विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, June 8, 2020

हुनर रखता हूँ

हंसते हंसाते गंभीर होने का हुनर रखता हूँ 

मसखरे से पलभर में कबीर होने का हुनर रखता हूँ! 

 

साधारण कपड़े,लंबी दाढ़ी,लंबी चोटी रखकर 

सभी को दंडवत होके नजीर होने का हुनर रखता हूँ! 

 

दुख दर्द समेटे श्रोता आते हैं सुनने सदा हमको

सबको हंसाकर यार मैं फकीर होने का हुनर रखता हूँ! 

 

काम कुछ ऐसा करने की कोशिश करता हूँ मैं 

सभी लकीरों से बड़ी लकीर होने का हुनर रखता हूँ! 

 

माँ शारदा भवानी के आशीर्वाद से ही निर्मल 

मैं भी तो किसी की तकदीर होने का हुनर रखता हूँ!

 

आशीष तिवारी निर्मल 

No comments:

Post a Comment