विज्ञापन

विज्ञापन

Thursday, May 28, 2020

है गिरधर तेरी बाट निहारूँ

है गिरधर तेरी बाट निहारूँ
हर पल तेरा नाम पुकारूँ
बागों से मैं फूलों को लाऊँ
चुन चुन तेरे लिये हार बनाऊँ
माखन मिश्री का भोग लगाऊँ
करमारो खीचड़ो खिलाऊँ
है गिरधर तेरी बाट निहारूँ
सांझ सवेरे तुझे टेर लगाऊँ
तेरे भजनों में रम जाऊँ
तेरे लिये मैं नाचूँ गाऊ
अँखियों को असुवन से भिगोऊँ
प्रेमभाव के दीप जलाऊँ
है गिरधर तेरी बाट निहारूँ
राधा सी दीवानी हो जाऊँ
मीरा सी जोगन बन जाऊँ
सूरदास सा सखा बनाऊँ
रसखान सा ढूंढ़ती जाऊँ
है गिरधर तेरी बाट निहारूँ
मोरपाख बन शीश सजाऊँ
मुरली बन अधरों पर आऊँ
ग्वाल बाल बन साथ में पाऊँ
ग्वालिन बन माखन खिलाऊँ
नंद बाबा का आँगन बन जाऊँ
चरणों का तेरे सुख पाऊँ
है गिरधर तेरी बाट निहारूँ
गोवर्धन का प्रस्तर बन जाऊँ
कदम्ब की डाल बन इतराऊँ
बंशी धुन पर मैं इठलाऊँ
यमुना का मैं जल बन जाऊँ
तेरे चरणों का सुख पाऊँ
नाम तेरा ही रटती जाऊँ
अंत समय मे दर्शन पाऊँ
जन्मों जन्मों का सुख पाऊँ
है गिरधर तुझमें रम जाऊँ


No comments:

Post a Comment