विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, May 19, 2020

कोरेनटाईन सेंटरों के अव्यवस्था का वास्तविक जिम्मेदार कौन : जेबा रिजवान

बलरामपुर, जहां एक तरफ वैश्विक महामारी से पूरा देश बेहाल है सरकार एक के बाद एक रोज नई घोषणाएं कर रही है प्रदेश सरकार भी इस मामले में दो कदम और आगे बढ़ कर शासन स्तर से सभी सुविधाएं जनता को मुहैया कराने का निर्देश जारी कर रही है परंतु दुर्भाग्य है कि यह सब होने के बाद भी डाख के तीन पात ही साबित हो रहे हैं प्रवासी श्रमिकों के जनपद आगमन पर उन्हें दोहरी मार झेलनी पड़ रही है एक तो हजारों किलोमीटर दूर चलकर यह श्रमिक किसी तरह अपने घर पहुंच गए तो स्थानीय प्रशासन इनके लिए सबसे बड़ी मुसीबत बन गया जनपद मुख्यालय से प्रवासी श्रमिक जैसे-तैसे अपने घर पहुंच पाते उससे पहले उन्हें आसपास के स्कूलों में क्वॉरेंटाइन कर दिया गया जिन विद्यालयों में उन्हें क्वॉरेंटाइन  किया गया वहां कोई व्यवस्था ना होने के कारण उन्हें खून के आंसू   बहाने पड़े घर में ही वे बेवतन होने वाली उनके साथ बात हो गई आखिरकार जिला प्रशासन ने  क्वॉरेंटाइन किए गए लोगों को स्वयं  मुक्त कर दिया जिससे गांव में डर और दहशत का माहौल है श्री  जेबा ने कहा कि इस सब का वास्तविक जिम्मेदार कौन है सरकार या प्रशासन और दोनों स्थितियों में ही सरकार की ही जिम्मेदारी बनती है जिसका खामियाजा आम जनता व प्रवासी मजदूरों को भुगतना पड़ रहा  जो न्याय संगत नहीं है ।

 

No comments:

Post a Comment