सच्चा भक्त

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव कि तारिक घोषित हो चुकी थी। सभी पार्टियों के नेता अपनी अपनी पार्टियों के चुनाव प्रचार में लगें हुए थे। सभी पार्टियों के साथ गांव गांव से अलग अलग लोग अपने नेता के समर्थन में प्रचार प्रसार में घूम रहे थे। एक व्यक्ति थे विदेश चौधरी जो भाजपा के समर्थन में भाजपा के नेता के साथ गांव गांव पार्टी का प्रचार प्रसार करा रहे थे। इससे पहले विदेश चौधरी ग्राम पंचायत के चुनावों में दो तीन बार प्रधान के साथ गांव में चुनाव प्रचार प्रसार करा चुके हैं और जिला पंचायत के चुनाव में भी दो तीन बार नेता के साथ चुनाव प्रचार प्रसार करा चुके हैं।

मतदान का दिन आया। लोग सुबह से ही वोट डालने के लिए मतदान केन्द्र की ओर जा रहे थे। सभी के मन में एक ही विश्वास था कि जिस नेता को वो वोट देंगे, वह अवश्य ही जीतेगा लेकिन विदेश चौधरी के मन में तो कुछ इसके विपरित ही विचार चल रहा था। जब वो वोट डालने के लिए घर से मतदान केन्द्र की तरफ निकले तो वो रास्ते में सोच रहे थे कि आज तक उन्होंने जिस भी नेता को वोट दिया है चाहे वो ग्राम प्रधान हों या जिला पंचायत वो सिर्फ हारा है।
जैसे ही विदेश चौधरी ई बी एम मशीन पर पहुंचे तो उन्होंने सोचा कि यदि वो साइकिल का बटन दवा दे तो साइकिल तो कैसा रहेगा? ज्यों ही उन्होंने साइकिल का बटन दबाने के लिए हाथ आगे बढाया त्यों ही उनके दिल के अन्दर से आवाज आई कि तू कमल ही दबा दें जो होगा देखा जायेगा और उन्होंने कमल का बटन दबा दिया।
लेखक
नितिन राघव

Comments