अंधेरे मे रहने को मजबूर हैं प्रवासी




संदीप दूबे दैनिक अयोध्या टाईम्स न्यूज सुलतानपुर-जिले के गांवों में कोरोना ने दस्तक दे दी है। एक के बाद एक गांव से ही कोरोना के केस निकल कर आ रहे हैं। हालांकि शासन के निर्देश पर जिला प्रशासन की ओर से संक्रमण का फैलाव गांव तक पहुंचने से रोकने के लिए काफी इंतजाम किए गए हैं. लेकिन संक्रमित परदेसियों से सारी व्यवस्था धरी की धरी रह गई। गांवों में अभी तक संक्रमित मिले लोगों में परदेसी ही शामिल हैं। बड़ी संख्या में इनके पहुंचने से अन्य ग्रामीणों के लिए भी खतरा बढ़ गया है।अब प्रशासन के सामने परदेसियों को होम क्वारंटीन रखने व इस दौरान उनके स्वास्थ्य पर नजर रखने की चुनौती बढ़ गई है। हालांकि प्रशासन के निर्देश पर गांवों में अधिकांश ग्राम प्रधान परदेसियों को होम क्वारंटीन करने की कोशिश में लगे हैं ।ताजा मामला कुड़वार क्षेत्र के भंण्डरा परशुरामपुर के पूरे रामदयाल गाँव का है।जहाँ शनिवार दोपहर को 12 प्रवासी महाराष्ट्र से ट्रक द्वारा गाँव पहुँचे।प्रवासी घर ना जाकर गाँव के विद्यालय मे ही रुके। लेकिन ग्राम प्रधान व आशा बहु की तरफ से कोई व्यवस्था नही की गई। उनके रहने खाने -पीने की कोई व्यवस्था तो दूर विद्यालय मे लाईट की भी व्यवस्था नहीं की गई।अंधेरे मे रात गुजारने को मजबूर हैं प्रवासी। शनिवार की रात मे बिद्यालय मे सांप भी निकल आया जिससे प्रवासी सहमे हुये हैं। और विद्यालय मे शौचालय की भी व्यवस्था नहीं है।जिससे प्रवासी खेतों मे शौच जाने को मजबूर हैं। जिससे गाँव मे संक्रमण होने का खतरा बढ़ गया है। रविवार को आशा बहू की तरफ से होम क्वारेंटाइन का नोटिस चस्पा दिया गया।और कहा गया है कि सभी लोग अपने घर पर होम क्वारंटीन रहें। कुछ प्रवासी घर चले गये और कुछ प्रवासियों का कहना है कि हमारे घर पर एक ही कमरा है जिसमें परिवार वाले रहते हैं यदि किसी प्रवासी को सक्रंमण होता है तो  परिवार वालों मे और गाँव में भी संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जायेगा।गांवों में सख्ती नहीं होने से खतरा ज्यादा बढ़ने के आसार जताए जा रहे हैं।_


 

 



 

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

तुम मेरी पहली और आखरी आशा

बस और टेंपो की जोरदार टक्कर में 16 की मौत, कई लोग घायल