दुनिया का सबसे खूबसूरत दस्तावेज है भारतीय संविधान

                         - मुकेश बोहरा अमन

संविधान निर्माण में लगा 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय, 26 जनवरी 1950 को हुआ लागू

  दुनिया भर में भारत कई मायनों में अपना विशिष्ट स्थान रखता है । जिसमें भारतीय संविधान भी अपने आप में कई विशेषताओं को समेटे हुए है । भारत का संविधान भारत का सर्वाेच्च विधान है, जो संविधान सभा द्वारा 26 नवम्बर, 1949 को पारित हुआ तथा 26 जनवरी, 1950 से प्रभावी हुआ। ऐसे में 26 नवम्बर को संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है, वहीं 26 जनवरी को गणतन्त्र दिवस के रूप में हर्ष और उल्लास के साथ धूमधाम से मनाया जाता है। भारतीय संविधान विश्व के किसी भी गणतांत्रिक देश का सबसे लंबा लिखित संविधान है। भारतीय संविधान दुनिया का सबसे खूबसूरत दस्तावेज है । जिसमें अनेकानेक खूबियां व विशेषताएं समाहित है । भारतीय संविधान में प्रस्तावना का आगाज हम भारत के लोग से होता है । जो यह साबित करता है कि भारत की जनता में ही सब कुछ निहित है ।

  भारतीय संविधान बहुत विशाल व विस्तृत नियमों, उपनियमों का एक ऐसा लिखित दस्तावेज है, जिसके अनुसार सरकार का संचालन किया जाता है। भारतीय संविधान सभा के अध्यक्ष डॉ. राजेन्द्र थे । जिनके नेतृत्व में भारतीय संविधान का निर्माण किया गया । वहीं संविधान की प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉ. भीमराव अम्बेडकर थे । डॉ. भीमराव आम्बेडकर को भारतीय संविधान का प्रधान वास्तुकार या निर्माता भी कहा जाता है। संविधान के निर्माण में 2 वर्ष 11 माह 18 दिन का समय लगा । मूल संविधान में भारतीय संविधान, हमारे लोकतांत्रिक आदर्शों, उद्देश्यों व मूल्यों का दर्पण है । संवैधानिक विधि देश की सर्वोच्च विधि है ।

  मूल भारतीय संविधान में 22 भागों में 395 अनुच्छेद तथा 8 अनुसूचियाँ थी । कालांतर भारतीय संविधान में समय-समय पर हुए संविधान संशोधनों से वर्तमान में भारतीय संविधान में 25 भागों में 470 अनुच्छेद तथा 12 अनुसूचियां है । भारत का मूल संविधान हिन्दी और अंग्रेजी भाषा में हस्तलिखित है । जिसे प्रेम बिहारी रायजादा ने अपने हाथों से लिखा जिसके अंग्रेजी संस्करण में 146385 शब्दों का प्रयोग किया गया है । इस लिहाज से भारतीय संविधान दुनिया का सबसे लम्बा लिखित संविधान है । भारतीय संविधान सभा की प्रथम बैठक 9 दिसम्बर, 1946 को दिल्ली संसद भवन के केन्द्रीय कक्ष में सभा के अस्थायी अध्यक्ष डॉ. सच्चिानन्द सिन्हा की अध्यक्षता में बुलाई गई ।

  भारतीय संविधान के निर्माण में सबसे अधिक भारत शासन अधिनियम 1935 का प्रभाव रहा है । जिसमें से तकरीबन 250 अनुच्छेद लिए गए । इसके अलावा अलग-अलग देशों  के संविधान से भी महत्वपूर्ण व उपयोगी व्यवस्थाओं को भारतीय संविधान में स्थान दिया गया है । जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, आयरलैंड, साउथ अफ्रीका, कनाडा, सोवियत संघ रूस, जापान, फ्रांस आदि देशों से अलग-अलग व्यवस्थाओं को भारतीय संविधान में जोड़ा गया है । और भारतीय संविधान को सशक्त व कारगर बनाया गया ।

  भारतीय संविधान 26 नवम्बर 1949 को बनकर तैयार हुआ लेकिन भारतीय संविधान को 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया । इस उपलक्ष में प्रतिवर्ष गणतंत्र दिवस मनाया जाता है । वहीं संविधान को 26 जनवरी को लागू करने के पीछे भी विशेष कारण रहा है । 26 जनवरी 1930 को भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों ने पूर्ण स्वराज की घोषणा की थी जिसको महत्व देने को लेकर 26 जनवरी 1950 को भारतीय संविधान विधिवत् लागू किया गया । हम वर्ष 2022 में भारतीय गणतंत्र का 73वां गणतंत्र दिवस मनाने जा रहे है । जिसकी आप सभी देशवासियों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ।
 
मुकेश बोहरा अमन

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

तुम मेरी पहली और आखरी आशा

बस और टेंपो की जोरदार टक्कर में 16 की मौत, कई लोग घायल