पंखा चलाने के दौरान करंट लगने से महिला हुई अचेत

हिमांशु प्रताप सिंह ब्यूरो पीलीभीत


रेत में दबाकर किया जा रहा है इलाज


पूरनपुर। गांव से लेकर कस्बे में आज भी लोग अंधविश्वास पर यकीन रखते हैं। बिजली करंट, सांप काटने सहित अन्य परेशानी में देशी उपचार पर विश्वास कर लोगों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। कलीनगर के वार्ड नंबर 10 की रहने वाली गीता देवी पत्नी नन्हे लाल राजपूत रात 9:30 बजे पंखा चला रही थी। अचानक बिजली के बोर्ड में करंट आ जाने से वह  मौके पर ही अचेत होकर गिर गई। जानकारी लगने के बाद परिजनों में हड़कंप मच गया। आनन फानन में महिला को उपचार के लिए घर में ही पड़ी रेत में दबा दिया गया। पूरी रात रेत में महिला दबी रही। सोमवार सुबह महिला की हालत में कुछ सुधार आने पर परिजनों ने चैन की सांस ली। अस्पतालों में उचित उपचार होने के बावजूद भी लोग अंधविश्वास से इलाज करते जा रहे हैं।


Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

Return टिकट तो कन्फर्म है

प्रशासन की नाक के नीचे चल रही बंगाली तंबाकू की कालाबाजारी, आखिर प्रशासन मौन क्यों