गोपालगंज में माले नेता के परिवार के चार सदस्यों को गोलिओ से सरेआम भुन  दो की मौत ,दो घायल

,।गोपालगंज (संवाददाता) । माले नेता के घर  गोलीबारी में माले नेता के 70 वर्षीय वृद्ध पिता और 65 वर्षीय माँ की मौके पर ही मौत हो गयी. जबकि दो भाई गंभीर रूप से घायल हो गए. घटना हथुआ के रुपनचक गांव की है. 
घायल माले नेता का नाम जेपी यादव है. वह खुद को सामाजिक कार्यकर्ता बताता है. घायलों को सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है. घटना के बाद लोगो में आक्रोश है. बताया जाता है की इस घटना से 03 दिनों पूर्व हथुआ पुलिस को ऐसी किसी घटना को लेकर पूर्व में ही सुचना दी गयी थी. लेकिन पुलिस सजग नहीं हुई और यह घटना हुई है.
मृतकों में 70 वर्षीय महेश चौधरी , 65 वर्षीय संकेसिया देवी शामिल है. जबकि घायलों में जेपी यादव और उनके भाई शांतनु यादव शामिल है.
घायल जेपी यादव के मुताबिक वह जिला पार्षद क्षेत्र से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहा उसी को लेकर माले नेता के माँ और पिता की गोली मारकर हत्या कर अपराधी फरार हो गए.
पीड़ित जेपी यादव के मुताबिक उनके दोस्त है परमिंदर यादव है. उनके साथ एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. जिसमे उसके ऊपर कुख्यात विशाल सिंह के साथ सम्पर्क का आरोप लगा था. इसी लिए उसके परिवार को गोली मारी गयी है.
पीड़ित के मुताबिक उनके माँ और पिता को सिर में सटाकर गोली मारी गयी है. उनकी हत्या के बाद उसके ऊपर और भाई को गोली अपराधियो मारी.
बताया जाता है की घटना के समय दो बाइक पर 05 अपराधी आये. और ताबड़तोड़ फायरिंग करने लगे. इस फायरिंग में दो लोगो की घटनास्थल पर ही मौत हो गयी. जबकि दो लोग घायल हो गए. ग्रामीणों ने घटना को अंजाम देकर भाग रहे अपराधियो की एक बाइक भी जब्त कर ली है.
बहरहाल घटना के बाद सदर अस्पताल में लोगो का जमवाडा लग गया है. और लोगो का पुलिस के प्रति आक्रोश है. 
हथुआ थानाध्यक्ष अशोक कुमार ने बताया की उन्हें सुचना मिली की हथुआ के रुपनचक गाँव में चार लोगो को गोली मारी गयी है. जिसमे दो लोगो की मौत हो गयी है. दो घायलों को सदर अस्पताल में भर्त्ती कराया गया है. पुलिस मामले की छानबीन में जुट गयी है.


Comments

Popular posts from this blog

सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ की जन्म कुण्डली जानिये : पं0 सुधांशू तिवारी

राघोपुर में बिजली चोरी करते पकड़े गए 11 लोग जेई ने दर्ज कराई प्राथमिकी

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमन्त्री केशव प्रसाद मौर्य की जीवन कुण्डली : पं. सुधांशु तिवारी के साथ