विज्ञापन

विज्ञापन

Friday, May 15, 2020

श्रम साधक को विश्राम नहीं 

मानव जीवन है श्रम साधक

कर्मवीरों  का है काम  यही

जिनके फौलादी हाथों से होते

निर्मित मशीनें रेल जहाज सुई

बनते छोटे लम्बे पुल-पुलिया

कल - कारखाने मकान यहीं ।

श्रम साधक को विश्राम नहीं ।।

 

धुँआ  धूल-धूसरित जगहें हों

झाड़ू-पोछा बर्तन माँज घर-घर

गिट्टी- सीमेंट  बालू - पत्थर

सिर  लादे  भारी  ईंट  गट्ठर

अनवरत श्रम करते हर कहीं । 

श्रम साधक को विश्राम नहीं ।। 

 

धरती पर्वत मरुथल अम्बर में 

रख धीरज  पुरूषार्थ दिखाते 

दोनों हाथों के श्रम प्रतिफल से

निज जरूरतें  सम्पूरित करते 

रचते  सृजन  बहा स्वेद कण

खुश रह विघ्नों से घबराते नहीं 

श्रम साधक को विश्राम नहीं ।। 

          रचना मौलिक 

No comments:

Post a Comment