आतंक की खैर नहीं

 

आतंक की अब खैर नही

दहाड़ रहा हिन्दुस्तान 

आतंक के परवरिशकर्ताओं को

निर्णायक सबक देगा हिन्दुस्तान

 

भरी महफिल में उतर रहा शुरूर

फिर भी न तेरा कम हुआ गुरूर

चुन चुन कर तेरा बखान हुआ

देख लो पाक दुनियां में 

हिन्दुस्तान का कितना सम्मान हुआ।

 

एक तरफ आतंकिस्तान

दूसरे तरफ विकासीस्तान

तू साजिश करता गया

और तेरा दिवाला निकल गया।

मदद करने वाला हिन्द देखो

तुमसे कितना आगे निकल गया।

 

अब तो खाने के भी 

दाने नही तेरे पास

त्राहि त्राहि कर रहा 

तेरे देश की अवाम।

 

बूरे कर्म का बूरा नतीजा

तो होना ही था

पाला पोशा दहशतगर्द को

तुझे तबाह तो होना ही था।

 

                                आशुतोष

Comments