विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, November 29, 2020

  देश का प्रधानमंत्री अन्नदाता ही होना चाहिए 

महात्मा गांधी ने हम किसानों को भारत की आत्मा कहे थे, लेकिन आज हम देख रहे हैं कि अन्नदाताओ की समस्याओं पर केवल और केवल राजनीति करने वाले अधिकतर लोग हैं ,और हमारे समस्याओं की तरफ ध्यान देने वाले बहुत ही कम लोग  है। साथियों  स्वतंत्र भारत के पूर्व और स्वतंत्र भारत के पश्चात आज एक लंबा समय बीतने के बाद भी हम भारतीय किसानों की दशा में कोई सुधार नहीं हुआ है, यह बात आज किसी से छुपी हुई नहीं है ।जिन अच्छे किसानों की बात कही जा रही है, उनकी गिनती उंगलियों पर की जा सकती है, बढ़ती आबादी ,औद्योगिकरण एवं नगरीकरण के कारण कृषि योग्य क्षेत्रफल में निरंतर गिरावट आई है। कृषि प्रधान हमारे राष्ट्र में लगभग सभी राजनीतिक दलों का कृषि के विकास और किसान के कल्याण के प्रति ढुलमुल रवैया ही रहा है, हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने किसानों को भारत का आत्मा कहे थे, इसके बावजूद भी केवल किसानों की समस्याओं पर ओछी राजनीति होती रही है, उनकी मुख्य समस्याओं पर किसी का ध्यान नहीं गया है। आज हम सभी देख रहे हैं कि देश की राजधानी दिल्ली में जब हमारे अन्नदाता अपने अधिकारों के लिए गांधीवादी तरीके से शांतिपूर्ण प्रदर्शन करते हुए अपने मांगों को रखने का प्रयास कर रहे हैं ,तो उन्हीं के बेटों यानी सेना के द्वारा उन पर पानी की बौछार और लाठियां बरसाई जा रही है। ध्यान से देखिए हमारे भारत में किसानों की हालात दिन प्रतिदिन बदतर होती जा रही है, जिसके कारण ही आए दिन हमारे अन्नदाता आत्महत्या तक करने पर मजबूर हो रहे हैं, हमारे यहां आज भी 60 से 70 प्रतिशत लोग कृषि पर ही निर्भर है । हमारे किसानों के हालात खराब होने का कारण भी राजनेता, समाज और हर  वह व्यक्ति  जो किसानों के रोटी को तो खाता है लेकिन वह सोचता है कि यह तो हम पैसे देकर खरीदे हैं, तो ठीक है आज से आप हम किसानों के अनाज को आप बायकॉट कर दीजिए, और आप अपना पैसा और कंकड़ खाइए !किसानों में आक्रोश को लेकर गांधी ने जो चेतावनी दी थी क्या आज हम उसी का सामना कर रहे हैं?आजाद भारत की सत्ता में किसानों की भागीदारी की वकालत करने वाले महात्मा गांधी ने अपनी मौत से एक दिन पहले तक कहे थे कि भारत का प्रधानमंत्री एक किसान होना चाहिए। आप देख लो साथियों किसी भी देश, समाज, जाति का सबसे उच्चतम और सम्मानीय वर्ग अगर कोई इस धरती पर है तो वह है हमारे किसान, यानी अन्नदाता ही इस धरती पर हम मनुष्यों के भगवान हैं । ऊंचे से ऊंचे पदों पर बैठे पदाधिकारी आज उन्नति और प्रगति की ऊंचाइयां छू रहे हैं ,तो यह तभी संभव है, जब देश के हम सभी लोग तन और मन से पुष्ट है, और यह तभी संभव हुआ है जब हमें पौष्टिक भोजन मिल रहा है। इसीलिए यहां हम कह रहे हैं कि देश का किसान सबसे उच्चतम पद पर होना चाहिए। विडंबना ही है साथियों की  कृषक यानी कि हमारा अन्नदाता वर्ग को समाज में सबसे ज्यादा समृद्ध होना चाहिए वही वर्ग यानी हम किसान ही सबसे ज्यादा अभावों में जीवन जीते हैं, जो सभी का पेट भरता है ,अक्सर वही और उसके बच्चे भूखे सोते हैं, सोच कर देखो इससे ज्यादा विडंबना क्या हो सकती है देश के लिए, किसी भी मनुष्य को  इस धरती पर जीवन जीने के लिए सबसे पहली और आखिरी आवश्यकता अनाज की ही होती है। अनाज के खातिर ही मनुष्य की सबसे पहली दौड़ शुरू होती है,कोई भी मनुष्य दो वक्त की रोटी के लिए मेहनत करना शुरू करता है, लेकिन कुछ लोग इतनी गहराई से नहीं सोचते कि वह अनाज जो वह खाते हैं कहां से और कैसे आता है। हम सभी आज देख रहे हैं कि अन्नदाता जब सड़कों पर आज संघर्ष कर रहे है, तो इसमें भी लोग गंदी राजनीति कर रही हैं, रोटी खा खा कर किसानों को गालियां दे रहे हैं। आखिर इतना नमक हरामी  कैसे कर लेते हो बेशर्म साहब जी लोग, यह सच है कि किसानों के नाम पर कुछ राजनीतिक पार्टियों और राजनेता केवल राजनीति करते हैं उनको किसानों के दर्द से कोई मतलब नहीं है, लेकिन किसानों का हालात क्या है यह आज किसी से छिपा नहीं है।

सोच कर देखो एक किसान तपती दोपहरी में खेतों में काम करता है खेतों की मिट्टी को उपजाऊ बनाने के लिए कठोर परिश्रम दिन रात करता है, एक कृषक का जीवन मेहनत और लगन की अद्भुत मिसाल होती है, एक किसान का जीवन और वस्त्र अपने खेतों की मिट्टी का हमेशा परिचय देती रहती हैं। वहीं दूसरी तरफ बड़े-बड़े पदों पर कार्यरत वातानुकूलित कक्षों में बैठे पदाधिकारी इन्हीं किसानों को और उनके मिट्टी से सने वस्तुओं को देख इनसे दूरी बनाते हैं, सोचने वाला विषय है दोस्तों,इसी मिट्टी से सने हाथों और मिट्टी में उपजे अनाज से ही हम सब की पेट की भूख मिटती है और हम तृप्त होते हैं । साथियों जिस प्रकार से घर में गृहिणी अगर प्रसन्न और स्वस्थ रहती है ,तो घर स्वर्ग बन जाता है, उसी तरह अगर देश के किसानों को सम्मान मिलेगा तो किसान स्वस्थ और संपन्न रहेंगे तो देश भी उन्नति करेगा ,जिससे देश खुशहाल और समृद्ध होगा। 

 

कवि विक्रम क्रांतिकारी ( विक्रम चौरसिया - चिंतक /पत्रकार/ आईएएस मेंटर/ दिल्ली विश्वविद्यालय 9069821319

No comments:

Post a Comment