विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, May 31, 2020

पिनाहट में दबंग कर रहे अवैद्य कब्जा की कोशिश 






पीडिता ने की उप जिलाधिकारी से शिकायत

पिनाहट  ।पिता की जमीन व मकान पर पिता की मृत्यु के बाद बेटी को कब्जा तो मिल गया।लेकिन दबंग बेटी से जबरन कब्जा हटवाने की फिराक में तरह तरह की धमकियां दे रहे है।जिससे पीडित महिला ने उप जिलाधिकारी ने शिकायत की है।

 

      थाना बासोनी के गांव टोडीपुरा निवासी मालादेवी पुत्र लालाराम अपने पिता की इकलौती संतान है।पिता की मृत्यु के बाद पिता की  सम्पत्ति घर और जमीन पर उसने अपना कब्जा  कर लिया है । लेकिन आरोप है कि गांव के ही दबंग बलवंत,राजू,नारायणी देवी,इन्द्रादेवी राजकुमारी,जसराम मिलकर पिता की जमीन व घर पर जबरन कब्जा करना चाह रहे है ।जो आये दिन लडते झगडते रहते है।और महिला को प्रताड़ित कर तरह तरह की धमकियां दे रहे हैं ।महिला ने इस सम्बन्ध मे उप जिलाधिकारी बाह से शिकायत की है ।अपनी जान व माल को खतरा बताया है ।

    वही उप जिलाधिकारी बाह ने थानाध्यक्ष बासोनी को आदेशित किया कि मामले की जांच कर आख्या प्रेषित करे।


 

 



 



पिनाहट में मनायी गयी अहिल्याबाई होल्कर की जयंती 






पिनाहट  ।रविवार को वीरांगना अहिल्याबाई की 295 वीं जयंती पुरा जयचंद में शेफर्ड टाइगर फोर्स इंडिया इकाई के लोगो ने शोसल डिस्टेंश के तहत मनायी। सभी सदस्यो ने मातेश्वरी अहिल्याबाई होल्कर की जयंती मनायी।इस दौरान धर्मेन्द्र बघेल,गजेन्द्र बघेल,प्रताप बघेल,राजूबघेल,संदीप बघेल,बी पी बघेल,विपिन बघेल,नरेन्द्र बघेल आदि मौजूद रहे।


 

 



 



मैंने अपने ही चेहरे पर कई चेहरे चढ़ते -उतरते देखे




आदमियों की भीड़ में चेहरे अनोखे देखे 

कुछ हँसते तो कुछ रोते देखे 

कुछ गुस्से से भरे कुछ बिल्कुल शांत देखे 

कुछ के चेहरे पर थी उदासी असीम 

तो वहीं कुछ मुस्कराते देखे 

आदमियों की भीड़ में...... 

 

पुछना चाहा जो मैंने रोतों से 

सभी खून के प्यासे देखे 

बात की जो उदासी और पीड़ा से तो 

सबके सबके रोते देखे 

मैंने इक चेहरे पे कई चेहरे वो ढोते देखे 

आदमियों की भीड़.....

 

गुरूर किसी को दौलत का था 

कोई हुस्न की चाशनी में डूबा था 

कई अपनी जवानी पर इतराते देखे 

आदमियों की भीड़ में..... 

 

कुछ महलों में, कुछ झोंपड़े में जीते देखे 

कुछ के पास एक कमरा तो कुछ फुटपाथ पे देखे 

कुछ खाने से भागते तो कुछ भूखे -प्यासे देखे 

आदमियों की भीड़ में..... 

 

कुछ कुर्सी की चाह में लड़ते देखे 

कुछ कुर्सी पर ही अड़े देखे 

कुछ ने छोड़ी कुर्सी सम्मान में कुछ 

बेइज्जत छोड़ते देखे 

आदमियों की भीड़ में ....

 

मैं भी हिस्सा हूँ भीड़ की

इन में से बहुत से चेहरे मैंने खुद के देखे 

कुछ खुद ब खुद बदले और 

कुछ को जमाने ने बदलवा दिया 

मैंने अपने ही चेहरे पर कई चेहरे चढ़ते -उतरते देखे।

 

रीमा मिश्रा"नव्या"

आसनसोल(पश्चिम बंगाल)


 

 



 

मध्यप्रदेश के अन्य जिलों की यात्रा के लिए ई पास आवश्यक नहीं






शिवपुरी, 31 मई 2020/ अब मध्यप्रदेश के किसी भी जिले में यात्रा के लिए ई पास की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है। लॉकडाउन के दौरान आर्थिक गतिविधियों को संबल प्रदान करने और प्रदेश के भीतर आमजनों का आवागमन सुलभ बनाने के लिए यह निर्णय लिया गया है। राज्य शासन के नवीनतम निर्देशानुसार मध्यप्रदेश में एक जिले से अन्य जिले में यात्रा करने के लिए अब ई-पास की आवश्यकता नहीं होगी।
साथ ही प्रदेश से किसी जिले से अन्य राज्य में अथवा अन्य राज्य से प्रदेश के किसी जिले में यात्रा के लिए पूर्व व्यवस्था अनुसार ई-पास प्राप्त करना अनिवार्य होगा। ऐसी परिस्थिति में व्यक्ति को पूर्व की भांति ही https://mapit.gov.in/covid-19/ पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा। ई-पास ऑटो जनरेटेड होंगे एवं आवेदन करते ही संबंधित को sms के माध्यम से स्वतः प्राप्त हो जाएंगे।


 

 



 



सरसों का उपार्जन 10 जून तक होगा- मंत्री श्री पटेल

शिवपुरी, 31 मई 2020/ किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने बताया है कि न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरसों का उपार्जन विलंब से शुरू होने और किसानों की माँग पर सरकार ने उपार्जन की तिथि को बढ़ाने का निर्णय लिया है। उन्होंने बताया है कि अब न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरसों का उपार्जन 10 जून तक होगा। प्रमुख सचिव, किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग श्री अजीत केसरी ने उपार्जन की अंतिम तिथि में वृद्धि किये जाने संबंधी आदेश जारी करते हुए कहा है कि रबी विपणन वर्ष 2020-21 में सरसों के न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उपार्जन के लिये अंतिम तिथि में वृद्धि की गई है। उपार्जन की शेष शर्तें यथावत रहेंगी।


कोरोना संकट में जरूरतमंदों का सहारा बन रही आँगनवाड़ी कार्यकर्ता

शिवपुरी, 31 मई 2020/ प्रदेश में ग्रामीण अंचलों मे आँगनवाड़ी कार्यकर्ता कोविड-19 युद्ध में अपनी सहभागिता बखूबी निभा रहीं है। कोरोना संक्रमण से बचाव एवं जन-सामान्य में जागरूकता के लिये रतलाम जिले की आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने सामूहिक रूप से अपने व्यय पर स्वयं मास्क निर्मित कर ग्रामीणों को निःशुल्क वितरित कर रहीं है। आँगनवाड़ी कार्यकर्ता इन विषम परिस्थितियों में भी स्वास्थ्य और आयुष विभाग का सहयोग कर नियमित सर्वे, स्क्रीनिंग, जन-सामान्य में कोरोना संक्रमण से बचाव की समझाईश, दवाई, काढ़ा वितरण आदि कार्य भी कर रहीं है।
पूर्ण लॉकडाउन के कारण रेडी-टू-ईट बनाने के लिये कारीगरों की कमी के चलते आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने स्व-सहायता समूहों का सहयोग करते हुए रेडी-टू-ईट न सिर्फ बनाने में मदद की, बल्कि उसका हितग्राहियों में सफल वितरण भी किया। महिला-बाल विकास विभाग ने अभियान के तौर पर शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के कंटेनमेंट क्षेत्रों के ऐसे रहवासियों को चिन्हित किया जिनके पास मोबाइल है। आँगनवाड़ी कार्यकर्ताओं ने घर-घर जाकर चिन्हित लोगों को एप की जानकारी और इसके उपयोग करने का तरीका बताया।


महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान से नवीन संबद्धता एवं नवीनीकरण के लिये आवेदन 31 जुलाई तक आमंत्रित

शिवपुरी, 31 मई 2020/ स्कूल शिक्षा विभाग के महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान द्वारा सत्र 2021-22 के लिये वर्तमान में प्रचलित पाठ्यक्रम के आधार पर नवीन संबद्धता अथवा संबद्धता नवीनीकरण के लिये 31 जुलाई तक आवेदन आमंत्रित किये गये हैं। प्रदेश के शासकीयध्आदर्श संस्कृत विद्यालय, अशासकीय संस्कृत विद्यालयध्शासकीय संस्कृत महाविद्यालय एवं परम्परागत आवासीय संस्कृत पाठशालाएँ, महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान से नवीन संबद्धता प्राप्त करने अथवा संबद्धता नवीनीकरण के लिये एम.पी. ऑनलाइन के माध्यम से 31 जुलाई, 2020 तक आवेदन कर सकती हैं। 


नगरीय निकायों एवं पंचायतों की मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 4 अगस्त को

शिवपुरी, 31 मई 2020/ राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा नगरीय निकायों और त्रिस्तरीय पंचायतों के निर्वाचन के लिए फोटोयुक्त मतदाता सूची के वार्षिक पुनरीक्षण की स्थगित प्रक्रिया को एक जून से फिर शुरू किया जा रहा है। इसके लिए संशोधित कार्यक्रम जारी किया गया है। मतदाता सूची एक जनवरी 2020 की संदर्भ तारीख के आधार पर तैयार की जायेगी। फोटोयुक्त मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 4 अगस्त 2020 को किया जायेगा।
सचिव मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग श्री दुर्ग विजय सिंह ने जानकारी दी है कि शिफ्टिंग संबंधी विवादों के निराकरण के लिए आयोजित बैठक में लिये गये निर्णय अनुसार कार्यवाही एक जून तक करना है। फोटोयुक्त प्रारूप मतदाता सूची का नगरपालिका वार्ड, ग्राम पंचायत एवं अन्य विहित स्थानों पर सार्वजनिक प्रकाशन एक जुलाई 2020 को होगा। प्रारूप मतदाता सूची मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय राजैनतिक दलों को उपलब्ध कराना और स्टैण्डिंग कमेटी की बैठक एक और दो जुलाई को कराना है। प्रारूप मतदाता सूची पर एक से 9 जुलाई तक दावे-आपत्ति ली जाएंगी। दावे-आपत्तियों का निराकरण 15 जुलाई तक किया जायेगा। फोटोयुक्त मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन नगरपालिका वार्डों, ग्राम पंचायतों एवं अन्य विहित स्थानों पर 4 अगस्त 2020 को किया जायेगा।
श्री सिंह ने कहा है कि राज्य शासन द्वारा इंदौर एवं उज्जैन सम्पूर्ण जिलों को तथा भोपाल सहित कुछ नगर निगमध्नगरपालिका क्षेत्र को रेड जोन में रखा गया है। अतः इन क्षेत्रों में मतदाता सूची पुनरीक्षण की कार्यवाही स्थगित रखी जाए। साथ ही कलेक्टर द्वारा घोषित कन्टेन्मेंट क्षेत्र में भी कार्यवाही तब-तक स्थगित रखी जाये जब-तक कि सक्षम अधिकारी द्वारा उक्त क्षेत्र को कन्टेन्मेंट क्षेत्र से बाहर घोषित नहीं कर दिया जाता है। इस संबंध में बिन्दुवार जानकारी आयोग को तत्काल उपलब्ध करायी जाए। जिले से प्राप्त जानकारी के आधार पर ऐसे चिन्हित क्षेत्रों में मतदाता सूची पुनरीक्षण हेतु पृथक से कार्यक्रम जारी किया जाएगा।
राज्य निर्वाचन आयोग के सचिव श्री सिंह ने सभी कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देशित किया है कि पूरी प्रक्रिया में भारत एवं राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 के संक्रमण पर नियंत्रण के लिए जारी गाइड-लाइन का पूरा पालन किया जाय। दावा-आपात्ति केन्दों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो और मास्क का उपयोग सुनिश्चित करें। प्रत्येक केन्द्र पर सेनेटाइजर उपलब्ध करवाया जाये।


राष्ट्रीय यादव सेना के प्रयागराज मंडल मीडिया प्रभारी रणविजय सिंह यादव द्वारा लाक टाउन में पेश कर रहे हैं मानवता की मिसाल




दैनिक अयोध्या टाइम्स संवाददाता  शिव कुमारी यादव देल्हूपुर ,

प्रतापगढ़  । राष्ट्रीय यादव सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष  मनोज कुमार यादव व राष्ट्रीय संगठन मंत्री मंगलेश कुमार यादव जी के दिशा निर्देश के अनुसार प्रयागराज के मंडल मीडिया प्रभारी रणविजय सिंह यादव द्वारा इन दिनों  लॉक टाउन में गरीबों किसानों युवाओं को दिल खोलकर मदद कर रहे हैं। जब से लाक डाउन की घोषणा हुई उसी दिन से अपनी युवा टीम के साथ  लोगों के मदद को आगे आए । उन्होंने कहा कि यह सिलसिला लगातार जारी रहेगा चाहे वह खाने की व्यवस्था रही  हो ।  चाहे वह मार्क्स वितरण हो या साबुन वितरण हो  क्षेत्र की जनता का कहना है कि रणविजय सिंह यादव गरीबों किसानों युवाओं के मसीहा माने जाते हैं जो जनपद प्रतापगढ़ जिले में अपनी लोकप्रिय कार्य शैली व सामाजिक कार्यों के लिए पहचाने जाने वाले रणविजय सिंह यादव जो निर्विवाद साफ-सुथरी छवि और लोकप्रियता के कारण कम उम्र में सामाजिक कार्यों में एक अपनी अलग पहचान प्रतापगढ़ जिले में कायम की है। वहीं पहचान वह जनता के बीच में क़ायम है। उन्होंने कहा कि इस संकट की घड़ी में हम जनता के साथ हैं जनता के लिए हमारे घर के दरवाजे हमेशा के लिए खुले रहेंगे। कोरोनावायरस महामारी के दौर में इस समाज के कुछ अच्छे लोग भी सामने आए हैं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपनी ।परवाह किए बिना समाज की सेवा में जुटे हैं ऐसा ही एक नाम है । रणविजय सिंह यादव जो जनपद प्रतापगढ़ के मान्धाता ब्लाक के जददूपुर गांव निवासी हैं रणविजय सिंह यादव।जो राष्ट्रीय यादव सेना के प्रयागराज मंडल मीडिया प्रभारी के पद पर आसीन हैं। वायरस संक्रमण के बचाव के लिए उन्होंने कहा कि समाज की सेवा करना हमारा मुख्य उद्देश्य जनता के दुख सुख में कंधे से कंधा मिलाकर चलने का संकल्प मेरा मुख्य उद्देश्य है।


 

 



 

40 लीटर शराब खाम व शराब बनाने के उपकरणों के साथ 01 अभियुक्त गिरफ्तार

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर- थाना कैमरी पुलिस द्वारा विजय पाल पुत्र सुखलाल निवासी ग्राम जनूनागर थाना कैमरी, रामपुर को यूरिया मिश्रित कच्ची शराब का निष्कर्षण करते समय 40 लीटर शराब खाम, लहन, करीब 2 किलो यूरिया व शराब बनाने के उपकरण के साथ पीला खार डैम के पास ग्राम जनूनागर को जाने वाले रास्ते से गिरफ्तार किया गया तथा पुलिस द्वारा मौके पर करीब 100 लीटर लहन नष्ट कर दिया गया। इस संबंध में थाना कैमरी पर मुकदमा अपराध संख्या-77/20 धारा 60A आबकारी अधिनियम व 272 आईपीसी पंजीकृत कर कार्यवाही की गई।


गोवर्धन की जनता विगत सप्ताह से पेयजल के लिए कर रही है त्राहि-त्राहि




गोवर्धन चेयरमैन एवं अधिशासी अधिकारी नगर निवासियों का शोषण करने में मस्त

डॉ केशव आचार्य गोस्वामी मथुरा ब्यूरो अयोध्या टाइम्स

 मथुरा (उत्तर प्रदेश) मथुरा जनपद के विश्व प्रसिद्ध पवित्र तीर्थ स्थल गोवर्धन धाम में वर्तमान समय में आम जनता पेयजल के लिए  त्राहि-त्राहि कर रही है नगर पंचायत गोवर्धन चेयरमैन एवं अधिशासी अधिकारी राजेश चौधरी द्वारा पेयजल की व्यवस्था है कोई कठोर कदम नहीं उठाया गया है सप्लाई द्वारा पेयजल की जो पूर्ति की जाती है वह भी गंदा एवं बदबूदार पेयजल की सप्लाई की जा रही है जिससे क्षेत्र में संक्रामक रोग फैलने की आशंका बनी हुई है विश्व में अपना अनूठा स्थान रखने वाले गोवर्धन धाम में भजन लाखों की संख्या में श्रद्धालु भक्त देश विदेश से आते हैं भीषण गर्मी में शुद्ध पेयजल की आवश्यकता प्रत्येक आमजन के लिए आवश्यक है लेकिन श्री गोवर्धन पीठ के अंतर्गत स्थित हेडपंप को जोकि विगत 1 वर्ष से क्षतिग्रस्त हो गया है नागरिकों द्वारा जिसकी सूचना नगर पंचायत चेयरमैन एवं अधिशासी अधिकारी राजेश चौधरी को दी आज तक उस हेडपंप को सही नहीं कराया गया है विगत दिनों मौसम की ट्राई ट्राई के कारण विद्युत व्यवस्था चरमरा गई इससे क्षेत्र में पानी की गंभीर समस्या पैदा हो गई नगर वासियों को जंगल में एवं खेतों पर आसपास के हेड पंप कुआं से पेयजल के लिए भागदौड़ करनी पड़ी  गोवर्धन के क्षेत्र चकलेश्वर तिवारी मोहल्ला तबेला नदी वाली गली 10 विषय हरदेव गली उप्पलवास हरदेव मंदिर क्षेत्र मनसा देवी सैनी मोहल्ला ठाकुरान आदि क्षेत्रों में आम जनता पेयजल के लिए दर-दर भटकती रही लेकिन नगर पंचायत प्रशासन गोवर्धन मूकदर्शक बना हुआ है आए दिन पेयजल की गंभीर समस्या पैदा है अगर पेयजल सप्लाई किया जाता है तो वह भी बदबू एवं दुर्गंध युक्त है क्षेत्रीय व्यक्तियों द्वारा नाम ना छापने पर बताया है कि नगर पंचायत गोवर्धन का यह दुर्भाग्य है कि जो भी चेयरमैन इस गद्दी पर आता है जनता का शोषण करता है 70 वर्ष के बाद में अभी नगर पंचायत गोवर्धन की जनता मूलभूत समस्याओं के लिए दर-दर भटक रही है नगर पंचायत चेयरमैन एवं अधिशासी अधिकारी जनता का शोषण करने के अलावा नगर पंचायत को भ्रष्टाचार ग्रस्त कर दिया है और आम जन समस्या निवारण हेतु दर दर की ठोकर खा रहे हैं


 

 



 

ज़िलाधिकारी ने शहर में जनजीवन को सामान्य करने की दिशा में जारी किए गए निर्देशों के अनुपालन की स्थिति का जायजा लेने के लिए औचक निरीक्षण किया

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर-जिलाधिकारी आन्जनेय कुमार सिंह ने शहर में कोविड-19 के संक्रमण के दौरान जनजीवन को सामान्य करने की दिशा में जारी किए गए निर्देशों के अनुपालन की स्थिति का जायजा लेने के लिए औचक निरीक्षण किया।निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने राधा रोड, ज्वालानगर, एलआईसी चौराहा, शाहबाद गेट सहित शहर के प्रमुख स्थलों पर खुली दुकानों पर फिजिकल डिस्टेंसिंग के अनुपालन एवं मास्क के उपयोग को प्रोत्साहन देने के लिए दुकानदारों द्वारा की गई व्यवस्थाएं देखी। उन्होंने मास्क न पहनने वाले लोगों को मास्क वितरित कराए तथा सख्त निर्देश भी दिए की यदि नियमित रूप से मास्क का उपयोग नहीं करेंगे तो जुर्माना लगाया जाएगा। इसके अलावा मुंह और नाक को पूरी तरह कवर न करने वाले मास्क पर भी पाबंदी लगाई गई है। जिलाधिकारी ने निरीक्षण के दौरान ऐसे लोगों को रोककर उन्हें मानक के अनुरूप बनाए गए मास्क वितरित कराए। तथा कहा कि भविष्य में  मानक के अनुरूप  ही मास्क का उपयोग करें तथा अनावश्यक रूप से  घर से बाहर बिल्कुल न निकले।दुकानदारों को भी सख्त हिदायत दी कि किसी भी दशा में फिजिकल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन नहीं होना चाहिए और बिना मास्क पहने दुकान पर आने वाले लोगों को कोई भी सामग्री की बिक्री न की जाए। यदि दुकानदार द्वारा बिना मास्क के विक्रय किया गया तो उन पर भी जुर्माना लगाया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि ऐसे क्षेत्रों की दुकानें ही खोली जाएं जिन्हें खोलने की अनुमति उपजिलाधिकारी द्वारा दी गई है तथा दुकानदार इस बात का विशेष ध्यान रखें की दुकान खोलने के दौरान निर्धारित शर्तों का भी गंभीरतापूर्वक पालन होना चाहिए दुकानों को खोलने तथा आमजन के आवागमन को निर्धारित शर्तों के अंतर्गत ही छूट प्रदान की गई है परंतु कोविड-19 के संक्रमण पर प्रभावी रोकथाम के लिए जारी किए गए निर्देशों के उल्लंघन पर सख्त कार्रवाई भी की जाएगी।इस दौरान उपजिलाधिकारी सदर प्रवीण कुमार वर्मा भी मौजूद रहे।

यूपी में नई गाइडलाइन जारी, 30 जून तक रहेगा लॉकडाउन, 8 से खुलेंगे होटल और धार्मिक स्थल

पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

उत्तर प्रदेश  सरकार ने अनलॉक-1 के पहले चरण की नई गाइडलाइन जारी कर दी हैं। यूपी में 30 जून तक लॉकडाउन जारी रहेगा। 8 जून से होटल और धार्मिक स्थल खुलेंगे। जुलाई में स्कूल कॉलेज खोलना प्रस्तावित है। एक केस मिलने पर 250 मीटर का दायरा कंटोनमेंट जोन घोषित किया जाएगा। एक केस मिलने पर फ्लोर सील होगा, जबकि एक से ज्यादा केस मिलने पर टावर सील कर दिया जाएगा। केस निकला तो घर के मालिक को घर का सैनिटाइजेशन कराना होगा। दुकानदारों को फेसमास्क, सैनिटाइजर रखना होगा। जिले में कैसे दुकाने खुलेंगी ये डीएम तय करेंगे। नोएडा, गाजियाबाद में जिला प्रशासन नियम तय करेगा। समस्त कार्यालयों में 100 प्रतिशत अटेंडेंस होगी। ▪️तीन पालियों में काम होगा बाजार सुबह 9 बजे से रात्रि 9 बजे तक खुलेंगे। ▪️सुपरमार्केट भी खुलेंगी सब्जी मंडियों को 6 से 9 और फल मंडियों को सुबह 8 से रात 8 बजे तक खोला जाएगा। ▪️मिठाई की दुकान खोल सकते हैं, लेकिन बैठकर खाने की व्यवस्था नहीं।▪️बस में उतने लोग बैठ सकते हैं जितनी सीटें हैं। ▪️कार के लिए भी यही नियम है। ▪️दोपहिया वाहन पर अब दो लोगों की छूट। ▪️ऑटो में भी जितनी सीट उतने लोग। ▪️बाजार में सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन होना चाहिए। ▪️पार्क सुबह 5 से 8 और शाम 5 से 8 बजे तक खुलेंगे। रोडवेज की बसें चलाने की अनुमति  ▪️सैलून, ब्यूटी पार्लर भी खुलेंगे। एक जून से रेल सेवा भी शुरू होगी। ▪️इसके लिए स्वास्थ्य विभाग की गाइड लाइन का ध्यान रखें। 8 जून से शॉपिंग मॉल भी खुलेंगे। ▪️अंतरराष्ट्रीय उडानें बंद रहेंगी। ▪️औद्योगिक क्षेत्र में मरीज मिला तो 24 घंटे के लिए रहेगा बंद।

▪️बस स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग होगी। ▪️रात 9 से सुबह 5 बजे तक कर्फ्यू रहेगा। ▪️नाइट शिफ्ट में काम कर सकते हैं लेकिन ऑफिस को पिकअप और ड्रॉप करने की सुविधा देनी होगी। ▪️सैलून खुलेंगे लेकिन कर्मचारी फेस मास्क जरूर लगाएंगे.एक ही तौलिए का बार-बार उपयोग नहीं होगा.। ▪️टैक्सी, कैब और ई-रिक्शा को भी अनुमति मिली.। ▪️फल मंडी सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक खुलेगी.।

चुनौतियों को स्वीकार करो क्योकि इससे या तो  सफलता  मिलेगी या शिक्षा सनी साहू




पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

 लखनऊ :- श्री सीताराम परिवार संस्था द्वारा कोविड-19 लॉक डाउन से निरंतर 69 दिनों से जरूरमंदों को अपनी भोजन सेवा प्रदान कर रहे है और प्रतिदिन लगभग 200 से 300 परिवारों को विश्व मे फैली महामारी के चलते जरूरत सामग्री राशन व भोजन सेवा घर घर पहुंचा रहे थे वही जब श्रमिक मजदूरों का देश के विभिन्न राज्यों से पलायन आरम्भ हुआ तो जिसको जैसे सुविधा उपलब्ध हुई उसी तरह चल दिया और लखनऊ के आगरा एक्सप्रेस-वे पर यात्रा कर आरहे श्रमिक मजदूरों को परिवार संस्था के संस्थापक सनी साहू के नेतृत्व व सहयोगी   बने अभिषेक गुप्ता सआदतगंज वार्ड के युवा नेता  समस्त सदस्यों द्वारा भोजन पानी की व्यवस्था आरंभ करी गई जिसमें श्रमिक मजदूरों को भूखे पेट पैदल यात्रा करते देख श्री सीताराम परिवार संस्था द्वारा उनको भोजन पानी की व्यवस्था लखनऊ से आगरा एक्सप्रेस वे पर कराई जा रही है जिससे वह आगे का सफर खाली पेट व प्यासे  ना तये करना पड़े इसी उद्देश्य के साथ में श्री सीताराम परिवार संस्था निरंतर अपनी सेवा ऐसे जरूरतमंदों तक उपलब्ध कराती रहेगी वह अपनी सेवाओं को सुचारू रूप से आरंभ करें रहेगी क्योंकि देश जीतेगा और कोरोना हारेगा।


 

 



 

मज़बूर मानव

कैसी विपदा आन पड़ी है


अपने हुए परायें हैं

कल तक जो अपना कहते थे

सब तो हमको विसराये है।

      इतने वर्षों से जो कमाया था

      वो रिश्ते भी काम मे न आये हैं

     जो कहते थे उनका ख़ास हूँ मैं

     सब वादे उनके झूठे झुठाये हैं।

महामारी कैसे आ गयी है अब

शहर से पैदल चलना है

नंगे पांव में पड़े है छाले

भूखे प्यासे रहना है। 

        प्रकृति के खेल के आगे देखो

        मानव कितना मजबूर है

        कितनी तेजी कर ले विज्ञान अभी

        कुदरत के राज़ों से बहुत दूर है।


 "कलयुग के रिश्ते"

आधुनिक युग में सबसे चिंतनीय विषय है,तो वो है खराब होते रिश्ते,इसके पीछे कहीं न कहीं ऐसे मनुष्यों का हाथ है जिनकी सोच का स्तर अत्यन्त निकृष्ट है व दूसरों को बहकाकर रिश्तों में दरार पैदा करना इनका पेशा है। अगर देखा जाय तो हर तरफ रिश्ते तार-तार हो रहे हैं।पारिवारिक रिश्तों की बात की जाए तो इस समय इन रिश्तों का सबसे बुरा हाल है।लोग दूसरे के बहकावे में आकर अपनो से रिश्ते तोड़ देते हैं।और जो लोग बहकाने वाले होते हैं,वो समझते हैं कि उनके कारनामे छिप जाएँगे।ऐसा नही है,मनुष्य से गलती हो सकती है,कि वो गलत ना पकड़ पाए,परन्तु उसके(ईश्वर) बारे में सोचिए जो बहुत बड़ा सी०सी०टी०वी० कैमरा रखे हुए है और उसके कैमरे की क्वालिटी इतनी बढ़िया है,की उससे कोई नही बच सकता।

                                          अक्सर दूसरों के द्वारा कानों में जहर भर देने के कारण हम अच्छे से अच्छे रिश्ते तोड़ देते हैं,पर एक बार भी हम विचार नही करते कि जो दूसरा कोई हमे बहका रहा है वो सच भी कह रहा है या नही।बस इसी गलती के कारण अच्छे से अच्छे रिश्ते हमेशा-हमेशा के लिए खत्म हो जाते हैं।इस कलयुग में होशियार होने की जरूरत है क्योंकि जो आपका बहुत करीबी है वही आपको गर्त में धकेल देगा,अतः सतर्क रहिये और अपने आंख से देखी व कान से सुनी बात पर ही विश्वास कीजिये।ऐसा कर के उनके मुंह पर तमाचा जड़ दीजिये जिनकी सोच निम्न कोटि की है।

 

 

""क्या भारत के ग्रामीण अब कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट बन रहे हैं

क्या  भारत के ग्रामीण इलाके अब कोरोना वायरस का नया हॉटस्पॉट बन रहे हैं? दोस्तों पहले ज्यादातर नए मामले देश के शहरों से ही सामने आ रहे थे l लेकिन अब ग्रामीण इलाकों की हिस्सेदारी भी बढ़ने लगी है ,जो कि बहुत ही चिंता का विषय है l दोस्तों लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर ग्रामीण इलाकों की तरफ लौट रहे हैं l जिस कारण से इन ग्रामीण इलाकों में भी संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है l दोस्तों अगर प्रत्येक राज्य सरकार शुरुआती समय में पहल किया होता और जो प्रवासी मजदूर है या जो भी व्यक्ति वंचित है परेशान है उसके रहने खाने और उसके सुरक्षा की गारंटी लिया होता तो शायद हमारे देश का यह तबका अपने घरों के तरफ हजारों किलोमीटर भूखे ,प्यासे पैदल जाने को मजबूर नहीं होता और यह शहरों की बीमारी शायद गांव तक नहीं पहुंच पाती जिस प्रवासी मजदूरों ने उस शहर को बनाने के लिए अपनी पूरी जिंदगी लगा दिया कई पीढ़ियां उस शहर को बसाने में अपना जीवन खपा दिया l लेकिन उस शहर ने इस वैश्विक महामारी से उपजी इन वंचित लोगों की परेशानी के लिए आगे बढ़कर मदद नहीं किया बल्कि हजारों किलोमीटर पैदल चलने पर मजबूर किया और बहुत से प्रवासी मजदूर गरीब तबके के लोग अपने मंजिल तक पहुंचने से पहले ही मौत के मुंह में समा गए l कोई प्रवासी मजदूर अपने गांव की तरफ जाने के लिए हजारों किलोमीटर परिवार के साथ पैदल चला रास्ते में भूखे प्यासे मारा गया तो कोई ट्रक के नीचे कुचल गया तो कोई ट्रेन के नीचे आकर मारा गया और अगर में कोई किसी तरह  से बच भी गया तो भेड़ -बकरियों की तरह क्वॉरेंटाइन में रख दिया गया जहां उचित व्यवस्था ही नहीं है l जैसा कि हम देख रहे हैं कि अब ग्रामीण भारत में भी कोरोना  वायरस का केस  दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है ,जो कि बहुत ही चिंता का विषय इसलिए हमें अब ग्रामीण भारत में स्वास्थ्य सेवाओं को मजबूत करने की जरूरत है अगर नहीं किया तो हालात नियंत्रण से बाहर हो जाएंगे l दोस्तों भारत में जितने हॉस्पिटल , बेड्स है उनमें अगर देखा जाए तो ग्रामीण इलाकों के हिस्से सिर्फ 33% बेड्स आते हैं और डॉक्टरों की भारी कमी है l अगर आंकड़ों के मुताबिक देखें  तो भारत में सरकारी अस्पतालों के पास इस समय करीब 7 लाख बेड्स है पूरे भारत में और इनमें से ग्रामीण स्वास्थ्य प्रणाली का हालात बहुत बुरा है l इसीलिए दोस्तों पलायन के साथ बढ़ता संक्रमण का खतरा राज्य सरकारों के लिए भी चिंता का विषय है l दोस्तों प्रवासी मजदूरों की घर वापसी ने अब ग्रामीण इलाकों में भी कोरोना वायरस से खतरे को बढ़ा दिया है l लेकिन मेरा सवाल यह है आपसे कि क्या इसके लिए सिर्फ प्रवासी मजदूर ही जिम्मेदार हैं? दोस्तों हम जानते हैं कि जो प्रवासी मजदूर उस शहर को बनाने के लिए अपना कई पीढ़ियों से जीवन दांव पर लगाकर शहर को सवार थे रहें वह शहर राज्य उनको अपना या नहीं इस वैश्विक महामारी में इन प्रवासी मजदूरों के पास लॉक डाउन के दौरान अपना सब कुछ गंवाने के बाद, घर लौटने के अलावा कोई विकल्प नहीं था l और इसके लिए मैं अपने देश के सिस्टम को जिम्मेदार मानता हूं l क्या जो  प्रवासी मजदूरों ने उस शहर राज्य को बनाने के लिए अपना पूरा जीवन दाव पर लगाया l क्या उनके रहने -खाने का जिम्मेदारी नहीं ले सकती थी सरकार उनको आश्वासन नहीं दे सकती थी कि हम हैं आपके साथ हर प्रकार का मदद किया जाएगा? लेकिन ऐसा नहीं हुआ अगर हुआ होता तो यह वंचित प्रवासी गरीब मजदूर कभी भी हजारों किलोमीटर पैदल चलकर इस मुश्किल दौर में नहीं जाते l लेकिन कहते हैं ना मरता क्या ना  करता? दोस्तों जो भी हो आदिकाल से मानव जीवन संघर्षों से घिरा रहा है l जीवन के साथ संघर्ष था, हैं और रहेगा l देश- काल और परिस्थितियों के अनुसार इस संघर्ष की प्रबलता में उतार-चढ़ाव देखने को मिलता हैl दोस्तों हमें जीवन जीने के तौर-तरीकों में बदलाव लाना होगा l और इन वंचित प्रवासी मजदूरों के लिए हम जितना कर सकते हैं अपनी सामर्थ्य अनुसार हमें उनकी मदद के लिए कदम बढ़ाने की जरूरत है l दोस्तों हर बदलाव बेहतरी के लिए होता है l जीवन के इस संघर्ष में इंसान ही विजयी होगाl और देखना फिर सब कुछ पहले जैसा होगा l इसलिए हमें इंसानियत छोड़नी नहीं चाहिए l इस वैश्विक महामारी में हमारा साहस और सावधानी ही खत्म करेगा इस परेशानी को इसलिए हमें सावधान रहना है सुरक्षित रहना है और आस-पड़ोस के वंचित तबकों के लिए दिल- खोलकर मदद करने की जरूरत हैl

दहेज़

दहेज़ के नाते जब उसे दी जाती थी यातनाएं

वो अपने परिवार के लिए ख़ामोशी से सब सहती

अक्सर उसके पैरों को जलाया जाता गर्म चिमटों से

भूखी प्यासी वो तड़पती रहती कई कई दिन रात

मगर कभी नहीं मांग करती अपने मायके से कुछ

वो लड़की है वो जानती है मायके की परिस्थिति

पता है बैंकों से लोन लेकर की गई है उसकी शादी

दर्द,प्रताड़ना को रोज़ सहती लेकिन ख़ामोश रहती

एक दिन ससुराल वालों ने मिट्टी का तेल डाल 

जला दिया उस बहू को जिसके हृदय में लक्ष्मी बसती थी

तड़प और प्यास से वो चिल्लाती रही पापा भैया मां

मगर दहेज के लोभी उसे जलता देख हंसते रहे

 बेटी को मुखाग्नि देते वक़्त पिता ने बस यहीं कहा

"बेटी नहीं होती पराया धन,बेटी तुझे न्याय दिलाऊंगा"

न्याय के देवी ने आंखों में फ़िर बांध लिया काली पट्टी

स्वतंत्र हो कर घूमने लगे उसके ससुराल वाले 

मगर पिता ने वादा पूरा किया उन्हें सजा दिलवाया

मुकदमें के लिए मां ने बेच दी मंगलसूत्र भाई ने छोड़ दी पढ़ाई

आख़िर में पिता की ये बात सच निकली

"बेटी नहीं होती पराया धन,बेटी तुझे न्याय दिलाऊंगा"

 

 

बिहार में पांचवी लाकडाउन का प्रभाव और उम्मीद 

पिछले दो महीने से पूर्ण लाॅकडाउन को 1 जून 2020 से सोशल डिस्टेसिंग के कुछ शर्तो के साथ होटल,  रेस्टूरेन्ट,  परिवहन धार्मिक स्थल तथा माॅल को खोलने के लिए भारत सरकार द्वारा अनुमति देने की घोषणा की गयी है।यह पुरी तरह से बंद पड़ी आर्थिक गलियारो को गति देने के लिए लिया गया कदम माना जा रहा है।जबकि कोरोना संक्रमित लोगो की तादाद निरंतर बढ़ रही जो देश  में अभी तक एक लाख तीस हजार पार कर चुकी है जबकि मौत का आँकड़ा पाँच हजार के करीब पहुँच चुका है ।ऐसे में आर्थिक गलियारे का खुलना एक जोखिम तो है ही पर उससे भी कहीं ज्यादा जरूरत भी है।

आर्थिक मंदी 

बिहार पहले से ही आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहा है जब अचानक शराबबंदी कर एक बड़े रिवेन्यू को अचानक बंद कर दी गयी।एक तरफ बाढ़ और सूखा से तंग बिहार का सबकुछ कृषि पर आश्रित है।इसमें बाजार का बंद होना निश्चित ही आर्थिक समस्या उत्पन्न कर रहा था।

पलायन

बिहार की बड़ी आबादी दूसरे प्रदेशों में काम करती है जो इस समय बिहार में है।उनकी स्थिति को देखा जया तो सबसे ज्यादा खराब हैं ।परदेश की आमदनी शून्य हो चुकी है और यहाँ सारे काम बंद फिर उनकी जीविका के आगे गहरा संकट हैं । ऐसे में बाजार का खुलना उन लोगों को बड़ी राहत देगी। विशेषकर रिक्शा चालक, आटो चालक, रेरी वाले, फुटपाथ दुकानदार, ट्रेनो में स्टेशनो पर सामान बेचने वाले, फेरी करने वाले,  खेतिहर मजदूर,  निर्माण कार्य के मजदूर,  ईट भट्ठे के मजदूर,  सड़क के मजदूर और विभिन्न प्रकार के मैकेनिक के लिए यह एक अच्छी खबर मानी जाएगी।

कोरोना का  भय 

वही दूसरी ओर देखा जाए तो बिहार में कोरोना का ग्राफ अब तेजी से बढ़ने लगा है। ऐसे में और अधिक सावधानियाँ बरतने की जरूरत है।बिहार की चिकित्सा व्यवस्था और राज्यों के अपेक्षा लचर मानी जाती है।यहाँ ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी शिक्षा की कमी है।ऐसे में यदि ग्रामीण क्षेत्रों में इसने पांव फैलाये तो हालात बिगड़ सकती है।वैसे अभी भी सबकुछ राज्य सरकार पर डिपेन्ड करता है कि वह किस प्रकार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराती है ।प्रशासन की जिम्मेदारी और बढ़नेवाली है । क्योंकि यह दौर चुनौतीपूर्ण है ।

व्यवसायी की समस्या

 टूट चुकी आर्थिक चेन को पुनः पटरी पर लाना भी सरल कार्य न होगा।दो महीने के बाद पड़े बाजार और उत्पादन को काफी प्रभावित किया एक चेन जो बनी हुई थी कंपनी से डिस्ट्रीब्यूटर,  रिटेलर फिर कस्टमर वो प्रायः पुनः स्थापित कर गति लाना किसी चुनौती से कम नहीं।यह स्थिति सभी के साथ है।जिससे व्यापारी वर्ग चिन्तित है। 

वेरोगारी की समस्या बिहार में सबसे बड़ी समस्या रोजगार की है। विकट रूप ले चुका वेरोजगारी और भी परेशानी का सबब बना जब सारे परदेशी भी यही आकर बैठे हैं ।सरकार को भी इनकी संख्या देखकर हाथ पाँव फूलने लगे है।

बेरोजगारों का इतिहास

आज जिसे देखो वेरोजगारी पर भाषण दे सकता है लेकिन यह वेरोजगारी की शूरूआत कहाँ से हुई क्या बिहार नब्बे के दशक में वेरोजगार था या नब्बे के बाद हुआ ? 1990से 2005 के बीच सभी चीनी उद्योग बंद हुए। जुट मीले बंद हुए। वस्त्र उद्योग बंद हुए। बुनकर का पलायन आरंभ हुआ। मिथिला पेंटिग्स पर प्रभाव पडा।छोटे मझोले उद्योग बरौनी उद्योग बंद हुए।औद्योगिक वित्त निगम का हाल खस्ता हुआ। सब उन दिनों हुए जब बिहार की सत्ता समाजवादियो के हाथो में थी और तो और 1990से लेकर 2005 तक सभी तरह की बहाली बंद कर दी गयी जिससे सरकारी संस्थानो और शिक्षण संस्थानो पर बुरा प्रभाव पड़ा जो आज तक ठीक नही हो सका।

वेरोजगारी की मार सह रहा बिहार 1900 से 2020 तक इस स्थिति में  पहुँच चुकी है जिसका मंजर हमने लाक डाउन में  देखा है। आखिर इसकी जिम्मेदारी तो दोनो ही कार्यकाल के सरोकारों को ही लेनी होगी।आखिर 30 वर्षो से ऐसा क्या कारण रहे की इतने बड़े पैमाने पर पलायन होता रहा और सरकारें सिर्फ विज्ञापन देकर सोती रही।यह अगर विकास की परिभाषा है तो बहुत चिन्ताजनक है।इन 30 वर्षो के दौरान बिहारी नेताओं की वेतहाशा दौलत में वृद्धि हुई है जबकि यहाँ की जनता दिन प्रतिदिन नीचे जा रहे।प्रति व्यक्ति आय आज बिहार की देश की औसत आय से भी कम है । वेरोजगार युवक को रोजगार देने का विजन क्या होगा उसका अभी तक किसी मंच से व्याख्या नही की गयी कैसे रोजगार सृजन करेंगे।बिहार बाढ से प्रवाहित होती है उसके लिए क्या योजनायें है।

समाधान की उम्मीद सरकार से

बिहार की बेहतरी के लिए सरकार को उन उपायो पर जल्द गौर करना होगा जिससे रोजगार मिल सके बंद उद्योगो के लिए सोचना होगा क्योंकि उद्योग के बिना रोजगार की कल्पना करना तथ्य से परे है ।अब पानी सर से ऊपर जा चुका है तो सरकारों की कार्यप्रणाली दुरूस्त करने की आवश्यकता है। यही जमीनी हकीकत है जिस पर कोई समीकरण लागू नही होता सिर्फ उद्योग के समीकरण से ही पलायन रूक सकता है । बिहारवासी बहुत उम्मीद के साथ सरकार की ओर देख रही है अब आने वाला वक्त ही बताएगा कि वह कितने की आशा को बरकरार रख पाती है।

                                   आशुतोष 

                                  पटना बिहार     

 

 

बच्चों की सुरक्षा में कहीं हो ना जाएं चुक

बाल रक्षा दिवस एक जून को बनाया जाने वाला कोई त्यौहार या आम विश्व दिवस नहीं है। जिसकी हम एक दूसरे को शुभकामनाएं दे कर खुशी बनाएं। बाल रक्षा दिवस विचार करने का दिन है‌। क्या हम अपने देश के भविष्य कहे जाने वाले बच्चों को सुरक्षा दे पा रहे हैं। हमारे द्वारा हमारे बच्चों को वह जीवन प्रदान किया जा रहा है जिसकी उन्हें आवश्यकता है। 

भारत देश एक बहुत ही बड़ी आबादी वाला देश है। यहां पर गरीबी और बेरोजगारी बहुत बड़ी समस्याएं हैं।  ऐसे में सभी को समान सुविधाएं प्राप्त होगी ऐसा सोचना गलत है। अमीर और गरीब का भेदभाव आपको प्राप्त होने वाली सुविधाओं को प्रभावित अवश्य ही करेगा। प्रत्येक बच्चे को विकास के समान अवसर या फिर वह सभी वस्तुएं प्राप्त होगी। जिन्हें कोई अमीर परिवार में पलने वाला बच्चा प्राप्त कर पा रहा है। ऐसा विचार मन में लाना गलत है। किंतु इसका अर्थ यह बिल्कुल नहीं है कि हम किसी बच्चे को वहां आवश्यक वस्तु भी उपलब्ध ना करवाएं जो किसी बच्चे के विकास के लिए जरूरी है। 

गरीब होना एक समस्या हो सकती है। अभिशाप नहीं हम किसी भी बच्चे को उसके हाल पर यह का कर नहीं छोड़ सकते, कि उसका जन्म गरीब परिवार में हुआ है। हमारा सविधान सभी को समानता का अधिकार प्रदान करता है। इस उम्मीद के साथ की सभी को अपने विकास के लिए समान अवसर मिल सकेंगे। फिर हम कैसे किसी बच्चे के साथ अमीरी और गरीबी के आधार पर भेदभाव कर सकते हैं। शिक्षा स्वास्थ्य सुविधाएं और वह सभी आवश्यक वस्तु किसी बच्चे के लिए जरूरी है। प्रत्येक बच्चे को उपलब्ध होनी चाहिए। चाहे वह किसी भी वर्ग का हो, अमीर गरीब, जाति धर्म, किसी भी आधार पर भेदभाव नहीं होना चाहिए।

सरकार को कार्य करने चाहिए और हमें सरकार पर दबाव बनाना चाहिए कि वह ऐसा करें। साथ ही हमें अपनी ओर से सहायता भी देनी चाहिए। अपने घर में काम करने वालों को खोने के डर से सच पर पर्दा डालकर चुप नहीं रहना चाहिए। ऐसा यदि हम करेंगे तो वह आज हमें लाभ दे सकता है। किंतु आने वाले समय में हमारे लिए ही गलत निर्णय साबित होगा।

किसी देश के बच्चों के विकास के लिए अवसरों के साथ ही सुरक्षा भी जरूरी है। बिना सुरक्षा कितनी भी सुविधाएं उपलब्ध करवा दी जाए वह किसी काम की नहीं है। भारत देश में बच्चों के साथ होने वाले अपराधों का आंकड़ा बहुत अधिक है।  हमारे लिए शर्म के साथ दुख की बात है, कि यह आंकड़ा प्रतिवर्ष बढ़ता चला जा रहा है। हमारे देश में प्रत्येक दिन 350 बच्चे विभिन्न अपराधों के शिकार हो रहे हैं। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के अनुसार 2015 से 2016 के मध्य बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराधों में 11 फ़ीसदी की वृद्धि हुई है। भारत देश में सबसे अधिक बच्चों के साथ होने वाले अपराधों में बलात्कार यौन शोषण जैसी घटनाएं शामिल होती हैं। बच्चों के साथ होने वाले यौन शोषण बलात्कार खरीद-फरोख्त ऐसे अपराधों में 99% लड़कियों को शिकार बनाया जाता है। इन आंकड़ों से पता चलता है कि हम अपने यहां बच्चों को कितनी सुरक्षा प्रदान कर पा रहे हैं।

कोरोना वायरस के कारण लगे लॉक डाउन में बच्चों के साथ होने वाले अपराधों में और अधिक बढ़त आई है। हर एक मिनट में छह बच्चों का शोषण हो रहा है। यह खबर हम सभी के लिए बहुत ही निराशाजनक हैं। किंतु हमारे देश का एक कड़वा सच है जिससे हम खुद को छुपा नहीं सकते हैं।  

यदि आप यह सोच रहे हैं कि यह अपराध केवल गरीब परिवारों में होते हैं और अमीर परिवार इन से अछूते हैं तो यह विचार गलत है। चाहे गरीब हो या अमीर हर परिवार में बच्चों के साथ होने वाले अपराधों का आंकड़ा बराबर ही हैं। यह जरूर हो सकता है कि कुछ अपराध गरीब तबके में ज्यादा होते हो और कुछ अमीर तबके में‌। किंतु हमारे देश में ना गरीब परिवार के बच्चे सुरक्षित हैं और ना ही अमीर परिवार के बच्चे सुरक्षित हैं। 

दुख की बात यह है कि जितने हमारे सामने आंकड़े हैं। बच्चों के साथ होने वाले अपराधों की संख्या उससे कई अधिक है।  हमारे देश मैं बच्चों के साथ बड़ी संख्या में अपराध हो रहे हैं। किंतु ना ही हम और ना ही हमारी सरकार इन अपराधों को कम करने के लिए कोई सख्त कदम उठा रही है। हम सभी बस खानापूर्ति में लगे हुए हैं। हम इस तरह से व्यक्त करते हैं। जैसे यह अपराध हमारे समाज में नहीं बल्कि किसी अन्य समाज में हो रहे हैं। हमारे सामने यदि किसी छोटी बच्ची के साथ बलात्कार की खबर आती है। हम उस खबर को सुनकर आक्रोशित होकर गुस्सा व्यक्त करते हैं। सरकार को सख्त कानून लाने के लिए बोलते हैं।  फिर शांत होकर बैठ जाते हैं। कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाते, कि इस प्रकार का अपराध दोबारा से किसी बच्चे के साथ ना हो। 

बच्चों के साथ होने वाले अपराध बहुत से हैं। किंतु सवाल एक ही है। क्यों हम आने वाले भविष्य को सुरक्षित नहीं रख पा रहे हैं‌। हमें जरूरत है शर्म और लाज के पर्दों से बाहर आकर बच्चों से बात करने की। उन्हें सही और गलत समझाने के साथ परिवार में होने वाले अपराधों पर चुप्पी तोड़ने की। मानसिक रूप से बीमार लोगों को इलाज दिलवाने के लिए तैयार करने की। ताकि आपका बच्चा उनकी मानसिक परेशानी का शिकार ना बने। बच्चे मासूम होते हैं। उनके बचपन पर हैवानियत को अपना खौफ फैलाने से रोकने के लिए हर जगह पर बदलाव की जरूरत है। लालच और स्वार्थ की सोच से बाहर आकर बच्चों के साथ होने वाले अपराधों पर खुले तौर पर बात होनी चाहिए। ताकि अधिक से अधिक लोग जागरूक हो सके ओर अपने बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए प्रयास कर सकें। भविष्य को सवारने के लिए हमें आज से ही प्रयास करने होंगे, तभी भविष्य सुंदर बनेगा। बाल सुरक्षा दिवस को बस तारीख ना समझे। इसे एक उम्मीद बनाकर अपने बच्चों को सुरक्षित रखने के प्रयास करें।

       धन्यवाद 

    राखी सरोज

 

 अंतरराष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस बनाम वैश्विक महामारी : कोविड-19

जैसा कि हम जानते हैं कि १ जून अंतरराष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस के रूप में लगभग पूरी दुनिया में मनाया जाता है। इस दिवस को पहली बार १ जून १९५० में ५१ देशों के द्वारा मनाया गया था। तब से लेकर आज तक यह दिवस बच्चों के प्रोत्साहन हेतु खासकर करके अनाथ, गरीब और दिव्यांग बालकों की प्रोन्नति हेतु एक पर्व के रूप में मनाया जाता है। कहा जाता है कि बच्चे किसी भी देश के भविष्य होते हैं इनकी सुरक्षा करना हर देश का मुख्य कर्म है। अगर हमारे बच्चे सुरक्षित होंगे तो हमारे देश का भविष्य भी उज्ज्वल होगा। बच्चों की सुरक्षा और उनके मूल अधिकारों को बचाने के लिए इस दिवस की शुरुआत हुई थी।
बाल सुरक्षा दिवस का मुख्य उद्देश्य बच्चों के भविष्य को सुरक्षित करने वाले कार्यक्रमों को लागू करना और बाल मजदूरी से बच्चों को बचाना है। आज के दिन बच्चों के लिए कार्यक्रम आयोजन के माध्यम से बच्चों की समस्याओं का निराकरण करते हुए और उनको उपहार व सम्मान भेंट किया जाता है। गरीब, अनाथ और दिव्यांग बालकों की मदद हेतु आश्वासन दिया जाता है। नृत्य संगीत कार्यक्रम के साथ विभिन्न प्रकार की शिक्षाप्रद प्रदर्शनियां आयोजित की जाती है।
पर आज की यह विपरीत परिस्थितियां जो कोविड-19 की वजह से उभरी हैं यह इस बाल सुरक्षा दिवस को फीका कर सकता है। एक अंतरराष्ट्रीय रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 महामारी २०२० के अंत तक ८.६ करोड़ बच्चों को गरीबी में धकेल सकती है जिससे इस अंतरराष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस के उद्देश्य पर विपरीत प्रभाव पड़ने की पूरी संभावना है। रिपोर्ट में यह कहा गया है कि कोरोना महामारी से पैदा हुए आर्थिक संकट के कारण २०२० के अंत तक कम और मध्यम आय वाले देशों के गरीब घरों में रहने वाले बच्चों की संख्या में ८.६ करोड़ तक बढ़ सकती है। आज कोविड-19 वायरस के कारण अब तक लगभग पूरी दुनिया में ५६९५२९० लोग संक्रमित और ३५५६९२ लोगों की मौत हो चुकी है। इन आंकड़ों में बच्चों की भी अधिकता है जिसमें डब्ल्यू एच ओ के रिपोर्टों में साफ तौर पर कहा गया है कि यह कोविड-19 वायरस बुजुर्गों और बच्चों के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकती है और यह बात साबित भी हुई है अब तक करोड़ों बच्चों की जान जा चुकी है इस वैश्विक महामारी में, ऐसे में बच्चों का यह त्यौहार कैसा रहेगा हम सब समझ सकते हैं।
आज की इस वैश्विक महामारी का पूरा असर इस अंतरराष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस पर देखा जा सकता है। इस महामारी के चलते जब कम व मध्यम आय वर्गीय परिवार आज रास्ते पर आ चुका है ऐसे में उन परिवारों का हिस्सा बना बच्चा अपने तमाम अधिकारों से वंचित हो चुका है। आखिर ऐसे में देश के भविष्य का निर्माण करने वाले इन गरीब, बेसहारा और दिव्यांग बच्चों का क्या होगा? इस वर्ष इस अंतरराष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस को एक अलग तरीके से मनाने की बारी है। घर से बेघर हुए इन बच्चों को सहारे के अहम जरूरत है उनकी शिक्षा जो इस वैश्विक महामारी के चलते पूर्णतः प्रभावित हो चुकी है फिर से पटरी पर लाना होगा। उनके भरण-पोषण का उचित प्रबंधन करना जरूरी है तभी एक सुंदरतम भविष्य का निर्माण संभव है। यदि ऐसा करने में कोई भी देश चूक गया तो वहाँ बाल मजदूरों में इजाफा जरूर देखा जाएगा। भूख-प्यास से मरने वाले बच्चों का ग्राफ ऊपर उठेगा जो किसी भी देश के लिए अच्छा संकेत नहीं है। जरूरत है इस अंतरराष्ट्रीय बाल सुरक्षा दिवस को कुछ अलग करने की ताकि देश के भविष्य निर्माणक इन बेसहारा, गरीब और दिव्यांग बालकों के मूल अधिकारों की रक्षा की जा सके तभी एक सुदृढ़ समाज की कल्पना संभव है और इससे हमारा आगे आने वाला कल भी सशक्त होगा।


रचनाकार :- मिथलेश सिंह 'मिलिंद'


केसरिया हिन्दू वाहिनी युवा मोर्चा जनपद बाराबंकी कमेटी हुई पूर्ण




*उत्तर प्रदेश विशेष संवाददाता:-जितेंद्र सिंह अन्नू*

उत्तर प्रदेश लखनऊ केसरिया हिन्दू वाहिनी राष्ट्रीय कार्यालय प्रभारी वैभव मिश्र व संस्थापक हिन्दूरत्न माननीय श्रीमान अतुल मिश्र लकी जी के मार्गदर्शन पर केसरिया परिवार लगातार हो रहा मजबूत जैसा कि आप सभी को पता है कि, प्रदेश अध्यक्ष युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश हिन्दू सम्राट युवा दिल की धड़कन विशाल मिश्रा जी के नेतृत्व प्रदेश के सभी पदाधिकारी निरंतर कार्यरत हैं जिनकी जितनी सराहना की जाये कम हैं |

प्रदेश अध्यक्ष युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश से हिन्दू सम्राट युवा दिल की धड़कन विशाल मिश्रा जी ने आज प्रदेश उपाध्यक्ष युवा दिल की धड़कन जितेंद्र सिंह अन्नू जी के अनुमोदन से बाराबंकी जनपद से सम्पूर्ण युवा मोर्चा कमेटी को मनोनित किया गया

प्रदेश अध्यक्ष युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश हिन्दू सम्राट विशाल मिश्रा जी ने सभी को निर्देशित करते हुए कहा कि, आप सम्पूर्ण निष्ठा, ईमानदारी के साथ सभी क़ानूनी नियम का पालन करते हुए एवं तन, मन व् धन से केसरिया हिन्दू वाहिनी परिवार की सेवा करते रहेंगे और हिदुत्व के लिए महिला सम्मान, गऊ सेवा के लिए तत्पर तैयार रहेंगे और केसरिया परिवार को आगे बढ़ाने में सहयोग करते रहेंगे| सभी नव नियुक्त पदाधिकारियों ने हिन्दू सम्राट युवा दिल की धड़कन विशाल मिश्रा जी प्रदेश अध्यक्ष युवा मोर्चा उत्तर प्रदेश को विश्वास दिलाया और सपथ ली कि आज से निरंतर पूरी निष्ठा के साथ कार्य करते रहेंगे और ऐसा कोई कार्य नहीं करेंगे जिससे केसरिया हिन्दू वाहिनी परिवार का अहित हो | 

प्रदेश उपाध्यक्ष युवा दिल धड़कन जितेन्द्र सिंह अन्नू जी ने बताया कि, जनपद बाराबंकी से जनपद कमेटी पूर्ण की जा चुकी हैं जनपद में आज उत्तम सिंह, हिमांशु वर्मा, दिग्विजय सिंह, गौरव मिश्रा, सुरजीत कुमार, अखिलेश सिंह चौहान, अमित वर्मा, अभिषेक तिवारी, पवन कुमार, सौरभ कुमार, वीरेंद्र शुक्ला, अतुल दीक्षित  को मनोनित किया गया हैं एवं जनपद बाराबंकी से तहसील रामसनेहीघाट से गुरुमीत पाल, आनन्द यादव, दीपक वर्मा, मुकेश यादव व् राहुल तिवारी को मनोनित किया गया हैं 

समस्त केसरिया परिवार ने नवनियुक्त पदाधिकारियों को शुभकामनायें दी एवं सभी के उज्जवल भविष्य कामना की ||


 

 



 

सीएम योगी आदित्यनाथ का अभियान, सभी निराश्रितों को आर्थिक सहायता

*संदीप दूबे दैनिक अयोध्या टाइम्स न्यूज सुलतानपुर*-कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण काल में भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पर नियंत्रण लगाने के लिए अपना मोर्चा खोल रखा है। उनका प्रयास है कि लॉकडाउन में सभी प्रवासी तथा उत्तर प्रदेश में निवास कर रहे दूसरे राज्यों के लोग अपने-अपने घर पहुंचे। इसके साथ ही कहीं पर भी कोई भी भूखा न रहे।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को टीम-11 के साथ बैठक में प्रदेश के सभी निराश्रित लोगों को आर्थिक  सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जिस निराश्रित व्यक्ति के पास राशन कार्ड न हो, उसे खाद्यान्न के लिए एक हजार रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाए। इसके साथ ही ऐसे लोगों के राशन कार्ड भी बनाए जाएं, जिससे उन्हेंं नियमित तौर पर खाद्यान्न मिलता रहे। हर हाल में यह सुनिश्चित किया जाए कि प्रदेश में कोई भूखा न रहे।मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसी निराश्रित व्यक्ति के गंभीर रूप से बीमार होने की दशा में, यदि उसके पास आयुष्मान भारत योजना अथवा मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना का कार्ड नहीं है, तो उसे तात्कालिक मदद के तौर पर दो हजार रुपये दिए जाएं। ऐसे निराश्रितों के समुचित उपचार की व्यवस्था भी की जाए। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि उन्होंने निर्देश दिए कि किसी निराश्रित व्यक्ति की मृत्यु होने पर उसके परिवार को अन्तिम संस्कार के लिए पांच हजार रुपये की आर्थिक मदद दी जाए।

लखनऊ में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने   देश के रक्षा मंत्री और लखनऊ पश्चिम के विधायक लापता के लगाये पोस्टर 




पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

लखनऊ :- विपक्ष हमेशा मौके पे चौका मारने की तलाश में रहता है कुछ ऐसी ही एक घटना राजधानी लखनऊ से आई है जहां लखनऊ पश्चिम के विधायक सुरेश श्रीवास्तव को लापता घोषित कर दिया गया है इतना ही नही इनके साथ साथ केंद्रीय रक्षा मंत्री राज नाथ सिंह को भी इनके साथ लापता बताया गया है जिसका बकायदा पोस्टर भी जगह जगह चस्पा कर दिया गया है।पोस्टर का रंग रूप और छपवाने वालों के नाम से ये साफ जाहिर है कि दोनों समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता हैं लिहाजा ये कहना गलत नही होगा कि लाकडाउन में सपा की ये एक अनोखी चाल है जो खुद को समाचार पत्रों में लाने के लिए की गई है।इस मामले में सुरेश श्रीवास्तव का कहना है कि वो कहीं लापता नही हैं बल्कि लाकडाउन का पालन कर रहे हैं और ये कुचक्र समाजवादी पार्टी का है जिनके खिलाफ हमारे कार्यकर्ताओ ने एफआईआर दर्ज करा दी है।वही पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने का दावा भी किया है।


 

 



 

राजधानी लखनऊ के बालागंज क्षेत्र में जरूरतमंदों के लिए समाज सेवक नीरज गंभीर आए सामने




*प्रदुम दीक्षित जिला संवाददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ*

लखनऊ में लॉक डाउन के दौरान समाजसेवी नीरज गंभीर के द्वारा किया गया सराहनीय कार्य नीरज गंभीर ने पूरे लॉक डाउन के दौरान गरीब व असहाय लोगों को राशन वितरण किया  व प्रवासी मजदूरों को भी उनके अपने निवास तक पहुंचने में सहायता किया जो भी मजदूर पैदल चल कर के  बालागंज चौराहे तक पहुंच पाएं उनके लिए साधन की व्यवस्था व जलपान करा कर उनके लिए समाज सेवा के रूप में नीरज गंभीर आए सामने उनका कहना है कि जब तक लॉक डाउन चल रहा है और आगे भी जो भी हो सकेगा हम मजदूरों के लिए व जरूरतमंद लोगों के लिए कार्य करते रहेंगे और करते आए हैं।


 

 






ईओ प्रभात रंजन यादव ने निगरानी समितियों के कार्य का किया निरीक्षण

पत्रकार:-प्रशान्त यादव
करहल : नगर पंचायत  के ईओ प्रभात रंजन यादव ने विभिन्न वार्डों  में भ्रमण कर निगरानी समितियों द्वारा किए गए कार्य का निरीक्षण किया इस दौरान उन्होंने होम क्वॉरेंटाइन टाइम किए गए लोगों से हाल-चाल भी जाना । इस दौरान उन्होंने वार्ड के लोगों को मास्क लगाने , सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड करने की भी सलाह दी इस दौरान वरिष्ठ लिपिक अजमत राहत ,अवनींद्र , दयानंद , राजा अशोक , सुमेर सिह समेत विभिन्न वार्डों के सभासद भी मौजूद रहे ।


किशनी चौराह पर रखा ट्रांसफॉर्मर बदला गया

पत्रकार:-प्रशान्त यादव
करहल के किशनी चौराहा पर क्षतिग्रस्त हुए ट्रांसफार्मर को बदलवा दिया गया है बिजली विभाग ने लोगों की परेशानी को समझते हुए शीघ्रता दिखाई है और नया ट्रांसफार्मर रखवा दिया है ट्रांसफार्मर बदल जाने से अब विद्युत आपूर्ति सुचारू की जा सकेगी ।


भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति की महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष क्षमा बाजपेई स्कूल की फ़ीस माफ़ करने को लेकर दिया बयान






प्रदुम दीक्षित जिला संवाददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

लखनऊ :- उत्तर प्रदेश लखनऊ भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति की महिला प्रकोष्ठ की प्रदेश अध्यक्ष क्षमा बाजपेई ने कहा सरकार द्वारा दिए गए आदेशों पर पानी फेरती दिखी स्कूल और कॉलेज 

जानकारी के लिए बता दे कोरोना महामारी के चलते परेशान जनता अपने बच्चों फीस जमा करने में असमर्थ लेकिन स्कूल के अध्यापको के द्वारा अभिभावकों पर फीस के प्रेशर बनाया जा रहा है जिसको लेकर भरतीय किसान यूनियन जन शक्ति महिला प्रकोष्ठ प्रदेश अध्यक्ष क्षमा बाजपेई ने अपनी गुस्सा जाहिर किया ।

*किसानों और मजदूरों पर बन बैठा बोझ*

लोक डाउन के दौरान किसान और मजदूर के बच्चे स्कूल में पढ़ते थे उनको भी  अब फीस देना बहुत मुसीबत और मशक्कत उठानी पड़ेगी सरकार अपने फैसले पर कायम क्यों नहीं है यही नही जो मजदूर काम करके अपने बच्चों को पढ़ाई लिखाई करवा रहे थे आज हालत बेहाल हो चुकी है सरकार को इस मामले को संज्ञान में लेते हुए फीस माफ करने का आदेश जारी करना चाहिए।

*ऑनलाइन पढ़ाई करने के नाम पर विद्यालय धन को बटोरने में लगे*

ऑनलाइन पढ़ाई का झांसा देकर स्कूल व कालेज धन को बटोरने में लगे हैं जबकि कुछ बच्चे ऐसे हैं जिनको ऑनलाइन के बारे में कोई जानकारी नहीं है और माता-पिता के पास कोई एंड्रॉयड फोन भी उपलब्ध नहीं है ऐसी स्थिति में भला ऑनलाइन पढ़ाई कैसे की जाए यही नहीं कुछ ऐसे अभिभावक है  जिनके पास एंड्रॉयड फोन  नहीं है उनके बच्चे इस पढ़ाई  को कैसे अध्ययन करें जबकि पढ़ाई फीस के लिए विद्यालयों से फोन आना चालू हो गये है जब कि 3 महीना हो गया है लॉक डाउन के इस समय  किसानों व मजदूरों  को  रोटी चलाने के लाले पड़  हैं  आखिर इस स्थित में भला फीस कैसे जमा कर सकते है यह उत्तर प्रदेश के लिए बना बड़ा  सवाल है ।


 

 



 



अज्ञात वाहन से टकराकर डिवाइडर पर चढ़ी डबल डेकर बस

9 सबारियों को आयीं हल्की फुल्की चोटें नागलोई बहादुरगढ़ बोर्डर दिल्ली से प्रवासी मजदूरों को बिहार ले कर  जा रही थी बस
पत्रकार:-प्रशान्त यादव
करहल थाना  क्षेत्र अंतर्गत आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे km 83 पर नागलोई बहादुरगढ़ बोर्डर दिल्ली से प्रवासी मजदूरों को बिहार ले जा रही बस सं up51at8109 डबल डेकर बस समय करीब 2: 30 am बजे आगे जा रहे किसी अज्ञात वाहन से टकराकर असंतुलित होकर डिवाइडर पर चढ गयी जिसमें बैठी नौ सवारियो को हल्की फुल्की चोटें आईं यूपीडा की एम्बुलेंस द्वारा प्राथमिक उपचार दिया गया शेष सवारिया सुरक्षित हैं बस में कुल क़रीब 100 सवरिया प्रवासी मज़दूर थी । सूचना मिलते ही मौके पर क्षेत्राधिकारी अशोक कुमार व थाना प्रभारी देवेंद्र नाथ मिश्रा मौके पर पहुँचे । जिन्होंने प्रवर्तन अधिकारी  कौशलेन्द्र सिंह से वार्ता कर बसों का इंतजाम करके थर्मल स्केंनिंग एवं गंतव्य बिहार को भेजने हेतु व्यवस्था की ।


सीतापुर बाईपास थाना ठाकुरगंज  क्षेत्र चौकी आम्रपाली के अंतर्गत हयातनगर में खुलेआम सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ाई जा रही धज्जियां




*प्रदुम दीक्षित जिला संवाददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ*

राजधानी लखनऊ के थाना ठाकुरगंज क्षेत्र आम्रपाली चौकी के अंतर्गत हयातनगर सोशल डिस्टेंसिंग  की उड़ाई जा रही हैं खुलेआम धज्जियां यहां पर बाजार में सीतापुर बाईपास के पावर हाउस के सामने एक बाजार में वहां के निवासी लोग सब्जी व अन्य चीजें लेने के लिए उपस्थित हुए हैं लेकिन ना तो कोई मार्क्स लगाए हुए हैं और ना ही सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर के चल रहे हैं यहां पर बात उसके पुलिस प्रशासन पर पुलिस प्रशासन ना तो कोई सिपाही है वहां मौजूद और ना ही कोई दरोगा इसमें पुलिस प्रशासन की लापरवाही सामने आ रही है और पुलिस प्रशासन की इतनी लापरवाही मे बढ़ा जोखिम यहां की जनता उठा सकती है डीसीपी वेस्ट सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के लगातार कोशिश और शक्ति के बावजूद भी सुधरने का नाम नहीं ले रहा थाना ठाकुरगंज यहां के लोग भी जागरूक होने का नाम नहीं ले रहे हैं कोरोना जैसी महामारी के चलते सोशल डिस्टेंसिंग  का पालन ना करके उड़ाई जा रही हैं धज्जियां।


 

 



 

समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता कर रहे हैं सराहनीय कार्य



*प्रदुम दीक्षित जिला संवाददाता लखनऊ दैनिक अयोध्या टाइम्स*

         लखनऊ.. आगरा हाईवे टोल टैक्स पर प्रवासी मजदूरों को सहायता उपलब्ध करते हुए समाजवादी. पार्टी के  पूर्व राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं  पूर्व. मंत्री आईपी  सिंह और साथ में एडवोकेट प्रमोद सिंह यादव  लखनऊ पश्चिम 171.... एवं पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव... सभी साथियों ने मिलकर माननीय राष्ट्रीय अध्यक्ष जी के दिशानिर्देशों के.. पालन करते हुए जरूरतमंद लोगों को फल पानी उपलब्ध कराया . वहीं पर अन्य समाजवादी पार्टी कार्यकर्ताओं ने भी सहयोग किया साथ में मिलजुल कर प्रवासी मजदूरों को निरंतर सेवा करते चले आ रहे हैं

 

 



 

आंधी और तूफान से जन जीवन प्रभावित, बारिश ने दी राहत

*संदीप दूबे दैनिक अयोध्या टाइम्स न्यूज सुलतानपुर*- शनिवार की देर शाम आंधी-तूफान के साथ आई बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। तेज गरज के साथ हुई बारिश की वजह से घरों को लौट रहे राहगीर सुरक्षित स्थानों की तलाश करते देखे गए।सुल्तानपुर शहर के अलावा कुड़वार क्षेत्र के भण्डरा परशरामपुर, पूरे रामदयाल,प्रतापपुर में भी इसी तरह आंधी के साथ बारिश हुई।आँधी से आम के फलों को काफी नुकसान हुआ है।काफी मात्रा मे आम टूटकर नीचे गिर गये। बढ़ते तापमान के बीच बारिश ने लोगों को गर्मी से राहत दिलाने का काम किया है।बारिश के बाद लोगों ने राहत की सांस ली।

 पिनाहट में आंधी पानी बारिश तूफान से ढह गई थाने के माल खाने की छत, सैकड़ों विद्युत पोल धराशाई 






पिनाहट। शुक्रवार शाम को आई तेज आंधी, बारिश व तूफान में पिनाहट क्षेत्र के सैकड़ों विद्युत पोल तोड़ टूट गये हैं। जिससे दर्जनों गांव की विद्युत व्यवस्था बाधित हो गई है। तेज आंधी बारिश के चलते थाना पिनाहट के माल खाने की छत भी ढह गई ।उमरैठा में भी एक मकान की छत पर रखा टीन शेड उड़ गया ।और टीन शेड क्षतिग्रस्त हो गया ।जिससे किसान के घर में रखे फ्रीज व टीवी  क्षतिग्रस्त हो गये ।

       जानकारी के अनुसार शुक्रवार देर शाम को आई आंधी बारिश और तूफान के चलते पिनाहट  थाने के माल खाने की छत ढह गई ।और उसमें पानी भर गया ।पिनाहट के गांव उमरैठा में कुलदीप सिंह पुत्र लोचन सिंह के मकान की छत पर लगा टीन शेड उड़ गया ।और टीन शेड क्षतिग्रस्त हो गया ।जिससे  घर के अंदर रखे फ्रीज व टीवी क्षतिग्रस्त हो गए। अरनोटा, बासौनी व पिनाहट फीडर के करीब एक दर्जन गांव में करीब 120 विद्युत पोल टूट गए। जिससे करीब पांच दर्जन गांवों की विद्युत व्यवस्था बाधित हो गई है।

     वह इस मामले में एसडीओ पिनाहट मनोज महाजन का कहना है कि 120 विद्युत पोल टूटने का सर्वे कराया गया है ।बहुत जल्द ही टूटे हुए विद्युत पोलों को सही कर विद्युत सप्लाई चालू की जाएगी।


 

 



 



पिता बेटी का रिस्त




बेटी की विदाई के वक्त बाप सबसे आखरी में रोता है ,बाकी सब भावुकता में रोते है पर बाप उस बेटी के बचपन से विदाई तक के पल याद कर कर के रोता है माँ बेटी के रिस्ते पर तो बात होती ही है पर बाप ओर बेटी का रिस्ता भी समुद्र से गहरा है,,हर बाप घर के बेटे को गाली देता है धमकाता है मारता है पर वही बाप अपनी बेटी की हर गलती नकली दादा गिरी से नजर अंदाज कर देता है ,बेटे ने कुछ मांगा तो एक बार डाट देता है पर बेटी ने धीरे से भी कुछ मांगा तो पिता सुना जाता है और जेब मे हो न हो बेटी की इच्छा पूरी कर देता है।

दुनिया उस बाप का सबकुछ लूट ले तो भी वो हार नही मानता पर अपनी बेटी के आंख के आंसू देख कर खुद अंदर से बिखर जाए उसे बाप कहते है ,,ओर बेटी भी जब घर मे रहती है तो उसे हर बात में बाप का घमंड होता है किसी ने कुछ कहा कि तपाक से बोलती है पापा को आने दे फिर बताती हु ...।

बेटी घर मे रहती तो माँ के आंचल में है पर बेटी की हिम्मत उसका बाप रहता है ,,बेटी की जब शादी में विदाई होती है तब वो सबसे मिलकर रोती तो है पर जैसे ही बिदाई के वक्त कुर्सी समेटते बाप को देखती है जाकर लिपट जाती है ऐसे पकड़ती है बाप को जैसे माँ अपने बेटे को,क्यो की उस बच्ची को पता है ये बाप ही है जिसके दम पर मैंने हर जिद पूरी की थी,,खैर बाप खुद रोता भी है और बेटी की पीठ ठोक कर फिर हिम्मत देता है कि बेटा चार दिन बाद आजाऊँगा लेने और खुद जानबूझकर निकल जाता है किसी कोने में ओर उस कोने में जाकर कितना फुट फुट रोता है वो बाप ये बात सिर्फ बेटी का बाप ही समझ सकता है ...।आँखों से नीर छलकता है , अधरों से प्यार बरसता है

दिल में पीड़ा सी होती है , जब कन्यादान  होता है। उन हाथों का कर्ज कोई नहीं चुका सकता जिन हाथों ने है ,कन्यादान किया ,झोली खाली हो जाती है, तब 

सोने का कोई सिक्का उसे कभी नहीं भर सकता लाख ठोकरें खाकर भी वह दरवाजे पर है दिखते उतार कर अपने सर की पगड़ी , पैरों पर है रख देते धैर्य ना जाने कितना उनकी रग-- रग में है बसता ,बेटी का घर ना उजड़े ,बस यही ख्याल दिल में है बसता।

 देखकर यह हालात मन विचलित सा हो जाता।

 कन्यादान ना किया हो जिसने वह क्या जाने पीर--पराई... पाल--पोसकर बड़ा किया फिर करनी पड़ती है विदाई...।

देना सीखो इन दिलदारों से लेना तो सबको है आता, झुकना सीखो इन प्यारों से झुकना तो सबको है आता, त्याग और बलिदान की है मूरत सौंप दी है तुम्हें प्यारी सी मूरत सौभाग्यशाली हैं वह जिन्होंने कन्यादान किया ,,उनसे अधिक सौभाग्यशाली है वह जिन्होंने कन्यादान लिया होता है ,,उधार ये ऋण जो बेटी किसी की है ले आते वो ऋणमुक्त तभी हो सकते जब कन्या को परिवार में सम्मान मिले और माता पिता को उनके बराबरी का हक और मान मिले...।

गुनहगार नहीं वह होते जो कन्यादान है करते फिर क्यों उन्हें हर बार अपमान ही सहना पड़ता है, वही जिनके दिल के टुकड़े से ,घर परिवार है चलता तोड़ दोगे यदि स्तम्भ को तो घर कहाँ से बनाओगे,, याद रखो स्तम्भ के बिना तुम बेघर ही रह जाओगे,, **उससे बड़ा भी क्या कोई बलिदान करता है...?   वो पिता जो गोद मे खिलाई बेटी का कन्यादान करता है...?**

दान देने की प्रथा या कुप्रथा---

हमारे यहाँ दान देने की परम्परा पुरातन काल से चली आ रही है, दान भी कई प्रकार के होते हैं, जैसे स्वेच्छा दान ( धन दान एवं कन्या दान ), रक्त दान ( दूसरे के जीवन की रक्षा के लिये ) और ज्ञान दान ( गुरूकुल की परिपाटी ), दान शब्द के आते ही दाता की महानता ( रघुकुल भूषण, राज राजेश्वर अयोध्या नरेश श्री हरिश्चन्द्र ), क्षमता ( कुन्ती पुत्र दानवीर कर्ण एवं एकलव्य ) और पर उपकार के लिये प्रसिद्ध अपने हृदय की विशालता ( महर्षि शिवी एवं दधीचि ) के लिये सदा आदर की दृष्टि से देखे जाते हैं एवं दक्षिणा दान की पूर्णाहुति होती है। दाता को समाज में आदर की दृष्टि से देखा जाता है, क्योंकि दाता का हाथ ऊपर और प्राप्तकर्ता का हाथ नीचे होता है।

 कलियुग के वर्तमान काल में दान की व्याख्या ही बदल दी है, आज कन्यादान कर रहा महान दाता ( कन्या का पिता ) सदा वर पक्ष के मुखिया के जूते की नोंक पर टिका हुआ, अपने प्रतिष्ठा के रक्षार्थ, दया का पात्र बना, दहेज ( दक्षिणा का सम्भवतः अपभ्रंश ) की मार झेलने को विवश दीन हीन प्राणी दिखाई देता है। आरम्भिक काल में कन्या का पिता यह सोचकर कि बेटी नये घर में जा रही है, उसे कोई कष्ट की अनुभूति न हो, कुछ धन बेटी को दिया होगा, अब यह वर पक्ष के मुखिया का जन्मसिद्ध अधिकार हो गया, वह भी स्वेक्षा से नहीं बलात् ( पूर्व में ही धनराशि एवं इच्छित वस्तुओं ) की सूची थमा दी जाती है। एक लडका क्या पैदा कर लिया, लगा कि लघु उद्योग स्थापित कर लिया हो और कन्या ( आपके वंश की वृद्धि की सहभागीदार ) पैदाकर बेटी का बाप कोई अक्षम्य अपराध कर दिया हो...।

नन्ही सी परी को उसने गोद में खिलाया होगा,

हर दुख दर्द से उसे बचाया होगा,

ना जाने कितने आंसुओ को दफन कर,

उसके पिता ने कन्यादान का फर्ज निभाया होगा**।

भारी दहेज लेकर आई बहू से सास, ससुर, पति एवं परिवार के अन्य सदस्य यदि यथोचित सेवा-सुश्रुषा की अपेक्षा करना बेमानी होगी। बात पर बात ताना देकर बहू ( नारी ही नारी की दुश्मन ) को इतना क्रूर बना देते हैं कि वह आने वाले दिनों में अपने बहू के प्रति कठोरता की प्रतिमूर्ति बन जाती है, आपस की प्रेम भावना का धीरे धीरे ह्रास हो रहा है।

इसिलिए प्रायः ऐसा भी देखा गया है कि कन्या भ्रूण की हत्या गर्भ में ही कर दी जाती है कि उसे वर पक्ष के सामने जलील ना होना पडे, हालांकि यह सर्वथा एक अनुचित कदम है, इस प्रवृत्ति को भी हमें रोकना ही होगा, क्योंकि इसके दुष्परिणाम स्वरूप लडके और लडकियों के अनुपात में भयानक गिरावट देखी गयी है, जो भविष्य के लिये खतरे की घंटी है। आये दिन लडकियों से छेड़छाड़ एवं बलात्कार की घटनाओं से आजकल बच्चों में असुरक्षा की भावना जोड  पकड रही है, वे कहीं भी स्वयं को सुरक्षित नहीं महसूस कर रहे हैं, इस  पर नियंत्रण करना हमारा सामाजिक दायित्व हो गया है। इसका एकमात्र बिकल्प स्वयं में सुधार लाना, समाज में इसके दुष्परिणामों के प्रति जागरूकता पैदा करना, दहेज प्रथा का हर स्तर पर विरोध ( वर वधू भी वैसे संबंध से इन्कार कर दें जो दहेज की बुनियाद पर खडा होने में प्रयास रत हो। आपका साहस ही इस कुप्रथा पर रोक लगा सकता है, काम थोड़ा कठिन अवश्य है पर नामुमकिन नहीं।

रीत आज कन्यादान की या मुहँ मांगे दहेज की---

कन्यादान करते समय हमारे समाज में माता पिता अपनी पुत्री और दामाद के पैर छूते हैं । कन्यादान के समय बेटी के हाथ पर शंख जरुरी होता हैं क्योंकि दान कभी खाली हाथ नहीं किया जाता । शंख हाथ मे रख कर उसका हाथ वर के हाथ मे दिया जाता हैं...।

क्यों जरुरी हैं ये दान ....?? क्या पुत्री कोई वस्तु हैं की आप उसको दान करके अपने किसी पाप का प्रायश्चित करना चाहते हैं... ?? क्यों पुत्री और दामाद के पैर माता पिता छुते हैं... ?? क्या आप अपने इस दुष्कर्म की माफ़ी मांग रहे हैं की आप अपनी बेटी दान कर रहे उस का जिसको दुनिया मे आप ही लाये हैं... । 

अरे-अरे!! ये मैं क्या कह गयी , सही नहीं कही क्या...? की धर्म ग्रंथो मे ये लिखा है की कन्यादान से मोक्ष मिलता हैं माता पिता अपना परलोक सुधारने के लिये पुत्री का दान करते हैं ।

कन्याभूण हत्या को अपराध मानने वाला ये समाज क्यों कन्यादान पर चुप्पी साध लेता हैं... ?? क्यों कोई भी लड़की मंडप मे इसका विरोध नहीं करती और क्यों किसी भी लड़के का अहम दान लेने पर नहीं कम नहीं होता...??

कम से कम कन्याभूण हत्या के समय तो कुछ ही हफ्तो का जीवन हैं जो खत्म कर दिया जाता हैं और आप इतना हल्ला मचाते हैं पर कन्यादान जैसी परम्परा को जहाँ एक लड़की को जो कम से कम  18 साल की हैं एक जानवर की तरह , किसी वस्तु की तरह दान कर जाता हैं , आप निभाते जाते हैं... ।

जब तक कन्या का दान होता रहेगा तब तक औरतें भोग्या बनती रहेगी क्योंकि दान मे आयी वस्तु का मालिक उसका जैसे चाहे भोग करे उपयोग करे या काम की ना लगने पर जला दे । क्या हमने तरक्की की हैं ...?? लगता नहीं क्योकि मानसिक रूप से हम सब आज भी बेकार की परम्पराओं मे अपने को जकडे हुये हैं... ।

आलेख आपने पढा , सही नहीं लगा... ?? भारतीय संस्कृति के खिलाफ हैं... ?? नारी को भड़काने वाला हैं... ?? 

ऐसी बहुत सी बाते आप के मन मे आयेगी , पर अगर एक को भी ये पढ़ कर कन्यादान ना करने की प्रेरणा मिलाए तो मुझे लगेगा मेरा लिखना सार्थक हुआ... ।

 मुझे आप के कमेन्ट नहीं , आप की वाह- वाही नहीं बस आप की बदली हुई सोच मिल जाये तो एक बदलाव आना शुरू होगा... । बदलाव लेख लिख कर , पढ़ कर या वाद संवाद करके नहीं आ सकता , बदलाव सोच बदलने से आता हैं , जरुरी नहीं हैं की जो होता आया हैं वो सही ही हैं , और ये भी जरुरी नहीं हैं की सबको एक ही रास्ते पर चलना हैं

आईये सोच बदले ,नये रास्ते तलाशे और बेटियों का दान ना करके उनको इंसान बनाए... ।

यदि आज दहेज के कारण हमारे परिवार की स्थिति के बारे में विचार किया जाए---

जब कोई बाप अपनी बेटी के विवाह में लड़के वालों की मांग को पूरा करने के लिए जो कुछ भी करता है उसे दहेज कहते है....।

       दहेज़ एक ऐसा शब्द जो भारतीय समाज में कानून से भी ज्यादा गहराई से अपनी जड़े जमाए हुए है। इसे खत्म करने की बात हर कोई करता है लेकिन जब अपनी बारी आती है तो है किसी को दहेज़ चाहिए होता है।

     दहेज़ अभिशाप की तरह भारतीय समाज पर कहर बन कर बरप रहा है।इसकी सबसे ज्यादा मार गरीबों पर होती है।दहेज़ की वजह से ही आज हमारे समाज में बेटी को बोझ समझा जाता है। 

            दहेज़ और उपहार में बहुत ही ज्यादा अंतर होता है।

 जब कोई पिता अपनी बेटी की शादी में अपनी खुशी से जो भी देता है वह उपहार होता है और इसे देना पिता का हक भी होता है क्यूंकि उस पिता ने जिस बेटी को इतने सालों तक पाला पोसा है और जब वह बेटी बिन कुछ मांगे अपनी ससुराल चली जाती है तो पिता का यह अधिकार होता है कि वह अपनी बेटी को अपनी इच्छा से जो चाहे दे सकता है।

    लेकिन जब लड़की का पिता लड़के वालों की तरफ से या किसी बाह्य दबाव के कारण जो कुछ देने को मजबूर किया जाता है वह दहेज़ होता है। दहेज़ किसी भी रूप में हो सकता है वह किसी सामग्री के रूप में या फिर नकद भी हो सकता है।

     यह हमारे समाज की बिडंबना है कि आजकल दहेज़ भी समाज में प्रतिष्ठा के प्रतीक के रूप में प्रयुक्त होता है। जो    जितना अधिक दहेज़ पाता है उसे उतनी ही ज्यादा इज्ज़त दी जाती है। जो दहेज़ नहीं लेता है उसके बारे में तमाम तरह की अफ़वाहें उड़ाई जाती हैं और समाज में उसे नकारा समझा जाता है।

     हमें यह समझना होगा दहेज़ एक भीख से ज्यादा कुछ भी नहीं है जिसमें भिखारी वर पक्ष होता है और उनका कटोरा वर होता है। जब तक हम इन भिखारियों को इज्जत देते रहेंगे हमारे समाज से दहेज़ का दानव समाप्त नहीं होने वाला है। इसलिए हमें संगठित होकर इस समस्या से लड़ने की जरूरत है।दहेज़ लोभी आज भी दहेज़ की मांग करते हैं और पूरी न होने पर हत्या भी करते हैं।   इसका प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से सबसे ज्यादा शिकार लड़कियां होती हैं। दहेज़ की वजह से समाज में लड़कियों को एक पिता बोझ के रूप में देखता है। अतः इस समस्या के ख़िलाफ़ सबसे पहले लड़कियों को खड़े होने की ज़रूरत है। इसके लिए लड़कियों को अपनी गृहलक्ष्मी की छवि से बाहर निकल कर दहेज़ लेने वालों को जवाब देने की जरूरत है...।

लड़के वालों हम लड़कियों को ये कहने पर मजबूर न करो की---

"झाड़ू-पोछा करब नाहि मांजब बर्तनवा,,,दहेज देके किनले बानी तोहरा के सजनवा..."

रीमा मिश्रा"नव्या"

आसनसोल(पश्चिम बंगाल)


 

 



 

सभी रिपोर्ट नेगेटिव, कोई नया पॉजिटिव केस नहीं

शिवपुरी, 30 मई 2020/ जिले में शनिवार को प्राप्त सभी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। कोई भी नया पॉजिटिव केस नहीं आया है। जनपद खनियांधाना के ग्राम परिहारा के पाॅजीटिव मरीज के द्वितीय संपर्क के 9 व्यक्तियों की रिपोर्ट भी निगेटिव आई है। 
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.ए.एल.शर्मा ने बताया कि 40 सैंपल में से 39 की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई हैं और एक रिपोर्ट रिजेक्ट हुई है। अभी जिले में कोरोना वायरस पॉजिटिव 8 सक्रिय केस है जिन्हें चिकित्सकों की निगरानी में आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। जिले में अभी तक कुल 12 पॉजिटिव केस आये हैं। जिनमेें से 4 लोग स्वस्थ होकर अपने घर पहुंच गए हैं। 
अभी तक 1437 सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं जिनमें से 1360 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। उन्होंने बताया है कि जिले में 76 हजार 418 व्यक्तियों की स्क्रीनिंग की जा चुकी है। आईसोलेशन वार्ड में कुल 7 लोग भर्ती हैं। जबकि संस्थागत क्वॉरेंटाइन में 48 लोगों को  रखा गया है। 


जिले में समर्थन मूल्य पर ढाई लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदी

शिवपुरी, 30 मई 2020/ रबी उपार्जन के तहत किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी की जा रही है। जिला आपूर्ति नियंत्रक श्री शर्मा ने बताया कि अभी तक जिले में समर्थन मूल्य पर 28 हजार से अधिक किसानों से लगभग ढाई लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीदी की गई है। इसके अलावा चना, मसूर और सरसों का भी समर्थन मूल्य पर उपार्जन किया गया है। उन्होंने बताया कि चना खरीदी में 4373 किसानों से 8674 मीट्रिक टन और 856 किसानों से 1540 मीट्रिक टन सरसों की खरीदी अभी तक की जा चुकी है। समर्थन मूल्य पर किसानों से उपार्जन के लिए पहले किसानों को एसएमएस भेजें गए हैं। निर्धारित दिन के लिए प्राप्त एसएमएस के अनुसार ही किसानों को खरीदी केंद्र पर बुलाया जाता है। 


पलाश और कुसुम लाख के न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि

शिवपुरी, 30 मई 2020/ मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान के निर्देश के पालन में राज्य लघु वनोपज संघ द्वारा पलाश और कुसुम लाख के लिये निर्धारित न्यूनतम समर्थन मूल्यों में वृद्धि की गई है। अब संग्राहकों से पलाश लाख 150 रूपये प्रति किलो के बजाय 200 रूपये प्रति किलो और कुसुम लाख 230 रूपये की जगह 275 रूपये प्रति किलो न्यूनतम समर्थन मूल्य की दर से खरीदा जायेगा।






राज्य लघु वनोपज संघ द्वारा संग्रहण वर्ष 2020 के लिये पुनर्निधारित दरें एवं उनमें हुई बढ़ोत्तरी इस प्रकार हैं:-

 

 



 



प्रदेश के 290 लाख गौ भैंस वंशीय पशुओं का होगा टीकाकरण

शिवपुरी, 30 मई 2020/ गौ-भैंसवंशीय पशुओं में होने वाली फूट एंड माउथ डिसिज (एफ एम डी) और ब्रूसेला डिसिज को कंट्रोल करने के लिए प्रदेश में 290 लाख गौ भैंस वंशीय पशुओं का टीकाकरण किया जाएगा। इस योजना के लिए भारत सरकार द्वारा 13 हजार 300 करोड़ का प्रावधान रखा है। एक वर्षीय टीकाकरण योजना दो चरणों में पूरी की जाएगी। राज्य शासन द्वारा 301 करोड 76 लाख की योजना केन्द्र को प्रस्तुत की गई है।इसमें प्रथम चरण के लिए 174.51 करोड़ एवं द्वितीय चरण के लिए 127.26 करोड का प्रावधान रखा गया है।
एक वर्ष में 2 बार होगा टीकाकरण
एक वर्षीय इस योजना के अंतर्गत 6 माह के अंतराल में दो बार पशुओं का टीकाकरण किया जाएगा। गत वर्ष प्रथम चरण के लिए 48 करोड़ 42 लाख का पुनर्वेधीकरण भारत सरकार द्वारा किया गया है। प्रथम चरण में मात्र गौवंश, भैंस वंशीय, बकरी भेड एवं सूकर का शत प्रतिशत टीकाकरण किया जाएगा। इस योजना में सभी पशुओं की यूआईडी टैगिंग की जा रही है।
70 लाख पशुओं की हुई टेगिंग
प्रदेश में पूर्व से ही एक अन्य पशु संजीवनी योजना के तहत प्राप्त 90 लाख टेग में से 70 लाख टेग्स पशुओं को लगाए जा चुके हैं। भारत सरकार द्वारा प्रदेश की कुल 290 लाख गौ भैंस-वंशीय पशुओं के 90 प्रतिशत पशुओं के लिए 262 लाख एफ.एम.डी. टीका-द्रव्य उपलब्ध करा दिया गया है। 


जिले के गा्रमीण क्षेत्रों में संयुक्त अभियान चलाकर किया टिडडी दल पर कीटनाशक छिड़काव

शिवपुरी, 30 मई 2020/ राजस्व, कृषि एवं भारत सरकार के टिड्डी दल नियंत्रण के श्री बी.आर.मीणा द्वारा संयुक्त रूप से नियंत्रण अभियान चलाकर जिले के अनुभाग पोहरी, पिछोर एवं कोलारस के ग्रामीण क्षेत्रों में गत दिवस रात्रि विश्राम स्थलों को चिंहित कर टिडडी दल पर कीटनाशकों का छिड़काव किया गया। इस मौके पर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व, उपसंचालक कृषि, वैज्ञानिक कृषि विज्ञान केन्द्र, तहसीलदार एवं अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे। 
किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उपसंचालक ने बताया कि जिले के सभी विकासखण्डों में मैदानी अमले द्वारा टिड्डी दल के नियंत्रण हेतु निगरानी बढ़ा दी गई है। जिसके तहत गत दिवस अनुभाग पोहरी के ग्राम गणेशखेड़ा, पिछोर के ग्राम नांद, कछौआ, बमेरा, वाचरोन, भगवंपुरा, कोलारस के ग्राम चंदनपुरा, लेवा, सेमरखेडी में चिंहित किए गए स्थलों पर कीटनाशकों का छिड़काव भी किया गया। उन्होंने बताया कि टिड्डी प्रायः दिन में भ्रमण करती है भ्रमण के दौरान ढोल, नगाड़े, ताशे बजाकर एवं तेज ध्वनि कर भी इनको भगाया जा सकता है एवं रात्रि में आठ बजे के पश्चात विश्राम अवस्था में रहती है, उस दशा में रसायनिक दवा के छिड़काव से नियंत्रण किया जाता है। इसके लिए क्लोरोपायरिफास 20 प्रतिशत, ईसी 1200 एमएल प्रति हैक्टेयर, क्लोरोपायरिफास 50 प्रतिशत, ई.सी.480 एमएल प्रति हेक्टैयर, लेम्डासायहेलोथ्रिन 5 प्रतिशत, ई.सी. 400 एमएल प्रति हेक्टेयर, मेलाथ्रियान 50 प्रतिशत, ईसी 1850 एमएल प्रति हेक्टेयर, डेल्टामेथ्रिन 2.8 प्रतिशत, ई.सी.625 एमएल प्रति हेक्टयेर की दर से छिड़काव करने पर इसको नियंत्रण किया जाता है। 
सूचना देने के लिए जिले में कंट्रोल कक्ष स्थापित किया गया है। जिसका दूरभाष नंबर 07492-234378 है। कंट्रोल कक्ष में अधिकारी एवं कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। टिड्डी दल के आगमन की सूचना उनके मोबाइल नंबरो पर दी जा सकती है। नियुक्त अधिकारी एवं कर्मचारियों में बीटीएम श्री रघुवीर सिंह यादव (9584075140), तकनीकी सहायक श्री संदीप रावत (8770728922), सहायक ग्रेड-तीन श्री रोहित कुशवाह (9009755870) शामिल है। नियुक्त अधिकारी एवं कर्मचारी प्रातः 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक कंट्रोल कक्ष में उपस्थित रहेंगे।


ग्रामीण क्षेत्रों में 01 जून से किए जा सकेंगे नलकूप खनन

शिवपुरी, 30 मई 2020/ शिवपुरी जिले में वर्तमान में पेयजल परिरक्षण अधिनियम के तहत लागू आदेश में संशोधन करते हुए 01 जून 2020 से ग्रामीण क्षेत्र के लिये नलकूप खनन कार्य हेतु शिथिलता प्रदान की जाती है। पेयजल परीरक्षण अधिनियम के अन्य उपबंध यथावत् लागू रहेंगे। नलकूप खनन हेतु नगरीय क्षेत्र में प्रतिबंध यथावत रहेगा।
लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री एस.एल.बाथम ने बताया कि पेयजल संकट को दृष्टिगत रखते हुए भूमिगत जल के दोहन को रोकने हेतु म.प्र. पेयजल परिरक्षण अधिनियम 1986 की धारा 6 (1) के अंतर्गत निजी नलकूपों के खनन को प्रतिबंधित किया गया था। वर्तमान में जिले में अन्य वर्षों की भांति जलस्तर में गिरावट नहीं आयी है। विधानसभा क्षेत्र कोलारस के विधायक एवं अन्य जनप्रतिनिधियों द्वारा भी किसानों को सिंचाई हेतु पानी की आवश्यकता को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में लागू प्रतिबंध में शिथिलता दिये जाने की मांग की जा रही है।  


नलकूपों की मरम्मत की वस्तुस्थिति की जांच हेतु दल गठित

शिवपुरी, 30 मई 2020/ कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने नगर पालिका परिषद शिवपुरी के वार्ड क्रमांक एक से 39 में स्थित समस्त नलकूप की मोटर की मरम्मत कार्य के संबंध में दर निर्धारित की गई है।  मरम्मत किए जाने की दर के संबंध में वस्तुस्थिति की जांच हेतु अपर कलेक्टर श्री आर.एस.बालोदिया की अध्यक्षता में दल गठित किया गया है। 
गठित दल में डिप्टी कलेक्टर श्री अंकुर रवि गुप्ता, लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री एस.एल.बाथम एवं नगर पालिका परिषद शिवपुरी के उपयंत्री श्री रामवीर शर्मा को नियुक्त किया गया है। उक्त दल को सात दिवस में जांच पूर्ण कर रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं। 


पेयजल प्रदाय व्यवस्था की निगरानी हेतु दल गठित

शिवपुरी, 30 मई 2020/ कलेक्टर श्रीमती अनुग्रहा पी ने ग्रीष्म ऋतु के मौसम को दृष्टिगत रखते हुए नगर पालिका क्षेत्र में पेयजल संकट उत्पन्न न हो, इस हेतु नगर पालिका द्वारा की जा रही पेयजल प्रदाय व्यवस्था की निगरानी हेतु दल गठित कर अधिकारियों को नियुक्त किया गया है। 
वर्तमान में नगर पालिका परिषद शिवपुरी में मणिखेड़ा डैम, चांदपाठा, तालाब तथा वार्डों में स्थित ट्यूवबेलों के माध्यम से पेयजल प्रदाय किया जा रहा है। निगरानी हेतु गठित दल में डिप्टी कलेक्टर श्री अंकुर रवि गुप्ता को रेड जोन के अंतर्गत वार्ड क्रमांक 1,9,12,13,14,15, एवं येलो जोन के वार्ड क्रमांक 4,8,10,11 सौंपे गए है। डिप्टी कलेक्टर श्रीमती शिवांगी अग्रवाल को रेड जोन के अंतर्गत वार्ड क्रमांक 20,22,23,24,25,28,30 एवं येलो जोन के वार्ड क्रमांक 16,17,19,21 सौंपे गए है तथा डिप्टी कलेक्टर सुश्री कृतिका भीमावद को रेड जोन के अंतर्गत वार्ड क्रमांक 31,32,35,36,37,38,39 एवं येलो जोन के वार्ड क्रमांक 26,27,29,39 सौंपे गए है। संबंधित अधिकारी अमृत योजना, चांदपाठा, तालाब, ट्यूबवैल तथा टैंकरों से जल प्रदाय और वार्डों में जल प्रदाय की अवधि, नगर पालिका द्वारा जारी ड्यूटी आदेश अनुसार कर्मचारियों द्वारा प्रदाय किए जा रहे पेयजल की सतत् निगरानी रखेंगे। 


एम्बेड टीम ने चलाया सेल्फी विथ अयोग्य सेतु अभियान

शिवपुरी, 30 मई 2020/ विगत सप्ताह 25 मई 2020 से मलेरिया उन्मूलन की दिशा में प्रयासरत फेमिली हेल्थ इंडिया की एम्बेड टीम व जिला स्वास्थ्य समिति शिवपुरी के संयुक्त तत्वाधान में सेल्फी विथ आरोग्य सेतु अभियान डाॅ.ए.एल.शर्मा के मार्गदर्शन में प्रारंभ किया गया।
जिला समन्वयक एम्बेड परियोजना श्री विजय मिश्रा ने बताया कि इस अभियान के पीछे मुख्य उद्देश्य, कोरोना वाइरस के संक्रमण से बचाव की दिशा में एकजुट प्रयास कर आम जन की भागीदारी सुनिश्चित करना हैं। विगत सप्ताह से चलाये जा रहे इस अभियान के तहत जिला स्तर के अधिकारीयों से लेकर ब्लाक व ग्राम स्तर तक कार्यरत, मैदानी कार्यकर्ताओं के माध्यम से कोरोना संक्रमण से बचाव का सन्देश पहुंचाने का प्रयास किया जा रहा हैं। अभियान के दौरान आरोग्य सेतु एप के लाभ व इसे अपने मोबाईल में डाउनलोड करने हेतु आमजन को प्रेरित किया जा रहा हैं जिससे कि कोरोना के संभावित संक्रमित की सूचना इसके माध्यम से आप तक भी पहुच सके और आप पहले से सतर्क हो सकें और संभावित व पीड़ित की पहचान आसान हो सके।
एम्बेड टीम द्वरा इस अभियान के तहत ग्राम स्तर पर कार्यरत आशा व आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ दूकानदार व आम जनता के बीच सैकड़ों लोगों के मोबाइल पर आरोग्य सेतु ऐप्प डाउनलोड करवाया व उन्हें प्रेरित भी किया। इस दौरान मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री एच.पी. वर्मा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.ए.एल.शर्मा, डाॅ.शीतल व्यास, डाॅ.अरुण झासिया, डाॅ. नितिन, जिला मलेरिया अधिकारी श्री लालजू शाक्य एवं एम्बेड टीम के साथ कई आंगनवाड़ी व आशा कार्यकर्ताओं ने आरोग्य सेतु के साथ अपनी सेल्फी दे कर आम जनता से अपील की हैं कि वे भी इसका उपयोग कर, जिले को कोरोना संक्रमण से बचाव की दिशा में अपना अमूल्य सहयोग प्रदान करें।


प्रशासन द्वारा 2700 से अधिक प्रवासी श्रमिकों को पहुंचाया उनके घर

शिवपुरी, 30 मई 2020/ लॉकडाउन के चलते देश केे विभिन्न हिस्सों में काम कर रहे श्रमिक अपने घर वापस लौट रहे हैं। ऐसे में उन्हें कई कठिनाइयों का सामना भी करना पढ़ रहा है परंतु शासन द्वारा प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाने की व्यवस्था की जा रही है। जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा दी गई जानकारी अनुसार अभी तक 2700 से अधिक प्रवासी श्रमिकों को जिला प्रशासन द्वारा व्यवस्था करके उनके घरों तक पहुंचाया है। 
  उल्लेखनीय है कि प्रतिदिन विभिन्न राज्यों से शिवपुरी जिले में भी कई मजदूर पहुंच रहे हैं। यहां राजस्थान से लगने वाली सीमा कोटा नाका पर प्रतिदिन सैकड़ों श्रमिक आ रहे हैं जिनमें से कई मजदूर प्रदेश के अन्य जिलों से हैं। इन्हें जिला प्रशासन द्वारा व्यवस्था करके उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है। श्रमिकों के ठहरने के लिए कोटा नाका और शिवपुरी शहर में पोस्ट मैट्रिक छात्रावास में व्यवस्था की गई है। यहां प्रवासी श्रमिकों के लिए भोजन पानी का प्रबंध है और मेडिकल टीम द्वारा सभी की स्क्रीनिंग की जा रही है।  


प्रतापगढ़ प्रेस क्लब के तत्वावधान में हिन्दी पत्रकारिता दिवस पर पत्रकारों ने किए अपने विचार व्यक्त




प्रतापगढ़ 

शनिवार को प्रतापगढ़ प्रेस क्लब के अस्थाई कार्यालय में  कोरोना संक्रमण काल को देखते हुए बैठक में सोशल डिस्टेंसिग का ध्यान रखते हुए मौजूद लोगों ने अपने विचार व्यक्त किये । इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार मनोज त्रिपाठी  ने कहा कि पत्रकारिता एक मिशन है। प्रतापगढ़ प्रेस क्लब के अध्यक्ष जान मोहम्मद ने कहा कि एक पत्रकार लोगों की आवाज को उठाता है ,ठेका नहीं लेता है , यह बात हम सभी मीडिया के साथियों को समझना होगा। महामंत्री मनीष ओझा,वरिष्ठ उपाध्यक्ष चन्दन सिंह , उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप सिंह धीरु,संगठन मंत्री सौरभ शर्मा, आमिर राईन मौजूद रहे ।



 

 




युवा नेता अनुराग शर्मा की हत्या का खुलासा करने के मामले में रामपुर के एसपी को सम्मानित किया जाऐः- मुस्तफा हुसैन

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर- भाजपा नेत्री एवं पूर्व सांसद जयाप्रदा के करीबी और कोआॅपरेटिव सोसाइटी के चैयरमेन मुस्तफा हुसैन ने कहा है कि रामपुर जनपद में लॉक-डाउन के चलते युवा नेता अनुराग शर्मा जैसी अनसुलझी हत्याओं का खुलासा करने वाले साहसिक पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम जी को सम्मानित किया जाए, जिससे समाज में सरकार व पुलिस का सम्मान निरन्तर बढ़ता रहे। मुस्तफा हुसैन ने मुख्यमन्त्री व उ0प्र0 के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर पुलिस अधीक्षक को सम्मानित करने के लिये अवगत कराते हुये कहा है कि रामपुर जनपद में पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम के नेतृत्व में जहाॅ एक ओर पुलिस अपनी जान जोखिम में डालकर सामाजिक कार्य करते हुये लोगों के जीवन को बचाने के लिए शासन की नीति के अनुसार लॉक-डाउन का पालन करवा रही है, वहीं दूसरी ओर रामपुर पुलिस कानून व्यवस्था से खिलवाड़ एवं सांप्रदायिकता फैलाने वाले अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही कर रही है। पुलिस अधीक्षक के अथक प्रयासों द्वारा लगातार सफलतापूर्वक कई अनसुलझी हत्याओं व जघन्य अपराधों का खुलासा कर मुल्जिमों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है। कोआॅपरेटिव सोसाइटी के चैयरमेन मुस्तफा हुसैन ने कहा है कि रामपुर में थाना सिविल लाइंस स्थित ज्वालानगर में दिनांक 20 मई 2020 की रात्रि को भाजपा सभासद श्रीमती शालिनी शर्मा के पति एवं युवा नेता अनुराग शर्मा की अज्ञात व्यक्तियों द्वारा नाटकीय ढंग से गोली मारकर हत्या कर पूरे इलाके में सनसनी फैला दी गई थी, जिससे भा0ज0पा0 व अन्य सामाजिक संगठनों के लोगों में काफी आक्रोश था और कुछ आसमाजिक प्रवृत्ति के लोगो द्वारा जानबुझकर मामले को साम्प्रदायिक रंग देने की कोशिश की जा रही थी। लेकिन रामपुर के पुलिस अधीक्षक के कुशल नेतृत्व में पुलिस टीम द्वारा दिन-रात कड़ी मेहनत कर दिनांक 29 मई 2020 को हत्या की गुत्थी सुलझा कर असली मुलजिमों को बेनकाब कर समाज में एक सच्चाई की नजीर पेश की, जोकि सामाजिक दृष्टि से बहुत ही सराहनीय है। जिससे आम जनता में सरकार व पुलिस का सम्मान बढ़ा है और रामपुर में शन्ति व्यवस्था कायम हुई है।

 

 

पहले प्रशासन ने रोजी रोटी छीनी, अब प्रकृति ने सर से छत छीनी

डॉ केशव आचार्य गोस्वामी मथुरा ब्यूरो अयोध्या टाइम्स

मथुरा। प्रकृति का प्रकोप जब आता है तो गरीब लोगों की कराह निकलते लेकिन सुनने वाला कोई नही होता है जिसका जिंदा उदाहरण बीती रात देखने को जब एक बुजुर्ग दम्पति परिवार जिसकी रोजी रोटी प्रशासन की विकास की योजना के चलते छीनी हुई थी कल आये भयंकर आंधी तूफान से बचने के लिए अपने घर के अंदर महफूज समझ रहा था लेकिन पड़ोसी की दीवार छत पर गिरने से छत भरभरा कर गई गई जिससे अब घर उजड़ गया है ।।

प्राप्त विवरण के अनुसार जनपद के राधाकुंड कस्बे के समीप ओंकार नाथ दुबे अपनी पत्नी के साथ रहते हैं जो एक छोटी सी चाय की दुकान चलाकर अपना जीवन यापन करते थे परन्तु एनजीटी के आदेश पर रोड निर्माण कार्य के चलते चाय की दुकान से हाथ समाप्त हो गया और बेरोजगार हो गये फिर यह लॉक डाउन लागू हो गया जिसमें जैसे तैसे जीवन चल रहा था परन्तु प्रकृति को तो कुछ और ही मंजूर था जिसके चलते जीवन भर की कमाई से एक छोटा सा घर बनाया था बीती रात्रि को भयंकर आंधी तूफान से बचने को अपने घर के अंदर थे तभी ईंट पत्थर गिरने लगे तो दुबे भाग कर बाहर निकले जब तक कुछ समझ पाते तब तक  पड़ोसी गरीब दास महाराज के मकान की दीवाल ओंकार नाथ दुबे की छत पर गिर गई जिस कारण दुबे की पूरी छत भरभराकर गिर गई ।

उक्त घटना में एक यही बात ठीक रही कि कोई शाररिक नुकसान नही हुआ लेकिन दुबे का पूरा घर मलबे में तब्दील हो गया।

गरीब बुजुर्ग दम्पति का तभी से रो रो कर बुरा हाल है और टकटकी लगाए राह देख रहे हैं कि कोई मददगार साबित होता है या नही लेकिन समाचार लिखे जाने तक कोई हाथ बड़ा कर आगे आने को तैयार नही हुआ।

इस गरीब बुजर्ग दम्पति के उजड़े आशियाने की सम्बन्ध में जब तहसील प्रशासन से वार्ता की गई तो क्षेत्रीय लेखपाल पवन कुमार ने बताया कि सूचना मिलने पर मेरे द्वारा निरीक्षण कर रिपोर्ट उपजिलाधिकारी व तहसीलदार साहब को देदी गई है यथा सम्भव मदद कराई जाएगी।

 

सपा नेता ने राहगीरो को वितरित किया खादय सामिग्री




आज दिनांक 30 मई 2020 को सपा नेता एवं देवा सभासद शाफ़े ज़ुबेरी ने समाजवादी साथियों के साथ मिलकर प्रवासी मजदूरों एवं राहगीरों के लिए  लखनऊ- फैज़ाबाद नेशनल हाईवे, निकट गोल्डन ब्लॉसम, सफेदाबाद, बाराबंकी पर फल, बिस्कुट, दालमोठ, पानी, कोल्ड ड्रिंक आदि तमाम खाद पदार्थों को सपा यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा के नेतृत्व में बांटा गया !

इस दौरान  सपा मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा ने कहा कि प्रवासी मजदूरों की दयनीय दशा पर सरकार सिर्फ घड़ियाली आंसू बहा रही है। लाचार मजदूरों की सरकार द्वारा लगातार अनदेखी की जा रही है। रेल पटरियों से लेकर राजमार्ग, खेत से लेकर खलिहान तक लहूलुहान हो रहे हैं।

आगे यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष अनीस राजा ने  कहा कि प्रदेश में लोगों के सामने रोजगार और रोजी रोटी का संकट पैदा हो गया। सरकार की उदासीनता और अदूरदर्शिता से प्रदेशवासियों के सामने बहुत बड़ी समस्या पैदा हो रही है। पूरे प्रदेश को ठप कर सरकार ने करोना संक्रमण को रोकने के लिए जो ढोल पीटा था वह असफल हो गया।

इस मौके पर प्रदेश अध्यक्ष, यूथ ब्रिगेड अनीस राजा ने कहा कि प्रदेश और बाराबंकी के समाजवादी नौजवान इस महामारी के दौरान जिस तरह से योद्धाओं की तरफ़ आगे आकर जनसेवा में लगे हैं को क़ाबिले तारीफ़ है !

इस मौके पर मुख्य रूप से निवर्तमान प्रदेश सचिव, यूथ ब्रिगेड एवं वरिष्ठ छात्रनेता दानिश सिद्दीकी, जिला मीडिया प्रभारी, सपा आशीष सिंह आर्यन, जिला पंचायत सदस्य नसीम गुड्डू, सुनील सोनी, रिजवान रिजजु सभासद, उबैदुल्ला सभासद, सलमान वारसी सभासद, मोहम्मद मोनिस, तालिब वारसी , शानू, सलीम उस्ताद, आदिल खान, रोहित कश्यप, एडवोकेट सुहैल अहमद राईन आदि लोग मुख्य रूप से उपस्थित रहे !


 

 



 

सैदपुर गांव की विद्युत आपूर्ति बदहाल






जीसान नकबी सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स 

मवई अयोध्या :-  मवई क्षेत्र के ग्राम सैदपुर में ट्रांसफार्मर खराब होने से गांव वासियों को विद्युत आपूर्ति नही मिल पा रही है।ग्राम वासी जिया अहमद ने बताया कि सैदपुर गांव में लगा ट्रांसफार्मर की दो खूंटी टूटी हुई है सिर्फ एक ही खूंटी से गांव की विद्युत आपूर्ति चल रही है।उन्होंने बताया कि लो वोल्टेज के चलते पंखा तो छोड़िये मोबाइल भी चार्ज नही हो पाता।जिया अहमद ने सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों से भी इस समस्या के बारे में अवगत कराया लेकिन अभी तक ट्रांसफार्मर को दुरुस्त नही कराया गया।इस भीषण गर्मी की वजह से ग्राम वासी परेशान हैं लेकिन उनकी समस्या को सुनने वाला कोई नही है।


 

 



 



Saturday, May 30, 2020

डीसीपी उत्तरी श्रीमती शालिनी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में उड़ाई गई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

एक तरफ देश में जहां जनता से लॉकडाउन का पालन करवाने के लिए नए नए नियम कानून बनाए जा रहे हैं और सभी को यह हिदायत दी रही है कि मुंह पर मास्क लगाना अनिवार्य है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस विभाग के कुछ आला अधिकारी ही नियम की धज्जियां उड़ाते हुए नजर आ रहें है। एक लूट के मामले में हो रही पीसी में सोशल डिस्टेंसिंग गायब। एसएचओ मड़ियाव दिखे बिना मास्क के पुलिस के आला अधिकारियों के सामने उड़ाई गई सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां।  लगातार बढ़ रहे है कोविड-19 के मरीज। थाने में होने वाली पीसी की जिम्मेदारी होती है सर्किल  के एसीपी की। लगातार लापरवाही बरसते हैं एसीपी अलीगंज राजकुमार शुक्ला। प्रेस कॉन्फ्रेंस में घोर लापरवाही पुलिस के आला अधिकारियों के सामने उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां।


जयगुरुदेव संगत प्रतापगढ़ द्वारा गरीब तबके लोगों को भोजन वितरण




दैनिक अयोध्या टाइम्स संवाददाता प्रवीण कुमार यादव।।

प्रतापगढ़।। जयगुरुदेव संगत प्रतापगढ़ द्वारा लगातार चलाए जा रहे भोजन वितरण कार्यक्रम से हजारों जरूरतमंद लोग रोजाना सुबह शाम लाभान्वित हो रहे हैं। प्रवासी नागरिकों का आना निरन्तर जारी है। प्रतापगढ़ रेलवे स्टेशन पर आने वाली अनेकों राज्यो की ट्रेनों से उतरने वाले प्रवासियों को बसों में लेे जाया जा रहा है। कुछ लोग अभी भी अपने साधनों से और पैदल भी आ रहे हैं। इन लोगो की सेवा के लिए नए आश्रम गोंदे पर सुबह से ही स्टाल लगा कर दिन भर में हजारों लोगों को भोजन कराया जाता है। कुछ गांवो में अभी भी जरूरतमंद है जिनके लिए भोजन गांवो में भी जाता है। प्रतापगढ़ शहर में जाने वाला भोजन अनवरत पहले जैसा ही चल रहा है। जिले की सदर,लालगंज अझारा,कुंडा, आसपुर देवसरा इकाइयां उसी तरह से लोगो को भोजन कराने मै कार्यरत है वर्तमान तापमान की गर्मी को देखते हुए संस्था द्वारा अब भोजन के साथ पानी का भी प्रबन्ध किया गया है। नए आश्रम पर  बसों से आने वाले में पानी लेने वाले प्रवासियों की संख्या अधिकतर रहती है।  भोजन के साथ पानी का प्रबंध देखकर अति प्रसन्न है।

लोगो के मन में बाबा जयगुरुदेव के प्रति अपार श्रद्धा की भावना दिख रही है।।


 

 




 


लखनऊ डीसीपी वेस्ट सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी के दिशा निर्देश पर लगातार काम कर रही तालकटोरा पुलिस को मिली  सफलता

पुष्पेंद्र सिंह सवांददाता दैनिक अयोध्या टाइम्स लखनऊ

राजधानी लखनऊ एसीपी बाजार खाला अनिल कुमार यादव के द्वारा  लगातार क्राइम की रोक थाम के लिए चलाए जा रहे किंग अभियान में तेज तर्रार थाना प्रभारी तालकटोरा धनन्जय सिंह को मिली कामयाबी इंस्पेक्टर तालकटोरा धनन्जय सिंह ने एक शातिर लुटेरे को किया गिरफ्तार जो लूट जैसी घटनाओं को अंजाम देकर मौके से फरार हो जाता था। तालकटोरा पुलिस ने मुखबिर की खास सूचना पर शातिर लुटेरे को दबोच कर डाला सलाखों के पीछे गिरफ्तार अभियुक्त के कब्जे से एक तमंचा 315 बोर का व एक जिंदा कारतूस 315 बोर का किया बरामद शातिर लुटेरे कुलदीप पर पहले भी की मुकदमे दर्ज है इंस्पेक्टर तालकटोरा धनन्जय सिंह के नेतृत्व में एस आई विजय कुमार सिंह व तालकटोरा पुलिस टीम को मिली कामयाबी

 

 

रामपुर में नंबरों के आधार पर खोले जाएंगे बाज़ार

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर-लॉक डाउन के चौथे चरण में बाहरी इलाको में बाजार खोलने के बाद अब प्रशासन ने शहर की घनी आबादी वाले इलाकों में बाजार नंबरों के आधार पर खोंलने का फैसला लिया है। प्रशासन ने इसके लिए सभी तैयारी कर ली है। लॉक डाउन के चौथे चरण में प्रशासन ने 64 दिन बाद कल से बाजार खोल दिए हैं। पहले दिन शहर के बाहरी इलाके में बाजार खोले गए थे। अब शनिवार से शॉपिंग मॉल व घने बाजार खोले जाएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग की शर्तों के साथ शॉपिंग मॉल, बड़े शो रूम व घना बाजार खोला जायगा। इसके लिए आदेश जारी कर दिया गया है। आदेश के मुताबिक शहर के राजद्वारा, मिस्टन गंज, सराफा बाजार, गुरुद्वारा रोड, सीआरपीएफ रोड पर।दुकानों को नम्बरों के आधार पर खोला जायेगा। दुकानों पर नम्बर डाले जा रहे हैं। इसके अलावा दुकानों को खोंलने के लिए नंबर निर्धारित किया गया है। प्रत्येक दुकानों को सप्ताह में दो दिन दुकान खोलने के आदेश दिया गया है।

कोरोना योद्धा की सेवाओं को लेकर पत्रकारो का हुआ सम्मान




दैनिक अयोध्या टाइम्स संवाददाता प्रवीण कुमार यादव।

लालगंज, प्रतापगढ़। पत्रकारिता दिवस पर सोशल डिस्टेसिंग के बीच भारतीय राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ द्वारा क्षेत्रीय पत्रकारों को चेयरपर्सन अनीता द्विवेदी के प्रतिनिधि संतोष द्विवेदी ने कोरोना योद्धाओं के रूप मे सम्मानित किया। संक्षिप्त सम्मान समारोह मे वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी तथा विधायक आराधना मिश्रा मोना की भी ओर से पत्रकारों को चेयरपर्सन प्रतिनिधि ने सम्मान पत्र से नवाजा। वही सम्मानित होने वाले पत्रकारों को उन्होने मास्क तथा सेनिटाइजर व डायरी पेन आदि भेंट किये। कार्यक्रम की अध्यक्षता संगठन के प्रदेशीय महासचिव ज्ञानप्रकाश शुक्ल व संचालन वरिष्ठ पत्रकार विकास मिश्र ने किया। सम्मानित होने वाले पत्रकारों मे चंद्रशेखर तिवारी, मनोज सिंह, डा. आशीष सिंह, सुरेन्द्र तिवारी सागर, सुरेश मिश्र मदन, देवानंद मिश्र, उमेश तिवारी, राजेन्द्र मिश्र, अनूप त्रिपाठी, संजीव त्रिपाठी, राकेश तिवारी, साकेत मिश्र, दीपेन्द्र तिवारी, शैलेन्द्र दुबे, राजीव तिवारी, अरविंद दुबे, रामू मिश्र, संजीव द्विवेदी, कुलभूषण शुक्ल, सुनील सिंह, विनोद सिंह, अशोकधर दुबे, शत्रुधन पाण्डेय, शिवकरन चतुर्वेदी, राजकुमार मिश्र, मनोज तिवारी, सुशील सिंह, सुमित त्रिपाठी वत्सल, सुनील मोनू, जगत वर्मा, प्रेम मिश्र,  जितेंद्र तिवारी हरकेश चौरसिया, आईपी मिश्र, आशुतोष मिश्र,  डा. आरआर पाण्डेय, मुकेश तिवारी, विनोद मिश्र, सरवर आलम, संतोष तिवारी, जाकिर अली, राकेश तिवारी, शास्त्री सौरभ त्रिपाठी, प्रमोद सिंह, गौरीशंकर तिवारी, मनोज सरोज, शुभम श्रीवास्तव, अभिषेक पाण्डेय आदि रहे। स्वागत तहसील अध्यक्ष सुरेश मिश्र मदन व आभार महामंत्री विनोद सिंह ने किया।।


 

 



 

देवकली में एक पागल कुत्ते ने महिला पर हमला कर दिया




सिध्दौर संवाददाता हसन की रिपोर्ट

सिद्धौर बाराबंकी अंतर्गत देवकली निवासी रामचंद्र रावत की पत्नी रामावती घर के बाहर छप्पर के नीचे सो रही थी। सुबह करीब 5 बजे बाहर से घूमता हुआ  एक पागल कुत्ता आ गया, और सो रही महिला पर हमला कर दिया जिससे वह बुरी तरह से जख्मी हो गयी।परिजन घायल महिला को  सीएचसी सिद्धौर ले गए,जहां इलाज किया गया। कुत्ते के आतंक से गांव वालों में खौफ व्याप्त है।


 

 



 

समाजसेवियों के द्वारा लॉक डाउन में जानवरों को दिया जा रहा है चारा

*विनय सिंह ब्यूरो बाराबंकी*

सिध्दौर बाराबंकी:विकास खंड सिद्धौर क्षेत्र के भारथाई गांव में संचालित गौ आश्रय स्थल में बंद जानवरों  के लिए एक समाजसेवी  व्यक्ति द्वारा वैश्विक महामारी  मैं लाख डाउन के चलते मवेशियों के लिए एक ट्राली हरा चारा दिया गया।

शनिवार को सिद्धौर ब्लॉक  के अंतर्गत  मदारपुर अमर सिंह गांव निवासी समाजसेवी महिपाल सिंह ने  लाक डाउन और कोरोना  वैश्विक महामारी के चलते प्रशासन द्वारा खोले गए गो आश्रय स्थलों में बंद मवेशियों के सामने चारे का संकट उत्पन्न हो गया था जिसको लेकर महिपाल सिंह ने अपने गांव में अन्य किसानों से बात करो एक ट्राली हरा चारा पहुंचाने का निर्णय दिया शनिवार को  गौ आश्रय स्थल भरथाई में बंद जानवरों के लिए एक ट्राली हरा चारा ग्रामीणों की सहायता से एकत्रित कर ट्रैक्टर ट्राली से  गो आश्रय स्थल भरथाई पहुंचाया। इस मौके पर प्रधान प्रतिनिधि संजय वर्मा दिनेश कुमार चितरंजन वर्मा राम गोपाल वर्मा जयकुमार उपस्थित रहे।

 

अखिल भारतीय परिषद की और से चलाया गया जागरुकता अभियान




*अर्जुन कुमार गुप्ता*

जैदपुर बाराबंकी -  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की नगर इकाई जैदपुर द्वारा नगर में कोरोना महामारी के दौरान अभाविप द्वारा चलाए जा रहे कोरोना सुरक्षा प्रहरी अभियान के तहत एक जागरूकता अभियान चलाया गया। जिसके तहत कार्यकर्ताओं ने नगर के विभिन्न स्थानों पर जाकर कोरोना महामारी से जुड़ी हुई विभिन्न जानकारियों से लोगों को अवगत कराया एवं उससे सुरक्षित रहने के एवं बचाव के दिशा निर्देश दिए। कार्यकर्ताओं ने पोस्टरों पर हाथ की लिखावट के माध्यम से लोगों को कोरोना महामारी से किस प्रकार लड़ा जाए उसका जागरूकता संदेश दिया। इस कार्यक्रम में पूर्णा सुरक्षा प्रहरी अभियान के तहसील प्रमुख नगर मंत्री सूर्यांशु शर्मा "सूर्य", नगर अध्यक्ष सलामुद्दीन मलिक, नगर उपाध्यक्ष विवेक वर्मा, अमन वर्मा, अभय प्रताप सिंह, नगर सह मंत्री अंकेश वर्मा, अभिषेक वर्मा समेत अन्य छात्र उपस्थित रहे।

पोस्टरों पर लिखावट का कार्य नगर छात्रा प्रमुख प्रतिभा वर्मा, नगर कला मंच प्रमुख अंकिता शुक्ला एवं अंचल सिंह द्वारा किया गया।


 

 



 

जानवरों का किया गया  गला घोटू का टीकाकरण




*अर्जुन कुमार गुप्ता जैदपुर*

जैदपुर बाराबंकी - राजकीय पशु चिकित्सा केन्द्र जैदपुर के अधीक्षक डॉक्टर सुनील सिंह के अगुवाई में  एस एच गला घोटू का टीकाकरण कार्य का शुभारंभ  ग्राम मसरंग पुरवा से शुरू कर दिया गया टीकाकरण के समय डॉक्टर सुनील सिंह  चिकित्सा अधिकारी व दिलीप पैरावेट चंद्र कुंवर कर्मचारी व जाहिद  व अन्य कर्मचारियों के सहयोग से टीकाकरण कार्य का शुभारंभ मसरंग पुरवा में  किया गया है। अधीक्षक डॉ सुनील सिंह ने बताया कि प्रत्येक वर्ष बरसात के मौसम में अधिकतर पशुओं को इस बीमारी के लक्षण दिखाई देते हैं। जो कि जानवरों के लिए काफी घातक साबित होते हैं। जिसको देखते हुए पशुपालन विभाग बाराबंकी की ओर से एस एच का टीकाकरण कार्य की शुरुआत करवाई गई है। ताकि समय रहते सभी पशुओं को इस घातक बीमारी से बचाया जा सके। जिस पर आज राजकीय पशु चिकित्सा केंद्र जैदपुर की ओर से क्षेत्र के मसरन पुरवा में सैकड़ो जानवरों का आज टीकाकरण किया गया है। तथा क्षेत्र के सभी ग्राम पंचायतों में टीकाकरण का कार्य पूरा कराया जायेगा।


 

 



 

गोण्डा-पारम्परिक पोखरा अवेध रूप से दबंगो द्वारा किया जा रहा कब्जा






छपिया गोंडा। भारतीय जनता पार्टी अल्पसंख्यक मोर्चा के जिलामंत्री मोहम्मद शादाब खान ने ग्राम पंचायत खालेगांव में मसकनवा बभनान रोड पर स्थित पारंपरिक पोखरा दबंगो द्वारा अवैध रूप से कब्ज़ा कर मकान निर्माण किये जाने के सम्बन्ध में श्री खान ने मा०मुख्यमंत्री पोर्टल पर शिकायत दर्ज करायी है।श्री खान ने पत्रकारों से वार्ता के दौरान कहा की गाटा संख्या 46 व् 81 जोकि जलमग्न तालाब दर्ज है जिसमे मसकनवा बाजार व् खालेगांव एवं रानीजोत का पानी जाता है  और कुछ अराजक तत्व जो दबंगई से उसमे मकान निर्माण करा लिए है यदि कोई कार्यवाही नही हुई तो उस पोखरे का अस्तित्व खत्म हो जायेगा जबकि माननीय उच्चतम न्यायालय का आदेश है की जलमग्न पोखरा को अवैध कब्ज़ा से मुक्त कराया जाये।श्री खान ने कहा की यदि कोई कार्यवाही नही हुई तो मजबूरन हमे न्यायालय की शरण में जाना पड़ेगा।पिछले कई महीनो से प्रयासरत हूँ।


 

 



 



प्रकृति से प्यार

प्रकृति,जो है अपने नाम में ही है परिपूर्ण।

सुख, प्रेम,दया ,छाया, संतृप्ति है जिसके गुण।

 

परोपकार है जिसके संस्कार, लेती नहीं किसी के उपकार।

सेवा ही प्रदान करती हैं कभी जननी,तो कभी संरक्षक बनकर।

 

माँ की ही छवि है इनमें ,केवल देने का भाव रखती हैं।

लाख कष्ट देते हैं संतान,फिर भी सेवाभाव से पीछे हटती नहीं हैं।

 

प्रकृति ने दिखाया हमेशा हम पर  प्यार,

अब हमारी बारी है चलो हम भी करें "प्रकृति से प्यार"।

 

दो पक्षों में जमीनी विवाद को लेकर हुआ था कुछ दिन पहले खूनी संघर्ष, इलाज के दौरान एक व्यक्ति मौत




प्रतापगढ़

अंतू थाना क्षेत्र के मतूपुर गांव में जमीन विवाद को लेकर जमकर चली थी लाठी-डंडे और फासे सभी घायलों को इलाज के लिए प्रतापगढ़ में भर्ती कराया गया था बाबूलाल वर्मा के सर पर गंभीर चोट आई थी डॉक्टरों ने हालत नाजुक देखते हुए प्रयागराज रेफर कर दिया गया था प्रयागराज में चल रहा था इलाज l परिजन शव का अंतिम संस्कार करने से कर रहे थे इनकार परिजनों की मांग थी कि जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक मौके पर आएंगे तभी अंतिम संस्कार किया जाएगा l  दोषियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे परिजन l पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह के निर्देश के बाद अंतू पुलिस आई हरकत में एक आरोपी को धर दबोचा तब जाकर मृतक के परिजन अंतिम संस्कार करने पर हुए राजी मृतक के परिजन सरकार से आर्थिक सहायता की कर रहे हैं मांग उनका कहना है कि घर में चार बेटियां हैं जिनकी शादी नहीं हुई है कमाने वाला व्यक्ति इस दुनिया से चला गया कौन करेगा मदद हम लोगों को कौन खिलाए गा खाना मौके पर भारी पुलिस बल मौजूद घटना के बाद से सीओ सिटी अभय पांडे थाना प्रभारी मनोज तिवारी ने आरोपियों को पकड़ने  के लिए एड़ी चोटी का लगाया जोर परसों देर शाम तक मिली सफलता एक आरोपी गिरफ्तार बाकी की तलाश जारी l


 

 



 

सुसाइड से पहले बनाया वीडियो, मोहल्ले वालों से मास्क पहनने को कहा तो बेरहमी से पीटा,योगी जी उन्हें मत छोड़ना

दैनिक अयोध्या टाइम्स संवाददाता,रामपुर-जिले में इन दिनों हत्याओं और खुदकुशी के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ताजा मामला थाना सिविल लाइंस क्षेत्र का है। जहां एक मेडिकल स्टोर संचालक युवक ने अपना वीडियो वायरल कर सुसाइड कर लिया है। साथ ही एक सुसाइड नोट भी मौके पर छोड़ा है। वायरल वीडियो और सुसाइड नोट में युवक ने मोहल्ले के कुछ लोगों पर मारपीट का आरोप लगाया है। युवक का कहना है कि उसने कुछ लोगों से मास्क लगाने ओर सार्वजनिक स्थान पर सिगरेट पीने से मना किया था, जिसके बाद उसे पीटा गया। इसके बाद मां और मामा ने कमरे में बंद कर दिया है। उसने डीएम को भी फोन किया, लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला। इसलिए अब वह खुदकुशी करने जा रहा है। योगी जी, मोदी जी आरोपियों को सजा जरूर दिलवाना।दरअसल, मेडिकल स्वामी युवक ने थाना सिविल लाइन के ज्वालानगर में रहता था। युवक ने गुरुवार रात करीब 10 बजे अपने घर में पंखे से लटककर खुदखुशी की है। खुदखुशी करने से पहले युवक ने अपना वीडियो बनाकर वायरल किया है। युवक ने अपने मोहल्ले के कई लोगों पर मारपीट करने के आरोप लगाये हैं। आरोप है कि मां और मामा ने उसे घर में ही बंद कर दिया। कई दिनों तक खाना-पानी और दवा भी नही दी। मां औऱ मामा ने फोन ऑफ कर लिया। डीएम साहब को कई बार फोन काॅल की, लेकिन कोई रिस्पांस नहीं मिला। युवक का कहना था कि उसे बुरी तरह से पीटा गया है। उसका गुनाह इतना था कि सार्वजनिक स्थान पर कुछ लोग बिना मास्क के थे और सिगरेट पी रहे थे। इसके लिए रोका तो वे लोग भड़क गए और मुझे नाली में गिरा गिराकर मारा। मेरा इलाज भी चल रहा है। घरवाले दवा नहीं दिला रहे हैं। उन लोगों ने मुझे बहुत टार्चर किया है। दर्द बर्दास्त से बाहर है। इसलिए योगी जी, मोदी जी आपसे आग्रह करता हूं कि आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। मुझे दर्द बर्दास्त नहीं हो रहा है और अब मैं अपना जीवन समाप्त करता हूं। इसके साथ ही युवक ने खुदकुशी से पहले कई पन्नों का सुसाइड नोट भी लिखा है।इस संबंध में मृतक युवक के मामा का कहना है कि वह मानसिक रूप से बीमार था। उसे किसी ने नहीं मारा है। हम लोग उसका इलाज करा रहे थे। वहीं पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। बहरहाल अब पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है। वायरल वीडियो से लेकर कई पन्नों का सुसाइट नोट भी अपने कब्जे में ले लिया है। फिलहाल पुलिस घटना को लेकर अभी कुछ ज्यादा नहीं बता रही है।

फैज़ान अली


गौ सेवा सर्वोपरि गौशाला जाकर गायों को चारा और की जा रही है उनकी सेवा

दैनिक अयोध्या टाइम्स,रामपुर- विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 की चपेट में पूरी दुनिया है जबकि पूरे भारत में कोरोना संक्रमण की रोक थाम के लिये पूरे भारत में भी मार्च से लॉकडाउन है,जहाँ इससे लड़ने के लिए इंसानी जिंदिगी की तमाम गतिविधियों पर विराम है वहीं बेज़ुबान पशु भी इंसानी सेवाओ से महरूम है लेकिन फिर भी मन में सेवा भाव लिए लोग निरन्तर सेवा में लगे हैं चाहे जैसे भी और जहाँ भी सेवा का अवसर मिले। इसी के तहत जब से लॉक डाउन शुरू हुआ है तब से भाजपा की जिला कार्यकारिणी के सदस्य रुकुम सिंह राठौर प्रत्येक सप्ताह अपने परिवार के साथ गौशाला जाकर गौ सेवा करते हैं , घास , कुट्टी व चारा खरीद कर अपने हाथों से व अपने परिवार के सदस्यों (पोते - पोतियो ) के सहयोग से गायों को खिलाते हैं।तथा गायो की सेवा करते हैं ताकि जानवरों को इस लॉक डाउन में किसी भी प्रकार की कोई भी खाने से संबंधित समस्या उत्पन्न ना हो इसी क्रम में आज शनिवार को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का 1 वर्ष पूरा होने पर खुशी का इजहार किया और गौशाला जाकर गायों को चारा दिया और उनकी सेवा की । इस अवसर पर प्रेमवती , गौरी , वृंदा , केशव , आराध्या व चिरंजीव गुड्डू ने सेवा में सहयोग दिया ।

किसानों को परेशानी होने पर होगी कार्यवाही डीएम

अमेठी विजय कुमार सिंह

केंद्र पर लक्ष्य के सापेक्ष कम खरीद करने व अन्य अनिमियता पाये जाने पर केंद्र प्रभारी को निलंबित करने के निर्देश।

अमेठी 30 मई 2020, जिलाधिकारी श्री अरुण कुमार ने आज साधन सहकारी समिति लिमिटेड निहालगढ़, जगदीशपुर के गेहूं क्रय केंद्र का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने पाया कि इस वर्ष का लक्ष्य 08 हजार कुंटल निर्धारित है परंतु अब तक कुल 16 किसानों से मात्र एक हजार कुंतल गेहूं की खरीद की गई है। जिसमें से 08 किसानों को 09 लाख 48 हजार रुपये का भुगतान किया जा चुका है लक्ष्य के सापेक्ष  कम खरीद करने,  निरीक्षण के दौरान केंद्र बंद पाए जाने,  केंद्र से एफसीआई गोदाम तक डिलीवरी ना करने,  स्टॉक रजिस्टर बाइक में रखने, केंद्र से दूर बैठकर काम करने  तथा पूछने पर संतोषजनक उत्तर न दे पाने पर जिलाधिकारी ने  केंद्र प्रभारी  सौरभ श्रीवास्तव को  निलंबित कर उनके स्थान पर अन्य नियुक्ति करने के  निर्देश दिए। इस दौरान जिलाधिकारी ने केंद्र पर मौजूद तीन संदिग्ध व्यक्तियों को मौके पर पकड़ते हुए उनसे पूछताछ करने के निर्देश एसओ जगदीशपुर को दिए। जिलाधिकारी ने  केंद्र प्रभारी को कड़ी हिदायत देते हुए कहा कि गेहूं की खरीद सीधे किसानों से की जाए  किसी भी दलाल/बिचौलिए के माध्यम से खरीद करते पाए जाने पर कठोर कार्यवाही की जाएगी। इस दौरान जिलाधिकारी ने जनपद के समस्त किसानों से अपील किया कि वे अपना गेहूं क्रय केंद्र पर ही बेचें। उन्होंने बताया कि इस बार गेहूं का मूल्य प्रति कुंतल 1925 रुपए निर्धारित किया गया है। उन्होंने केंद्र प्रभारियों को स्पष्ट करते हुए कहा कि केंद्र पर किसानों को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होनी चाहिए तथा जिन किसानों का गेहूं क्रय किया जाए उनके खाते में आरटीजीएस के माध्यम से धनराशि भेज दी जाए। जिलाधिकारी ने केंद्र पर मौजूद काटा, छन्ना तथा नमी मापक यंत्र के साथ ही किसानों को मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि किसी भी प्रकार की समस्या/समाधान/सुझाव हेतु जिला खाद्य एवं विपणन अधिकारी के मोबाइल नंबर 7233870888 पर संपर्क किया जा सकता है। निरीक्षण के दौरान मुख्य विकास अधिकारी प्रभुनाथ सहित अन्य संबंधित मौजूद रहे।