विज्ञापन

विज्ञापन

Saturday, January 9, 2021

बताओ ज़रा

एक बात बताओ

किसी की अंतरात्मा को

पीड़ित करके
कितना सुकून
मिल रहा है तुमको ?
जरा सोच कर बताओ
तुम्हें बात करना तो
कभी आया नहीं,
मगर किसी की अंतरात्मा को
प्रताड़ित करना
तुमने कहां से सीखा?
शायद तुम अपने अहम में
भूल चुके हो की जिस हर की
हर रोज पूजा करते हो,
वो हर
हर हृदय में वास करता है।
क्या आपकी सोच में वो हर
किसी की आत्मा को
प्रताड़ित करने पर
ज्यादा खुश होते हैं क्या?

राजीव डोगरा 'विमल'
कांगड़ा हिमाचल प्रदेश (युवा कवि लेखक)
(भाषा अध्यापक)

No comments:

Post a Comment