विज्ञापन

विज्ञापन

Tuesday, February 2, 2021

अमेठी उत्तर प्रदेश आज दिनांक 2 फरवरी 2021 को संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन जिलाधिकारी की अध्यक्षता में आयोजित किया गया

 अमेठी रवि भूषण मिश्रा

तहसील अमेठी में संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन जन सामान्य की शिकायतों का त्वरित व गुणवत्तापूर्ण निस्तारण के लिए जिला अधिकारी अरुण कुमार की अध्यक्षता में संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया गया
संपूर्ण समाधान दिवस के दौरान अनुपस्थित पाए गए 20 अधिकारियों का 1 दिन का वेतन रोकने एवं स्पष्टीकरण प्राप्त करने के निर्देश दिए
जन शिकायतों के सिलसिले में एक शिकायत अमेठी बाईपास के निर्माण में गरीब किसान राम दर्शन पुत्र स्वर्गीय श्री राम अधार निवासी ग्राम जंगल रामनगर तहसील अमेठी व जनपद अमेठी की भूमि अर्जित गाटा संख्या 3168 मिल जुमला रकबा 0.4 410 हेक्टेयर जो कि बाईपास अमेठी के नाम से अंकित है को श्री राम दर्शन पुत्र स्वर्गीय राम अधार के गाटा संख्या 3168 रकबा 0.44 10 हेक्टेयर भूमि एक्सचेंज करने हेतु 11 दिसंबर 20 को अपनी सहमति दी है
समयक विचार उपरांत कार्य हित में बाईपास के बाहर स्थित होने के कारण भूमि का विनिमय करते हुए राजस्व अभिलेखों में अमल दरामद हेतु उप जिलाधिकारी न्यायालय में पत्रावली के आधार पर उत्तर प्रदेश राजस्व संहिता 2006 की धारा 101व 102 के सुसंगत प्रावधान के अंतर्गत प्रदान करने का अनुरोध किया है जिससे कि अमेठी बाईपास का निर्माण कार्य पूर्ण कराया जा सके जिस पर जिला अधिकारी अमेठी ने पूर्ण आश्वासन दिया है कि किसी भी गरीब व किसान की जमीन को धोखे से अधिग्रहित नहीं कर सकता उसका उचित मुआवजा दिलाया जाएगा
इसी बीच एक मामला श्रीमती देवकली पाठक पत्नी श्री राज नारायण पाठक निवासी ग्राम बनवीर पुर थाना संग्रामपुर ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र दिया कि पुराने मंदिर के सामने मौके पर खाली जमीन में सड़क निर्माण कराए जाने के संबंध में न्यायालय श्रीमान उप जिला अधिकारी अमेठी के आदेशानुसार दिनांक 28 सितंबर 2020 एवं प्रति पक्षी  के बयान की धारा 14 एवं ग्राम प्रधान का प्रस्ताव दिनांक 24 अप्रैल 1996 का है यह की उल्लेखनीय है कि प्रतिवाद पत्र की धारा 14 में विपक्षी ने यह कथन किया है कि प्रार्थी द्वारा कथित मार्ग पर कब्जा नहीं किया गया हैऔर इसी को आधार मानते हुए परगना अधिकारी महोदय ने आदेश वापस ले लिया है जो कि संलग्न है उसका विवरण थानाध्यक्ष की रिपोर्ट में दर्ज व रेखांकित है परंतु 1996 से आज दिन तक मंदिर पर जाने के लिए रास्ता नहीं बनवाया जा सका जिस के संबंध में प्रार्थिनी ने जिलाधिकारी से रास्ता बनवाए जाने की मांग की है

No comments:

Post a Comment