल्दी तैयार होइये।'' पुरूषोत्तम ने दरवाजा खोला।

नारी जागरण

युग-युग से नर की दासी बन, जिसने सही यातना भारी। शूर सपूतों की हो जननी, महापीड़िता भारत नारी।। रही सदा अनुरूप नरों के, किन्तु उपेक्षित दास अभी है। जब नारी सम्मान बढ़ेगा, भारत का कल्याण तभी है।।  यदि मानव समाज को एक गाड़ी मान लिया जाये तो स्त्री-पुरूष उसके दो पहिये हैं दोनों स्वस्थ और मजबूत होने आवश्यक हैं। दोनों में से यदि एक भी कमजोर रहा तो गाड़ी, गाड़ी न रहकर ईधन हो जायेगी। चलती का नाम गाड़ी है; समाज का कर्तव्य है कि वह नारी नर समाज के इन दोनों पक्षों को सबल और उन्नत बनाने का प्रयत्न करें दोनों के बीच स्वस्थ संबधों का होना भी आवश्यक है। ब्रह्म के पश्चात् इस भूतल पर मानव का अवतरित करने वाली नारी का स्थान सर्वोपरि है माँ बहन पुत्री एवं पत्नी रूपों में वह देती ही है। वह ही मानव का समाज से सम्बन्ध स्थापित करने वाली है, किन्तु दुर्भाग्य यह रहा है कि इस जगत धर्ती को समुचित सम्मान न देकर पुरूष ने प्रारम्भ से अपने वशीभूत रखने का प्रयत्न किया। प्राचीन काल में भारत के ऋषि मुनियों ने नारी, के महत्व को भलीभाँति समझा था सीता जैसी साध्वी सावित्री जैसी पतिव्रता गार्गी और मैत्रेयी जैसी विदुषियों ने इस देश

समय दीजिए

1.  अध्ययन के लिए समय दीजिए क्योंकि यह विवेक का आधार है। 2.  ईश्वर की प्रार्थना के लिए समय दीजिए, क्योंकि यह रहस्योद्घाटन की सीढ़ी है। 3.  मन चिन्तन के लिए समय दीजिए क्योंकि यह सत्य का स्त्रोत है। 4.  खेलकूद के लिए समय दीजिए क्योंकि यह यौवन का यन्त्र है। 5.  पे्रममय व्यवहार के लिए समय दीजिए क्योंकि यह परमात्मा का स्वरूप। 6.  काम करने के लिए समय दीजिए क्योंकि यह सफलता की सीढ़ी है। 7.  नेकी के लिए समय दीजिए, क्योंकि यह अशान्ति का मार्ग है। 8.  हँसने के लिए समय दीजिए, क्योंकि यह जीवन का लक्ष्य है। 9.  सेवा के लिए समय दीजिए क्योंकि यह जीवन का लक्ष्य है। 10.  माता-पिता की सेवा के लिए समय दीजिए क्योंकि यह शिक्षा का आधार है। 11.  परिश्रम के लिए समय दीजिए क्योंकि यह शिक्षा का आधार है। 12.  सोचने के लिए समय दीजिए क्योंकि यह बुद्धि का यन्त्र है। 13.  परोपकार के लिए समय दीजिए क्योंकि यह सम्मान का द्वार है।

पहेलियाँ

1. एक हाथ है रखा कमर पर,    हाथ दूसरा सिर के, ऊपर।    लगा रही चक्कर कुछ ऐसे    घूम रहा हो लट्टू जैसे। 2. अगर कहीं मुझको, पड़ जाता,    बड़े प्रेम से तोता खाता,    बच्चे बूढ़े अगर खा जाते,    व्याकुल हो आंखे भर लाते। 3. चाहे रखो जेब के भीतर,    चाहे रखना इसको घर पर।    देश-विदेशों तक  हो आए,    सभी तरह की खबरें लाए। 4. मैं पड़ता हूँ नहीं दिखाई,    सबसे ज्यादा गति है पाई।    पल में पटना, पल में दिल्ली,    खूब उड़ाऊं सबकी खिल्ली। 5. उछल कूद कर काटूँ डाल,    मानव हैं मेरे ही लाल।    बजे मदारी का डमरू,    बांध पांव में नाचू घुंघरू। 6. एक नारी के हैं दो बालक,    दोनों एक ही रंग।    पहला चले, दूसरा सोवे,  फिर भी दोनो संग। 7. हाथ-पैर में जंजीर पड़ी है।    फिर भी दौड़ लगाता      टेढ़े-मेढ़े रास्तों से गांव-शहर घूम आता।। 8. मैं जिसके पीछे लगऊं,    गुणवक्ता को और बढ़ाऊँ।    हूँ हिसाब का अंक अजूबा,    पूरा कर हूँ मैं मंसूबा। 9. सभी ग्रहों का मैं ही मुखिया,    मुझसे जगमग पूरी दुनियां।    सुबह-सुबह मैं आ जाता हैूँ।    मुखड़े पर लाली लाता हूँ। 9. सवा लाख के मेरे दांत,    खाता नहीं, दिखाता हूँ।    छोटे आंख सूप सा

मेरी संगम यात्रा

इलाहाबाद के बारे मंे मैं बहुत सुन चुकी थी पर कभी जानें का अवसर न मिला इस समय इलाहाबाद में कुंभ के मेलें की बहुत चर्चा थी। हमें कुल तीन दिन का विद्यालय से अवकाश प्राप्त हुआ तभी योजना बनी संगम यात्रा की। संध्या समय ही हमारे पूरें परिवार की बैठक हुई। पिताजी ने प्रश्न किया संगम यात्रा के लिए कौन-कौन तैयार है मेरी वहाँ जाने की अधिक लालसा के कारण मेरा हाथ पहले उठा और पिता जी ने अवकाश होने के कारण मेरी वहाँ जाने की हामी भी भरी। उसी दिन तैयारी होने लगी कुंभ जाने की। पिताजी ने कहा कम से कम बोझ के साथ हमें संगम यात्रा करनी चाहिए। अगले दिन हम अपना-अपना समान लेकर पिताजी के आने का इंतजार कर रहे थे सारी तैयारी हो चुकी थी। संध्या को जब पिताजी आए तो नाश्ता करके तंुरत ही चलने की ठानी। हालाकि हमने तीन बजे जाने के लिए कहा था लेकिन शाम के पाँच बज चुके थे। फिर हमें कल्यानपुर से बस और भइया दोनों को पिकअप करना था। उधर मेंरे बड़े भाई भी तैयार थे। हमने सबसे पहले कल्यानपुर से झकरकटी तथा फिर वहाँ से इलाहाबाद की बस पकड़ी। पूरें पाँच घण्टे की यात्रा के बाद हम इलाबाद के आलीशान चर्च के सामने कुद देर के लिए रूकें उस सम

क्या है आई.टी.आई.

आप लोग कम्प्यूटर पर कई गेम्स खेलते होगे और कागज का राॅकेट भी बनाने होंगे। लेकिन क्या आप खुद कम्प्यूटर बनाना चाहते हैं? चलिए, आपको भारत के इंजीनियरिंग के सबसे बड़े स्कूल आई आई टी (इंडियन इंस्ट्टियूट) आॅफ टेक्नोलाॅजी को आई. आई. टी. के नाम से जाना जाता है। भारत में इस समय रगत शहरों में आई. आई. टी. है। आई आई टी कानपुर, दिल्ली, चेन्नई, मुम्बई, खड़गपुर, रूड़की और गुवाहाटी।  इंजीनियर बनने के लिए आपको 12 वीं मंे साईस (फिजिक्स, कैमिसट्री, मैथ्स) की पढ़ाई करनी होगी। बी.ए., बी. काम डिग्री-कोर्स तीन साल का है। लेकिन इंजीनियर का ग्रेजुएट प्रोग्राम अमूमन चार साल को होता है। इन साल आई आई टी में बी. टेक, बी काॅम, बी. आक, में एडमिशन लेने के लिए लगभग ढाई लाख बच्चे हर साल परीक्षा देते हैं। इनमें से सिर्फ पाँच हजार बच्चों को ही प्रवेश मिल पाता है।  जो भी बी. टेक. या फिर, बी.एस. सी. के लिए आई आई टी में एडमिशन लेना चाहता हैं, उसे सबसे पहले जे. ई. ई. (ज्वांइट एंटेªए एग्जाम) देना पड़ता है। स्श्रोता आई आई टी और देश के एक-दो और अच्छे-अच्छे इंजीनियरिग कालेज में प्रवेश के लिए एंटेªस टेस्ट होता है। लेकिन हर आई आई टी मे