पीड़ित परिवार से मिलने मनोना पहुंचे एसएसपी, गांव में पीएसी तैनात 




पिनाहट ।थाना पिनाहट क्षेत्र के गांव मनोना में दुष्कर्म पीड़िता को डरा धमका कर राजीनामा करने व मारपीट के मामले  ने अब सोशल मीडिया पर तूल पकड़ लिया है। वही दुष्कर्म पीड़िता ने न्याय न मिलने पर आत्महत्या की चेतावनी दी है ।जिससे प्रशासन अधिकारियों में हड़कंप मच गया है । शनिवार को एसएसपी आगरा पुलिस बल के साथ गांव मनोना पहुंचे। और दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों से मुलाकात की। उन्हें सुरक्षा का भरोसा दिलाते हुए न्याय दिलाने की बात कही ।सुरक्षा की दृष्टि से गांव में एक प्लाटून पीएसी तैनात कर दी है ।

        जानकारी के अनुसार थाना पिनाहट क्षेत्र के गांव मनोना में 13 मई को एक नाबालिग किशोरी के साथ दुष्कर्म हुआ था। जिसमें पुलिस ने जितेंद्र सिंह नाम के एक आरोपी को जेल भेज दिया था ।तीन अज्ञात आरोपी फरार चल रहे हैं। गुरुवार को  पूर्व कैबिनेट मंत्री राजा महेंद्र सिंह व क्षेत्रीय विधायक रानी पक्षालिका सिंह अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ पीड़ित दुष्कर्म पीड़िता के घर राजीनामा का दबाव बनाने व डराने धमकाने के लिए उसके घर पर पहुंची । और भरी पंचायत में दुष्कर्म पीड़िता को सबके सामने बुलाया ।और जमीन पर बिठाया ।दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों ने इस घटना का वीडियो बनाया तो रराजा समर्थकों ने दुष्कर्म पीड़िता के परिजनों के साथ मारपीट कर दी थी ।परिवार के कई लोग घायल हो गए थे ।पीड़ित दुष्कर्म पीड़िता ने इस मामले की लिखित शिकायत एसएसपी बबलू कुमार आगरा से की थी ।शुक्रवार को दुष्कर्म पीड़िता ने न्याय न मिलने पर आत्महत्या की चेतावनी देते हुए सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो वायरल कर दिया है । जिससे प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कंप मच गया। शनिवार को एसएसपी आगरा बबलू कुमार पुलिस बल के साथ मनोना गांव पहुंचे ।और पीड़ित परिवार से मिलकर घटना की जानकारी ली ।और पीड़ित परिवार को निष्पक्ष कार्रवाई का आश्वासन देते हुए आश्वस्त कराया ।और गांव में सुरक्षा की दृष्टि से पीड़ित परिवार को सुरक्षा मुहैया कराते हुए एक प्लाटून पीएसी तैनात कर दी गई है।


 

 



 

Comments

Popular posts from this blog

सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ की जन्म कुण्डली जानिये : पं0 सुधांशू तिवारी

राघोपुर में बिजली चोरी करते पकड़े गए 11 लोग जेई ने दर्ज कराई प्राथमिकी

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमन्त्री केशव प्रसाद मौर्य की जीवन कुण्डली : पं. सुधांशु तिवारी के साथ