ईद न मनाकर गरीबों व जरूरतमंदों की मदद करें, यही सबसे बड़ी इबादत है : डॉ. इऱफान राव 




लोनी,गाजियाबाद। कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए जहां पूरे विश्व में आहाकार मचा हुआ है वहीं हमारे देश हिंदुस्तान में भी कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। वहीं दूसरी ओर आई इस आपदा से गरीब, मजदूर, बेसहाराओं एवं जरूरतमंदों की परेशानियां बढ़ती जा रही है। ऐसा नहीं है कि सरकार मदद नहीं कर रही है। लेकिन सरकार के साथ-साथ सामाजिक व राजनीतिक पार्टियों के नेताओं के साथ-साथ जनप्रतिनिधियों समाजसेवियों ने भी अपनी कमर कस ली है और लगातार लोगो की मदद कर रहे हैं।  इसी कड़ी में अगर हम बात करें तो जनपद गाजियाबाद के लोनी शहर में पेशे से डॉक्टर कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर इरफान राव लगातार अपने स्तर से गरीब लोगों की सहायता कर रहे हैं।  जब हमने डॉक्टर इरफान राव से इस विषय पर बातचीत की तो उन्होंने कहा कि यह आपदा कोई एक देश में नहीं बल्कि पूरे विश्व में है आयी हुई है। इसलिए हमारा कर्तव्य बनता है कि हम अपने आस - पास में रहने वाले सभी ग़रीबों व जरूरतमंदों की सेवा करें, उन्होंने कहा कि लॉकडाउन लागू होने के बाद से ही मास्क एवं खाद्य सामग्री का वितरण लगातार कर रहा हूं। इस दौरान मैं लॉकडाउन का पालन भी सख्ती के साथ करते हुए सोशल डिस्टेंस का भी ख्याल कर घर - घर जाकर यह सभी सामग्रियां गरीबों में बांट रहा हूं। वहीं लोनी से "पारस मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल" के चेयरमैन डॉक्टर बिजेंद्र सिंह ने कहा कि ऐसी आपदा की घड़ी में सभी को आपसी मतभेद भूलकर एक दूसरे का साथ देना चाहिए, इसी का नाम इंसानियत है। कार्डियोलोजिस्ट डॉक्टर इऱफान राव  एसिस्टेंट हिमांशी विश्वकर्मा ने कहा कि ऐसी आपदा को देखते हुए लोगो को चाहिए कि वे फ़िजूल खर्चा न करें, और उन बचाए हुए पैसों से गरीबों व जरूरतमंदों की मदद करें।


 

 



 

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

तुम मेरी पहली और आखरी आशा

बस और टेंपो की जोरदार टक्कर में 16 की मौत, कई लोग घायल