सरकार द्वारा  दिए गये फ्री चावल को बेच रहे है राशनकार्डधारी 

 चेहराकलां (संवाददाता)प्रखंड क्षेत्र में लॉक डाउन में बंद पड़े रोजी-रोजगार के बीच मिले सरकारी चावल को बेच अधिकतर गरीब कुछ पैसे का जुगाड़ कर रहे हैं। जिस जनवितरण प्रणाली दुकानदारों को लेकर अनेक सवाल उठाए जाते रहे हैं, वहीं से प्राप्त सरकारी चावल को कई राशन कार्डधारी खाने के बजाय बाजारों में बेच रहे हैं। चेहराकलां प्रखंड में यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। राशन कार्ड पर परिवार के सदस्यों के हिसाब से डीलर ने कार्डधारी को चावल, गेहूं मुहैया करता है। गेहूं का तो लोग इस्तेमाल कर लेते हैं, चावल बाजार पहुंच जाता। अब तो बाजार जाने की भी जरूरत नहीं। चावल के कुछ बड़े व्यापारियो ने अपना-अपना आदमी रख लिया है। साइकिल व मोटरसाइकिल सवार ऐसा खरीदार गांव के गली, मुहल्लों टोले में चावल है चावल की हांक लगाते फिरता है। इधर यह आवाज सुनते उसे पुकारने वालों की संख्या बढ़ती जाती है। कोई दस, कोई बीस किलो तो कोई कब से एकत्र किये एक से दो बोरे  तक चावल उक्त खरीदार के हाथों बेच देता है। खरीदार इस प्रकार के चावल का कीमत 16 से 23 रुपये प्रति किलो के भाव से चुकता कर अगले विक्रेता की ओर बढ जाता है। इसमें अधिकांशत: जनवितरण प्रणाली के दुकान से मिला अरवा चावल ही होता है।


Comments

Popular posts from this blog

सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ की जन्म कुण्डली जानिये : पं0 सुधांशू तिवारी

राघोपुर में बिजली चोरी करते पकड़े गए 11 लोग जेई ने दर्ज कराई प्राथमिकी

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमन्त्री केशव प्रसाद मौर्य की जीवन कुण्डली : पं. सुधांशु तिवारी के साथ