यह जिंदगी

एकदम पुरानी प्रथा है यह जिंदगी, 

कहीं व्यथा तो कहीं तथा है यह जिंदगी।
पल पल में मिलनेवाला प्रेम है यह जिंदगी,
तो कहीं अकेलेपन का कहर है यह जिंदगी,
निराशाओं से घिरी जलती चांदनी के बीच,
तो कहीं आशा की दिखाई देती एक किरण है यह जिंदगी।
किसी के लिए प्रेम का आलिंगन,
तो किसी के लिए प्रेम का विरह है यह जिंदगी।
कहीं भावनाओं से भीगी,
तो कहीं संबंधों की खराश है यह जिंदगी।
कहीं संबंधों का पूर्णविराम,
तो कहीं संबंधों की शुरुआत है यह जिंदगी।
किसी के लिए धारणा,
तो किसी के लिए अवधारणा है यह जिंदगी।
किसी के लिए अकेलेपन का पथ,
तो किसी के लिए सगे-संबंधियों का साथ है जिंदगी।
मानो तो अनंत सुख,
न मानो तो शून्य है यह जिंदगी।

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

Return टिकट तो कन्फर्म है

प्रशासन की नाक के नीचे चल रही बंगाली तंबाकू की कालाबाजारी, आखिर प्रशासन मौन क्यों