विज्ञापन

विज्ञापन

Monday, January 4, 2021

सबकी अपनी दुनियां है

सबकी अपनी दुनियां है

किसी की हाथों में चांद पूरा 
किसी की हाथों में पुड़िया है सबकी अपनी दुनियां है....
कहीं तो हर दम शोर शराबा
कहीं तो गुमसुम गुड़िया है
कहीं है सरपट रेलगाड़ी 
कहीं पुरानी लढ़िया है
सबकी अपनी दुनियां है....
कहीं तो स्विमिंग पूल और गाड़ी 
कहीं तो सूखी नदिया है
हाल सही में ठीक न हो पर
सभी से कहना बढ़िया है
सबकी अपनी दुनिया है......

No comments:

Post a Comment