Posts

Showing posts from December, 2021

नहीं चाहिए ऐसे दोस्त!

दोस्ती का मतलब है, दोस्त को सही राह पर लाना, उनके साथ हंसना, रोना, पढ़ना, और खाना, उन्हें सही कार्य के लिए, हर वक्त जगाना, कुछ लोग सोचते हैं, दोस्ती का मतलब होता है, सिर्फ एक दोस्त को बिगाड़ना! नहीं चाहिए ऐसी दोस्ती, जो सिर्फ मतलब से जुड़ी हो, हर कदम, हर वक्त, सिर्फ गलत राह पर ही मुड़ी हो, ना बनाएं ऐसे दोस्त, जिनकी राहे अच्छाइयों से जुदा हो, उनके लिए तो सिर्फ, बुराई ही खुदा हो! संगति ऐसी हो जो आपको निखरने दे, ऐसी संगति ना करो, जो आपको बिखरने दे, चाहो तो जिंदगी में कभी दोस्त ना बनाओ, पर हर कदम, हर समय, सही राह को अपनाओ! डॉ. माध्वी बोरसे! ( स्वरचित व मौलिक रचना)

स्त्री और पुरुष दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। डॉ. विक्रम चौरसिया

समाज में पुरुष व महिला को संविधान द्वारा समान तौर पर समस्त अधिकार तो दिए गए हैं, लेकिन फिर भी देखे तो किसी न किसी रुप में सामाजिक रूढ़िवादी मान्यताओं व विषमताओं के कारण ही कुछ महिलाएं अपने अधिकारों से वंचित रह जाती है, इसी तरह देखें तो आज बहुत से पुरूष भी पीड़ित है।स्त्री और पुरुष दोनों एक ही सिक्के के दो पहलू हैं, एक दूसरे के पूरक हैं, सहयोगी हैं, विरोधी नहीं ,प्रकृति ने दोनों को एक खास मकसद से सृष्टि की निरंतरता हेतु बनाया है, दोनों एक दूसरे के लिए आवश्यक हैं, अनुपयोगी नहीं , दोनो एक दूसरे के मित्र हैं, शत्रु नहीं है। इस सृष्टि की सभी नारी किसी ना किसी की मां होती है चाहे उनसे हमारा कोई भी रिश्ता क्यों ना हो,कभी मां,कभी बहन,कभी पत्नी,कभी दादी, नानी मां और भी बहुत से रिश्ते में हमें समेटकर प्यार , स्नेह देकर सींचती है,लेकिन आज के इस वैश्वीकरण के दौर में हम देख रहे हैं कि देश के अलग अलग हिस्सों से  अक्सर ही इस तरह की खबर मिल रही है कि किसी लड़की ने थोड़ी सी ही कहासुनी हो जाने पर ही अपने लोगों पर ही बलात्कार का आरोप लगा दी ,ऐसे में  कैसे ये सृष्टि चलेगी ? देखे तो हाल ही में जारी एनसीआरब

ओमिक्रान वेरिएंट- चुनाव 2022- सुशासन- चुनौतियां!!!

ओमिक्रान वेरिएंट - प्रस्तावित चुनाव 2022 स्वरूपी रैलियों की भीड़ पर संज्ञानः लेना समय की मांग  आेमिक्रान वेरिएंट- नागरिकों को अफ़वाह, भ्रम और डर से बचकर कोविड उपयुक्त व्यवहार का सख़्ती से पालन करना ज़रूरी - एड किशन भावनानी गोंदिया - वैश्विक रूप से बड़ी मुश्किल से कोविड-19, डेल्टा, डेल्टा प्लस पर आंशिक काबू पाकर कुछ राहत की सांस भर ली थी कि फ़िर आेमिक्रान वेरिएंट ने तहलका मचा दिया है। सबसे अधिक प्रभावित देशों में ब्रिटेन की हालत नाजुक है वहां एक लाख से अधिक केस आ रहे हैं जिससे अमेरिका सहित भारत भी सावधानी की मुद्रा में आ गया है यही कारण है कि पीएम मोदी ने गुरुवार को एक हाईलेवल मीटिंग ली जिसमें अनेक महत्वपूर्ण विभागों के बड़े बड़े अधिकारी शामिल हुए। हालातों की समीक्षा की गई एवं महत्त्वपूर्ण दिशा निर्देश दिए। साथियों बात अगर हम भारत में ओमिक्रान वेरिएंट के कहर की करें तो स्थिति धीरे-धीरे क्रिटिकल होती जा रही है। अभी 18 राज्यों में पहुंच चुका है 450 से अधिक केस आ चुके हैं। दिल्ली,महाराष्ट्र, यूपी, मध्य प्रदेश सहित अनेक राज्यों में रात्रिकर्फ्यू की घोषणा भी की गई है। उधर मध्यप्रदेश में कैबि

जागो हिन्दू जागो

     चर्चों   से   चिठ्ठी   निकल   पड़ी,       मस्जिद  का  फतवा  बोल  रहा।      यदि   मंदिर   अब  खामोश  रहे,      समझो  फिर  खतरा  डोल रहा।                         वो  देश  चलाएॅ फतवे से,                         तुम   तेल   सूंघते  ही रहना।                         जब घर में घुसकर मारेंगे,                         तब  हाथ  रगड़ते  रहना।      वो काल-खण्ड  हम याद करें,      जब   बटे   हुए  थे  जाती  में।      पराधीन    यह    देश    हुआ,      व  घाव  मिला  था  छाती  में।                      हिन्दू  विघटन  के  कारण  ही,                     परतन्त्र रहे हम  सदियों तक।                     अगर    अभी   न   हम   चेते,                     फिर करो तैयारी जन्मों तक।                परिदृश्य वही फिर आज यहां,       सबको मिलकर चलना होगा।        नहीं  जातिवाद, अब राष्ट्रवाद,       की  धारा  में ही बहना  होगा।                        एकत्र  हो  रहे  फ्यूज  बल्ब,                       सूरज को दिया दिखाने को।                       नहीं   हैं  दाने   जिनके  घर,                       वो  अम्मा  चली भुनाने क

कॉस्मोप्रॉफ इंडिया ने भारत की कॉस्मेटिक्स इंडस्ट्री में बिखेरा जलवा

Image
-अनिल बेदाग़- मुंबई :  भारत में तेजी से बढ़ते हुए ब्यूटी मार्केट के लिए मुंबई के होटल सहारा स्टार में 2 दिन की बिजनेस टु बिजनेस इवेंट, कॉस्मोप्रॉफ इंडिया, का आयोजन किया गया। बोलोग्नाफियर और इंफॉर्मा  की ओर से आयोजत की गई कॉस्मोप्रॉफ इंडिया दुनिया भर में प्रतिष्ठित कॉस्मोप्रॉफ ब्रैंड की ओर से भारत के भौगोलिक क्षेत्र के अनुकूल लगाई  गई प्रदर्शनी है। इसका अपना एक अलग पैमाना और पहचान है। इसमें सभी क्षेत्रों के प्रोफेशनल ब्यूटी बिजनेस का प्रतिनिधित्व है। इसके तहत कॉस्मेटिक्स इंडस्ट्री से संबंधित हर पहलू, सामान, कच्चा माल, मशीनरी, ओईएम,  कान्ट्रैक्ट मैन्युफैक्चिंरग और प्राइवेट लेबल, प्राइमरी और सेकेंडरी पैकेजिंग, सर्विस प्रोवाइडर्स और तैयार माल का प्रदर्शन किया जाता है। यह परफ्यूमरी और कॉस्मेटिक्स, खूबसूरती और स्पा, बाल, नाखून, नैचुरल और ऑर्गेनिक में बंटा है। इस दो दिन के शो का उद्घाटन इंडस्ट्री के तमाम दिग्गज लोगों की मौजूदगी में लैक्मे लीवर के सीईओ और कार्यकारी निदेशक श्री पुष्कराज शेनाई,  इंडल्ज द सैलून की संस्थापक मिस सुर्कीति पटनायक,  इंडल्ज द सैलून के संस्थापक श्री जयंत पटनायक, दक्षिण ए

महिला सशक्तिकरण

 महिला सशक्तिकरण तब है जब महिलाओं को अपने निर्णय लेने की स्वतंत्रता हो। उनके लिए क्या सही है और उनके लिए क्या गलत है, यह तय करने में उन्हें पूरा अधिकार हो।  महिलाओं को दशकों से पीड़ित होना पड़ा है क्योंकि उनके पास कोई अधिकार नहीं थे और अब भी बहुत सी जगह, गांव, यहां तक की बहुत से शहर और देश में भी नहीं है!  महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया और अब भी किया जा रहा है । अपने अधिकारों के साथ-साथ महिलाओं को सिखाया गया कि वे अपने जीवन के सभी पहलुओं में आत्मनिर्भर कैसे हों।  उन्हें सिखाया गया कि उनके लिए एक स्थान कैसे बनाया जाए जहां वे बढ़ सकें और वह बन सकें जो वे बनना चाहती हैं।  पुरुषों के पास हमेशा सभी अधिकार होते थे।  हालाँकि, महिलाओं को इनमें से कोई भी अधिकार नहीं था, यहाँ तक कि मतदान जैसा छोटा अधिकार भी।  चीजें बदल गईं जब महिलाओं ने महसूस किया कि उन्हें भी समान अधिकारों की आवश्यकता है।  यह अपने अधिकारों की मांग करने वाली महिलाओं द्वारा क्रांति के साथ लाया गया।   दुनिया भर के देशों ने खुद को "प्रगतिशील देश" कहा, लेकिन उनमें से हर एक के पास महिलाओं के साथ गलत व्यवह

मिशन-कर्मयोगी - अब शासन नहीं भूमिका!!!

हम सुपर स्पेशलाइजेशन युग में प्रवेश कर रहे हैं - शासकों को अब शासन नहीं भूमिकाओं का निर्वहन करने का संज्ञान लेना ज़रूरी  डिजिटलाइजेशन और स्पेशलाइजेशन युग में अब शासकीय कर्मचारियों को शासन नहीं भूमिकाओं का निर्वहन सहिष्णुता, विनम्रता, रचनात्मकता से करना ज़रूरी - एड किशन भावनानी गोंदिया - समय का चक्र हमेशा घूमते रहता है, किसी की ताकत नहीं कि इस चक्र को रोक सके। आज वैश्विक रूप से प्रौद्योगिकी, विज्ञान, नवाचार, नवोन्मेष तीव्र गति से विकसित हो रहे हैं परंतु ऐसा कोई नवाचार प्रौद्योगिकी न आई है, और ना ही कभी आएगी जो समय के चक्र को रोक सके!!! साथियों समय था उनका! जब बड़े-बड़े राजाओं महाराजाओं ने भारत पर राज़ किया समय था!! समय था उनका! जब अंग्रेजों नें भारत पर राज़ किया!! स्वतंत्रता के बाद समय था उनका! जिसने इतने वर्षों तक राज़ किया!! समय का चक्र घूमते गया किसी का लिहाज नहीं किया!! किसी को आसमान से जमीन पर गिराया! तो किसी को ज़मीन से आसमान तक पहुंचाया!! वाह समय साहिबान जी!! तुम्हारी गत तुम ही जानों!! साथियों बात अगर हम शासन प्रशासन की करें तो समय था उनका! जब मानवीय हसते कार्य होता था!! आज अगर ह

क्या आप बोल्ड हैं

वीरेंद्र बहादुर सिंह  एक सवाल है कि आप कितना बोल्ड है? यह तो बहुत बोल्ड महिला है या यह तो बहुत बोल्ड पुरुष है... ? आप पर लगा यह लेबल आप को अच्छा लगता है? आप के परिवार वालों को अच्छा लगता है? क्या आप एक बोल्ड महिला को पत्नी के रूप में पसंद करेंगें? क्या आप को लगता है कि बोल्ड महिला को पत्नी के रूप में स्वीकार करने के बाद वह सामान्य महिला के रूप में संबंध निभाएगी? एक महिला के लिए बोल्डनेस क्या हो सकती है? किसी पुरूष मित्र के कंधे पर हाथ रख कर सिगरेट पीना? बिंदास गालियां देना? स्पेगेटी ब्लाउज, आफ शोल्डर टीशर्ट या पैंटी दिखाई दे इस तरह की स्कर्ट्स पहनना? दोस्ती से बिस्तर तक पहुंचने वाले संबंधों को खुलेआम स्वीकार करना? सास-ससुर की बातों को न मानना? एक पुरुष के लिए बोल्डनेस क्या हो सकती है? छाती ठोक कर अपने मन की बात कहना? अपनी अनपढ़ पत्नी के साथ न पटने की बात स्वीकार करना? अपने एक्स्ट्रा मैरिटल रिलेशनशिप का बखान करना? बगल से गुजरने वाली लड़की को देख कर शरीर में होने वाली सनसनाहट को सब के सामने स्वीकार करना? बोल्ड होना क्या है? बहादुरी? समूह से अलग होने की टेक्निक? स्वभाव? प्रमाणिकता? बोल्ड

डिजिटल भारत में अनुपालन बोझ को कम करने सुधारों की ज़रूरत

वैधानिक मापनविधा को गैर-अपराधी बनाने की ज़रूरत - स्वसत्यापन, स्वप्रमाणन, स्वनियमन को बढ़ावा देने की ज़रूरत  डिजिटल भारत में सरकारी विभागों के मामलों में नियमों, प्रक्रियात्मक पहलुओं, को गैर-अपराधिक करने और आवेदक़ के शिकायतों का निवारण संवेदनशील तरीके से करने की ज़रूरत - एड किशन भावनानी  गोंदिया - भारत बड़ी तेज़ी के साथ डिजिटल इंडिया की ओर बढ़ते हुए डिजिटलाइजेशन की आंधी में,संकरी गलियों रूपी मानव हस्तकार्य याने हैंडवर्क को विशाल चौड़े रास्तों याने डिजिटलाइजेशन की ओर लाया जा सके ताकि सब काम तेजी से हो अर्थात एकसंकरी गली विशाल रोडरस्ते का स्थान लेकर हजारों लाखों काम एक साथ हो, यह है हमारे नए भारत का रणनीतिक रोड मैप का एक हिस्सा!!! साथियों इस डिजिटलाइजेशन में रहते हुए बात अगर हम जीवनयापन के लिए व्यापार, व्यवसाय या कोई गैर सरकारी निजी काम करने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों की प्रक्रियाओं के अनुपालन की करें तो करीब -करीब हर इस क्षेत्र से जुड़े नागरिक को अनुभव होगा के सरकारी ऑफिसों के कितने चक्कर लगाने पड़ते हैं!!! हर विभाग के एक छोटे से छोटे आवेदन कागज से लेकर उसके प्रमाणपत्र पाने तक का कितना लंब

आज जन्मदिन विशेष है

उस महान आत्मा का , जो भारत की पहचान था। अटल के नाम से विख्यात था। चले गए इस दुनिया से वो। लेकिन भारत को विश्व गुरु l की श्रेणी में लाकर खड़ा किया, आतंकवाद को खत्म किया | भारत भूमि से दुश्मन को l सीमा से खदेड भागने पर मजबूर किया, भारत की ताकत का लोहा दुश्मनों को फिर मनवा दिया l  राजनीति का पुरोधा था वो। लडकर कभी हार नहीं माना हार कर भी जीतने की। उम्मीद पर जीता रहा। मौत को बांध मुठ्ठी में भर कर। जिंदगी का सफर में चलता रहा। अटल था वो अटल हैं अटल  रहेगा । यही संदेश दुनिया को देकर गया। _____________________       शैलेन्द पयासी ( स्वतंत्र लेखक  विजयराघवगढ़, कटनी मध्यप्रदेश

वफ़ा के नाम पे धोका (ग़ज़ल)

जिसने चराग़ दिल में वफ़ा का जला दिया ख़ुद को भी उसने दोस्तों इंसां बना दिया। घरबार जिसके प्यार में अपना लुटा दिया उस शख़्स ने ही बेवफा हमको बना दिया। जो मिल गए हैं ख़ाक में वो होंगे और ही  हमने तो हौसलों को ही मंज़िल बना दिया। यह है रिहाई कैसी परों को ही काट कर  सैयाद तूने पंछी हवा में उड़ा दिया। हंस हंस के ज़ख़्म खाता रहा जो सदा तेरे  तूने ख़िताब उसको दगाबाज़ का दिया। 'निर्मल' समझ के अपना जिसे प्यार से मिले  उसने वफ़ा के नाम पे धोका सदा दिया। आशीष तिवारी निर्मल  लालगांव रीवा 

अटल हमारे अटल तुम्हारे

अटल  हमारे  अटल  तुम्हारे। नहीं   रहे  अब   बीच  हमारे। जन जन  के  थे  राज दुलारे। अटल  हमारे  अटल  तुम्हारे। बेबाक    रहे   बोल  चाल  में। मस्ती  दिखती  चालढाल  में। अश्क   बहाते     घर  चौबारे। अटल  हमारे   अटल  तुुम्हारे। अगर कहीं कुछ  सही न पाया। राजधर्म  तब  जा  सिखलाया। इसीलिये   थे   सब  के   प्यारे। अटल   हमारे   अटल  तुम्हारे। सजे  मंच  पर   जब  आते  थे। झूम  झूम  कर  फिर  गाते  थे। नहीं   बिसरते   आज  बिसारे। अटल  हमारे    अटल  तुम्हारे। चला  गया जनता  का  नायक। छोड़ सभी कुछ  यार यकायक। जन जन उनको  आज  पुकारे। अटल   हमारे   अटल   तुम्हारे। किया  देश हित  जीवन अर्पण। बिरला    देखा    गूढ़   समर्पण। रोते    हैं    यूँ     चाँद    सितारे। अटल   हमारे    अटल   तुम्हारे। कम से कम की  दिल  आज़ारी। खेली  जम  कर   अपनी   पारी। लगा  रहे  सब   मिल  जय कारे। अटल   हमारे    अटल   तुम्हारे। राजनीति   थी   खेल   खिलौना। खेला   करके    सब  को   बौना। शब्द     चढ़ाये      शब्द    उतारे। अटल   हमारे    अटल    तुम्हारे। हमीद कानपुरी (अब्दुल हमीद इदरीसी)

एहसास

सर्दी बहुत है गर्मी का एहसास करवाइए । नफरत बहुत है मोहब्बत का एहसास करवाइए । गम बहुत है खुशियों का एहसास करवाइए। बेगानापन बहुत है अपनेपन का एहसास करवाइए। अंधेरा बहुत है रोशनी का एहसास करवाइए। शोर बहुत है शांति का अहसास करवाइए। अस्थिरता बहुत है स्थिरता का एहसास करवाइए। मिथ्या बहुत हौ सत्यता का एहसास करवाइए। दोगलापन बहुत है एकसारता का एहसास करवाइए। राजीव डोगरा (भाषा अध्यापक) गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा पता-गांव जनयानकड़

किस्सा, किस्से और किस्साहट

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा उजाले में भी अंधेरा बसता है।  ‘ किसी - किसी ’  को दिखता है।  ‘ किसी - किसी ’  को नहीं दिखता है।  ‘ किसी-किसी ’  को दिखकर भी नहीं दिखता है तो  ‘ किसी-किसी ’  को नहीं दिखकर भी दिखता है। यह  ‘ किसी-किसी ’  कहलाने वाले लोग गुफाओं या आदिम युग में नहीं रहते। हमीं में से कोई  ‘ किसी-किसी ’  का पात्र निभाता रहता है। आश्चर्य की बात यह है कि एक  ‘ किसी ’  दूसरे  ‘ किसी ’  को  ‘ किसी-किसी ’  का किस्सा बताकर अपनी किसियाने की खुसखुसी करता रहता है। कोई  ‘ किसी ’  के दुख में किसी सुख को तलाशने की कोशिश करता है। कोई  ‘ किसी ’  की आग में  ‘ किसी ’  की रोटी सेंकने का काम करता है। । कोई  ‘ किसी ’  के गिरने में  ‘ किसी ’  के उठने की राह जोहता है। यह  ‘ किसकिसाने ’  का फसाना बहुत पुराना है। हमसे-तुमसे-सबसे पुराना है।  ‘ किसी ’  की बात में  ‘ किसी ’  की चुप्पी,  ‘ किसी ’  के लिखे में  ‘ किसी ’  के मिटने और  ‘ किसी ’  की ताजगी  में  ‘ किसी ’  के बासीपन की याद हो आना  ‘ किस्साहट ’  नहीं तो और क्या है ! यह  ‘ किसी-किसी ’  कहलाने वाले प्राणी बड़े विचित्र होते हैं। एक  ‘ किसी ’  दूसरे  ‘ क

94 वें जन्मोत्सव पर अटल जी को स्मरण किया

*अटल जी विनम्रता, लोकप्रियता,मिलनसारिता की प्रतिमूर्ति थे -राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य* गाजियाबाद,शनिवार 25 दिसम्बर 2021,केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के तत्वावधान में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी को उनके 94 वें जन्मदिन पर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।  उल्लेखनीय है कि 25 दिसम्बर 1924 को ग्वालियर में हुआ था। केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनिल आर्य ने कहा कि श्री अटल जी भारत के सर्वाधिक लोकप्रिय,विनम्र, मिलनसार व्यक्तित्व के धनी प्रधानमंत्री रहे।वह कवि ह्रदय, पत्रकार,लेखक दयालु व भावुक थे।राष्ट्रीय मोर्चे पर कारगिल युद्ध में उनके कुशल नेतृत्व में विजय प्राप्त की व पोखरण में परमाणु परीक्षण कर भारत की शक्ति का विश्व पटल पर परिचय भी दिया। वह तीन बार प्रधानमंत्री बने।वह बहुत अच्छे वक्ता थे देर रात तक उनका भाषण सुनने के लिए लोग आतुर रहते थे।उन्होंने केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के प्रधानमंत्री निवास पर आयोजित कार्यक्रम में घोषणा की थी भारत किसी दबाव में नहीं झुकेगा व सीटीबीटी पर हस्ताक्षर नहीं होंगे।आज अटल जी के जीवन से प्रेरणा लेने का दिन है।वह भारतीय राजनीति के अजातशत्रु

जश्न बनाम हादसों की रात

लो फिर आ गई हादसों वाली रात.....,हर साल की तरह इस बार भी 31-दिसम्बर आने वाला हैं,महानगरों में तो कई लोगो ने जश्न की  तैयारियां भी शुरू कर दी है। आजकल की युवा पीढ़ी को 31 दिसम्बर की रात का बेसब्री से इंतजार रहता हैं। पाश्चत्य संस्कृति को अपनाने वालों की धारणा होती हैं, कि बीता हुआ साल व आनेे वाले साल को ‘दिल ओ जान’ से  मनाया जाए। इसलिए एक महीने पहले से ही इसकी तैयारी शुरू कर दी जाती है। हर उम्र के लोगों के लिए अलग अलग पार्टियां रखी जाती। इस रात को रोमानी और मनोरंजक बनाने के लिए हर तरह की व्यवस्था रखी जाती साथ ही साथ तरह तरह के फूड,शराब,कोकिन,हेरोइन,अश्लील नाच गाना,यहां तक की सम्भोग भी। इस रात को हसीन बनाने के लिए लाखो का खर्च कर तरह तरह की योजनाएं बनाई जाती। एक महीने पहले से ही ऑफर के साथ नाइट बुकिंग भी शुरू हो जाती हैं। कई पार्टियां तो शहर से दूर। सुनसान एरिये में रखी जाती, ताकी पुलिस की नजर न पड़े। टुरिस्ट प्लेसेस अधिक से अधिक सजाए जाते हैं ताकी अधिक से अधिक लोग इन जगह पर रात बिताएं । 31 दिसम्बर अब महानगरों तक ही सीमित नही हैं। छोटे छोटे कस्बों में भी इसका अच्छा खासा चलन हो गया हैं। क

बच्चू...कच्ची गोटियाँ नहीं खेली हैं

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा उरतृप्त एक भड़कीला युवक अपने स्थानीय सांसद से जा भिड़ा। सांसद जी बड़े संयमी थे। सो, युवक को डाँटने-फटकारने अथवा लताड़ने की जगह उसे बड़े प्रेम से बैठने के लिए कहा। बड़ी विनम्रता से पूछा  “ क्या बात है भाई !  ऐसी क्या मुसीबत आ पड़ी जो तुम मुझे इतनी सुबह-सुबह डाँट रहे हो ?”  इस पर युवक ने कहा,  “ आपने झूठे-झूठे वायदे कर चुनाव तो जीत लिया और हम जैसे लोगों को भूल गए। खुद तो चैन की नींद सोते हो और हमें दर-दर की ठोकर खाने के लिए छोड़ दिया है। महँगाई के मारे न खाए बनता है न पीए। बेरोजगारी से हमारे जैसे लोगों की हालत खस्ता है। जेब में एक फूटी-कौड़ी भी नहीं है। अब आप ही बताइए ऐसे में आदमी गरियायेगा नहीं तो उसकी आरती उतारेगा ?” सांसद जी को सारा मामला समझ में आ गया। वे कुछ समझाते इससे पहले ही युवक भड़क उठा और बोला,  “ आपको क्या है ?  आपको तो सरकार की ओर से बत्तीवाली चार चक्का गाड़ी, बड़ा बंगला, नौकर-चाकर, खाने-पीने में पाँच सितारा होटल सा भोजन, आए दिन हवाई सफर करने का मौका, बीमार पड़ने पर एक से बढ़कर एक अस्पताल। और बदले में हम जैसे लोगों को क्या मिलता है – ठेंगा !”  सांसद जी