विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, June 28, 2020

एसडीएम साहेब के आदेशों की नगर पंचायत और ठेकेदार द्वारा ग्राम उम्मेदखेड़ा में उड़ाई जा रही धज्जियाँ




बंथरा / लखनऊ :- थाना सरोजनी नगर बंथरा के उमेद खेड़ा गांव में मार्ग को लेकर हाहाकार इस विकास शील देश मे कुछ देश के ही लोग ऐसे है जो अपनी भलाई के लिए इस विकास में रोड़ा बनकर सामने खड़े हो जाते है।ये जो तस्वीरों में आपको खड़ंजा और पानी भरा गड्ढा दिखाई दे रहा है ये उस गांव को शहर से जोड़ता है जहां तक़रीबन 300 परिवार रहते हैं उस गांव का नाम है उमेद खेड़ा जो बंथरा में है।यहां तक़रीबन 350 मीटर लम्बी सड़क पर आधा तो खड़ंजा है और लगभग 50 मीटर सड़क विवाद में फस कर रह गई है जिसकारण ग्रामीणों का कहीं आना जाना दूभर हो गया है ये विवाद भी एसडीएम साहब ने अपने आदेश के बाद समाप्त करवा दिया था लेकिन फिर भी ना जाने क्यों वहां की जिला पंचायत और ठेकेदार वहां खड़ंजा बिछाने को तैयार ही नही हो रहे हैं। ग्रामीणों ने हमे बताया कि 50 मीटर की जिस जमीन पर गोबर पड़ा रहता है उस पर किसी शख्स ने दावा कर दिया कि ये ज़मीन उसकी है लेकिन पैमाइश होने के बाद एसड़ीएम साहब ने उसके दावे को गलत करार देते हुए मार्ग बनाये जाने का आदेश पारित कर दिया बावजूद इसके  फरवरी 2020 से ये रास्ता जस का तस ही पड़ा हुआ है जिस कारण वहां 40 वर्षों से रह रहे ग्रामीण मुख्य धारा में जुड़ने के लिए काफी परेशान है और इसी गंदी सड़क से वो अपने गंतव्य को आने जाने पर मजबूर हैं उन्होंने इस समस्या को सीएम के पोर्टल और डीएम साहब तक को भेजा है पर अभी तक कोई काम शुरू नही हो सका।उम्मीद है कि हमारे द्वारा खबर दिखाए जाने के बाद उमेद खेड़ा गांव की ये सड़क विवाद से हटेगी और जिसने भी इसपर विवाद किया है उसको सबक सिखाया जाएगा और यहां निर्माण कार्य पुनः शुरू हो पायेगा जिससे उमेद खेड़ा गांव भी अपने विकासशील होने पर गर्व करेगा और ग्रामीणों का आवागमन सुगम होगा।


 

 



 

आओ स्वदेशी भाव अपनाएं, भारत को आत्मनिर्भर बनाएं

जैसा कि हम सबको विदित है न सिर्फ हमारा देश अपितु समूचा विश्व कोरोना वैश्विक महामारी (कोविड-19) की चपेट में आकर प्रगति की पटरी से बहुत नींचे उतर चुका है जो कि सोचनीय है। इस गम्भीर समस्या को ध्यान में रखते हुए हमें स्वदेशी योजनाएं बनाने होंगी। यह सोचना इसलिए भी अहम हो जाता है क्योंकि भविष्य की योजनाओं पर आज की अर्थव्यवस्था में आई मंदी का गहरा प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए हमें स्वदेशी वस्तओं को महत्व देकर स्वदेशी भाव अपनाना चाहिए। जिससे हमारा देश आत्मनिर्भर भारत बने। हमारे देश को सुसंपन्न और सामर्थ्यवान भारत बनाने में स्वदेशी भाव का बहुत बड़ा योगदान है। 

आज पुरुषों के साथ महिलाएं भी भारत को आत्मनिर्भर भारत बनाने में अपना अमूल्य योगदान दे रही हैं। संक्रमण काल में महिलाएं  आत्मविश्वास की नई उड़ान भरकर आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना से नारी शक्ति को प्रोत्साहित कर सम्पूर्ण मानव समाज में आत्मनिर्भरता की अलख जगा रही हैं। इस महासंकट के दौर में महिलाएं संक्रमण फैलने से रोकने और आर्थिक मंदी से निपटने के लिए नारी सशक्त मोर्चा संभाल रही हैं। देश-प्रदेश में महिलाएं मास्क , पीपीई किट व सैनिटाइजर का निर्माण कर रही हैं। जिससे महिलाओं को रोजगार भी मिल रहा है और आत्मनिर्भर बनने का सपना भी साकार हो रहा है। स्वदेशी रोजगार से जन-जन का आत्मविश्वास भारत को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने की ओर बढ़ रहा है। एक प्रण लेने की हम सभी को बेहद ज़रूरत है और यह स्वेच्छा से लेना भी चाहिए कि चीनी वस्तओं का सम्पूर्ण बहिष्कार किया जाए और स्वदेशी को दिल से अपनाया जाए। स्वदेशी अपनाकर हम अपना पैसा अपने ही देश की आर्थिक व्यवस्था को सुधारने में निवेश करेंगे जो कि एक बेहतर पहल है जिसमें हम सभी को बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए। यह पहल हर देशवासी के लिए प्रेरक सिद्ध होगी। अंत में यही प्रण लेना है स्वदेशी अपनाना है भारत को आत्मनिर्भर बनाना है।

अतुल पाठक

 कर्त्तव्य परायणता से पकड़े, जियो और जीने दो की राह




कर्तव्य कई तरह के होते हैं लेकिन आज जिस कर्तव्य की बात हो रही वह है नागरिको के कर्तव्य की।देश के नागरिक होने के नाते आपके कर्तव्य क्या है ?क्या पालन हो रहे है? शायद नहीं और हो भी रहे दोनो ही स्थिति है। गलत कामो के प्रति आवाज उठाना, घूसखोरो से सावधान रहना,आपदा की स्थिति में मदद पहुँचाना,समस्याओ पर विचार करना,कुव्यवस्थाओ पर आवाज उठाना,आवरू की रक्षा करना, जागरूकता फैलाना आदि कई ऐसे कार्य है जो नागरिक कर्तव्य है पर पालन कितने होते है यह बात छिपी नही है।लेकिन कुछ लोग आज भी इन सभी  नियमों का पालन करते है जिससे हमारा देश और समाज सुरक्षित रहता है।चाहे वह पुलिस हो सेना हो नागरिक हो लेखक हो पत्रकार हो आम लोग हो डाक्टर हो वकील हो जज हो ड्राइवर हो सामाजिक कार्यअकर्ता हो इन्होने देश और नागरिक कर्तव्यो का पालन किया है। सही मायने में मानव सेवा ही नागरिक कर्तव्य है । मानव प्रेम ही प्रेम है ।मानव के पोति श्रद्धा ही भक्ति।लेकिन दुर्भाग्य उन लोगो का जो  मानव के शत्रु बनकर अपनी उपेक्षा करवाते हैं। कर्त्तव्य परायणता से ही वो मार्ग प्रशस्त हो सकते है जिसे हम "जियो और जीने दो" कहते हैं । यह बात तो सामाजिक परिवेश और दैनिक जीवन में होनी ही चाहिए और शायद होता भी यही है। लेकिन कुछ विलासिता पर सवार लोग इसे लुटो और लुटने दो की मानसिकता के साथ ही घरो से निकलते हैं जिनका सामना नित ही जियो और जीने दो से होती है। कहते है जीत हमेशा सत्य और सही रास्तो पर चलने वालों को ही मिली है। सत्य ही वो रास्ता है जो जीवन का आधार है। इसके राह कठिन है चकाचौंध से दूर एक सरल और सहज पगडंडी, जिसमें जीवन की सवारी गाड़ी से नहीं पैदल करनी होती है,जबकि लुटो और लुटने दो के रास्ते तेज दौड़ती है लेकिन हमेशा एक्सीडेंट हो जाती है ।वह मंजिल तक कभी पहुँचती ही नहीं। आज मानवता का दम घुट रहा है। सभी तेज सवारी करने को ललायित है, लेकिन बहुत से ऐसे लोग है जो आज के इस बदलते युग में भी जियो और जीने दो को अपना सौभाग्य मानते हैं ऐसे लोग ही मंजिल तक पहुँच पाते हैं। अर्थात हमारे धर्म भी यही कहते है शास्त्र, कुरान, बायबिल सभी का यह कथन है मानव सेवा ही सर्वोत्तम सेवा है ।मानव ही इस पृथ्वी पर बुद्धिजीवी है जो कठिन से कठिन कार्य कर सकता है।वह चाहे तो चंद लुटो और लुटने दो को भी सबक सिखाकर जियो और जीने दो जैसा बना सकता है। आज के इस वैज्ञानिक युग में किताबो, साहित्य संस्कृति और सभ्यता पीछे छुट रही जबकि पाश्चात प्रवृत्ति हावी होने लगी है। ऐसे में जियो और जीने दो को आर्दश बने रहना एक चुनौती है। एक सामाजिक उदघोष के साथ पूर्वजो के संकल्पो को याद रखना ही होगा जिन्होने हमें यह काया देकर सिखाया था कि बेटा खुद भी जियो और औरो को भी जीने दो।

                                    आशुतोष

                                  पटना बिहार


 

 



 

सैनिक

राष्ट्र के वास्तविक नायक सैनिक ही होते हैं , जो निजी स्वार्थ को त्याग कर अपने देश की रक्षा के लिए हमेशा सर्वस्व निछावर करने के लिए  तत्पर रहते हैं। सैनिक का जीवन बलिदान का जीवन होता है , जो देशप्रेम में निजी जीवन का बलिदान करना और जीवन का वास्तविक दायित्व देश के लिए समर्पित होना सिखाता है। सैनिक राष्ट्र का गौरव होता है जिसमें देशभक्ति कूट-कूट कर भरी होती है।साहस और कर्तव्यनिष्ठा के साथ सैनिक जीवन में कई विपरीत परिस्थितियों अर्थात कई चुनौतियों का सामना करता है। सैनिक बनना इतना सहज नहीं होता जितना सभी को लगता है। सैनिक बनने से पहले निजी सुखों जैसे घर-परिवार , व्यक्तिगत जीवन और अपनी कई सुख सुविधाओं से भरी इच्छाओं को त्याग करने का प्रण लेना पड़ता है। देश की माटी के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित करना ही सैनिक की प्राथमिकता होती है जिसे वह पूरी आत्मनिष्ठा से पूरा करता है। सैनिक के लिए देशप्रेम ज्यादा मायने रखता है बाकी सब कुछ बाद में। सैनिक का सम्पूर्ण जीवन जब तक साँस न थम जाए हिन्द देश की रक्षा के लिए ही वास्तव में बना होता है । सैनिक को हम देश का असली हीरो इसलिए मानते हैं क्योंकि हीरो वो होता है खुद से पहले दूसरों की रक्षा करे । यही भावना एक सैनिक में होती है जो 24 घण्टे सरहद पर इसलिए तैनात रहते हैं ताकि हिन्द देश और हिन्दवासी  सुरक्षित रह सकें। इस देश की माटी पर सैनिक के कदमों के निशान कभी  नहीं मिटते । इस देश की माटी भी सैनिक के बलिदान को कभी नहीं भूलती ।सैनिक की कहानी वास्तव में वीरता की जुबानी होती है जिसे आज के छात्र/छात्राओं को सुनाकर उनमें जज़्बों और हौंसलों के साथ देश की रक्षा के लिए सैनिक का अनमोल योगदान की प्रेरक शिक्षा अवश्य  देनी चाहिए जिससे छात्र/छात्राओं में भी देशप्रेम की अलख जगाई जा सके। जीवन में कड़ी चुनौतियों जैसे भारी बारिश , बर्फबारी , गोलाबारी , अत्यधिक ठंड और चिलचिलाती आग सी धूप के बीच सैनिक खुद को ढालता है और इन सबके बीच सैनिक दुश्मनों का सामना करता है ।

सैनिक असल मायने में आदर्श सूचक, राष्ट्रभक्त और देश का महान नायक होता है। सैनिक ही देश की आन बान शान होता है। जिसकी शहादत में भारतीय तिरंगे से सम्मान होता है।

अतुल पाठक

""चीन की दादागिरी नहीं चलेगी सुपर पावर का खुला समर्थन""

वुहान से लेकर गलवान तक चीन के सभी  गुनाह का अब हिसाब करने का वक्त आ गया है। हमने देखा जैसा कि चीन ने कोरोना संक्रमण वुहान से फैलाकर पूरी दुनिया के लिए साजिश रची तो वही दूसरी तरफ गलवान में भारत के खिलाफ अतिक्रमण की साजिश रची और दूसरे पड़ोसी देशों को भी भड़का रहा है । लेकिन अब हमे लगता है कि चीन को भी यह महसूस होने लगा है कि भारत को  आंकने में बहुत बड़ी गलती कर दिया हू । क्योंकि अब भारत के साथ चीन विवाद में अमेरिका खुलकर साथ आ गया है । दोस्तों चीन को  इस बात की गलतफहमी हो गई थी कि वो भारत से पंगा लेगा और भारत डर जाएगा। लेकिन अब भारत अकेले नहीं हैं, सुपर पावर ने चीन के खिलाफ भारत का खुला समर्थन कर दिया ,वैसे भी आज के भारत खुद सक्षम है चीन से मुकाबला करने  में लेकिन जब सुपर पावर का साथ मिला तो और जबरदस्त तरीके से मुंह तोड़ जवाब दिया जाएगा ।

अमेरिका अब चीन के खिलाफ एशिया में अपनी सेना भेज रहा है जैसे ही अमेरिका के विदेश मंत्री का यह बयान आया हमने देखा कि पूरी दुनिया में खलबली मच गई। दोस्तों मुझे अब लगता है कि चीन के अतिक्रमण की दीवार गिरने वाली है ।

जैसा कि हम जानते हैं कि सेना के मामले में अमेरिका पूरे विश्व में पहले स्थान पर है ,वही अपना भारत भी चौथे स्थान पर है । ध्यान से देखें तो अगर हम अमेरिका की रक्षा बजट की बात करें तो 55 .27 लाख करोड़ रुपए अपने रक्षा बजट पर खर्च करता है अमेरिका, वही हमारा भारत भी अपने कुल बजट का 4.71 लाख करोड़ रुपए रक्षा पर खर्च करता है। अगर  हम पूरे आर्थिक स्थिति पर नजर डालें तो, अमेरिका की जीडीपी 1551.8 लाख करोड़ है जबकि भारत की जीडीपी 222.6 लाख करोड़ रुपए हैं अब आप सोच सकते हैं कि जब दो शक्तियां एक साथ मिलेगी तो चीन का हालात क्या होगा ? वैसे भी आज विश्व के लगभग अधिकतर देश अमेरिका के खिलाफ है कोरोना वायरस को लेकर बहुत कम सच्चा दोस्त है चीन का आज के वक्त में । आज हम देखे तो चमगादड़ चीन का विवाद‌ का कतार बहुत लंबी है । ध्यान से देखें तो चमगादड़ चीन का विवाद आज अमेरिका, भारत ,नेपाल ,उत्तर कोरिया ,दक्षिण कोरिया, जापान ,ताइवान, इंडोनेशिया ,मलेशिया, फिलीपींस ,भूटान ब्रूनेई के साथ भी कोई ना कोई विवाद है। जैसा कि अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के लिए चीन बड़ा खतरा है, साथ ही चीन से वियतनाम ,इंडोनेशिया, मलेशिया ,फिलीपींस को भी  खतरा है इसलिए जहां भी चीन से खतरा नजर होगा वहां तैनात होगी अमेरिकी सेना ,यह भी कहा कि चीन से निपटने के लिए अमेरिकी सेना तैयार है । अब हम देख रहे हैं कि दुनिया में चीनी कंपनियों की लहर धीरे-धीरे खत्म हो रही है । हम देख रहे हैं कि अमेरिका यह कदम ऐसे समय उठा रहा है,जब चीन ने भारत में पूर्वी लद्दाख वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास तनावपूर्ण स्थिति पैदा कर दिया है, इसलिए भारत के साथ-साथ वियतनाम, इंडोनेशिया ,मलेशिया फिलीपींस ,और साउथ चाइना सी में खतरा बनाता दिखाई दे रहा है इसीलिए अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने चीन को भारत और दक्षिण पूर्व एशिया के लिए खतरा बता रहे हैं । इसी मद्देनजर अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि इसी चीन के बढ़ते खतरे के लिए हम दुनिया भर में अपने सैनिकों की तैनाती कर रहे हैं। जैसा कि अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि हम तय करेंगे कि हमारी तैनाती ऐसी हो कि पीएलए का मुकाबला किया जा सके यह हमारे समय की चुनौती है और हम सुनिश्चित करें कि हमारे पास इससे निपटने के लिए सभी संसाधन उचित जगह पर उपलब्ध हो इसीलिए हम जर्मनी में अपने सैनिकों की संख्या करीब 52000 से घटाकर 25 हजार  कर रहे हैं । आपको बताना जरूरी मुझे लग रहा है कि कैसे भारत और अमेरिका के रिश्तों में बदलाव आया है। वहीं अमेरिका है जिसने 1998 में पोखरण में परमाणु परीक्षण के बाद भारत पर पाबंदी लगाई थी. लेकिन हम देख रहे है कि 22 साल बाद अमेरिका भारत के साथ खड़ा आज है और साथ में साथ कदम मिलाकर चलने को तैयार है । जैसा कि हम जानते हैं दोस्तों की पिछले दिनों गलवान में हुए झड़प के बाद अमेरिका चीन के खिलाफ एशिया में अपनी सेना भेजेगा और चीन को सबक सिखाएगा ।अब देखना दोस्तों भारत की सीमा पर गुस्ताखी करने का क्या हश्र होता है, इस बात का अब चीन को बखूबी जवाब मिलेगा 

जब अब अपने हिंदुस्तान को सुपर पावर का खुला समर्थन मिल ही गया है तो अब डरने का क्या बात जब अमेरिका ने चीन के खिलाफ सेना भेजी रहा है तो अब कहीं ना कहीं चीन का गर्दन अब टूटेगा जरूर ।।

कवि विक्रम क्रांतिकारी (विक्रम चौरसिया -अंतर्राष्ट्रीय चिंतक)

Saturday, June 27, 2020

पराग एटीएम बूथ का सटर तोड़कर चोरी के सम्बन्ध में हुई पुलिस व्यापारी बैठक 




पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

सर्वोदय नगर सर्वहित व्यापार मंडल और घोसिपुरवा सर्वहित व्यापार मंडल की संयुक्त बैठक क्षेत्रीय पुलिस के साथ आर.आर गेस्ट होम , सर्वोदय नगर में आयोजित हुई , जिसमे व्यापारियों ने  26/06/2020 को पराग एटीएम बूथ का शटर तोड़कर २०००० रु० चोरी का मामला उठाया, व्यापारियों ने नाराजगी व्यक्त की कि निरंतर अंतराल पर इस तरह की घटनाये होती रहती है लेकिन इन मामलो का खुलासा नहीं होता है, सर्वोदय नगर चौकी इंचार्ज ने व्यापारियों को भरोसा दिलाया कि इस तरह की घटनाये भविष्य में न हो इसके लिए कोशिश की जाएगी और इस घटना का जल्द से जल्द खुलासा किया जायेगा , 

         सर्वोदय नगर सर्वहित व्यापर मंडल के अध्यक्ष आशूतोष पाठक ने मांग की कि रात के वक्त पुलिस गश्त बढाई जाए, घोसिपुरवा व्यापार मंडल के अध्यक्ष विपिन मौर्य ने कहा कि जल्द ही घटना का खुलासा नहीं हुवा तो व्यापारी धरना प्रदर्शन करेंगे|  वरिष्ठ व्यापारी नेता अफजाल अहमद ने बाताया कि व्यापारी दोनों बाजारों में चौकीदार रखेंगे जिससे ऐसी घटनाओ की पुनरावृत्ति न हो | इस मौके पर मणिन्द्र नाथ दूबे, अजय सोनी , मो० महमूद , अजय वर्मा, कय्यूम खान , सनी सिंह , वैभव अग्रवाल , आनन्द कटियार , कमाल अहमद , संतोष वर्मा , अजय वर्मा , राजेश गुप्ता सहित बड़ी संख्या में व्यापारी उपस्थित रहे |


 

 




 


Friday, June 26, 2020

लायंस क्लब प्रतापगढ़ शक्ति ने मोमबत्ती जलाकर की श्रद्धांजलि अर्पित




दैनिक अयोध्या टाइम्स व्यूरो चीफ़ रिपोर्ट 

प्रतापगढ़ I लायंस क्लब प्रतापगढ़ शक्ति ने चीन द्वारा धोखेबाजी कर मारे गए वीर शहीदों को मौन जुलूस निकालकर और मोमबत्ती जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित की इस अवसर पर लायंस क्लब शक्ति की अध्यक्ष लक्ष्मी मिश्रा ने चीन द्वारा किए गए कृत्य की निंदा की लायंस क्लब की सचिव लायन गीता मिश्रा ने कहा कि भविष्य में हम लोग चीन निर्मित सामान ना खरीदें इसका पूर्ण बहिष्कार करें, कोषाध्यक्ष अनीता पांडे ने कहा भारत के वीर जवानों की कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी चीनी सामानों का बहिष्कार ही उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी इस अवसर पर अर्चना मिश्रा, जया मिश्रा, शशि मिश्रा, वैभव, सूरज, शिव लाल, छोटे लाल आदि लोग उपस्थित रहे l


 




 

सैकड़ों कार्यकर्ताओ ने विरोध प्रदर्शन किया




दैनिक अयोध्या टाइम्स  प्रतापगढ़ 

शुक्रवार को पेट्रोलियम पदार्थों की बढ़ती कीमत के खिलाफ समाजवादी पार्टी जिलाध्यक्ष छविनाथ यादव व पूर्व प्रत्याशी विधानसभा संजय पाण्डेय के नेतृत्व में विश्वनाथगंज विधानसभा क्षेत्र के सराय नहर राय गांव में जीतलाल जी के खेत में धान की रोपाई तथा ट्रैक्टर को धक्का लगाकर विरोध प्रर्दशन किया।इस अवसर पर जिला महासचिव मो.अनीस, जिला उपाध्यक्ष इरशाद सिद्दीकी, जगदीश मौर्या, पप्पू यादव, वासिक खान, विजय यादव, पूर्व प्रमुख शान्ति सिंह, मो.समीम, गुलफाम खान, रमेश पाठक, राजकुमार यादव विधानसभा अध्यक्ष, रमाशंकर यादव, डा. रामबहादुर पटेल, रामबचन यादव, फारूक खान, तबारक हुसैन, सद्दाम हुसैन, विकास जायसवाल, हरीश शुक्ला, इरफान खान, साजिद अली, जुनैद, इरशाद अहमद, अरविंद यादव, सुरेश यादव, असगर अंसारी, विनोद यादव, संजय सिंह, मीडिया प्रभारी मनीष पाल सहित सैकड़ों कार्यकर्ता ने विरोध प्रदर्शन किया।


 

 



 

धोखाधडी करके क्वालिटीबार को फर्जी तरीके से अलाट कराने में तत्समय आवंटन समिति का एक सदस्य और गिरफ्तार

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर- वादी अनंगराज सिंह राजस्व निरीक्षक द्वारा थाना सिविल लाइन रामपुर द्वारा थाना सिविल लाइन रामपुर पर तहरीरी सूचना दी थी कि जिला सहकारी संघ लिमिटेड के तत्कालिक सभापति सैयद जफर अली जाफरी व  तन्जीन फात्मा पत्नी सांसद आजम खां तथा अब्दुल्ला आजम खां पुत्र मौ0 आजम खां निवासीगण जेल रोड थाना गंज जनपद-रामपुर ने धोखाधडी करके क्वालिटीबार को फर्जी तरीके से अपने नाम अलाट करा लिया था। इस सम्बंध में थाना सिविल लाइन, रामपुर पर मु0अ0सं0-943/19 धारा 420/467/468/471/ 120बी  भादवि पंजीकृत हुआ था। विवेचना सेे अभियुक्ता श्रीमती तन्जीन फात्मा एवं श्री अब्दुल्ला आजम खां पूर्व में जेल जा चुके हैं।

 पुलिस अधीक्षक रामपुर द्वारा उक्त अभियोग की गिरफ्तारी हेतु पुलिस की टीम गठित की गयी। इसी क्रम में थाना सिविल लाइन, रामपुर पुलिस टीम द्वारा प्रकाश में एक अभियुक्त शाकिर अली खाॅ को अम्बेडकर पार्क से गिरफ्तार कर कार्यवाही की जा रही है। गिरफ्तार अभियुक्त तत्समय आवंटन समिति का सदस्य था। अन्य अभियुक्तगण की गिरफ्तारी के प्रयास किये जा रहे है।गिरफ्तार अभियुक्त का नाम व पता

शाकिर अली खाॅ पुत्र मुकददस खाॅ निवासी मोह0 रसूलपुर कस्बा व थाना स्वार,रामपुर।मु0अ0सं0-943/19 धारा 420/467/468/471/120बी भादवि। 

रेस्टोरेंट कम्युनिटी के सहयोग के लिए पेप्सी ने मिलाया हाथ

हर आॅर्डर से हुई आय का हिस्सा प्रभावित कर्मचारियों को भोजन उपलब्ध कराने में केाविड-19 राहत कोष में दिया जायेगा।।
कनपुर नगर, रेस्टोरेंट कम्युनिटी का सहयोग करने के लिए अब पेप्सी ने उसके साथ हाथ मिला लिया है तथा पेप्सी सेव अवर रेस्टोरेंट की शुरूआत की है। यह पैसा जुटाने की पहल है जिसे एनआईएआई और आॅनलाइन फूड डिलीवरी एग्रीगेटर स्विगी के सहयोग से चलया जायेगा।
            इसके अतंर्गत कोई भी उपभोक्ता 19 जुलाई तक स्विगी पर अपने खाने का आॅर्डर में कोई भी साॅफ्ट डिंªक जोडेगा तो पेप्सी हर साॅफ्ट डिंªक से हुई आमदनी का एक हिस्सा एनआरएआई कोविड- 19 रिलीफ काॅपर्स को देगा। इस फंड का उपयोग उन रेस्टोरेंट कर्मचारियेां को सूखा राशन देने के लिए किया जायेगा जो हमारी सेवा कर चुके है और इस चुनौतीपूणर्् समय का सामना कर रहे है। एनआरएआई के अनुराग कटियार ने कहा वर्तमान महमारी ने हर क्षेत्र को प्रभावित किया है लेकिन अपनी बडी संख्या के कारण संभवतः रेस्टोरेंट कर्मचारियों पर इसका बहुत व्यापक असर दिखाई दिया है और इस क्षेत्र के कर्मचारियों की मदद करने के लिए पेप्सी इंडिया की पहल बेहद सराहनीय है। पेप्सिको इंडिया प्रवक्ता ने कहा हम जिस वातावरण में काम करते है वह हमारे लिये मायने रखता है। रेस्टोरेंट उधोग हमारा अभिन्न अंग है जो वर्तमान में स्वास्थ्य चुनौती के कारण बुरी तरह प्रभावित हुआ है और इसके कर्मचारी संघर्ष कर रहे है यह कदम उनके परिवारो को खाध सुरक्षा सहायता प्रदान करेगा और हम इस पहल में सहयोग के लिए स्विगी तथा एनआरएआई के बहुत आभारी है।





HARI OM GUPTA




कानपुर सवासिनी मामले में महिला आयोग द्वारा डीएम को नोटिस जारी

कानपुर नगर, राष्ट्रीय महिला आयोजन ने एक्टिविस्ट उा0 नूतन ठाकुर द्वारा कानपुर संवासिनी केस में की गयी शिकायत को संज्ञान में लेते हुए डीएम कानपुर डा0 ब्रम्हदेव राम तिवारी को नोटिस जारी किया। आयोग की सदस्या कमलेश गौतम द्वारा कहा गया कि शिकायत में महिलाओं के अधिकार व गरिमामय जीवन के अधिकार के हनन की शिकायत है। आयोग ने 30 दिन में की जाने वाली कार्यवाई से अवगत कराने के निर्देश दिया।  नूतन द्वारा शिकायत में कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट ने स्वतः संज्ञान रिट याचिका अपने सत्यंत विस्तृत आदेश में कोविड काल में बाल सुरक्षा गृहो हेतु कई महत्वपूर्ण निर्देश दिए थे, वही संवासिनी गृह में 171 बच्चियां तथा 26 स्टाफ रखे गए थे जो निर्धारित संख्या से बहुत अधिक थे। इसी प्रकार 7 बच्चियां गर्भवती थी और लगभग 6 माह से वहां रह रहीं थी, इसके बाद भी उनके स्वास्थ्य के प्रति कोई भी अपेक्षित ध्यान नही दिया गया। उन्होने सुप्रीम कोर्ट के निर्देशो की खुली अवहेलना किये जाने के सम्बनध में अविलंब क्षतिपूर्ति एवं जांच कराते हुए कार्यवाई की मांग की है।


सावन मे नही निकाली जाऐगी कावड यात्रा, शासन का निर्देश - स्वाति शुक्ला




उपजिलाधिकारी और पुलिस उपाधीक्षक ने की प्रेस वार्ता

लखीमपुर/मोहम्मदी खीरी - जुलाई के पहले सप्ताह से शुरू हो रहे सावन माह मे कावड यात्रा को लेकर तहसील सभागार मे उपजिलाधिकारी स्वाति शुक्ला ने एक प्रेस वार्ता करके बताया कि जुलाई से शुरु हो रहे सावन माह में इस बार कोरोना बायरस को लेकर सरकार बेहद संवेदनशील है । इसी उद्देश्य के तहत इस बार कावड़ यात्रा नहीं निकालने का निर्णय लिया गया है । तथा जो श्रद्धालु मोहम्मदी से होते हुए शिव की नगरी गोला गोकर्णनाथ या बाबा टेडेनाथ , अमीर नगर जाते हैं वह अपने गांव या मोहल्ले में ही गंगाजल और बेलपत्र सोशल डिस्टेंसिंग के साथ ही चढ़ाएं और पूजा अर्चना करे । सामूहिक रूप से ट्रैक्टर ट्राली या अन्य वाहनो से जाने की अनुमति नही होगी । सरकार और शासन से मिले निर्देशो का आप सभी पालन जरूर करे , उन्होंने कहा कोरोना बायरस जैसी महामारी से पूरा देश परेशान है , जिसमे जनपद लखीमपुर भी अछूता नही है , सावन माह मे लाखो श्रद्धालु अनेकों जनपदों से शिव की नगरी गोला गोकरण नाथ आते थे परंतु कोरोना वायरस को लेकर इस बार यह कावड़ यात्रा स्थगित की गई है । वही भूतनाथ का लगने वाला मेला भी इस बार नहीं लगेगा तथा सावन के प्रत्येक सोमवार को गोला के शिव मंदिर के कपाट भी बंद रहेंगे । जिसमें सभी श्रद्धालुओं अनुयायियों का विशेष सहयोग इस महामारी से बचने के लिए चाहिए होगा । प्रेस वार्ता के माध्यम से उपजिलाधिकारी स्वाति शुक्ला ने मोहम्मदी तहसील के सभी श्रद्धालुओं से अपील की है कि इस बार सामूहिक रूप से कावड यात्रा न निकाले । वही पुलिस उपाधीक्षक प्रदीप कुमार यादव ने कहा कि यह समय बेहदसंबेदन शील है । अगर हजारो की संख्या मे श्रद्धालु कावड़ यात्रा लेकर जाते हैं तो निश्चित तौर पर यह बीमारी विकराल रूप धारण कर सकती है । मोहम्मदी कोतवाली प्रभारी ने बताया कोरोना को ध्यान में रखते हुए शासन और प्रशासन ने इस बार कावड़ यात्रा न निकालने का निर्णय लिया गया है । मदिर के समीप कोई मेला नही लगेगा । सर्किल में पालनहार बाबा श्री जंगली नाथ मंदिर और बाबा श्री टेढ़े नाथ मंदिर व बाबा श्री पालन नाथ मंदिर सोमवार के कपाट बद रहेगे । साथ ही सयुंक्त रूप से बताया आप सभी मीडिया बंधुओ के माध्यम से अनुरोध है कि शासन और प्रशासन के निर्णय को मानते हुए इस बार कावड़ यात्रा सामूहिक रूप से न  निकाले ।


 

 



 

बेटी

ले जन्म अगर बेटी घर में

समझो वरदान मिला तुमको

लक्ष्मी खुद घर में आई है

ईश्वर ने धन्य किया तुमको

जिस घर में नहीं कोई बेटी

वह घर सूना सा लगता है

खनखन करती सी मधुर हंसी

सुनने को हृदय तरसता है

बेटी भी अपनी होती है

क्या हुआ अगर ससुराल गई

जिस घर में भी वो जाती है

देती है सबको खुशी नई

ना भेद करो उनमें कुछ भी

संतान जो तुमने पाई है

बेटा क्यों लगता है अपना

बेटी क्यों लगे पराई है

 

रंजना मिश्रा ©️

मिल्कीपुर के लेखपालों ने शोक सभा कर सड़क हादसे में मारे गए साथी को अर्पित की श्रद्धांजलि






मिल्कीपुर।  जिले के सदर तहसील में तैनात रहे लेखपाल राजेश सिंह की सड़क हादसे में हुई असामयिक मौत के बाद राजस्व महकमे में शोक की लहर दौड़ गई है। मिल्कीपुर के लेखपालों ने शुक्रवार को तहसील सभागार में शोकसभा आयोजित कर दिवंगत साथी लेखपाल को श्रद्धांजलि अर्पित की। तहसील सभागार में उपजिलाधिकारी अशोक कुमार शर्मा की अध्यक्षता मेे लेखपालों ने दिवंगत लेखपाल राजेश कुमार सिंह की आत्मा की शांति हेतु 2 मिनट का मौन रखा और घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया। शोक सभा में प्रमुख रूप से मिल्कीपुर के नायब तहसीलदार हृदय राम तिवारी अध्यक्ष उत्तर प्रदेश लेखपाल संघ तहसील शाखा मिल्कीपुर महेंद्रर तिवारी मंत्री अजय तिवारी सहित अन्य समस्त लेखपाल एवं राजस्व कर्मी मौजूद रहे।


 

 



 



अनियंत्रित पिकअप की टक्कर से 3 वर्षीय मासूम बेटी प्रियांशी की दर्दनाक मौत






मिल्कीपुर। इनायत नगर थाना क्षेत्र के ढेमा वैश्य मोड़ के पास अनियंत्रित पिकअप की टक्कर से 3 वर्षीय मासूम बेटी प्रियांशी की दर्दनाक मौत हो गई है घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंचे इनायत नगर थाने के एसएसआई उपेंद्र प्रताप सिंह ने बालिका का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस ने बालिका के पिता की तहरीर पर पिकअप एवं चालक अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा कायम कर लिया है।

        प्राप्त जानकारी के अनुसार शुक्रवार को दोपहर करीब 12 बजे वैश्य मोड़ के पास जाखा गांव निवासी संजय की 3 वर्षीय बेटी प्रियांशी खेल रही थी इसी बीच हैरिंग्टनगंज शाहगंज रोड पर तेज रफ्तार से लापरवाही पूर्वक चलाते हुए जा रहे पिकप संख्या यूपी 42 एटी 5305 का ड्राइवर अनियंत्रित हो गया और पिक अप सड़क के किनारे खेल रही मासूम को रौंद दिया। हादसे के बाद पिकअप चालक  सड़क के किनारे पिकअप खड़ा कर मौके से भाग निकला। आस-पास मौजूद ग्रामीणों घटना के बाद मौके पर पहुंचे और विरोध जताने लगे ग्रामीणों ने इसकी जानकारी इनायत नगर पुलिस को दी आक्रोशित ग्रामीणों का तेवर भाप मौके पर पहुंचे।

       जिला पंचायत सदस्य विनय कुमार सिंह ने लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया। सूचना मिलते ही इनायत नगर थाने के वरिष्ठ उपनिरीक्षक उपेंद्र प्रताप सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंच गए और उन्होंने नाराज तथा उग्र लोगों को समझा-बुझाकर बालिका का शव कब्जे में लेकर पंचायत नामा कराने के उपरांत पोस्टमार्टम को भेजा। पुलिस ने बालिका को टक्कर मारने वाली पिक अप को थाने ले गई है। मामले में पिकअप एवं चालक अज्ञाात के विरुद्ध मुकदमा कायम किए जाने हेतु बालिका के पिता संजय कुमार ने तहरीर दी है।


 

 



 



दुर्वासा ऋषि का क्रोध बना था समुद्र मंथन का कारण

अभी पृथ्वी का विकास और निर्माण पूरा नहीं हुआ था। उसको रहने लायक और मानव योग्य बनाने का उपक्रम चल रहा था। इसलिए अभी देवता, अपने दायाद बंधु, असुरों के साथ ही धरती पर रहते थे। परन्तु यह काम उनके अकेले के वश का नहीं था। इस विशाल, महान, श्रमसाध्य कार्य के लिए कई दैवीय शक्तियों और उपकरणों की आवश्यकता थी। दैवीय उपकरण सागर मंथन से ही उपलब्ध हो सकते थे और इसके लिए यह जरुरी था कि दैत्य-दानव जैसी आसुरी शक्तियों का भी सहयोग लिया जाए। इस समस्या को सुलझाने के लिए त्रिदेवों ने एक योजना बनाई और असुरों को साथ लाने का कारण गढ़ा गया .......! 

संसार में घटने वाली बड़ी घटनाओं या वाकयात के पीछे महीनों पहले निर्मित हुई परिस्थितियों या कारणों का हाथ जरूर होता है। कभी-कभी तो ये इतने मामूली होते हैं कि कोई सोच भी नहीं सकता कि इनके कारण भविष्य में सारे जगत को प्रभावित करने वाली कोई घटना भी घट सकती है। फिर चाहे दुर्वासा का क्रोध हो जो देवासुर संग्राम का जरिया बन गया ! चाहे मंथरा की जिद जिसने राम-रावण युद्ध की भूमिका रच डाली ! द्रौपदी की एक हंसी ने सारे आर्यावर्त को रुदन के सागर में डुबो दिया ! आर्चड्यूक फ़र्डिनेंड की हत्या प्रथम विश्वयुद्ध का कारण बन गई या फिर विश्व की 1929-30 की आर्थिक मंदी ने द्वितीय महायुद्ध का आह्वान कर डाला हो ! कौन सोच सकता था कि ऐसी बातों से भी सारा संसार आपस में एक-दूसरे के खून का प्यासा हो जाएगा ! पौराणिक काल में भी एक ऐसी ही छोटी सी बात आज तक की सबसे विस्मयकारी, अद्भुत, अकल्पनीय घटना, समुद्र मंथन का कारण बन गई थी।  

यह उस समय की बात है जब अभी पृथ्वी का विकास और निर्माण पूरा नहीं हुआ था। सिर्फ सुमेरु पर्वत के आस-पास का इलाका ही रहने योग्य हो सका था बाकी चारों ओर सब जगह पानी ही पानी था। उसको रहने लायक और मानव योग्य बनाने का उपक्रम चल रहा था। इसलिए अभी देवता, अपने दायाद बंधु, असुरों के साथ ही धरती पर रहते थे। परन्तु यह काम उनके अकेले के वश का नहीं था। इस विशाल, महान, श्रमसाध्य कार्य के लिए कई दैवीय शक्तियों और उपकरणों की आवश्यकता थी। दैवीय उपकरण सागर मंथन से ही उपलब्ध हो सकते थे और इसके लिए यह जरुरी था कि दैत्य-दानव जैसी आसुरी शक्तियों का भी सहयोग लिया जाए। पर सुर और असुर एक दूसरे के जानी दुश्मन थे ! इस समस्या को सुलझाने के लिए त्रिदेवों ने काफी सोच विचार कर एक योजना बनाई और असुरों को साथ लाने का कारण गढ़ा गया। 

एक बार दुर्वासा ऋषि को, विश्राम के दौरान, उनके आश्रम में कुछ विद्याधरों ने दिव्य संतानक पुष्पों की माला अर्पित की। माला की सुगंध दूर-दूर तक फैल रही थी। उसी समय उधर से गुजरते हुए, अपने हाथी पर आरूढ़ इंद्र ने ऋषि को प्रणाम किया। दुर्वासा ने खुश हो कर वह माला इंद्र को दे दी। पर इंद्र ने उपेक्षा पूर्वक उसे हाथी के गले में डाल दिया। पुष्पों की तेज गंध से गजराज ने परेशान माला को तोड़ अपने पैरों से कुचल डाला। अपने उपहार का तिरस्कार होता देख दुर्वासा अत्यंत क्रोधित हो उठे और उन्होंने इंद्र को श्राप देते हुए कहा कि, ''हे इंद्र ! जिस वैभव का तुम्हें इतना अभिमान है वह ख़त्म हो जाएगा और उसके साथ ही तुम भी श्री हीन हो जाओगे !'' इंद्र की किसी भी अनुनय-विनय का ऋषि पर कोई असर नहीं हुआ। श्राप के कारण इंद्र निस्तेज हो गया ! उसके साथ ही अमरावती और देवों की शक्तियों का भी ह्रास हो गया। इस बात की खबर मिलते ही असुरों ने अपने शक्तिशाली राजा बलि के नेतृत्व में स्वर्ग लोक पर आक्रमण कर उसे वहां से निष्काषित कर दिया। इंद्र सहित सारे देवता विष्णु जी के पास गए और उनसे अपनी विपदा कही। तब विष्णु ने उन्हें दानवों की मदद से समुद्र मंथन करने की सलाह दी। दानवों को मनाने के लिए उन्हें अमृत का लालच देने की सलाह भी दी। अमरत्व की लालसा में असुर राजी हो गए।

क्षीरसागर, जो आज हिंद महासागर कहलाता है, को मंथन के लिए चुना गया ! मदरांचल पर्वत को, जो आज के बिहार के बांका जिले में स्थित है, मथानी  का रूप तो दे दिया गया पर अथाह सागर में उसको टिकाना सबसे बड़ी समस्या बन गई ! तब फिर विष्णु जी ने देवताओं की सहायता के खातिर कच्छप का रूप ले सागर के बीचोबीच अपने को स्थिर कर मदरांचल को अपनी पीठ पर टिका लिया। नेती के रूप में वासुकि नाग की सहायता ली गई। उसके घोर कष्ट को देखते हुए उसे गहन निद्रा का वरदान दिया गया। फिर भी विष्णु जानते थे कि मंथन के दौरान रगड़ से वासुकि को अपार कष्ट होगा जिससे उसकी जहरीली फुफकार निकलेगी उससे देवताओं की रक्षा जरुरी होगी। इसलिए उन्होंने इंद्र से कहा कि मंथन के पहले तुम सब आगे बढ़ कर वासुकि के मुंह को थाम लेना और असुरों से कहना कि हम तुमसे श्रेष्ठ हैं, इसलिए हम मुंह की ओर रहेंगे। इंद्र ने जब ऐसा किया तो असुर भड़क गए और बोले, अरे इंद्र ! तुझे अभी भी लाज नहीं आती जो हमसे हारने के बाद भी अपने आप को श्रेष्ठ समझता है ! तुम सब अधम हो और अधम ही रहोगे। इसलिए पूंछ वाला हिस्सा ही तुम्हारा उचित स्थान है। देवता तो चाहते ही यही  थे, वे बिना ना-नुकुर किए दूसरी तरफ चले गए। जैसा कि विष्णु जी ने सोचा था वैसा ही हुआ कुछ ही देर में वासुकि की फुफकार से असुरों पर कहर टूट पड़ा। फिर जैसे-तैसे मंथन पूरा हुआ। देवताओं की कुटिलता से असुर फिर मात खा गए ! फिर जो कुछ भी हुआ वह जग तो जाहिर है ही। 

यह अपने समय का एक अकल्पनीय उपक्रम था ! कोई सोच सकता था भला कि दुर्वासा के एक श्राप से सारे जगत में कैसी उथल-पुथल मच जाएगी। शिव को विष पान करना पड़ जाएगा ! देवता अमर हो जाएंगे ! सूर्य-चंद्र ग्रहण होने लगेंगे ! राक्षसी महिषि का वध संभव हो पाएगा ! इत्यादी...इत्यादी...!

 

भारत विजय 






पढ़ लिख  कर  जग  में  ऊँचा  नाम करे। 

बढ़ते रहे पथ पर भारत विजय भाव भरे।

 

ज्ञान  ज्योति  फैलाए   तम का नाश करे। 

बढ़ते रहे पथ पर भारत विजय भाव भरे। 

 

अवगुण  दूर  हो सद्गुण  का संचार करे। 

बढ़ते रहे पथ पर भारत विजय भाव भरे। 

 

परहित रहे  भावना दया  भाव  हृदय धरे। 

बढ़ते रहे पथ पर भारत विजय भाव भरे। 

 

निर्बल गरीब दीन दु:खी पर उपकार करे। 

बढ़ते रहे पथ पर भारत विजय भाव भरे। 

 

देश हित रहे तैयार मातृभूमि का सम्मान करे। 

बढ़ते  रहे  पथ पर  भारत  विजय  भाव भरे। 

 

मिल  जुल  कर  रहे  हृदय  से  प्रेम  रस झरे। 

बढ़ते  रहे  पथ  पर  भारत  विजय भाव भरे। 

 

ब्रह्मानंद गर्ग "सुजल"

जैसलमेर(राज.)


 

 



 



ऑनलाइन शिक्षा बन कर ना रह जाए बस खाना फुर्ती

कोरोनावायरस ने हमें हमारे जीवन में बहुत से बदलाव लाने के लिए मजबूर भी किया। साथ ही साथ नई-नई चीजें सीखने के लिए तैयार भी किया। उनमें से एक है ऑनलाइन होने वाली क्लास। अध्यापक और छात्रों के साथ ही साथ आज के समय में यह उनके घर वालों का भी हिस्सा बन गई है। निजी जीवन की बातें अध्यापकों की छात्रों के घर में बातचीत करने का विषय बन चुका है।  

ऑनलाइन क्लास तो हर रोज हो रही है। चार से पांच घंटे छोटे हो या बड़े सभी छात्रों को लेपटॉप, कम्प्यूटर या फोन के सामने बैठा दिया जाता है। शिक्षा जरूरी है हम सभी जानते हैं, किसी भी हाल में उसमें रुकावट नहीं आनी चाहिए। किन्तु सवाल यह भी है कि ऑनलाइन क्लास का शिक्षा के लिए उपयोगी है या नहीं। भारत में 40 करोड़ के आसपास ही लोग इंटरनेट का प्रयोग कर पाते हैं। 29 करोड़ लोगों के पास ही स्मार्ट फोन है।  ऐसे में हम हर छात्र तक ऑनलाइन क्लास के माध्यम से शिक्षा को नहीं पहुंचा सकते हैं। यह एक सत्य है जिससे हम सभी आंखें चुरा रहें हैं। 

ऑनलाइन क्लासेस बस एक खाना फुर्ती सी लग रही है।  छात्राओं और अध्यापकों के पास अच्छा इंटरनेट और फोन, लेपटॉप या कम्प्यूटर की सुविधा होने के साथ ही साथ प्रयोग करने का अनुभव भी होना आवश्यक है। ऑनलाइन क्लास में छात्रों को कनेक्ट करना और ऑनलाइन सभी कुछ समझा ना प्रत्येक अध्यापक के लिए सरल नहीं है। सभी छात्र ऑनलाइन क्लास लेने में सक्षम नहीं है। जिसके कारण उनकी पढ़ाई भी पिछड़ जा रही है।  

हम सभी बातें जानते हुए भी ऑनलाइन शिक्षा का खेल, खेल रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि यह सब केवल माता-पिता की जेब से पैसे निकलवाने की कोशिश है। यदि ऐसा नहीं है तो 50 बच्चों की क्लास में केवल 10-12 ही बच्चे क्यों ऑनलाइन क्लास ले रहे हैं। बच्चों के भविष्य की इतनी ही चिंता है स्कूलों को तो उन्हें बच्चों और अध्यापकों को वह सारी सुविधाएं उपलब्ध करवानी चाहिए। जिसके प्रयोग से वह आसानी से ऑनलाइन शिक्षा को जारी रख सकें। 

छात्रों की शिक्षा जरूरी है। किन्तु कुछ गिने चुने बच्चों की नहीं। प्रत्येक उस बच्चे की शिक्षा जरूरी है। जिसका इस देश में जन्म हुआ है। हम उच्च वर्ग से जुड़े बच्चों की सुविधा के अनुसार फैसले नहीं लें सकतें हैं। शिक्षा सभी का अधिकार है और जरूरत भी, हमें सभी के बारे में सोचना होगा। सरकार, स्कूलों के साथ ही साथ हमारी भी जिम्मेदारी है कि हम अपने आस पास रहने वाले बच्चों और अध्यापकों की मदद करें। उनकी समस्याओं को सुलझाने में उनका सहयोग दें। साथ ही साथ सरकार और स्कूलों पर दबाव बनाएं कि वह सभी बच्चों की शिक्षा का इस्तेमाल करें। 

       राखी सरोज

 

सैनिक

राष्ट्र के वास्तविक नायक सैनिक ही होते हैं , जो निजी स्वार्थ को त्याग कर अपने देश की रक्षा के लिए हमेशा सर्वस्व निछावर करने के लिए  तत्पर रहते हैं। सैनिक का जीवन बलिदान का जीवन होता है , जो देशप्रेम में निजी जीवन का बलिदान करना और जीवन का वास्तविक दायित्व देश के लिए समर्पित होना सिखाता है। सैनिक राष्ट्र का गौरव होता है जिसमें देशभक्ति कूट-कूट कर भरी होती है।साहस और कर्तव्यनिष्ठा के साथ सैनिक जीवन में कई विपरीत परिस्थितियों अर्थात कई चुनौतियों का सामना करता है। सैनिक बनना इतना सहज नहीं होता जितना सभी को लगता है। सैनिक बनने से पहले निजी सुखों जैसे घर-परिवार , व्यक्तिगत जीवन और अपनी कई सुख सुविधाओं से भरी इच्छाओं को त्याग करने का प्रण लेना पड़ता है। देश की माटी के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित करना ही सैनिक की प्राथमिकता होती है जिसे वह पूरी आत्मनिष्ठा से पूरा करता है। सैनिक के लिए देशप्रेम ज्यादा मायने रखता है बाकी सब कुछ बाद में। सैनिक का सम्पूर्ण जीवन जब तक साँस न थम जाए हिन्द देश की रक्षा के लिए ही वास्तव में बना होता है । सैनिक को हम देश का असली हीरो इसलिए मानते हैं क्योंकि हीरो वो होता है खुद से पहले दूसरों की रक्षा करे । यही भावना एक सैनिक में होती है जो 24 घण्टे सरहद पर इसलिए तैनात रहते हैं ताकि हिन्द देश और हिन्दवासी  सुरक्षित रह सकें। इस देश की माटी पर सैनिक के कदमों के निशान कभी  नहीं मिटते । इस देश की माटी भी सैनिक के बलिदान को कभी नहीं भूलती ।सैनिक की कहानी वास्तव में वीरता की जुबानी होती है जिसे आज के छात्र/छात्राओं को सुनाकर उनमें जज़्बों और हौंसलों के साथ देश की रक्षा के लिए सैनिक का अनमोल योगदान की प्रेरक शिक्षा अवश्य  देनी चाहिए जिससे छात्र/छात्राओं में भी देशप्रेम की अलख जगाई जा सके। जीवन में कड़ी चुनौतियों जैसे भारी बारिश , बर्फबारी , गोलाबारी , अत्यधिक ठंड और चिलचिलाती आग सी धूप के बीच सैनिक खुद को ढालता है और इन सबके बीच सैनिक दुश्मनों का सामना करता है ।

सैनिक असल मायने में आदर्श सूचक, राष्ट्रभक्त और देश का महान नायक होता है। सैनिक ही देश की आन बान शान होता है। जिसकी शहादत में भारतीय तिरंगे से सम्मान होता है।

जय हिन्द , जय हिन्द के सैनिक 🇮🇳🇮🇳

@अतुल पाठक

जनपद हाथरस

जीवन का अंतिम सत्य

कभी किसी ने बैठकर सोचा ,नहीं सोचा होगा, क्योंकि हम अपने जीवन में इतने व्यस्त हैं, कि हमारे पास इस मानव जीवन के अंतिम सत्य के बारे में सोचने का समय नहीं है, हमारे पास केवल अपनी तृष्णाओं की पूर्ति का समय है ,हमें केवल धन एकत्रित करना है, हमें केवल भोग भोगने हैं, हमें केवल अपनी सत्य स्थापित करनी है, हमें केवल दूसरों को नीचा दिखाना है, पर कभी किसी ने सोचा ,यह सब भोग क्षण भर के हैं ,हमारे से पहले इस पृथ्वी पर कितने राजा, महाराजा आए, जो कितने शक्तिशाली थे, उन्होंने अपनी भक्ति से देवो को प्रसन्न करके कई वरदान हासिल किए,पर  वो भी एक दिन काल के ग्रास बन गए, तो क्यों आज इस पृथ्वी का तुछ्च सा मानव यह भूल गया है, उसे भी एक दिन काल का ग्रास बनना है,अगर भूल गए हैं , तो एक दिन शमशान भूमि में जाकर किसी जलते मुर्दे को देख आए ,क्योंकि यही जीवन का अंतिम सत्य है।।                                          

अंतरराष्ट्रीय मधुमेह जागृति दिवस पर जागरूकता जरूरी

प्रतिवर्ष २७ जून को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मधुमेह जागृति दिवस मनाने की जरूरत इसलिए महत्वपूर्ण हुई क्योंकि इस बीमारी के कारण और बचाव के विषय में लोगों के बीच काफी मतभेद और अनभिज्ञता देखी जा रही है । यही कारण है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के रिपोर्ट के मुताबिक पूरे विश्व की लगभग ६-७ % आबादी मधुमेह नामक बीमारी से ग्रसित है । मधुमेह से पीडि़तों की संख्या में इतनी तेजी से वृद्धि लोगों में मधुमेह के प्रति अनभिज्ञता की उपज है । भारत के परिपेक्ष में यह बीमारी आम बात है , इस बीमारी से ग्रसित लोगों की बड़ी जनसंख्या भारत में निवास करती है । इंटरनेशनल डायबिटीज फाउंडेशन की रिपोर्ट के अनुसार लगभग ७.७ करोड़ पीड़ितों के साथ मधुमेह की दृष्टि से भारत का विश्व में दूसरा स्थान है । इसीलिए भारत को विश्व मधुमेह की राजधानी का दर्जा प्राप्त है । इन आंकड़ों के मद्देनजर वैश्विक स्तर पर हर पांचवां मधुमेह रोगी भारतीय है । मधुमेह के यह आंकड़ें इतने चिंतनशील हैं कि पूरी दुनिया में इसके निवारण व उपचार में प्रतिवर्ष करीब २५० से ४०० मिलियन डॉलर का खर्च वहन किया जाता है । इस बीमारी के कारण वैश्विक स्तर पर प्रतिवर्ष करीब ५० लाख लोग अपनी नेत्र ज्योति खो देते हैं और करीब १० लाख लोग अपने पैर गवां बैठते हैं । मधुमेह के कारण विश्व भर में लगभग प्रति मिनट ६ लोग अपनी जान गंवा देते हैं और किडनी के निष्काम होने में इसकी मुख्य भूमिका होती है ।
मधुमेह शोध के अनुसार भारत में इस रोग का आनुवांशिक लक्षणों में पाया जाना बेहद चिंतनशील मुद्दा है । आज विश्व के लगभग ९५ % रोगी टाइप - २ मधुमेह से पीडि़त हैं , इसका मुख्य कारण लोगों का आवश्यकता से अधिक कैलोरी युक्त भोजन कर मोटापे का शिकार होना जबकि उनकी दिनचर्या में व्यायाम व योग का अभाव का होना है ।
यही कारण है कि कम उम्र के लोगों में भी इस बीमारी का अतिक्रमण बहुत तेजी से देखा जा रहा है । रक्त ग्लूकोज शरीर में ऊर्जा प्रदान करता है और कार्बोहाइड्रेट आंतों में पहुँचकर ग्लूकोज में परिवर्तित हो अवशोषित होकर रक्त में पहुँचता है फिर इंसुलिन के माध्यम से रक्त द्वारा कोशिकाओं के भीतर प्रवेश करता है , इसी इंसुलिन की अनिवार्यता में कमी मधुमेह को जन्म देती है ।
टाइप - १ मधुमेह बच्चों व युवाओं में अग्नाशय से इंसुलिन का स्राव न होना । टाइप - २ मधुमेह अधिक आयु के लोगों में अग्नाशय से कम इंसुलिन का उत्पन होना । इन दोनों ही परिस्थितियों में रोगी को जीवन पर्यन्त इंसुलिन के इंजेक्शन की आवश्यकता होती है । इन जटिलताओं के कारण मधुमेह रोगियों में हृदयाघात , मूत्राशय व किडनी में संक्रमण व खराबी , आँखों की खराबी , कटे-जले घाव का ठीक न होना आदि बीमारियों का प्रभाव देखा जाता है ।
इस बीमारी से बचाव के लिए हमें अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है और जो इससे संक्रमित हैं उन्हें अपने खान-पान पर नियंत्रण तथा दैनिक जीवनचर्या में व्यायाम व योग को स्थान देने की परम आवश्यकता होती है क्योंकि यह एक लगभग लाइलाज बीमारी है जिसे दवाओं व समझदारी से केवल नियंत्रित किया जा सकता है । खान-पान में गरिष्ठ व वसायुक्त भोजन तथा तली-भूनी चीजों व शक्कर से परहेज करना चाहिए । स्वास्थ्यवर्धक चीजों का सेवन तथा शारिरिक व मानसिक परिश्रम करना चाहिए । आज के इस प्रदूषित वातावरण को देखते हुए यह सभी स्वास्थ्यवर्धक उपाय अपनाने की महती आवश्यकता हर रोगी व निरोगी दोनों प्रकार के व्यक्तियों हेतु अत्यंत आवश्यक है । इस गंभीर चिंतनशील बीमारी से बचने के लिए हमें स्वस्थ जीवनशैली , स्वास्थ्यवर्धक आहार , व्यायाम व योग को अपनाना होगा और वर्ष में एक बार रक्त परीक्षण भी जरुर करवाना चाहिए जिससे इस बीमारी से बचा जा सके ।


Thursday, June 25, 2020

"रूस किसका साथ देगा भारत और चीन में से

आप भी सोच रहे होंगे कि आज अगर हमारा बिवाद चीन के साथ बढ़ता है तो रूस भारत का साथ देगा या चीन का अभी हमारे रक्षा मंत्री जी रूस की तीन दिवसीय यात्रा पर मास्को के रेड स्क्वायर पर होने वाली विक्ट्री डे परेड में हिस्सा लेने के लिए रूस पहुंचे हुए हैं। वैसे तो रक्षा मंत्री जी का इस दौरे का उद्देश्य रूस और भारत के बीच रक्षा खरीदारी को बढ़ाने के लिए कहा जा रहा है और साथ ही रूस के साथ रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करना भी है।

ध्यान से देखें तो भारत और रूस के बीच बहुत ही पुराना ऐतिहासिक संबंध है । देखा गया है कि अगर कभी भारत किसी भी दूसरे देश के साथ युद्ध में उलझा तो सबसे पहले रूस भारत का साथ देता है। वैसे भी रूस और भारत के लोग सांस्कृतिक रूप से भी एक दूसरे के बहुत ही करीब है और हिंदू धर्म रूस में सबसे तेजी से उभरते धर्मों में से वर्तमान में एक है । याद होगा आपको भी की जब 1971 के युद्ध हुआ था उसमें भी रूस ने भारत का भरपूर साथ दिया था और तो और भारत के लिए रूस ने अमेरिका से भी टकरा गया था । जानकर आपको हैरानी होगी कि कई मौकों पर रूस ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी भारत के पक्ष में वीटो रूस ने किया है।

हमने देखा है कि जब भी दो ताकतवार देश आपस में कभी भी उलझते हैं तो पूरी दुनिया की नजर उन पर टिक जाती है , और सभी देश यह देखना चाहते हैं कि दुनिया के बाकी ताकतवर देश किसका साथ देंगे ? वैसे तो अभी समझौता दोनों देशों की तरफ से हुआ है कि हम एक दूसरे का सम्मान करते हुए अपने -अपने सेना को पीछे हटाना चाहते हैं ।लेकिन चीन अपना नापाक हरकत कभी भी दिखा सकता है इसलिए हमें चौकन्ना में रहने की जरूरत है । वैसे भी हम देख रहे हैं चीन का तो अमेरिका से भी टकराव बहुत पहले से चल रहा है कोरोना वायरस और डब्ल्यूएचओ को लेकर इसलिए हम सब जानते हैं कि चीन को लेकर अमेरिका का रूख लेकिन अब सवाल लोगों के मन में यह है कि इस विवाद में रूस का क्या पक्ष होगा  ? वैसे भी रूस यह जानता है कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है और चीन में करीब-करीब तानाशाही है । ध्यान से देखें तो भारत का लोकतंत्र ही भारत और रूस के पुराने  और घनिष्ठ संबंधों का आधार भी है ।

दूसरी तरफ समस्या यहां यह मुझे दिख रहा है कि अमेरिका के साथ रूस की भी दुश्मनी है और चीन की भी दुश्मनी है और अक्सर कहां जाता भी है कि दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है और चीन और रूस की दोस्ती का भी एक बड़ा कारण है फिर कैसे इस पॉलिटिकल उठापटक से रूस अपने आपको निष्पक्ष रूप से एक तरफ कर पाएगा । आपको याद होगा कि 2017 में जब भारत और चीन के बीच डोकलाम विवाद हुआ था तब चीन ने सबसे पहले इसकी जानकारी जिन लोगों को दी थी उसमें चीन में रूस के राजपूत भी शामिल थे, लेकिन देखा गया इसके बावजूद रूस भारत के खिलाफ कुछ नहीं बोला लेकिन नपा -तुला भाषा का प्रयोग जरूर किया था । अब आपको क्या लगता है रूस किसके साथ है ?

मुझे लगता है कि आज की तारीख में रूस किसी के साथ नहीं है रूस मुझे लगता है अब चाह रहा है कि दुनिया मल्टीपोलर हो जाए यानी दुनिया में शक्तियों के कई ध्रुव हो। इसी कारण से मुझे लगता है कि रूस ने जो चीन और अमेरिका के बीच चल रहे व्यापारिक युद्ध में भी खामोश ही बना रहा है ।

याद रखना बात को कि जब अगर भारत और चीन के बीच तनाव ज्यादा बढ़ा जाएगा या छोटी- मोटी लड़ाई हुई तो मुझे लगता है कि रूस की उपयोगिता बहुत ज्यादा होगी क्योंकि भारत के पास भारी संख्या में रूसी हथियार और मशीनें हैं जिनकी सर्विसिंग और रिपेयर में रूस की बहुत जरूरत होगी हमें इसलिए हमें रूस की बहुत जरूरत है । ।

जो भी हो दोस्तों मुझे लगता है कि मौजूदा सदी एशिया की है। इस धरातल पर लाने के लिए आवश्यकता होगा कि इस महाद्वीप की दो बड़ी शक्तियों चीन और भारत के बीच सब कुछ सही ही रहे। इसके लिए भारत ने प्रयास भी किए हैं, लेकिन चीन की हठधर्मिता और अड़ियल रवैया बनती बात को खराब कर दे रहा है। वैसे भी अब हमें जरूरी है कि चीन की चुनौती का आकलन कर उसके काट तैयार करें ।वैसे तो चीन ने समझौता किया कि हम एक दूसरे के सेना सीमा पर से हटा रहे हैं लेकिन वह कब अपने बातो से बदल जाए कहना मुश्किल है ।

दोस्तों जो अभी स्थिति भारत और चीन के बीच बनी हुई है वह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण और संपूर्ण विश्व व्यवस्था के लिए हानिकारक सिद्ध भविष्य में हो सकती है। क्योंकि शत्रु के साथ युद्ध केवल रणक्षेत्र में और हथियारों से ही नहीं लडा जाता है बल्कि मानस में उसकी मानसिकता को हथियार बनाकर भी लड़ा जाता है ।

कवि विक्रम क्रांतिकारी (विक्रम चौरसिया -अंतरराष्ट्रीय चिंतक)

दिल्ली विश्वविद्यालय /आईएएस अध्येता/मेंटर 9069821319

बिजली आफिस हैं कि फुटबाल कभी इधर कभी उधर एसडीओ सवालों के घेरे में




संवाददाता - प्रभाकर तिवारी "सर्वेश" की स्पेशल कवरेज*

बाराबंकी- इतनी जल्दी तों कोई ससुराल से भी वापस नहीं आता जितनी जल्दी विद्युत विभाग हैदरगढ़ के उप खंड अधिकारी  पीसी यादव (एसडीओ) अपना कार्यालय भवन बदल रहे हैं, 

जी हा हम बात कर रहे हैं मध्यांचल विद्युत वितरण खण्ड के बाराबंकी जनपद में स्थापित उपखंड कार्यालय प्रभारी पीसी यादव (एसडीओ) के बारे में जिनका कार्यालय पहले जनपद के ही असंन्द्रा बाजार  में स्थापित था, जो कि बांदा बहराइच मार्ग पर स्थित है, करीब दस दिन पहले उप खंड अधिकारी पीसी यादव (एसडीओ)ने बिना किसी को कोई कारण बताए अपना कार्यालय देवीगंज स्थापित कर लिया, जिसकी सूचना क्षेत्र में प्रसारित नहीं की जैसे तैसे उपभोक्ताओं को देवीगंज कार्यालय का पता चलता उससे पहले ही मंगलवार को देवीगंज के भवन से कार्यालय का सामान निकाला जाने लगा तों लोगों की आंखें खुली रह गई जब कुछ लोगों ने पूछा कि यह सब क्या है तों जिम्मेदार लोग सटीक जबाब नहीं दे सकें और सिर्फ इतना बताया कि यह कार्यालय पुनः असंन्द्रा पहुंच रहा है, जिससे लोगों के कान खड़े हुए कि कुछ न कुछ जरूर गड़बड़ी हैं, 

इस तरह से कार्यालय स्थान बदलना किसी बड़े कारनामे का इशारा है, 

लोग दबी जुबान चर्चा कर रहे हैं कि बिना एग्रीमेंट साइन किए ही भवन बदला गया था और शायद भवन मालिक और एसडीओ के बीच डील फाइनल नहीं हों पाई और उपखंड अधिकारी पीसी यादव को मन माफिक लाभ नहीं मिला इसलिए कार्यालय पुनः असंन्द्रा स्थापित किया गया है, 

यहां लाख टके का सवाल खड़ा होता है कि असंन्द्रा बाजार में जिस भवन में कार्यालय था क्या उसका एग्रीमेंट खत्म हो गया था, तो देवीगंज आफिस पहुंचा और देवीगंज के भवन मालिक से बिना एग्रीमेंट के ही कार्यालय शिफ्ट किया गया यदि देवीगंज भवन मालिक से अनुबंध हुआ तों इतनी जल्दी खत्म कैसे हों गया, 

कुछ भी हों इस कार्यालय भवन बदलने के खेल में आम उपभोक्ताओं को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा हैं, और सरकार के दो महत्वपूर्ण दिन बर्बाद हुए जिसके सीधे तौर पर उपखंड अधिकारी पीसी यादव जिम्मेदार है,

    विद्युत कनेक्शन से संबंधित आवश्यक कार्य हेतु देवीगंज उपखंड कार्यालय खोजते खोजते आशुतोष व शुभम निराश होकर लौट गए बात चीत के दौरान दोनों लोगों ने बताया कि एसडीओ साहब की वजह से हमारा दिन चौपट हो गया है पूछ्ते पूछते देवीगंज कार्यालय आएं और यहा पर पता चला कि कार्यालय फिर असंन्द्रा पहुंच गया है अब फिर असंन्द्रा जाना पड़ेगा,

 

कुछ भी हो लेकिन एसडीओ पीसी यादव के इस कारनामे से उपभोक्ताओं में रोष है, और आएं दिन एसडीओ के तुगलकी फरमान से जन मानस पीड़ित रहता है, अब देखना है कि उपखंड कार्यालय असंन्द्रा में कितने दिन टिकता है या एसडीओ पीसी यादव के बादशाही रवैए का शिकार होकर कोई और हवेली की सैर करता है,


 

 



 

कोयला चोरी समेत कई ज्वलंत मुद्दो पर भाजपा ने ईसीएल सीएमडी को ज्ञापन सौपा

साँकतोड़ीया : ईसीएल के विभिन्न क्षेत्रो में अवैध कोयला खनन, भू-धँसान सहित कई ज्वलंत मुद्दो को लेकर भाजपा जिला अध्यक्ष लखन घुरई के नेतृत्व में साँकतोड़िया स्थित ईसीएल मुख्यालय में अध्यक्ष सह चेयरमेन को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष लखन घुरई ने कहा कि क्षेत्र में अवैध कोयला खनन और चोरी को अविलंब बन्द कर कोल माफियाओं के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही की जाये। साथ ही अवैध तरीके से ईसीएल क्वाटरों को अवैध कब्जामुक्त किया जाये। धँसान से प्रभावित परिवार को अविलंब मुआवजा राशि प्रदान किया जाए। धँसान प्रभावित लोगों का अविलंब पुनर्वास किया जाये इत्यादि मुद्दो पर आज सीएमडी कार्यालय मे ज्ञापन दिया गया है। लखन घुरई ने कहा कि विगत 20 जून को ईसीएल के कजोड़ा एरिया अंतर्गत जामबाद ओसीपी क्षेत्र में भू-धँसान की घटना हुई थी, जिसमे एक महिला समेत अनेकों क्वाटर जमीनदोज़ हो गए थे। इस घटना के आज तीसरे दिन भी उक्त महिला की लाश बरामद नहीं हो पाई है, किन्तु सत्ता दल के स्थानीय नेता ढिंग हाँकते देखे जा रहे है। उन्होने कहा आज जो नेतागण लंबी-लंबी बाते कर रहे है, उन्हे आजतक कभी भी अवैध कोयले को लेकर आंदोलन करते नहीं देखा गया है। लेकिन भाजपा हमेशा ऐसे असंवैधानिक कार्यो का विरोध करती रही है। इसलिए हमलोग क्षेत्र में अवैध कोयला के बिरुद्ध लगातार आंदोलन और ज्ञापन देते आये है। इस दौरान शिवराम बर्मन, दिलीप दे, सुजीत पाल, सुब्रतो मिश्रा, अमित गोराई, मिथलेश सिंग मुख्य रूप से शामिल थे।


परिषदीय स्कूलों के अनुपस्थित बच्चों को भी मिलेंगे रुपये व राशन






*जिला संवाददाता अर्जुन कुमार गुप्ता*

लॉकडाउन के दौरान मिड-डे-मील की कन्वर्जन कास्ट और राशन परिषदीय स्कूलों में नामांकित सभी बच्चों को दिया जाएगा। मध्याह्न भोजन प्राधिकरण के निदेशक विजय किरन आनंद ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को 19 जून को भेजे पत्र में यह बात साफ की है। कुछ बीएसए ने सवाल पूछा था कि स्कूलों में उपस्थिति के अनुसार परिवर्तन लागत एवं खाद्यान्न भेजा जाता रहा है जबकि लॉकडाउन के दौरान 24 मार्च से 30 जून तक शत-प्रतिशत बच्चों को दिया जाना है। परिवर्तन लागत की राशि माता-पिता, अभिभावक या छात्र के खाते में ट्रांसफर की

जाएगी। शासन के आदेश के मुताबिक प्राथमिक स्कूल के प्रत्येक बच्चे को 24 मार्च से 30 जून तक 76 दिन की परिवर्तन लागत 374.29 रुपये जबकि उच्च प्राथमिक स्कूलों के प्रत्येक बच्चे को 561.02 रुपये खाते में भेजे जाने हैं। जिन बच्चों या उनके माता- पिता/अभिभावक के खाते नहीं हैं उनके बैंक खाते तत्काल खुलवाने के निर्देश दिए गए हैं। प्रयागराज में तकरीबन 5 लाख बच्चों को इसका लाभ मिलना है। मिड-डे-मील के मंडल समन्वयक सुनीत कुमार पांडेय का कहना है कि निदेशक के आदेश के अनुसार बच्चों को भुगतान करने की तैयारी की जा रही है।


 

 



 



विधायक ने छोरा सात नंबर इलाके का दौरा किया

पांडेश्वर : पांडेश्वर के विधायक जितेन्द्र तिवारी ने मंगलवार की शाम पांडेश्वर के छोरा सात नंबर इलाके का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों से मुलाकात की, उनकी समस्याओं के बारे में विस्तार से जानकारी ली। गांव में स्थित शिव मंदिर का निरीक्षण किया। विधायक को सामने पाकर ग्रामीणों ने भी खुलकर अपने मन की बात रखी। विधायक जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि बीते साढ़े चार साल में उन्होंने अपने स्तर से पूरा सेवा करने का प्रयास किया है। अगर इसके बाद भी कोई कमी रह गयी है या कोई गलत हुयी है, तो इसके लिए माफ कर दें। आपलोगों की पानी या अन्य जो भी बुनियादी सुविधा की मांग है, उसे जल्द से जल्द पूरा किया जायेगा। यहां सभी के सहयोग से मंदिर का भी पुनरोद्धार किया जायेगा।


डीसीएम पेड़ से टकराई  से एक की मौके पर मौत एक गंभीर रूप से घायल




सिध्दौर संवाददाता हसन की रिपोर्ट

सिद्धौर बाराबंकी।तेज रफ्तार डीसीएम.अनियंत्रित होकर रोड के किनारे लगे हादसे में एक की मौत जबकि दूसरा गम्भीर रूप से घायल उपचार के लिए भेजा गया अस्पताल।यह हादसा सिद्धौर देबीगंज मार्ग पर कोठी थाना क्षेत्र के अंतर्गत सरसा,तिलसिया मोड़ के पर लगभग रात के समय आठ से नौ बजे के बीच हुआ हादसा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार कस्बा सिद्धौर के मालवीय नगर मुहल्ला निवासी डीसीएम. चालक  गाड़ी लेकर मुहल्ला के ही  सोनू रावत पुत्र सागर रावत के साथ गाड़ी ले कर जा रहा  था कि तभी अनियंत्रित हुई उक्त गाड़ी न संख्या UP 41 AT 8505 मार्ग के किनारे लगे शीशम के पेड़ से जा टकराई जिसके कारण उक्ति हादसे में सोनू रावत की मौत हो गई थी जबकि गाड़ी चालक गाड़ी छोड़कर वहां से भाग निकला


 

 



 

जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के कार्यकर्ताओं ने गलवान घाटी में शहीद हुए भारत माता के वीर सपूतों को दी भावभीनी श्रद्धांजलि 




पिनाहट। बुधवार कोजनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी के कार्यकर्ताओं ने गलवान घाटी में शहीद हुए भारत माता के वीर सपूतों को दी भावभीनी श्रद्धांजलि ।श्रवण सिंह भदौरिया जिला अध्यक्ष किसान प्रकोष्ठ जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी आगरा के नेतृत्व में श्रृंद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया।मुख्य अतिथि श्री नवीन जी मंडल प्रभारी आगरा श्री यमराज सिंह, जिला अध्यक्ष आगरा व अन्य कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे

सिंह भदौरिया जिला अध्यक्ष किसान प्रकोष्ठ जनसत्ता दल लोकतांत्रिक पार्टी बाहआगरा उपस्थित रहे मुख्य अतिथि श्री नवीन जी मंडल प्रभारी आगरा श्री यमराज सिंह जिला अध्यक्ष आगरा अन्य कार्यकर्ता भी उपस्थित रहे


 

 



 

तहसील तिलोई का जिलाधिकारी ने किया औचक निरीक्षण

अमेठी 24 जून 2020, जिलाधिकारी श्री अरुण कुमार ने आज प्रातः 10:15 पर तहसील तिलोई का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने मतदाता पंजीकरण कक्ष, कंप्यूटर कक्ष (भूलेख), न्यायालय तहसीलदार, न्यायालय नायब तहसीलदार, कार्यालय रजिस्ट्रार कानूनगो, फौजदारी सहित अन्य पटलों का निरीक्षण किया। इस दौरान जिलाधिकारी ने सर्वप्रथम मतदाता पंजीकरण  कक्ष का निरीक्षण किया  जिसमें उन्होंने  प्रवासी मजदूरों के संबंध में  जानकारी ली एवं उनके  बैंक अकाउंट  के संबंध में जानकारी ली।  जिसमें तहसीलदार द्वारा बताया गया  कि अब तक 13679  प्रवासी मजदूर पंजीकृत हैं तथा 7600 मजदूरों का बैंक अकाउंट उपलब्ध है,  शेष की कार्यवाही की जा रही है, उन्होंने बताया कि इन सभी प्रवासी मजदूरों को ₹1000 की धनराशि दी जानी है। इसके बाद जिलाधिकारी ने  न्यायालय तहसीलदार का  कक्ष का निरीक्षण किया,  मौके पर पेशकार मौजूद नहीं थे, विलंब से आने पर जिलाधिकारी ने कड़ी नाराजगी जाहिर करते हुए उन्हें समय से कार्यालय पहुंचने के निर्देश दिए तथा संबंधित बार एसोसिएशन से वार्ता कर न्यायालय खोलने की कार्य योजना  बनाने के निर्देश एसडीएम को दिए, साथ ही 10 पुराने मुकदमों के बारे में जानकारी ली तथा इस माह के दायर  मुकदमों के निस्तारण के संबंध में भी जानकारी ली, जिसमें पेशकार द्वारा बताया गया कि इस माह में 111 दायरा हुए थे तथा 166 निस्तारण किए गए हैं। इसके बाद उन्होंने कार्यालय फौजदारी का निरीक्षण किया इस दौरान उन्होंने मिसिलबंद रजिस्टर में धारा  107/116 व 151 के अंतर्गत अभी तक कितने चालान आए व उसके सापेक्ष कितने आदेश पारित किए गए इस संबंध में जानकारी ली तथा वर्तमान में प्रवासी मजदूरों के आने पर भूमि विवादों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है परंतु एसडीएम कार्यालय में धारा 145crpc व 133crpc के अंतर्गत कम कार्यवाही की गई है जिस पर उन्होंने असंतोष व्यक्त  करते हुए उक्त के संबंध में जानकारी ली। फौजदारी अहलमद द्वारा संतोषजनक उत्तर न दिए जाने पर जिलाधिकारी ने फौजदारी अहलमद योगेश कुमार श्रीवास्तव को प्रतिकूल प्रविष्टि देने के निर्देश दिए। इसके बाद जिलाधिकारी ने कार्यालय रजिस्ट्रार कानूनगो का निरीक्षण किया जहां पर उन्होंने मौके पर कृषि भूमि आवंटन की सूचना मांगी जिसमें लक्ष्य 2.25 हेक्टेयर के सापेक्ष शत प्रतिशत की सूचना प्रेषित की गई थी, परंतु मौके पर अनुमोदित पत्रावली नहीं दिखाई गई जिस पर उन्होंने प्रकरण की विस्तृत जांच करने तथा अन्य आवंटन की समीक्षा करने  हेतु एडीएम न्यायिक को निर्देश दिए। इसके साथ ही जिलाधिकारी ने समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों को समय से कार्यालय आने एवं जन सामान्य की शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण निस्तारण करने के निर्देश दिए।

 

 

राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी फंड से दी एक लाख की सहायता राशि




अमेठी विजय कुमार सिंह

सपा नेता को मिली एक लाख की सहायता 

गौरीगंज , अमेठी ।सपा नेता लाल मियां के पुत्र की हत्या की सूचना पर सपा सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पार्टी फंड से परिवार को एक लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

गौरतलब रहे कि गत 22 मई को जिले की तिलोई विधान सभा क्षेत्र के इन्हौना निवासी सपा नेता लाल मियां के पुत्र दाऊद मियां की हत्या कर दी गई थी ।सपा नेता के पुत्र की हत्या की सूचना पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने विधान परिषद सदस्य सुनील सिंह साजन को पीड़ित परिजनों के बीच भेजकर सांत्वना दी ।बुधवार को सपा जिलाध्यक्ष छोटेलाल यादव ने सपा नेता लाल मियां के घर पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा भेजी गई धनराशि की जानकारी देते हुए हर सम्भव मदद का आश्वासन दिया ।इस दौरान रसूल बक्स राईन मिर्जा अशरफ बेग प्रदीप पाठक ललित यादव सहित अन्य लोग मौजूद रहे।


 

 



 

Wednesday, June 24, 2020

प्रधान राजकुमारी की मृत्यु होने के बाद उनके बेटे ने संभाला मोर्चा चुनावी मैदान में उतरने के लिए तैयार




विनय सिंह ब्यूरो चीफ बाराबंकी*

बाराबंकी जिले के ग्राम पंचायत  ढकौली से निरंतर 25 वर्षों से  प्रधानी जीत रहे स्वर्गीय सूरज लाल मिश्रा सुरजन महाराज 3 में 1 बार निर्विरोध भी चुनाव जीते और उनकी पत्नी स्वर्गीय राजकुमारी मिश्रा भी दो बार प्रधान रही दूसरी पंचवर्षीय के तीन साल मे उनकी मृत्यु हो गई राजकुमारी की मृत्यु के बाद 2 बर्ष गांव के सुनील मिश्र प्रधान रहे इस बार पूर्व प्रधान के छोटे बेटे अंजै मिश्रा उर्फ सोनू महाराज इस बार पूर्णतया  रूप से चुनावी मैदान में है सुरजन महाराज और उनकी पत्नी के  ना होने  के कारण विगत 15 वर्षों से उनके परिवार का कोई सदस्य मैदान में नहीं उतरा जो की सुरजन महाराज के पुत्र  सोनू महाराज समर्थन कर ग्राम पंचायत ढकौली से सरोज कुमार मौर्य की पत्नी ममता देवी दो बार लगातार चुनाव जीताया हैं 10 वर्ष प्रधान रहते हुए ग्राम पंचायत में कोई विकास कार्य नहीं हुआ  जिसके कारण गांव की जनता नया प्रतिनिधि चुनना चाहती है जोकि हमारे गांव का विकास  चुनावी मैदान में उतारा है चुनाव पास आते ही प्रत्याशियों में बौखलाहट सी मची है


 

 



 

भाजपा की वर्चुअल जनसंवाद रैली की तैयारियां पूरी, केंद्रीय मंत्री तोमर करेंगे संबोधित 





गोरखपुर। भारतीय जनता पार्टी की तरफ से गोरखपुर क्षेत्र एवं काशी क्षेत्र की होने वाली संयुक्त 'वर्चुअल जनसंवाद रैली' की सभी तैयारियां पूर्ण हो चुकी हैं। जनसंवाद रैली के मुख्य अतिथि केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर रहेंगे। जनसंवाद रैली 24 जून को शाम पांच बजे होगी।
भारतीय जनता पार्टी गोरखपुर क्षेत्रीय कार्यालय बेनीगंज पर स्थापित आइटी विभाग के वार रूम में सभी प्रमुख पदाधिकारी व कार्यकर्ता रैली की तैयारियों को अंतिम रूप दे चुके हैं। रैली में सोशल मीडिया के माध्यम से गोरखपुर क्षेत्र से लगभग 25 से 30 लाख लोगों को जोड़ने का लक्ष्य है। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह के नेतृत्व में गोरखपुर क्षेत्र के 12 जिलों के लगभग 5000 आइटी विभाग के सक्रिय कार्यकर्ता निरंतर विभिन्न सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को रैली में जोड़ने का कार्य कर रहे हैं।
आइटी कार्यकर्ता 100 लोगों को जनसंवाद रैली से करेंगे जोड़ने का कार्य
भारतीय जनता पार्टी गोरखपुर क्षेत्र के आइटी विभाग के संयोजक मुरली मनोहर और सहसंयोजक अश्वनी दीक्षित ने बताया कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वितीय कार्यकाल के प्रथम वर्ष पूर्ण होने पर  आयोजित होने वाली इस रैली का सीधा प्रसारण भाजपा के आधिकारिक फेसबुक पेज एवं टि्वटर हैंडल BJP4UP एवं मोबाइल के ऑडियो संवाद के माध्यम से लोगों तक पहुंचेगा। इस कार्य में भारतीय जनता पार्टी गोरखपुर क्षेत्र के सभी 12 संगठनात्मक जिलों के 25650 बूथों पर आइटी के पांच स्मार्टफोन धारक कार्यकर्ता लगभग 100 आम जनमानस को जनसंवाद रैली से जोड़ने का कार्य करेंगे।
रैली की सफलता के लिए दस दिन से लगे हैं भाजपा कार्यकर्ता
वर्चुअल जनसंवाद रैली की तैयारियों में भारतीय जनता पार्टी गोरखपुर क्षेत्र के आईटी विभाग के संयोजक मुरली मनोहर चौरसिया, सहसंयोजक अश्विनी दीक्षित, चंद्र प्रकाश यादव, सोशल मीडिया प्रमुख सौरभ अग्निहोत्री, महानगर संयोजक पीयूष मिश्रा , सहसंयोजक विशाल पांडेय, समीर श्रीवास्तव, राहुल साहनी, सुमित मौर्या, रागिनी गुप्ता व राहुल सिंह पिछले 10 दिनों से रात दिन एक कर भाजपा गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय अध्यक्ष डॉ धर्मेंद्र सिंह के निर्देशन में तैयारियों को अंतिम रूप देने में लगे हुए हैं। 

 

 



 



छुट्टा साड़ से टकराई बाइक, युवक की दर्दनाक मौत




अमानीगंज। खण्ड़ासा थाना क्षेत्र अर्न्तगत मिल्कीपुर रूदौली रोड पर अमानीगंज बाजार के समीप डूड़ी गाँव के पास सोमवार को रात 9:30 बजे एक बाइक सवार युवक सड़क पर बैठे छुट्टा सांड से टकराकर गंभीर रूप से घायल हो गया। अस्पताल ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। मौत की सूचना पाकर परिजनों में कोहराम मच गया । खंडासा पुलिस ने पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

थाना क्षेत्र के ही रायपट्टी मजरे चिरैंधापुर निवासी बाइक सवार युवक भूपेन्द्र दूबे उर्फ बब्लू दूबे (35) अमानीगंज बाजार से खरीददारी कर घर लौट रहे थे की डूड़ी गांव के पास अचानक सड़क पर बैठे छुट्टा सांड से उनकी बाइक टकरा गई और वह बुरी तरह घायल हो गए। बाइक सवार के सिर में गंभीर चोट आने के कारण अस्पताल ले जाते समय रास्ते में ही दर्दनाक मौत हो गई । ज्ञात हो कि अमानीगंज बाजार के डूड़ी गाँव तथा महात्मा गांधी चौराहे के पास सैकड़ों की संख्या में छुट्टा मवेशी रात में अक्सर रोड पर बैठ जाया करते हैं जिससे आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती हैं। स्थानीय लोगों ने कई बार पशुपालन विभाग को इसकी जानकारी दी लेकिन पशुपालन विभाग छुट्टा मवेशियों को रोड से हटाने का अब-तक कोई इंतजाम नहीं कर सका। थानाध्यक्ष खण्ड़ासा सुनील कुमार सिंह ने बताया कि पंचनामा भरकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

घटना की सूचना पाकर पूर्व सांसद निर्मल खत्री व उग्रसेन मिश्र ने पोस्टमार्टम हाऊस पहुँच कर सवेदना व्यक्त की तथा समाजसेवी अनित शुक्ला ,काग्रेस जिला अध्यक्ष अखिलेश यादव , युवक काग्रेस जिला अध्यक्ष संजय तिवारी ,काग्रेंस नेता विजय पाण्डेय , उपेन्द्र सिंह लल्लू, बाबा बक्श सिंह ,भाजपा नेता शीतला प्रसाद वाजपेई , भवानी फेर मिश्न ,शिक्षक बंशीधर द्विवेदी ,अरविन्द पाण्डेय , अनिल मिश्न, अंजनी सिंह ,पवन पांडेय, शिक्षक रजनीश मिश्रा, बिक्की सिंह ने मृतक के घर पहुँचकर शोक संवेदना व्यक्त की।


 

 



 

इटौंजा पुलिस को मिली सफलता




पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ 

उत्तर प्रदेश की राजधानी के इटौंजा पुलिस को मिली बड़ी सफलता लखनऊ(ग्रामीण) में आदित्य लांगेह के कुशल नेतृत्व में काम कर रही इटौंजा पुलिस के हाथ एक कामयाबी हासिल हुई।उपनिरीक्षक अमीर बहादुर सिंह,कांस्टेबल देवेंद्र सिंह अजय कुमार और कांस्टेबल देवेंद्र कुमार ग्राम चक्रपर्तवीपुर से पहाड़पुर चौराहे से आने वाले रास्ते पर चेकिंग अभियान चला रहे थे उस वक़्त एक संदिग्ध चेकिंग देख कर भागता नज़र आया जिसे पुलिस ने दौड़ा कर पकड़ लिया तलाशी लेने पर उसके पास से एक 12 बोर का देसी तमंचा और 2 कारतूस भी बरामद किया।

इटौजा पुलिस ने जिस शातिर को अपनी गिरफ्त में लिया उसका नाम अंकुल उर्फ अंकुर बताया जा रहा है जो लोहंगपुर इटौंजा का ही रहने वाला है जिस पर स्थानीय थाने में पहले से भी कई आपराधिक मामले दर्ज बताये जा रहे हैं फिलहाल अंकुल पर आर्म्स एक्ट की धारा 3/25 के तहत मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेज दिया गया है।


 

 



 

केसरिया हिन्दू वाहिनी प्रदेश महासचिव कल्पना सिंह की बिगड़ी तबियत, वीडियो के माध्यम से जनता को बताया अपना कुसल छेम




कुँवर अमित सिंह की रिपोर्ट*

उत्तर प्रदेश केसरिया हिन्दू वाहिनी महिला प्रकोष्ठ प्रदेश महासचिव कल्पना सिंह की तबियत खराब चल रही थी जो कि गम्भीर बीमारी थी , फिर भी वो बीमारी हालत में भी अपना काम देख रही थी एवं मीटिंग भी अटेंड करती रही परन्तु एक दिन ज्यादा तबियत खराब होने की वजह से कल्पना सिंह का ऑपरेशन विशाल हॉस्पिटल लखनऊ के कुशल नर्षो के द्वारा सफल हुआ जिसकी सूचना केसरिया परिवार के के लोगो को हुई जिससे अस्पताल में मिलने वाले लोगो का तांता लग गया डक्टरों के द्वारा मना करने पर उत्तर प्रदेश की भगवा शेरनी कल्पना सिंह ने एक वीडियो क्लिप के माध्यम से सभी को अपना कुशल छेम बताते हुए कहा कि सभी हिन्दू भाइयों व बहनों को बड़े ही हर्ष के साथ बताती हूँ कि मेरा ऑपरेशन सकुशल रहा और मैं अब पूर्णतः स्वस्थ हूँ, 1 या 2 दिन में अस्पताल से अपने निजी निवास पर प्रस्थान करूंगी। 

अस्पताल से निलते ही सभी भाइयों बहनों से जल्द ही मुलाकात होगी। 

हमारे पत्रकारों के द्वारा बताया गया कि प्रदेश महासचिव मा. कल्पना दीदी जी अब अपने आपको स्वस्थ महसूस कर रही है।


 

 



 

 पुलिस महानिरीक्षक कानपुर परिक्षेत्र द्वारा साइबर क्राइम थाने का शुभारम्भ

कानपुर नगर, पुलिस महानिरीक्ष कानपुर परिक्षेत्र मोहित अग्रवाल द्वारा ट्रैफिक पुलिस लाइन परिसर में स्थित भवन में परक्षिेत्रीय स्तर पर नवगठित साइबर क्राइम थाने का शुभारम्भ किया गया, इस दौरान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कानपुर नगर, पुलिस अधीक्षक अपराध कानपुर, पुलिस अधीक्षक याताया, पर्यवेक्षण अधिकारी, क्षेत्राधिकारी नजीराबाद व थाने पर नियुक्त अधिकारी व कर्मवारी उपस्थित रहे।
           इस थाने में अन्तर्राज्यीय व अन्तरजनपदीय स्तर परघटित होने वाले साइबर बुलिंग सम्बन्धी अपराध, चाइल्ड पोनोग्राफी, क्रिंप्टोरेंसी, ट्रेफिकिंग, साइबर सटेकिंग साइबर बुलिंग सम्बन्धिी अपराधो में एफआईआर पजीकृत कर विवेचना की जायेगी साथ ही परिक्षेत्र स्तर के थानो को साइबर अपराधों सम्बंधी विवेचना में यथोचित तकनीकि एवं विधिक सहयोग प्रदान किया जायेगा। इस थाने में दो निरीक्षक, दो उपनिरीक्षक, आठ आरक्षी व आठ महिला आरक्षी नियुक्त किए गये है। थाने का प्रभारी निरीक्षक जगदीश यादव को बनाया गया तथा क्षेत्राधिकारी गीताजंलि सिंह थाने का पर्यवेक्षण करेगी। यहां समय समय पर नये तरीको से किये जाने वाले अपराधों के लिए नये नये साफ्वेयर व रिसोर्सेज के बारे में प्रशिक्षण, कार्यशाला के माध्यम से अपउेट किया जाता रहेगा। इस दौरान आईजी मोहित अग्रवाल ने जानता को जागरूक करते हुए बताया कि अनजान विदेशी पुरूष, महिलाओं द्वारा सोशल साइट पर फ्रेण्ड रिक्वेस्ट भेजकर महंगे गिफ्ट भेजने का प्रलोभन देकर ठगी की जा रही है सावधानी रखे, अनजान लिंक को क्लिक न करे न ही एक्सेप्ट करें, अपने एटीएम व क्रेडिट कार्ड की जानकारी न दे, ग्राहक ओटीपी न बतायें तथा न ही अपने एकाउंट विवरण व एटीएम कार्ड का नम्बर, पिन नम्बर, सीबीवी नम्बर आदि न बताये। उन्होने कहा किसी भी प्रकार के ऐप को डाउनलोड न करे, लाटरी निकलने, नौकरी लगवाने, इनकम टैक्स रिटर्न दिलाने, मोबाइल टाॅवर लगवाने आदि फर्जी प्रलोभन पर ध्यान न दे और न ही ठगो द्वारा उनके एकाउंट पर पैसा जमा करे। कहा कि एटीएम में पिन डालते समय किबोर्ड को दूसरे हाथ से छिपा ले, अपना कार्ड किसी भी अंजान व्यक्ति को न दहे साथ ही यदि कोई काॅल आती है कि आपका एटीएम बंद हो गया है आप इसे चालू करखना चाहते है, आधार से लिंक नही है इस प्रकार के काॅल से बचें।





HARI OM GUPTA




Sunday, June 21, 2020

लुटेरे और जालसाज़ सिपाही अनुज चौधरी को किया गया बर्खास्त

पत्रकार:राशिद खान

मैनपुरी में तैनाती के दौरान सिपाही अनुज कुमार ने सरसों के तेल से लदे ट्रक को लूट कर सारा तेल बेच लिया था, उसके साथियों के क़ब्ज़े से रूपया 9 लाख बरामद भी हुए थे। इसी तरह एक अन्य मामले में उसने बोलेरो कार की लूट की थी, बाद में पुलिस टीम ने लूट का खुलासा कर बोलेरो कार को बरामद किया था। इसी तरह, यह आरक्षी जनपद फ़िरोज़ाबाद से भी एक धोखाधड़ी के मामले में जेल जा चुका है। उल्लेखनीय है कि जब सिपाही की इस प्रकार की करतूतों की जानकारी हुई थी तो इस पूरे मामले की सीओ और एडिशनल एसपी द्वारा विभागीय जाँच कराई गई। जाँच में समस्त आरोपों की पुष्टि होने के बाद, सुनवाई का पर्याप्त अवसर देने के बाद दोषी पाते हुए इस पुलिस आरक्षी अनुज कुमार को पुलिस सेवा से बर्खास्त कर दिया गया।बिल्कुल साफ़ संदेश है कि पुलिस महकमें में अपराधी और भ्रष्टाचारी के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। जब जब इस तरह के गंभीर मामले संज्ञान में आएँगे तब तब इसी तरह की सख़्ती अमल में लाई जाएगी।

 

प्रवासी मजदूर राहत किट पाने के चक्कर में सोशल  डिस्टेंसिंग का नहीं कर रहे हैं पालन






मौदहा हमीरपुर ।कस्बा मौदहा  तहसील परिसर में  सैकड़ों की तादाद में प्रवासी मजदूर राहत किट पाने के लिए पहुंचे जाहा पर न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे है और न ही मुंह पर मास्क लगाए हुए हैं। और ये सब तहसील  परिसर में जिम्मेदार अधिकारियों के सामने हो रहा है। 

                 बताते चलें कि अपने क्षेत्र से बाहर अपना व परिवार का पेट पालने के लिए  मजदूरी करने गए मजदूर कोरोना काल में लॉक डाउन लगने से बेरोजगार हो गए काम न मिलने से आहत हो कर  वापस अपने घर आने लगे हैं। जिनको सरकार मैं राहत पहुंचाने के लिए राहत किट बांटने का कार्य तहसील स्तर द्वारा किया जा रहा है। जिसको पाने के लिए शनिवार को सैकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर तहसील में पहुंच गए, जो न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और न ही चेहरे पर मास्क लगाए हुए हैं, और यह सब कानून का पाठ पढ़ाने वाले जिम्मेदार अधिकारियों के सामने ही हो रहा है। ऐसे में जहां सरकार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए चीख चीख कर प्रचार प्रसार कर रही है, तो वहीं ये प्रवासी मजदूर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाते नजर आ रहे हैं वहीं नगर में सैकड़ों लोग बिना मास्क के दुकानों में खरीदारी व सड़कों पर बेखौफ होकर घूम रहे हैं


 

 



 



Saturday, June 20, 2020

 सपा जिलाध्यक्ष के घर के सामने पूर्व बसपा नेता पिंटू ठाकुर की हत्या

 दो बाइको पर आये चार बदमाशो ने की ताबडतोड फायरिंग
 किसी जमीनी विवाद पर बात करने के लिए पूर्व सपा नगर अध्यक्ष के पहुंचे थे घर
उत्तर प्रदेश- कानपुर नगर, छात्र राजनीति से लेकर दलीय राजनीति में स्वयं को स्थापित करने वाले, शहर में प्राॅपर्टी डीलर का काम करने वाले पिंटू सेंगर की शनिवार को जाजमऊ इलाके में गोली मारकर हत्या कर दी गयी। पिंटू सेंगर छावनी क्षेत्र से विधानसभा सीट का चुनाव लडे थे। उनकी माता शांति देवी गजनेर की कठेठी से जिला पंचायत सदस्य है तो उनके पिता सोने सिंह गोगूमऊ के प्रधान है।
             छात्र राजनीति से अपनी शुरूआत करने वाल पिंटू सेंगर ने जल्द ही अपना नाम कमाते हुए राजनीति में कदम रखा। वह उस समय चर्चा में आये जब उन्होेन पूर्व मुख्यमंत्री बसपा सुप्रीमो को चांद पर जमीन देने की बात कही थी, जिसके बाद उन्होने वर्ष 2007 में कैंट सीट से बसपा की टिकट पर चुनाव भी लडा था। पिंटू सेंगर की सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष चंद्रेश सि हके घर के बाहर दो बाइक से आये चार बदमाषो ने ताबडतोड फायरिग कर हत्या कर दी। बताया जाता है कि जैसे ही वह चंद्रेश सिंह के निवास के बाहर इनोवा गाडी से निकले और सडक किनारे बात करही रहे थे कि दो बाइको पर सवार होकर आये चार बदमाशो ने उनपर फायरिंग कर दी। मौके पर लोगो ने बताया कि हमलावर हेलमेट लगाये हुए थे और उन्होने कई राउण्ड फायर किये। इसके बाद पिंटू सेंगर लहू-लुहान होकर जमीन पर गिर पडे। वहीं क्षेत्र में भगदड मच गयी। चालक तथा कुछ स्थानीय लोगो की मदद से उन्हे अस्पताल ले जाया गया जहां उन्हे डाक्टरो ने मृत घोषित कर दिया।
चार बीघा जमीन विवाद को पर बात करने पहुंचे थे पूर्व सपा नगर अध्यक्ष के घर
राजनीति में होने के साथ ही पिंटू सेंगर प्राॅपर्टी का भी काम करते थे। जानकारी के अनुसार पूर्व सपा जिलाध्यक्ष चंद्रेश सिंह के घर उन्हे किसी चार बीघे जमीन के विवाद के मसले पर बात-चीत के लिए बुलाया गया था। पुलिस इसे भी हत्या का एक ऐंगल मान रही है। बतातें चले कि पूर्व में 2017 में भी पिंटू पर जानलेवा हमला हो चुका है। घटना के बाद मौके पर एसएसपी दिनेश कुमार सहित अन्य अधिकारी भी पहुंच गये तथा घटना स्थल को सील करते हुए साक्ष्यो को जुटाया जा रहा है। एसएसपी दिनेश कुमार ने कहा कि मौके से 32 बोर के छह खोखे बरामद कि अन्य साक्ष्यों को भी जुटाया जा रहा है। अभी घटना के पीछे कौन है और क्या कारण है इसका पता नही चल सका है। तथ्यों के आधार पर गिरफ्तारी की जायेगी साथ ही मृतक के परिजनो से भी पूंछतांछ की जायेगी। उन्होने कहा सभी बिंदुओ को देखते हुए ही आगे की कार्यवाई की जायेगी।






HARI OM GUPTA





शहीदों का बलिदान नहीं जाएगा बेकार,चीन का फूंका पुतला

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर-राहुल गांधी ब्रिगेड के मंडल अध्यक्ष सैयद विक्की मियाँ के नेतृत्व मे सदस्य एकजुट हुए शहीदों को श्रद्धांजलि दी,चीन द्वारा भारतीय सेना पर धोखे से किए गए कायराना हमले से बेहद गुस्सा है। सै. विक्की मियाँ के नेतृत्व में चीन राष्ट्रपति का पुतला फूंका साथ ही चीन के प्रोडक्ट की बिक्री का बहिष्कार करने का निर्णय लिया चीन को मुंहतोड़ जवाब दे भारत चीन के हमले से हर तरफ गुस्सा है शहीदों का बलिदान नहीं जाएगा बेकार भारत को मुंहतोड़ जवाब देने की जरूरत है भारत के कई पड़ोसी देश भारत को कमजोर समझने की गलती कर रहे हैं लेकिन वह भूल रहे हैं हमने पहले भी कई बार दांत खट्टे किए हैं उन्होंने कहा शहीद हुए सभी सैनिकों के परिवार जनों को और घायलों को आर्थिक सहायता देने की मांग की और प्रधानमंत्री से अपील कि हमारे देश की सेना को पूरी छूट दी जाए ताकि वह शहीद हुए जवानों का बदला ले सके केंद्र सरकार चीन के खिलाफ बदले की कार्रवाई शुरू करें इस मौके पर अहमद इदरीस, गुलफाम,जावेद,शिवा, यासिर,कमर मियाँ,राशिद आदि लोग मौजूद रहे।

 

योग




परंपरा का आधार 

ऊर्जा शक्ति अपार।

 

पाते स्वास्थ लाभ

करते  योगाभ्यास

 

तन का आधार  

रोग मुक्त का द्वार

 

एकाग्रचित मन 

शुद्ध तन निर्मल ।

 

जीवन है अनमोल 

दे   दो  कुछ   पल।

 

दे   आत्म    शुद्धि 

इससे  बढे   बुद्धि ।

 

चंचल मन बस में रहे

पास न आवे कुबुद्धि।

 

पौराणिक पर गुणी है 

रोगो की यह औषधि है ।

 

लेना देना कुछ नही

खर्च कोई लगता नही।

 

कई आसन है करने 

समय थोडा ही लगते ।

 

अपनाओ जीवन में सभी

रहो    चंगे    लगो  प्यारे।

 

                       आशुतोष 

                     पटना बिहार 


 

 



 

अधिकारियों की  मिलीभगत के खेल में किसान आत्मदाह करने को मजबूर




दैनिक अयोध्या टाइम्स 

सिधौली तहसील के अंतर्गत इस्माईलगंज गांव के किसानों की जमीन को हड़पने में लगे खनन माफिया व राजस्व अधिकारी हाईकोर्ट के स्टे को बताया फर्जी उच्च पहुंच रखने वालों के सामने राजस्व अधिकारी भी दिखे नतमस्तक मिलीभगत के खेल में किसान आत्मदाह करने को मजबूर है यह मामला है सिधौली तहसील के सदना थाना क्षेत्र के अंतर्गत इस्माइल गंज ग्राम का है जहां भोले भाले गरीब किसानों की पुश्तैनी जमीन को खनन माफियाओं व राजस्व अधिकारियों की मिलीभगत से जमीन को हड़पने का प्रयास किया जा रहा है जब किसान नारायण सिंह पुत्र सूर्य बकश सिंह, राम सिंह, संजय सिंह और श्री राम शंकर सिंह और सुखपाल सिंह, गिरजा शंकर सिंह व अन्य पीड़ित किसानों ने मामले की शिकायत एसडीएम सिधौली से की तो महोदय ने तहसीलदार साहब को मामले की जांच के निर्देश दिए लेकिन जब मौके पर जांच करने तहसीलदार मिथिलेश कुमार त्रिपाठी पहुंचे तो किसानों पर ही दबाव बनाने लगे और न्यायालय द्वारा आदेशित स्टे को ही फर्जी करार बता दिया साथ ही अधिकारियों के निर्देश में खानापूर्ति करते हुए किसानों की पुश्तैनी जमीनों को ही मौके पर ना होने होना बता दिया लेकिन सवाल इस बात का है अगर निरीक्षण की गई जमीन किसानों की नहीं है तो वह लगभग 200 वर्षों से उस पर खेती किसानी कैसे कर रहे हैं इस संपूर्ण मामले की जानकारी जब दैनिक जागरण अयोध्या टाइम्स न्यूज़पेपर की टीम को हुई तब किसानों से बातचीत करके मामले की जानकारी हासिल की विस्तृत जानकारी के लिए हमारे पत्रकार द्वारा जब तहसीलदार से बातचीत करनी चाहिए तहसील तहसीलदार ने अपनी तबीयत का आव्हान देते हुए कहा कि यह पूरा मामला एसडीएम साहब के संज्ञान में है एसडीएम साहब से पूछने पर उन्होंने कुछ ना बोलते हुए सारा मामला डीएम साहब के ऊपर सौंप दिया और जिलाधिकारी सीतापुर से मामले के बारे में संज्ञा नित होने की बात कही जब ऐसे माहौल में जहां किसान अपने आर्थिक परेशानी और राजस्व अधिकारियों के उत्पीड़न से ग्रस्त हैं और किसानों का कहना है कि यदि उनकी सुनवाई नहीं की गई तो वह आत्मदाह करने पर मजबूर है अब देखना होगा कि जिला अधिकारी सीतापुर इस मामले पर अपनी क्या प्रतिक्रिया जाहिर करते हैं। और जिस जगह का उनको टेंडर पास किया गया था। वहां पर पानी का संचालन अभी जारी है। किसानों को पानी की पूर्ति होती है। इस लिये वहां खदान करने से किसान आत्महत्या करने पर मजबूर है।


 

 



 

लखनऊ में महापौर ने दिलाई नामित पार्षदों को शपथ



पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

आज दिनाँक 19/06/2020 को लालबाग स्थित नगर निगम मुख्यालय के राजकुमार हॉल में महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने फिजिकल डिस्टेंसिंग पालन करते हुए नामित पार्षदों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।इस दौरान महापौर संयुक्ता भाटिया ने नामित पार्षद अनुराग मिश्रा, पद्मिनी चौधरी,  कैलाश गुप्ता,  राकेश मिश्रा,  संतोष तेवतिया, श्री शिव कुमार यादव,  सुभाष शुक्ला,  सर्वजीत सिंह,  के०के० जायसवाल,  प्रियांक आर्य को महापौर ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। 

शपथ ग्रहण के दौरान सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस के अनुरूप फिजिकल डिस्टेंसिंग का अनुपालन किया गया साथ ही सभी के हाथों को सेनेटाइजेशन के पश्चात ही उनको प्रवेश मिला। 

सभी नव नामित पार्षदों को नगर निगम अधिनियम, प्रमाण पत्र और नगर निगम की सूचना डायरी भेंट की गई। 

महापौर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि सभी नव पार्षदो का हमारे नगर निगम परिवार में स्वागत है, अब हमारा परिवार बढ़ रहा है, आज से हमारे नगर निगम में 120 पार्षद हो गए है। हम सभी मिलकर जनता को और बेहतर ढंग से प्रभावी सेवाएं दे सकेंगे। 

इस दौरान महापौर संयुक्ता भाटिया के साथ महानगर अध्यक्ष मुकेश शर्मा, नगर आयुक्त इंद्रमणि त्रिपाठी, नगर निगम उपाध्यक्ष रजनीश गुप्ता, पार्षद दल नेता राम कृष्ण यादव, भाजपा नगर महामंत्री त्रिलोक सिंह अधिकारी, अपर नगर आयुक्त अमित कुमार, अर्चना द्विवेदी, राकेश यादव, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी अशोक सिंह सहित सभी नव नामित पार्षद उपस्थित रहे।



 

 

भारतीय किसान संघ के कार्यकर्ताओं ने फूंका चीन का पुतला

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर- भारतीय किसान संघ के किसान कार्यकर्ताओं ने नेशनल हाईवे बरेली मुरादाबाद लोहापट्टी भोलानाथ पर चीन का पुतला फूंक कर विरोध प्रकट किया संघ के कार्यकर्ताओं ने चीनी सेना मुर्दाबाद मुर्दाबाद हिंदी चीनी भाई भाई नहीं चलेगा नहीं चलेगा चीनी सामान हटाना है स्वदेशी अपनाना है भारतीय परचम लहराना है आदि नारों से उदघोष किया गया। पुतला दहन का नेतृत्व कर रहे  संघ के जिला मीडिया प्रभारी  मुजीब कमाल ने कहा कि चीन ने कायरता का परिचय देते हुए धोखे से हमारे जवानों को शहीद किया है चीन शुरू से ही हमारे दुश्मन देशों में शुमार रहा है और उससे पूर्व में भी युद्ध हो चुका है हमारी सेना ने भी चीनी सेना का मुंहतोड़ जवाब देकर साबित किया है कि भारतीय सेना से लोहा लेना विश्व की किसी भी सेना में नहीं है। देश की पूर्व की सरकारों ने हिंदी चीनी भाई भाई कहकर और उससे समझौते कर देश को कमजोर करने का कार्य किया है हम सब भारतवासी एकजुट होकर संकल्प लें कि चीन के जितने भी इंटरनेट संबंधी उत्पाद एवं एप्स हैं सभी का तत्काल उपयोग बंद करें एवं उसके उत्पादों का अधिकतम विरोध कर स्वदेशी उत्पादों का इस्तेमाल करें और स्वदेशी अपनाने पर बल दे। उन्होंने कहा कि देश की सीमा पर किसी उद्योगपति अथवा राजनेता का बेटा शहीद नहीं होता सभी किसान मजदूर परिवार से ही आते हैं ऐसे में हम सबकी जिम्मेदारी है कि अपने परिवार के लोगों के साथ पूरी तरह तैयार खड़े रहे देश का किसान सीमा पर देश की रक्षा करने वाले जवान के साथ खड़ा है हमारा दायित्व है कि हम सभी ऐसे समय में सारे मतभेद भुलाकर एकजुट हो जाएं और स्वदेशी तकनीक स्वदेशी उत्पाद अपना कर रसायन मुक्त खेती का संकल्प लें और चीन की कंपनियों का पूर्णता बहिष्कार करें। इस दौरान मोहम्मद सफीन, रमेश गंगवार,कल्यान ठेकेदार,कृष्ण,मुरारी शर्मा,सोमपाल,हरिराम,जाकिर खान,राहिल,गुलाब राय आदि रहे।

जनधन खाता खोलने पर खाताधारकों से की जा रही है अवैध वसूली




सत्येन्द्र उपाध्याय

खबर यूपी के सिद्धार्थनगर से है जहां एक तरफ केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की योगी सरकार गरीबों के कल्याण के लिए पानी की तरह पैसा बहा रही है, लेकिन वहीं कुछ भ्रष्ट कर्मचारी सरकार की योजना को पलीता लगा रहे हैं। दरअसल भारत सरकार के द्वारा  जीरो बैलेंस खाता खोला जा रहा है जिसमें बैंक कर्मचारियों के द्वारा खाता धारकों से जमकर अवैध वसूली की जा रही है मामला शोहरतगढ़ तहसील क्षेत्र के बजहा बाजार स्थित  पूर्वांचल बैंक अब  (बड़ौदा  यूपी बैंक) के  ग्राहक सेवा केंद्र (मिनी शाखा) का है जहां खाता खोलने के नाम पर खाता धारकों से  ₹150 लिया जा रहा है, जबकि जीरो बैलेंस( जनधन खाता) के खाते पर एक भी पैसा खाता धारक से नहीं लेना है। 

 इस संबंध में जब ग्राहक सेवा केंद्र संचालक श्री रामपाल जी से बात करने पर उन्होंने बताया कि हमें सरकार से एक भी रुपया नहीं मिलता है, और इसमें से कुछ पैसा बैंक को भी देना पड़ता। इसीलिए हम 150 रुपए ले रहे हैं। इस मामले मे  और अधिक जानकारी लेनी चाही तो उन्होंने अपना पल्ला झाड़ते हुए संजीवनी विकास फाउंडेशन से बात करने के लिए कही, संजीवनी विकास फाउंडेशन की  संपर्क सूत्र देने से मना कर दिया। 

  जब अवैध वसूली के बारे में शाखा प्रबंधक  श्री सतीश यादव जी से बात की गई तो कहा गया कि ऐसा कोई मामला मेरे संज्ञान में नहीं है, और ना ही कोई लिखित शिकायत मेरे पास आई है। अगर लिखित शिकायत मेरे पास आती है तो मैं दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करूंगा। अब सवाल यह उठता है कि  इस लूट में कौन-कौन शामिल है। बैंक मैनेजर,सीएसपी संचालक या संजीवनी  विकास फाउंडेशन। आखिर इन गरीबों को न्याय कब और कैसे मिलेगा। 

 

इस मामले को लेकर जांच-पड़ताल पड़ताल अभी जारी है ••••••••••।


 

 



 

Thursday, June 18, 2020

अमिश देवगन को गिरफ्तारी कर जेल भेंजने की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौपा




अता खान ब्यूरो चीफ उ.प्र. की रिपोर्ट।

कानपुर 17 जून मोहम्मदी यूथ ग्रुप व गरीब नवाज़ कौंसिल आफ इंडिया के अध्यक्ष इखलाक अहमद डेविड की अगुवाई में सुल्तान ए हिंद ख्वाजा गरीब नवाज़ की शान में गुस्ताखी से देश के करोड़ो लोगो की आस्था को ठेस पहुंचाने वाले न्यूज़ 18 इंडिया के कार्यकारी सम्पादक अमिश देवगन की गिरफ्तारी व न्यूज़ चैनल पर कड़ी कार्यवाही की मांग को लेकर जिलाधिकारी डा० ब्रह्मदेव राम तिवारी से जिलाधिकारी कार्यालय में मिला व राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री के नाम सम्बोधित ज्ञापन प्रेषित किया। मोहम्मदी यूथ ग्रुप व गरीब नवाज़ कौंसिल आफ इंडिया के प्रतिनिधि मंडल ने जिलाधिकारी को बताया कि न्यूज़ 18 इंडिया के आर/पार प्रोग्राम में कार्यकारी सम्पादक/एंकर अमिश देवगन ने हिंदुस्तान की शान, हिंदू-मुस्लिम एकता के सूत्र-धार गरीब नवाज़ के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी कर देश व दुनियां के करोड़ो लोगो की आस्था को ठेस पहुंचाई है जिसे बिल्कुल बर्दाश्त नही किया जा सकता उनके मानने वालों में राजा से लेकर रंक, नेता से लेकर अभिनेता तक गरीब नवाज़ के दरबार की ज़ियारत के लिए लयलित रहते जिनकी दरगाह हिंदुस्तान की सरज़मी को रोशन कर रही है। उनके बारे में अमर्यादित, अशोभनीय ह्रदय को तकलीफ पहुंचाने वाली टिप्पणी से देश-दुनियां के करोड़ों लोगो की भावनाओं आहत हुई व उनमें अमिश देवगन व न्यूज़ इंडिया चैनल के खिलाफ गुस्सा है देश की कानून व्यवस्था को बिगाड़ने के साथ ही पूरी दुनियां में हमारे देश की छवि धूमिल करने वाली टिप्पणी है, अगर जल्द ही अमिश देवगन व न्यूज़ 18 इंडिया के चैनल के खिलाफ भारत सरकार कड़ी कार्यवाही नही करता तो इसका विरोध सड़कों पर देखा जा सकता है व एशिया, यूरोप, अमेरिकी, अफ्रीकी मुल्कों की सरकारे अपनी नाराज़गी जताने लगेगी जो देशहित में अच्छा नही होगा हमारे देश में किसी की भी भावनाओं को ठेस पहुचाने का अधिकार नही है अमिश ने तो देश-दुनियां के महान सूफी संत पर ही ऐसी टिप्पणी की जिसे बयां नही किया जा सकता अमिश देवगन को गिरफ्तार कर जेल व चैनल पर कड़ी कार्यवाही होना बहुत ज़रुरी है।

प्रतिनिधि मंडल से बात करने के बाद जिलाधिकारी महोदय को राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री के नाम सम्बोधित ज्ञापन दिया जिलाधिकारी डा० ब्रह्मदेव राम तिवारी ने ज्ञापन को आज ही राष्ट्रपति भवन, प्रधानमंत्री-गृहमंत्री कार्यालय भेजने का भरोसा दिया।

ज्ञापन देने के बाद मोहम्मदी यूथ ग्रुप व गरीब नवाज़ कौंसिल के पदाधिकारी न्यूज़ 18 इंडिया के कार्यकारी सम्पादक/एंकर अमिश देवगन व न्यूज़ चैनल के सी०ई० ओ० राहुल जोशी पर मुकदमा दर्ज कराने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचे जहां एस एस पी की अनुपस्थिति में क्षेत्राधिकारी को प्रार्थना पत्र दिया।

ज्ञापन में इखलाक अहमद डेविड, हाफिज़ मोहम्मद कफील हुसैन खाँ, एजाज़ रशीद, मोहम्मद इस्लाम चिश्ती, इरफान अशरफी, नूर आलम, अफज़ाल अहमद, मोहम्मद रज़ा खान आदि लोग मौजूद थे।


 

 



 

Wednesday, June 17, 2020

तृणमूल की ओर से महिलाओं के बीच साड़ी वितरण किया गया

पांडेश्वर : पांडेश्वर विधानसभा क्षेत्र के डालूरबांध में महिलाओं के बीच साड़ी वितरण किया गया। यहां अतिथि के रूप में तृणमूल कांग्रेस जिला पर्यवेक्षक कर्नल दीप्तांशु चौधरी एवं जिलाध्यक्ष जितेन्द्र तिवारी के हाथों साड़ी वितरण किया गया। इस मौके पर कर्नल दीप्तांशु चौधरी ने कहा कि इस आयोजन के लिए सभी को धन्यवाद, समाज के गरीब एवं महिलाओं की मदद के लिए जबतक आपलोगों की तरह लोग आगे आयेंगे, तब तक हम लोगों की सेवा के प्रति सुनिश्चित रहेंगे। यहां कुछ साधारण मदद की जा रही है, लेकिन यह प्रतीक है कि इसके माध्यम से तृणमूल कांग्रेस संकट की इस घड़ी में आपके साथ है। अन्य राजनीतिक दल के लोग आपको देखने तक नहीं आये हैं, वहीं टीएमसी के कार्यकर्ता लॉकडाउन के शुरूआत से आपके साथ हैं। जननेत्री ममता बनर्जी शुरू से ही सड़कपर उतरकर लड़ रही हैं, पश्चिम बर्द्धमान में जितेन्द्र तिवारी कोरोना से डरे बिना लगातार मदद कर रहे हैं। टीएमसी का हर कार्यकर्ता बिना भयभीत हुये कार्य कर रहे हैं। चुनाव के समय बहुत से लोग आपके पास आयेंगे। लेकिन संकट के समय वह लोग नहीं आये, इस समय सिर्फ ममता बनर्जी के सैनिक ही आपलोगों के साथ हैं। इस सहायता के मदद से संदेश देना चाहते हैं कि हमलोग आपके साथ हैं।


तृणमूल युवा कांग्रेस द्वारा रक्तदान शिविर आयोजित किया गया

बर्नपुर : तृणमूल कांग्रेस के युवा संगठन तृणमूल युवा कांग्रेस द्वारा बर्नपुर में रक्तदान शिविर आयोजित किया गया। इसका उद्घाटन तृणमूल कांग्रेस जिला पर्यवेक्षक कर्नल दीप्तांशु चौधरी एवं जिलाध्यक्ष सह आसनसोल के मेयर जितेन्द्र तिवारी ने किया। इस दौरान टीएमवाइसी प्रदेश महासचिव अशोक रूद्र, एमएमआइसी पूर्णशशि राय, पूर्व एमएमआइसी रबिउल इस्लाम आदि मौजूद थे। इस दौरान मेयर सह टीएमसी जिलाध्यक्ष जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि लॉकडाउन के समय जब अन्य राजनीतिक दल लोगों की मदद में बाधा दे रहे हैं, सरकारी कार्यालयों में ज्ञापन और तोड़फोड़ में व्यस्त है, वहीं दीदी के सैनिक के रूप मे युवा टीएमसी के कार्यकर्ता रक्तदान कर रहे हैं। लॉकडाउन में चावल एवं गेहूं की कमी को दीदी और उनके सैनिकों ने पूरा किया है, इसके साथ ही लगातार रक्तदान आयोजित कर रक्त की कमी जिले में नहीं होने दी है। शिक्षकों द्वारा रक्तदान कर समाज को प्रेरित किया जा रहा है। यहां तृणमूल कांग्रेस द्वारा शीघ्र ही एक और रक्तदान शिविर आयोजित किया जायेगा। टीएमसी के कार्यकर्ता रक्त की कमी से किसी को मरने नहीं देंगे। कर्नल दीप्तांशु चौधरी ने कहा कि हमलोग शिक्षक संगठन के प्रति कृतज्ञ हैं, अशोक रूद्र राज्य के 23 जिलों में लॉकडाउन के दौरान लोगों की मदद के लिए गये हैं। प्राथमिक शिक्षक संगठन के साथ युवा, छात्र सभी मिलकर रक्तदान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मार्च में रक्त की कमी की आशंका को देखते हुए मुख्यमंत्री के निर्देश पर पुलिस ने रक्तदान शुरु किया था, इसके साथ ही टीएमसी के तमाम शाखा संगठन ने विभिन्न स्तर पर रक्तदान शिविर आयोजित किया। जिले में रक्त की कमी न हो इस पर सभी शाखा संगठन नजर रखें। ब्लड सेपरेशन यूनिट से एक यूनिट रक्त को विभाजित कर तीन लोगों को दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल जो दुष्प्रचार कर रहे हैं, उससे दूर रहकर हमलोग जनता के लिए कार्य करेंगे। विरोधी लोग लाश की राजनीति करें, हमलोग लोगों की जान बचायेंगे।


एफडीआई के विरोध मे कोयला खदान श्रमिक कांग्रेस द्वारा विरोध जनसभा

सांकतोड़िया : कोल इंडिया के निजीकरण, कमर्शियल माइनिंग को मंजूरी के विरोध समेत विभिन्न मांगों को लेकर आईएनटीटीयूसी से संबद्ध कोयला खदान श्रमिक कांग्रेस द्वारा इसीएल मुख्यालय पर प्रदर्शन किया। आईएनटीटीयूसी प्रदेश अध्यक्ष सह राज्यसभा सांसद दोला सेन के नेतृत्व में बड़ी संख्या में केकेएससी समर्थक विरोध-प्रदर्शन में शामिल हुए। इस मौके पर टीएमसी जिलाध्यक्ष सह आसनसोल के मेयर जितेन्द्र तिवारी ने कहा कि कोयला उद्योग का राष्ट्रीयकऱण 1973 में हुआ था, यह मुझे इसलिए याद रहता हैं कि क्योंकि इसी वर्ष मेरा जन्म हुआ था, मेरी मां बताती थी कि जब कोलियरी का राष्ट्रीयकरण हुआ था, उसी वर्ष मेरा जन्म हुआ था। देश में राजनीति को धर्म के आधार पर बांटने का प्रयास किया जा रहा है, पहले इन मुद्दों को हम गंभीरता से नहीं लेते थे, सोचते थे कि भाजपा धर्म के नाम पर समाज को क्यों बांटना चाहती है, इसके पीछे मूल साजिश यह था कि अन्य क्षेत्र में जो लड़ाई होती है, श्रमिकों, छात्रों, किसानों को अपने हक की लड़ाई से ध्यान हटाकर धर्म की लड़ाई में शामिल किया जाये। श्रमिक वर्ग के दिमाग से अपने अधिकार की रक्षा की लड़ाई से कैसे दूर किया जाये, इस साजिश के तहत ही पिछले चार-पांच साल में धर्म के आधार पर बांटा जा रहा है। इसका परिणाम सामने हैं, सालभर हमलोग श्रमिकों, छात्रों, किसानों के हक की लड़ाई लड़ते हैं, लेकिन चुनाव के समय वह हिन्दू-मुसलमान में बंट जाता है। आपलोगों से निवेदन है कि अगर सही में अपने हक की लड़ाई लड़ना चाहते हैं, तो चुनाव के समय हिन्दू-मुसलमान में नहीं बंटना होगा। 2014 में जब दोला दी यहां उम्मीदवार थी, उस वर्ष भी हमलोग हिन्दू-मुसलमान में बंट गये, आज जब केन्द्र सरकार जनविरोधी और श्रमिक विरोधी नीति ला रही है, तो संसद में एसे प्रतिनिधि की जरूरत थी कि जो हमारी आवाज उठा सकें, लेकिन यह दुर्भाग्य है कि यहां का नुमाइंदा मोदी सरकार के पक्ष में हैं, ममता बनर्जी ने दोला दी को राज्यसभा में भेजा ताकि वह श्रमिकों के हक की आवाज सरकार के पास उठा सकें। आसनसोल-दुर्गापुर श्रमिकों का क्षेत्र हैं, इसलिए हमारे दर्द को पहचनानेवाला यहां से दिल्ली में होना चाहिए, यह इच्छा हुये बिना हमारी लड़ाई कभी पूरी नहीं होगी। कारपोरेट स्तर की बैठक में नहीं बुलाते हैं, सीएमडी भले ही हमें न बुलाये लेकिन यह तय है कि टीएमसी चाहेगी तभी इसीएल चलेगा, अगर प्रबंधन टेस्ट करना चाहे तो कर ले, यहां की जनता और श्रमिक हमारे साथ है। जब सारे यूनियनें हड़ताल बुलाती हैं, तो प्रबंधन केकेएससी के पास ही मदद के लिए आती है, टीएमसी और केकेएससी अपने दम पर उत्पादन भी करके दिखाती है। कोल इंडिया और इसीएल टीएमसी के बल पर ही चल रहा है, लेकिन आधिकारिक रूप पर मान्यता देने के समय इसे लंबित रखा जा रहा है, इसलिए आनेवाले समय में हमें सोचने की जरूरत है। केन्द्र सरकार ने एसा प्रस्ताव लाया है कि श्रमिकों के साथ अधिकारियों का भी बुरा होगा। 500 उद्योगपतियों को जब कोयला बेचने का अधिकार मिलेगा तब जीएम, सीएमडी का क्या महत्व रह जायेगा, पहले सिर्फ श्रमिक आतंकित थे, इस लड़ाई में अगर साथ नहीं देते हैं तो अधिकारियों का भी अस्तित्व समाप्त हो जायेगा। आप खुलकर हमारा साथ नहीं दे रहे हैं तो चुपचाप करें। चुपचाप टीएमसी को समर्थन करें, जहां भी टीएमसी और केकेएससी के लोग हैं, उनका समर्थन करें तभी कोल इंडिया, इसीएल और आपकी ठाट बचेगी। उन्होंने कहा कि इसीएल श्रमिकों के साथ ग्रामीण के जीवन में भी संकट आनेवाला है। निजी कंपनियों के आने के बाद गांव मे बिजली, सड़क, पानी, रास्ता, कम्यूनिटी हाल का काम गांव में कैसे होगा, श्रमिकों के साथ ही कोयलांचल के हर व्यक्ति के जीवन पर इसका प्रभाव पड़ेगा। इसका प्रचार टीएमसी द्वारा पूरे शिल्पांचल में किया जायेगा। लॉकडाउन के बाद एक लाख लोगों को लेकर इसीएल मुख्यालय का घेराव किया जायेगा, तब तक यह आन्दोलन तबतक चलेगा जब तक केकेएससी को कारपोरेट जेसीसी में प्रतिनिधित्व नहीं मिलता है। भगवान इसीएल अधिकारियों को सद्बुद्धि दे।


लाकडाउन के बाद खुला शीतला देवी मां काली का दरबार




महफूज अहमद/दैनिक अयोध्या टाइम्स

शुकुल बाजार/अमेठी जहाँ पूरे देश में लाकडाउन के दौरान धर्म स्थल बन्द थे लोग अपने अपने घरो में ही पूजा अर्चना किया करते थे। वही राज्य सरकार के आदेश के बाद धर्म स्थल खोले जाने पर आज विकासखंड बाजार शुकुल के

ग्राम सभा हरखूमऊ में मां शीतला देवी काली मां का दरबार खोलने पर गांव में पूजा अर्चना व  हर्षोल्लास का माहौल रहा और वही मौके पर मौजूद कायस्थ संघ जिला अध्यक्ष सौरभ श्रीवास्तव कायस्थ संघ जिला उपाध्यक्ष अमन श्रीवास्तव आनंद कुमार डायमंड सिंह राजू सिंह दद्दन यादव वह गांव के अन्य लोग भी मौजूद रहे।


 

 



 

भारत की सरजमीं पर पैर बढ़ाने से पहले केवल रेजांगला के वीर अहीर सैनिकों के शौर्य को याद कर ले चीन..

चीन जिस तरह से हालिया दिनों में अहंकार में मगरूर हो कर सीमा पर प्रतिरोध बढ़ा रहा है वह उसके मूर्खता का प्रतीक है।शायद वह भूल चुका है कि उसे रेजांगला में मुट्ठी भर भारतीय वीर सैनिकों ने धूल चटा दी थी। बहुत कुछ हो सकता है चीन के पास लेकिन याद कर ले एक एक भारतीय के पास वह आत्म बल और स्वाभिमान है,जो चीन के हजार लोगों के बराबर है। हमारे धैर्य और सहनशीलता का ज्यादा परीक्षा लेने की कोशिश ना करे अन्यथा जिस दिन भारतीय लोगों का गुस्सा बाहर आ गया उस दिन चीन कहीं का नहीं रह पाएगा।आखिर चीन समझता क्या है भारत के कुछ सैनिकों को धोखे से मारकर भारतीय सेना और लोगों को धमका देगा।भारत कोई नेपाल,भूटान,तिब्बत और ताइवान नहीं है। एक-एक शहादत का बदला लेना जानता है भारत और हमेशा से चीन को ईंट का जवाब पत्थर से दिया है।सर्वप्रथम हम किसी को छेड़ते नहीं है और अगर गलती से भी कोई हमें छेड़ दे तो हम उसे भूलते और छोड़ते नहीं।चीन हमेशा से 1962 में धोखे से लड़े गए युद्ध पर आत्ममुग्धता में रहता है पर उसे 1967 को याद रखना चाहिए,जब भारतीय सैनिकों ने 40 के बदले 400 चीनी सैनिकों को मार गिराया था।चीन को अपने पिट्ठू पाकिस्तान के बंटवारे से भी सीखना चाहिए पाकिस्तान ने भी भारत के साथ धृष्टता की थी जिसे भारत ने पहले तो माफ किया पर जब फिर भी वह नहीं संभला और समझा तो उसे दो हिस्सों में बांट दिया।उस बंटवारे की कसक में पाकिस्तान हर दिन आहें भरते हुए आज भी जी रहा है।दूसरी ओर अगर चीन को अपने धन का घमंड है तो वह अपने पास रखे।जिस रेत के पहाड़ पर उसकी अर्थव्यवस्था टिका हुआ है वह चंद महीनों में विलीन हो जाएगा,अगर भारतीय बाजार को चीनी माल के लिए बंद कर दिया जाए तो।

पूरा हिंदुस्तान जानता है कि दक्षिणी हरियाणा के वीरों की खान के नाम से प्रसिद्ध अहीरवाल क्षेत्र जो अपनी पराक्रम वीरता और देशभक्ति के लिए प्रसिद्ध रहा है इसी क्षेत्र के वीर यादव नौजवानों ने 18 नवंबर 1962 को चुशूल घाटी की रेजांगला पोस्ट पर मेजर शैतान सिंह भाटी के नेतृत्व में भारत भूमि की रक्षा करते हुए अपने प्राणों को न्योछावर कर दिया था लेकिन 1 इंच आगे नहीं बढ़ने दिया था।जब रात 3:30 बजे चुशूल घाटी यानी रेजांगला में भारतीय रणबांकुरे चीनी हमला का मुंहतोड़ जवाब देते हुए उन्हें आगे बढ़ने से रोक दिया था।यह लड़ाई शून्य से 35 डिग्री नीचे के तापमान में हमारे जवानों ने बिना बर्फ से बचने वाले ड्रेस के लड़े थे।उनके पास लड़ाई लड़ने के लिए पर्याप्त गोला-बारूद भी नहीं थे।फिर भी चीन को वीर अहीर सैनिकों ने घुटनों के बल झुकने को मजबूर कर दिया गया था। मालूम हो कि चीनी सेना आर्टिलरी सपोर्ट के साथ आगे बढ़ रही थी।इस लड़ाई को आखिरी आदमी आखिरी गोली आखरी सांस के नाम से भी याद किया जाता है।ऐसा इतिहास में दर्ज है 124 भारतीय सैनिकों ने 1700 चीनियों की लाश बिछा दी थी।यही एकमात्र इतिहास का युद्ध था जिसमें दुश्मन ने भी भारतीय सैनिकों की वीरता की तारीफ किया था।आज भी दुनिया के सैन्य अफसरों और सैनिकों को ट्रेनिंग के दौरान रेजांगला के बारे में पूरा पाठ पढ़ाया जाता है।भारत को इस युद्ध की कहानी शायद पता तक न चलता अगर मरते समय तेरहवीं बटालियन कुमायूं के अगुआ मेजर शैतान सिंह भाटी ने मानव कैप्टन रामचंद्र यादव को पूरी जानकारी देने के लिए सेना के मुख्यालय ना भेजा होता। ऐसा कहा जाता है कि 124 जवानों में 119 अहीर (यादव) थे। उस वक्त भारतीय सेना के रेसलर और नायक राम सिंह यादव राइफल की गोली समाप्त होने के बाद गोली वर्षा के बीच चीनी सैनिकों के बीच पहुंचकर उनसे भिड़ गए और वीरगति से पूर्व से कई चीनी सैनिकों का काम तमाम कर दिया था।चीनी सैनिकों ने हमारे वीर अहीर शेरों की लाशों को कम्बल से ढककर उनके सिर के साथ उनकी बन्दूक को खड़ा किया और एक कार्ड पर “बहादुर” लिख कर उनके सीने पर रख दिया और फिर रेडियो पीकिंग से खबर दी की चीन का सबसे ज्यादा नुक्सान रेजांगला में हुआ।

विश्व का सैन्य इतिहास यूं तो वीरता की कहानियों से भरा पड़ा है, परंतु रेजांगला की गौरवगाथा हर लिहाज से वीरता और शहादत की अनूठी दास्तां है।बिना किसी तैयारी के हरियाणा के अहीरवाल क्षेत्र के वीर जवानों ने 18 नवंबर 1962 को लद्दाख की दुर्गम बर्फीली चोटी पर सैन्य पराक्रम वीरता और शहादत का ऐसा इतिहास लिखा था,जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता।चीन को आज भी वह हार कचोटते रहता है। वीर अहीर सैनिकों की बहादुरी दुनिया में अपनी तरह का एक अलग नजीर पेश करता है जहां मुट्ठी भर सैनिकों ने पूरी पलटन को पलट कर रख दिया था।यह भारत भूमि के वीरों के जज्बे का ही परिणाम था,कि चीन सीज फायर करने को मजबूर हो गया था।बेशक भारत को इस युद्ध में अधिकारिक रूप से जीत नसीब नहीं हुई, परंतु सामरिक दृष्टि से सर्वाधिक महत्वपूर्ण मानी जाने वाली रेजांगला पोस्ट पर  भारतीय जांबाज जवानों ने हजारों चीनी सैनिकों को मौत के नींद सुला कर भारत की अस्मिता की लाज रख ली थी।इस लड़ाई में तत्कालीन 13 कुमाऊं बटालियन के कुल 124 जवान शामिल थे, जिनमें से 114 शहीद हो गये थे।शहादत वीरता और पराक्रम की गाथा लिखने वालों में अधिकांश जवान अहीरवाल क्षेत्र के थे।

इस युद्ध की खास बात यह थी कि चीनी सैनिक जहां पहाड़ी क्षेत्र की भौगोलिक परिस्थितियों व बर्फीले मौसम से पूरी तरह अभ्यस्त थे, वहीं मैदानी क्षेत्रों से गये भारतीय सैनिकों के लिए परिस्थितियां पूरी तरह प्रतिकूल थी।उसी विषम परिस्थिति में 18 नवंबर को तड़के चार बजे युद्ध शुरू हो गया था।नजदीक की दूसरी पहाडि़यों पर मोर्चो संभाल रहे अन्य सैनिकों को रेजांगला पोस्ट पर चल रहे इस ऐतिहासिक युद्ध की जानकारी तक नहीं थी।

 लद्दाख की बर्फीली, दुर्गम व 18 हजार फुट ऊंची इस पोस्ट पर सूर्योदय से पूर्व हुए इस युद्ध में यहां के वीरों की वीरता देखकर चीनी सेना कांप उठी थी और उनके  पांव उखड़ गए थे। इस युद्ध में 124 में से कंपनी के 114 जवान शहीद हो गये,तब तक उन्होंने चीन के आगे बढ़ने के मंसूबों पर पानी फिर दिया था।

पीकिंग रेडियो ने भी तब केवल रेजांगला पोस्ट पर ही चीनी सेना की शिकस्त स्वीकार की थी।रेजांगला पोस्ट पर दिखाई वीरता का सम्मान करते हुए भारत सरकार ने कंपनी कंमाडर मेजर शैतान सिंह को मरणोपरांत देश के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार पदक परमवीर चक्र से सम्मानित किया था।साथ ही इसी बटालियन के आठ अन्य जवानों को वीर चक्र, चार को सेना पदक व एक को मेंशन इन डिस्पेच से सम्मानित किया गया था।13 कुमायूं के सीओ को एवीएसएम से अलंकृत किया गया था।भारतीय सेना के इतिहास में किसी एक बटालियन के जवानों को एक साथ इतने सम्मान नहीं प्राप्त हुए हैं।

रेजांगला युद्घ में शहीद हुए सैनिकों में मेजर शैतान सिंह पीवीसी जोधपुर के भाटी राजपूत थे,जबकि नर्सिग सहायक धर्मपाल सिंह दहिया (वीर चक्र) सोनीपत के जाट परिवार से थे।वही कंपनी का सफाई कर्मचारी पंजाब का रहने वाला था,इनके अलावा शेष सभी जवान अहीर जाति के थे।इनमें से भी अधिकांश हरियाणा के रेवाड़ी, महेन्द्रगढ़ व सीमा से सटे अलवर जिले के रहने वाले थे.।कहा तो ऐसा जाता है जब उनके पास गोलियां खत्म हो गई तो जवानों ने हथियारों का इस्तेमाल लाठियों के रूप में किया और रेजांगला पोस्ट पर दुश्मन का कब्जा होने नहीं दिया।रेजांगला के वीर अहीर सैनिकों के सम्मान में आज भी वहां स्मारक बना हुआ है जहां सभी सैनिकों के नाम संगमरमर पर खुदा हुआ है।देश के लोग आज भी रेजांगला के वीर सैनिकों को गर्व के साथ याद करते हैं।भारत हमेशा से शांति और भाईचारा में विश्वास करने वाला मुल्क रहा है लेकिन जब जब किसी ने ललकारा है उसे उसी की भाषा में जवाब देते आया है और देता रहेगा।

 

गोपेंद्र कुमार सिन्हा गौतम

सामाजिक और राजनीतिक चिंतक 

देवदत्तपुर दाउदनगर औरंगाबाद बिहार  95 07 34 1433

 

 

 

स्वरचित मौलिक

©® लेखक