विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, May 25, 2020

प्रवासी मज़दूरों को सुरक्षित व कोरेन्टीन सेंटरों पर सुव्यवस्था के लिए खेग्रामस ने किया धरना-सत्याग्रह

 दस दिवसीय धरना सत्याग्रह के चौथे दिन सरकार का जमकर जताया विरोध


हाजीपुर  (संवाददाता) ।
प्रवासी मज़दूरों को सुरक्षित घर वापसी, कौरेंटाईन सेंटरों पर प्रवासियों को संतुलित भोजन व रहने की सुव्यवस्था समेत अन्य मांगों के समर्थन में खेग्रामस और मनरेगा मजदूर सभा ने धरना देकर विरोध दर्ज किया। धरना सत्याग्रह के चौथे दिन दिन जिले के विभिन्न प्रखंडो के कार्यकर्ताओ द्वारा सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए धरना के माध्यम से केंद्र और राज्य सरकार का जमकर विरोध किया। कार्यक्रम का आयोजन हाजीपुर के हरिवंशपुर, सहदेई बुजुर्ग प्रखंड के दुबहा, जंदाहा प्रखंड के पानापुर शिलौथर एवं विसनपुर  धरना सत्याग्रह किया गया। खेग्रामस के राष्ट्रीय पार्षद दीनबंधु प्रसाद ने कहा कि हरिवंशपुर में महिनों से गंडक नदी के कटाव से दर्जनों मजदूर के परिवार बेघर हो गए, जिला पदाधिकारी एवं संबंधित पदाधिकारी के पास अनेकों बार लिखित एवं मौखिक रूप से मजदूर- किसान गुहार लगा रहे हैं। और संचीकायें कछुए की चाल से चलरही है। इन्होंने केंद्र और राज्य सरकार से हरिवंशपुर  को कटाव से अभिलंब रोका जाए, प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित घर वापसी, कौरेंटान सेंटरों पर संतुलित भोजन, रहने की सुव्यवस्था एवं रोजगार दिया जाए, कार्ड धारियों एवं बगैर राशन कार्ड धारियों को तीन माह का मुफ्त भोजन सामग्री एवं 10-10 हजार रुपए गुजारा भत्ता दिए जाने का  मांग किया कि 


- धरना सत्याग्रह में इनकी रही उपस्थिति


सचिव राम बाबू भगत, बल्लम भगत, राज कुमार महतो, राम बाबू पासवान, संध्या कुमारी, मो. जाकिर हुसैन, जिसान अली, मसरूर अली, अरमान, दानिश, नौसाद, जवाहर ठाकुर, पवन पासवान, राम बिलाश दास समेत पार्टी के अन्य कार्यकर्ता शामिल थे।


 


No comments:

Post a Comment