विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, June 21, 2021

मिट्टी के बर्तनों से टूटता नाता:-

हिमाचल प्रदेश मण्डी  जिला के पांगणा उप-तहसील मुख्यालय से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित तोगड़ा गांव देवी-देवताओं के देवगण "तोगड़ा" के कारण तोगड़ा नाम से जाना जाता है।"तोगड़ा" शब्द दिव्य शक्ति सम्पन्न देवगण के लिए व्यवहृत होता है।यह लोकोपकारी देवगण कुचाली स्वभाव का माना गया है।देवगण तोगड़ा अपने अनुयायियों की मनोकामनाएँ पूर्ण करने के लिए प्रसिद्ध है। इस गांव के पास धार,डूंघरु,कणाओग,मंशवाड़ा,फरैटल,सराई, देहरी आदि उप-गाँव हैं।तोगड़ा गांव कुम्हारों का गांव है।तोगड़ा निवासी मेहर चंद शर्मा का कहना है कि जनश्रुति है कि रियासती काल में मस्ता नामक ब्राह्मण के पुत्र घुइंया ने कुम्हारों को यहाँ लाकर बसाया था।जवाहर नामक कुम्हार ने सबसे पहले तोगड़ा में बर्तन बनाने शुरू किए।सम्पूर्ण  पांगणा के साथ लगते,नाचण,सुंदर नगर,सराज के शिकारी देवी से सटे ऊपरी क्षेत्र के गांवों में तोगड़ा के बने घड़े,घड़ोलु,पारू,ढोरणु,संजीउठिया,दीपक,सींजीए,चीड़ के पेड़ों का बिरोजा निकालने में प्रयुक्त होने वाले गमले आदि की बहुत मांग  रहती थी।आज तोगड़ा मे मिट्टी के बर्तन निर्माण से जुड़े एक मात्र कुम्हार इन्द्रदेव का कहना है कि आधुनिक समाज का मिट्टी से बने बर्तनों से नाता टूटता जा रहा है।लेकिन फिर भी कुछ लोग अभी भी ऐसे बचे हैं जो इस पारंपरिक सास्कृतिक विरासत के कद्रदान हैं।वे बताते हैं कि उनके पूर्वज लोगों को गर्मियों में निर्जला एकादशी के दौरान घड़े तथा दीपावली के अवसर पर संजीउठिया,सींझीए भेंट करते थे तथा बदले में सम्बंधित परिवार के लोग कुम्हारों को अन्न व दालें भेंट करते थे।सुभाषपालेकर प्राकृतिक खेती और अद्भुत प्राचीन अनाज के प्रति किसानों को जागरूक कर रहे तोगड़ा गांव के धार उप-गाँव निवासी सोमकृष्ण गौतम व पज्याणु गांव की लीना शर्मा  का कहना है कि मिट्टी के बर्तनों के दान के बदले अनाज व दालें दान करने की यह समृद्ध प्रथा "कमीण" कहलाती है।इस "कमीण प्रथा" से व सास्कृतिक कला कौशल से कुम्हारों की व्यवहारिक रोजी-रोटी तो जुड़ी होती थी वहीं एक दूसरे के प्रति आदर,श्रद्धा भाव और सदव्यवहार आज भी परिलक्षित होता है।इन्द्रदेव ने बताया कि उन्हें गर्व है कि वह सास्कृतिक संक्रमण के इस दौर में भी अपनी इस विरासत को बचाए हुए हैं।वहीं तोगड़ा में इस कला कौशल को सुकेत व मण्डी रियासत के ऊपरी क्षेत्रों में पहचान दिलवाना वाले कुम्हार स्व.हेतराम के दामाद नेत्रसिह आज भी समय-समय पर बल्ह से तोगड़ा  आकर इस मिट्टी के वर्तन निर्माण की इस कला कौशल के माध्यम से कुम्हारों के सुनहरे भविष्य के प्रति सजग और आशावान हैं।तोगड़ा निवासी स्व.बालकुराम ने तो भज्जी रियासत में भी मिट्टी के बर्तनों का निर्माण कर इस दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया।सुकेत संस्कृति साहित्य एवं जन कल्याण मंच पांगणा के अध्यक्ष हिमेन्द्रबाली'हिम"जी व डाक्टर जगदीश शर्मा का कहना है कि मिट्टी के वर्तनो  का प्रयोग हमें प्रकृति और आरोग्य की ओर लौटाता है।एल्युमिनियम और स्टील के बर्तनों का जहाँ मनुष्य के स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव पड़ता है वहीं मिट्टी के बर्तनों का शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं  पड़ता।मिट्टी के बर्तनों में भोजन बनाने से भोजन में मौजूद पोषक तत्व नष्ट नहीं होते हैं। खाने में पौष्टिकता व स्वाद बना रहता है तथा अपच और गैस की समस्या दूर होती है।कब्ज की समस्या से राहत मिलती है तथा कई बीमारियों से बचाव होता है।तोगड़ा निवासी देवेन्द्र शर्मा राजस्व अधिकारी तथा हरिश शर्मा हिमाचल पथ परिवहन निगम में परिचालक हैं।इनका कहना है कि मिट्टी के बर्तनों के कौशल को बढ़ावा देने से ग्रामीण  विकास व रोजगार के साथ विलुप्त होते जा रही इस धरोहर को बचाया जा सकता है।


राज शर्मा (संस्कृति संरक्षक)
आनी कुल्लू हिमाचल प्रदेश

भारतीय नए आईटी नियम मामला संयुक्त राष्ट्र पहुंचा - भारत का जवाब, नए नियम सोशल मीडिया प्रयोगताओं को सशक्त बनाने के अनुरूप

भारत के नए आईटी नियम मुद्दे पर यूएन एक्सपर्ट के पत्र पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी - एड किशन भावनानी

गोंदिया - भारत में पिछले कई दिनों से इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया के माध्यम से टूल बॉक्स मुद्दे के बारे में बहुत लंबे समय तक टीवी चैनल और अखबारों के माध्यम से सुन और देख रहे थे। बहुत कम लोगों को समझ में आया होगा कि यह टूलबॉक्स मैटर आखिर है क्या?? दरअसल टूल बॉक्स यह 72 वें गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में किसानों की ट्रैक्टर रैली के तथाकथित हिंसक होने, ट्विटर के माध्यम से कुछ अफवाहें फैलने की बात सामने आई थी और कई ट्विटर अकाउंट पर रोक लगी और फिर देर रात तक हटा दी गई और सरकार का कहना था कि कुछ ट्विटर हैश एम प्लानिंग कमेंट जिनोमाइंड लिखने वाले अकाउंट हटाने संबंधी उसका निर्देश माने या फिर कार्रवाई के लिए तैयार रहें।...बस यही से मामला शुरू हुआ और हम बहुत दिनों से देख रहे हैं कि ट्विटर और भारत सरकार में यह मामला चल रहा है और सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम 2021 बनाया जो 26 मई 2021 से लागू हो चुका है इसके पूर्व सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी कानून (आईटी कानून), 2000 को इलेक्‍ट्रोनिक लेन-देन को प्रोत्‍साहित करने, ई-कॉमर्स और ई-ट्रांजेक्‍शन के लिये कानूनी मान्‍यता प्रदान करने, ई-शासन को बढ़ावा देने, कंप्यूटर आधारित अपराधों को रोकने तथा सुरक्षा संबंधी कार्य प्रणाली और प्रक्रियाएँ सुनिश्चित करने के लिये अमल में लाया गया था। यह कानून 17 अक्टूबर, 2000 को लागू किया गया। यह मसौदा सर्वोच्च न्यायालय के उस आदेश के बाद आया है जिसमें सरकार को गूगल, फेसबुक, यूट्यूब और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया मंचोंके जरिये चाइल्ड पोर्नोग्राफी, बलात्कार,और सामूहिक बलात्कार जैसे यौन दुर्व्यवहार संबंधी ऑनलाइन सामग्री के प्रकाशन और इनके प्रसार से निपटने के लिये दिशा-निर्देश या मानक संचालन प्रक्रिया तैयार करने के लिये मंज़ूरी दी गई थी। इस आर्टिकल को बनाने में। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की सहायता ली गई है उसके अनुसार कुछ सोशल मीडिया कंपनियों ने अपने रोडमैप चेंज कर सकारात्मक रवैया अपनाया परंतु ट्विटर के साथ मामला बढ़ता ही गया, और भारत सरकार ने भी इधर सख्त कदम अपनाया हुआ है। नए आईटी रूल्स का पालन नहीं करना ट्विटर को भारी पड़ गया है। ट्विटर को भारत में मिलने वाला लीगल प्रोटेक्शन यानी कानून सुरक्षा खत्म हो गई है। ट्विटर को भारत में मिलने वाला विकल्प प्रोटेक्शन यानी कानूनी सुरक्षा समाप्त हो गई, अब जब तक ट्विटर नियम लागू नहीं करता उसे कानूनी सुरक्षा नहीं मिलेगी। उधर गाजियाबाद में पुलिस ने पहली एफआईआर  दर्ज कर ली है।..यह मामला अब अब संयुक्त राष्ट्र (यूएन) में पहुंच गया है।...संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूतों ने भारत सरकार को पत्र लिखकर सोशल मीडिया इंटरमी‌डियरियों, स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म और डिजिटल समाचार माध्यमों को विनियमित करने के लिए अधिसूचित नए आईटी नियमों पर गंभीर चिंता व्यक्त की है। 8 पृष्ठ का पत्र एक अधिकारी ने विचार और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार के प्रचार और संरक्षण और प्रसार की विशेष दूत, क्लेमेंट न्यालेतसोसी वौले, शांतिपूर्ण सभा और संघ की स्वतंत्रता के अधिकारों पर विशेष दूत, और जोसेफ कैनाटासी, निजता के अधिकार पर विशेष प्रतिवेदक ने लिखा है।विशेष दूतों ने लिखा, हम उपयोगकर्ता-जनित सामग्री की निगरानी और उन्हें तेजी से हटाने के लिए कंपनियों पर दायित्वों के बारे में गंभीर चिंता व्यक्त करते हैं, जिससे हमें डर है कि अभिव्यक्ति कीस्वतंत्रता के अधिकार को कमजोर किया जा सकता है। पत्र में कहा गया है, हमें चिंता है कि इंटरमी‌डियरी अपने दायित्व को सीमित करने के लिए निष्कासन अनुरोधों का पालन करेंगे, या सामग्री को प्रतिबंधित करनेके लिए डिजिटल रिकग्‍निशन बेस्ड कंटेट रिमूवल सिस्टम या स्वचालित उपकरण विकसित करेंगे। जैसा कि हमारे पूर्ववर्तियों द्वारा जोर दिया गया है, इन तकनीकोंमें सांस्कृतिक संदर्भों का सटीक मूल्यांकन करने और नाजायज सामग्री की पहचान करने की संभावना नहीं है। हम चिंतित हैं कि छोटी समय सीमा, उपरोक्त आपराधिक दंड के साथ, सेवा प्रदाताओं को प्रतिबंधों से बचने के लिए एहतियात के तौर पर वैध अभिव्यक्ति को हटाने के लिए प्रेरित कर सकती है। रिपोर्ट में कहा गया है कि, भारत के नए आईटी कानून इंटरनेशनल कॉवनेंट ऑन सिविल एंड पॉलिटिकल राइट्स (ICCPR) का उल्लंघन कर रहे हैं, जो कि अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संधि का आधार है। बता दें कि इंटरनेशनल कॉवनेंट ऑन सिविल एंड पॉलिटिकल राइट्स (ICCPR) एक बहुपक्षीय संधि है जो नागरिक और राजनीतिक अधिकारों के लिए कई तरह की सुरक्षा प्रदान करती है। इस संधि को 16 दिसंबर 1966 को यूनाइटेड नेशंस जनरल असेंबली रेजॉलूशन में अपनाई गई थी। कॉवनेंट की आर्टिकल 49 के मुताबिक, ICCPR 23 मार्च 1976 को प्रभाव में आया। ब्रिटेन भी 1976 मेंICCPR को फॉलो करने के लिए राजी हुआ। दिसंबर 2018 तक, 172 देशों ने कॉवनेंट को अपनाया है।...भारत ने 6 पृष्ठो में इसके जवाब में भारत के संयुक्त राष्ट्र कार्यालय में भारत के स्थायी मिशन ने भारत के नए आईटी मानदंडों के संबंध मेंमानवाधिकार परिषद की विशेष प्रक्रिया शाखा द्वारा उठाई गई चिंताओं का जवाब दिया है। इसमें स्थायी मिशन ने जोर देकर कहा है कि भारत की लोकतांत्रिक साख अच्छी तरह से मान्यता प्राप्त है और विभिन्न हितधारकों के साथ उचित परामर्श के बाद नए मानदंडों को अंतिम रूप दिया गया है। भारत ने स्पष्ट किया है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के हो रहे गलत इस्तेमाल के चलते नए नियम को लागू करने के लिए मजबूर होना पड़ा है। भारत ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद के लिखे जवाब में कहा है कि नए मीडिया प्लेटफॉर्म (सोशल मीडिया) की मदद से आतंकियों की भर्ती, अश्लील सामग्री का बढ़ना, वित्तीय फ्रॉड, हिंसा को बढ़ावा मिलना जैसे मामले सामने आए थे। ऐसे में सरकार आईटी नियमों में बदलाव के लिए मजबूर हुई।भारतीय संविधान के तहत भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अधिकार की गारंटी है। भारत के स्थायी मिशन ने अपने पत्र में कहा, स्वतंत्र न्यायपालिका और एक मजबूत मीडिया भारत के लोकतांत्रिक ढांचे का हिस्सा हैं। इसमें कहा गया है, भारत का स्थायी मिशन अनुरोध करता है कि संलग्न जानकारी को संबंधित विशेष प्रतिवेदकों के ध्यान में लाया जाए। भारत सरकार और ट्विटर नए मानदंडों को लेकर एक तरह से संघर्ष की स्थिति में हैं, जिसमें केंद्र ने कहा है कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म मानदंडों का पालन करने में विफल रहा है। हालांकि, कंपनी ने हाल ही में कहा कि उसने नए मध्यस्थ दिशानिदेशरें के तहत सुझाव के अनुसार एक अंतरिम मुख्य अनुपालन अधिकारी नियुक्त किया है। नए मध्यस्थ दिशानिर्देशों का पालन न करने के कारण ट्विटर ने भारत में मध्यस्थ मंच का अपना दर्जा भी खो दिया है। अतः उपरोक्त पूरे विवरण का अगर अध्यन कर उसका विश्लेषण करें तो नए आईटी नियम को लागू करने से सोशल मीडिया के प्रयोगताओं को सशक्त बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगे और यूएन द्वारा लिखे गए पत्र की भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी हैं जो भारत के कानून व्यस्था को लागू करने की ओर सकारात्मक कदम हैं।

-संकलनकर्ता- कर विशेषज्ञ- एडवोकेट किशन सनमुखदास भावनानी गोंदिया महाराष्ट्र

बैलगाड़ी में सवार बारातियों संग पालकी से पहुंचे दूल्हा राजा



देवरिया में रविवार को निकली एक बारात ने पुरानी परंपराओं की याद ताजा कर दी। इस बारात में दूल्हा पालकी से निकला तो वहीं बाराती बैलगाड़ी से रवाना हुए। इस बारत को जिसने भी देखा देखता ही रह गया। जिस चौराहे से भी यह बारात गुजरी वहां मजमा लग गया।  कुछ बुजुर्ग तो बाराती व दुल्हा दोनों की तारीफ करते नहीं थक रहे थे। 


रामपुर कारखाना विकासखंड के कुशहरी गांव के रहने वाले छोटेलाल पाल धनगर पुत्र स्व जवाहर लाल की शादी जिले के रुद्रपुर क्षेत्र के पकड़ी बाजार के नजदीक बलडीहा दल गांव निवासी रामानंद पाल धनगर की पुत्री सरिता से तय थी। रविवार को बारात रवाना होनी थी। इसके लिए कुशहरी में पिछले एक सप्ताह से तैयारी चल रही थी।  छोटेलाल ने अपनी बारात पुराने रीति-रिवाज और परंपरा से निकालने की जानकारी दुल्हन पक्ष को पहले ही दे दिया था। सुबह 11 बैल गाड़ियां सज-धज कर छोटे लाल के दरवाजे पर पहुंची तो लोग देखते ही रह गए। 


Thursday, June 17, 2021

भारत का अंतरराष्ट्रीय स्तर पर रुतबा बढ़ा - विवाटेक सम्मेलन पांचवे संस्करण 2021 में दुनिया के इनोवेटर्स और इन्वेस्टर्स को भारत में निवेश का आमंत्रण

अंतर्राष्ट्रीय सम्मिटों, G-7 शिखर सम्मेलन, संयुक्त राष्ट्र के मरुस्थलीकरण भूमिशरण और सूखे पर सम्मेलन तथा विवाटेक सम्मेलन में भारत का रुतबा बड़ा - एड किशन भावनानी


गोंदिया - वैश्विक रूप से कोरोना महामारी ने पिछले वर्ष से लेकर अभी 2021 तक पूरे विश्व को जबरदस्त आघात पहुंचाया है। परंतु पूरा विश्व एक साथ मिलकर अपने हौसलों,जज्बों और कोरोना महामारी को हराने के संकल्प से अब कोरोना महामारी ने धीरे-धीरे कदम पीछे हटाना शुरू कर दिया है। भारत सहित वैश्विक मानवीय प्रजाति ने अपनी रणनीतिक जीत की ओर कदम बढ़ा दिए हैं शीघ्र ही कोरोना महामारी को जड़ से समाप्त करने का रणनीतिक रोडमैप का क्रियान्वयन होगा...। बात अगर हम भारत की करें तो 135 करोड़ की जनसंख्या वाला देश जिस जांबाजी और अपने बुलंद हौसलों, जज्बों के साथ इस महामारी से लड़कर स्थिति को नियंत्रण में लाया वो तारीफ ए काबिल है तथा इस महामारी को जड़ से मिटाने की जंग अभी जारी है। यह नजारा सारा विश्व देखकर भारत का लोहा मानने पर मजबूर हुआ है और हो भी क्यों ना, क्योंकि भारत की मिट्टी में जन्मा हर नागरिक अपनी भारत माता की रक्षा के लिए हर वक्त तत्पर और तैयार रहता है।...बात अगर हम भारत की कोरोना से लड़ाई की करें तो लड़ते हुए वैश्विक स्तर पर भारत ने अपनी प्रतिष्ठा में चार चांद लगाए हैं। आज भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक मजबूत देश, मजबूत नेतृत्व, मजबूत नागरिक, मजबूत संकल्पित रणनीतिक रोडमैप बनाकर लड़ने वाला देश के रूप में देखा जा रहा है। आज हर भारतीय गर्व महसूस कर रहा है कि पिछले कुछ सालों में भारत की प्रतिष्ठा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत अधिक बढ़ी है। विश्व की नजरों में आज भारत का मूल्य अपेक्षाकृत कहीं अधिक है। यही कारण है कि हाल मैं पिछले एक ही हफ्ते में तीन अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन हुए हैं, जिसमें भारत को विशेषता से उपस्थिति का दर्जा प्राप्त हुआ है। माननीय पीएम महोदय ने वर्चुअल रूप से सम्मेलन में शामिल होकर अपने संबोधन में भारत को मजबूती प्रदान की है। तीनों अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों के बारे में टीवी चैनलों और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की रिपोर्टपर यह आर्टिकल आधारित है।...बात अगर हम 16 जून 2021 को फ्रांस की राजधानी पेरिस में हुए विवाटेक सम्मेलन के 2021 के पांचवें संस्करण की करें तो यह 16 से 19 जून 2021 विवाटेक यूरोप में सबसे बड़े डिजिटल और स्टार्टअप इवेंट्स में से एक है, जो 2016 से हर साल फ्रांस की राजधानी पेरिस में आयोजित किया जाता है। यह संयुक्त रूप से पब्लिसिस ग्रुप – एक प्रमुख विज्ञापन और मार्केटिंग ग्रुप और लेस इकोस – एक प्रमुख फ्रांसीसी मीडिया समूह द्वारा आयोजित किया जाता है। यह टेक्नोलॉजी इनोवेशन और स्टार्टअप सिस्टम में स्टेकहोल्डर्स को एक साथ लाता है और इसमें एग्जीबीशन, एवार्ड,पैनल मीटिंग और स्टार्टअप कंपटीशन शामिल हैं। विवाटेक का 5वां एडीशन 16-19 जून 2021 के बीच आयोजित है पीएम इस सम्मेलन में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल हुए। उनके साथ इस इवेंट में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों, स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज ओर विभिन्न यूरोपीय देशों के मंत्री और सांसद भी इस कार्यक्रम के प्रमुख वक्ताओं में शामिल हैं। पीएम ने इस सम्मिट में कहा,हमारा देश दुनिया के सबसे बड़े स्टार्ट-अप इकोसिस्टम में से एक है। भारत वह प्रदान करता है जो इनोवेटर्स और निवेशकों को चाहिए। मैं दुनिया को पांच स्तंभों (टैलेंट, मार्किट, कैपिटल, इकोसिस्टम और ओपन कल्चर) के आधार पर भारत में निवेश करने के लिए आमंत्रित करता हूं। पीएम ने इस सम्मेलन के माध्यम से युवाओं को प्रेरित करने के लिए कहा, हम जिन चुनौतियों का सामना कर रहे हैं,उन्हें सामूहिक भावना और मानव-केंद्रित दृष्टिकोण से ही दूर किया जा सकता है। इसके लिए, मैं स्टार्ट-अप समुदाय से नेतृत्व करने का आह्वान करता हूं। इस क्षेत्र में युवाओं का दबदबा है- वे वैश्विक परिवर्तन को शक्ति देने के लिए सबसे अच्छी स्थिति में हैं। हमारे स्टार्ट-अप को हेल्थ केयर, वेस्ट रीसाइक्लिंग, एग्रीकल्चर, लर्निंग जनरेशन के उपकरणों सहित पर्यावरण के अनुकूल तकनीक जैसे क्षेत्रों का पता लगाना चाहिए। पीएम ने बुधवार को विवाटेक सम्मेलन के 5वें संस्करण को संबोधित करते हुए दुनियाभर के इनोवेटर्स और इन्वेस्टर्स को भारत में निवेश करने के लिए आमंत्रित किया।... बात अगर हम संयुक्त राष्ट्र के 14 जून 2021 के मरुस्थलीकरण भूमिशरण और सूखे (यूएनसीसीडी) के 14 वें सत्र के अध्यक्ष के रूप में अपने वर्चुअल संबोधन में पीएम ने कहा, दुखद है कि भूमिक्षरण ने आज दुनिया के दो-तिहाई हिस्से को प्रभावित किया है। अगर इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो यह हमारे समाजों अर्थव्यवस्थाओं, खाद्य सुरक्षा, स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता व सुरक्षा की नींव को कमजोर कर देगा, उन्होंने कहा, इसलिए हमें भूमि और इसके संसाधनों पर भयंकर दबाव को कम करना होगा। अभी आगे बहुत कुछ किया जाना बाकी है। हम साथ मिलकर इसे कर सकते हैं...। बात अगर हम G-7 शिखर सम्मेलन की करें तो 11 से 13 जून 2021 तक ब्रिटेन में चले इस शिखर सम्मेलन में भारत को अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था। इस सम्मेलन में वर्चुअल भाग लेकर पीएम ने कहा था, भविष्य की महामारियों को रोकने के लिए वैश्विक एकता, नेतृत्व और एकजुटता का आह्वान करते हुए, पीएम ने चुनौती से निपटने के लिए लोकतांत्रिक और पारदर्शी समाजों की विशेष जिम्मेदारी पर जोर दिया। पीएम ने संपर्क का पता लगाने और टीकों के प्रबंधन के लिए ओपन सोर्स डिजिटल प्रणाली के सफल इस्तेमाल के बारे में भी बताया। साथ ही दूसरे विकासशील देशों के साथ अपने अनुभव और विशेषज्ञता साझा करने की इच्छा प्रकट की। अतः उपरोक्त पूरे विवरण का अगर हम अध्ययन कर उसका विश्लेषण करें तो हमने देखे के 11 जून 2021 से लेकर 16 जून 2021 तक भारत ने तीन अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों में विशेष रूप से भाग लेकर सम्मेलनों को संबोधित भी किया। कई मसलों पर अंतरराष्ट्रीय नेताओं ने सहमति, तारीफ़ और प्रसन्नता जाहिर की जो हम भारतीयों के लिए अपनी कॉलर टाइट और सम्मान से सर ऊंचा करने वाली बात है। हम भारतीय हैं कहने की को हम फक्र महसूस कर रहे हैं और भारत की शान में चार चांद लग गएहैं क्योंकि भारत का रुतबा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत बड़ा हैं अब हमें पूरा विश्वास है कि अब 5 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की अर्थव्यवस्था पर पहुंचने में हम जरूर कामयाब होंगे। क्योंकि, गौरतलब है कि 5 ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर की इकोनॉमी पीएम का प्रमुख सपना है। इससे पहले, बोफा ने साल 2017 में यह अनुमान जताया था कि भारत 2027-28 तक दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश होगा। भारत इस समय दुनिया में पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है।

Thursday, June 10, 2021

वैशाली के हाजीपुर में 1 करोड़ 19 लाख की दिन दहाड़े एच डी एफ सी बैंक हुई लूट

◆ बैंक खुलते ही अंदर घुस गए 5 लुटेरे, बोरे में लूट की रकम रख हुए फरार

◆ CCTV में कैद हुई पूरी वारदात

बिहार(ब्यूरो चीफ अखिलेश कुमार) दैनिक अयोध्या टाइम्स।

वैशाली जिले के हाजीपुर में लुटेरों ने गुरुवार को बड़ी वारदात को अंजाम दिया है। HDFC बैंक खुलते ही पाँच की संख्या में लुटेरे अंदर दाखिल हुए और बैंक में मौजूद लोगों को बंधक बनाकर 1 करोड़ 19 लाख लूट कर फरार हो गए। इससे इलाके में हड़कंप मच गया है।

बताया जाता है कि लुटेरों ने बैंक कर्मियों को हथियार की नोक पर कब्जे में ले लिया। इसके बाद बैंक के कैश रूम से 1 करोड़ से ज्यादा नकदी लूट ली। सीसीटीवी फुटेज में साफ दिख रहा है कि बैंक लूट की इस बड़ी रकम को लुटेरे बोरे में रखकर कंधे पर टांग भाग निकले हैं। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबित पांच की संख्या में बैंक खुलते ही लुटरे ने प्रवेश किया और बन्दूक के नोक पर बैंक कर्मी के साथ साथ ग्राहक को भी बंधक बनाकर लूट की घटना को अंजाम दिया घटना के बाद जिले को सील कर दिया गया है और संघनन चेकिंग अभियान चलाया जा रहा है और सीसीटीव के फूटेज से लुटेरे की पहचान में प्रशासन जुट गए।वैशाली एसपी मनीष कुमार ने लुटरे को धर पकड़ के लिए सभी थाना अध्यक्ष को शख्स निर्देश दिए है।पुलिस महकमा में हड़कम्प मच गया है सभी लुटेरे बाइक से आये थे ऐसा स्थानीय लोगों ने बताया है।

सुहागिनों ने वट सावित्री व्रत रख,पति के दीर्घयु होने की कामना की

     राजापाकर (वैशाली) संवाददाता, दैनिक अयोध्या टाइम्स

 पति के दीर्घायु होने की कामना को लेकर गुरूवार को प्रखंड क्षेत्र के विभिन्न गांवों कस्बों में सुहागिन महिलाओं ने वट सावित्री व्रत उमंग उल्लास व भक्त भाव के वातावरण में मनाई। आज सुबह से ही सुहागिनें सोलह श्रृंगार कर वट वृक्ष के पास पकवान व फलों के साथ  पूजा अर्चना की और भगवान की सलामती के लिए दुआ मांगी। शास्त्रों के अनुसार वट वृक्ष के मूल में में ब्रहमा, मध्य में विष्णु तथा अग्र भाग में शिव का वास माना गया है। वट वृक्ष यानी बरगद के पेड़ को देव वृक्ष माना जाता है।


मान्यताओं के अनुसार जेष्ठ माह की अमावस्या के दिन वट वृक्ष में सात बार सूत बांधे जाते हैं। यह भी मान्यता है कि वट वृक्ष में माता सावित्री का भी वास होता है। प्रखंड मुख्यालय सहित नारायणपुर बेलकुंडा बिरनालखनसेन लगुरांव बिलंदपुर बाकरपुर बैकुंठपुर आदि गांवों में सुहागिनों के व्रत किए।

Tuesday, June 8, 2021

बस और टेंपो की जोरदार टक्कर में 16 की मौत, कई लोग घायल


कानपुर नगर से कुछ दूर सचेंडी थाना क्षेत्र के रतन खेड़ा हाईवे के पास तेज से जा रही बस ने टेंपो को जोरदार टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जोरदार थी कि टेंपो उछलकर हाईवे के किनारे जा गिरी। वहीं, बस भी अनियंत्रित होकर पलट गई।  गाड़ियां पलटते ही उसमें बैठी सवारियों में चीख-पुकार मचने लगी। इस भयावह दृश्य को वहां मौजूद जिस किसी शख्स ने भी देखा उसके होश ही उड़ गए। हालांकि इस दौरान कुछ लोग मदद के लिए आगे भी आए। घटना के बाद मौके पर मौजूद लोगों ने देर न करते हुए पुलिस और कंट्रोल रूम को हादसे की जानकारी दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने टेंपो के अंदर फंसे गंभीर रूप से घायलों को सबसे पहले बाहर निकाला। इसके बाद घटनास्थल पर पहुंची दर्जन भर एंबुलेंस सभी को लेकर लाला लाजपत राय एलएलआर अस्पताल रवाना हुईं। कानपुर मेडिकल कालेज के प्राचार्य डॉ. आरबी कमल ने अब तक 16 लोगों की मौत होने की पुष्टि की है। वहीं इतनी बड़ी संख्या में मृत लोगों की सूचना पाते ही आलाधिकारी भी मौके पर पहुंचे रहे हैं। 


Monday, June 7, 2021

सोनपुर सदर भाजपा पश्चिमी मंडल के महामंत्री के पिता के ईलाज के दौरान कोरोना से हुई मौत

सारण (ब्यूरो चीफ संजीत कुमार) दैनिक अयोध्या टाइम्स 

सोनपुर


-सोनपुर प्रखंड के भाजपा के वरिष्ठ नेता चतुरपुर पंचायत के जन वितरण प्रणाली विक्रेता व सोनपुर सदर भाजपा पश्चिमी मंडल के महामंत्री रवि रंजन सिंह सोनु के पिता ठाकुर कृष्णा कुमार सिंह की सोमवार को पटना स्थित पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल मे निधन हो गया,वे रविवार् को  पटना के चंद्रालय हार्ट अस्पताल कंकङबाग भर्ती थे हार्ट अटैक के कारण फिर अस्पताल प्रबंधक द्वारा नाजुक स्थिति देखते हुए पटना मेडिकल कॉलेज स्थानांतरित कर दिया जहा कोविड की जाच की गई जहां जाचोप्रान्त पॉजिटिव पाया गया जिसके बाद सोमवार को इलाज के क्रम मे ही पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल मे उनकी निधन हो गया जिससे सोनपुर क्षेत्रवासी मे शोक की लहर फैल गई।इनका इलाज सारण के सासद राजीव प्रताप रूढी,बिहार सरकार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पाण्डेय के निगरानी मे चिकित्सक द्वारा की जा रही थी ।इनके निधन से सारण सांसद राजीव प्रताप रूढी ,सोनपुर के पूर्व विधायक विनय कुमार सिंह,मंडल महामंत्री उमाशंकर सिह, रामविनोद सिंह मंडल अध्यक्ष शिवबच्चन सिंह, विमल कुमार चौरसिया ,विनोद सम्राट सिंह,  राजेश कुमार ओझा पुष्पेद्र उपाध्याय,मुकेश कुमार सिंह के अलावे सोनपुर फेयर प्राइस डिलर एसोसिएशन संघ के अध्यक्ष दरवेश राय,व अन्य भारी संख्या मे भाजपा पदाधिकारीयो व ग्रामीण ने शोक प्रकट किया।

खाकी

आश है खाकी।

विश्वास है खाकी।

निर्बल का बल है खाकी।

जन जन की सुरक्षा है खाकी।

सीमाओं की प्रहरी है खाकी।

अपराधियों का भय है खाकी।

सेवा है खाकी।

सुरक्षा है खाकी।

सहयोग है खाकी।

अपराधियों पर अंकुश है खाकी।

आदर्श समाज का प्रतिबिंब है खाकी।

करुणा दया और न्याय है खाकी।

सकारात्मक सोच है खाकी।

त्याग और बलिदान है खाकी।

तन का गौरव है खाकी।

प्रत्येक संकट का निदान है खाकी। 

दिन और रात कर्तव्य का निर्वहन है खाकी।  

फिर भी बदनाम है खाकी।

रचयिता- डॉ. अशोक कुमार वर्मा