विज्ञापन

विज्ञापन

Sunday, January 31, 2021

गांव के बीते दिन

वो चिलचिलाती धूप और किटकिटाती ठंड,

ओह! सावन की वर्षात में राहें बनती  पंक।


गाँव के बीते ऐसे ही दिन करते रहते तंग ,

चकाचौंध शहर में भी बजते नहीं मृदंग।


खेतों में लतरे हरे मटर की मीठी- मीठी गंध,

मदमाती गेहूँ ,मक्के के भरे भरे हैं अंक।


पीली नीली,सरसों, तीसी से भरे भरे वसंत,

मन को यों लुभाते रहते जैसे कोई पतंग।


मुक्तेश्वर सिंह मुकेश

No comments:

Post a Comment