हां... हम मीडिया से हैं

जिन्हें तुम अपने मन का न लिखने पर "बिकाऊ, दलाल, गोदी और न जाने क्या क्या बोल दिया करते हो...


जब तुम्हारे घर में चोरी, लड़ाई, और कोई अनहोनी होती है और पुलिस नहीं सुनती तो तुम हमको मदद भरी निगाह से देखते हो... वही हैं हम

हां हम मीडिया से हैं....

जब चुनाव आते हैं तो तुम्हारे चुनाव प्रचार में और तुम्हारे फेवरिट केन्डिटेड की अच्छी ख़बर न चलाए तो गुस्साते हो तुम... गरियाते हो और चला दें तो अच्छे हैं हम..

तुम्हारी पसंदीदा सरकार के विरोध में लिख दें तो देश विरोधी हैं हम, लिख दें तो विपक्ष के गुनहगार हैं हम...

हां हम मीडिया से हैं....

अधिकारी रिश्वत ले रहा है दिखा दें तो अधिकारी के गुनहगार हैं हम, और न दिखायें तो चाटुकार हैं हम....

तुम्हारी सोच के कर्णधार हैं हम, देश के सबसे कमज़ोर स्तंभ "पत्रकारिता" के सूत्रधार हैं हम...

हमको धूप नहीं लगती, हमको ठंड नहीं लगती, हमको बरसात नहीं दिखती...हमको बस ख़बर दिखती है, इस बात के गुनहगार हैं हम...

*फिर भी गर्व से कहते हैं....हां हम मीडिया से हैं* 

दैनिक अयोध्या टाइम से भूपेंद्र सिंह

Comments