विज्ञापन

विज्ञापन

Wednesday, June 10, 2020

दोस्ती का रिश्ता

दोस्ती का रिश्ता नाता होता ऐसा ख़ास

जिसमें घुली रहती सदा अपनेपन की मिठास 

 

दोस्ती का रिश्ता जो हरदम होता साथ

जब भी गिरा एक तो दूजे ने थामा

हाथ

 

दोस्ती का रिश्ता जो हर सुख दुःख को बाँट लेता

सच्चाई की राह दिखाकर बुराइयों से बचा लेता

 

दोस्ती का रिश्ता अँधियारे पथ पर दीप जला देता है

जीवन में अपार खुशियाँ लाकर उसे 

जन्नत बना देता है

 

दोस्ती का रिश्ता प्रेम के निःस्वार्थ 

धागे से जुड़ा होता है

तभी तो दोस्ती की बुनियाद को हिला कोई न पाता है 

 

रिश्तों में बढ़कर होता दोस्ती का रिश्ता 

तभी तो आज भी चर्चित है कृष्ण सुदामा का रिश्ता

 

No comments:

Post a Comment