प्यार सब कुछ नहीं जिंदगी के लिए

प्रेम नाम की अद्भुत बख़्शीश को फिल्म के माध्यम से जबरदस्त लोकप्रिय बनाया गया है। प्रेम को केंद्र में रख कर बनती फिल्में इस तरह बनती हैं कि गरीबों से ले कर अमीरों तक को दुखी कर देती हैं। आलमआरा से पुष्पा तक प्रेम से मिलने वाले आनंद के साथ-साथ प्रेम के लिए बलिदान की भी बातें बताई जाती हैं। पुरानो फिल्मों में एक लंबे दौर तक गरीब प्रेमी और अमीर प्रेमिका वाली स्टोरी चलती रही। एक अंतराल में संगम टाइप प्रणय त्रिकोण आया, पर ज्यादातर प्रेम का निर्दोष स्वरूप ही रहा। जिसमें बेवफाई कम ही देखने को मिलती थी। परंतु धीरे-धीरे कुछ नए के चक्कर में जो लोगों को अच्छा लगे, उस थीम पर फिल्में बनने लगीं। यह कुछ गलत भी नहीं था, क्योंकि फिल्में बनाना भी तो आखिर एक धंधा ही है। परंतु हिंदुस्तान देश में जहां आज भी लोग भूत-प्रेत, तंत्र-मंत्र  के चक्कर में पड़े रहते हैं, सांप-बिच्छू काटे तो इमरजेंसी ट्रीटमेंट के बजाय तंत्र-म॔त्र के पीछे भागते हैं, आज भी घटिया-टुटपुंजिया नेताओं के कहने पर तोड़-फोड़ करते हैं, वहां सार्वजनिक रूप से जनता को प्रभावित कर सके, इस तरह के हर माध्यम को इतना तो स्वीकार करना ही पड़ेगा कि किसी भी मुद्दे को समझदारी के साथ अर्थघटन करे इतनी परिपक्वता हमारे यहां आई नहीं है। ऐसे समय में जो सचमुच परिपक्व और प्रतिभाशाली लोग हैं, उन्हें जिम्मेदारी के साथ अपना फर्ज निभाना चाहिए। बल्गैरिटी से भरपूर अनेक वेबसिरीज के युग में यह मुद्दा डिबेट का विषय होने के साथ बहुत ही महत्वपूर्ण है।

बहुत कम कपड़ों में गरमागरम किसिंग के दृश्यों का विरोध करने वाले को रूढ़िवादी में खपाने वाले लोग यह नहीं समझते कि एक शिक्षित प्रेक्षक और एक अशिक्षित-अर्धशिक्षित प्रेक्षक के बीच जमीन-आसमान का फर्क होता है। अमेरिका में पोर्न फिल्में खुलेआम मिलती हैं, सेक्स टाॅयस की दुकाने हैं, तमाम देशों में कालगर्ल के लिए छूट है। पर जरा सोच कर देखिए, अपने यहां इस तरह की छूट हो तो इसमें समाज के कितने लोग विवेकपूर्ण व्यवहार करेंगें। हमें स्वीकार करना चाहिए कि हम एकदम गैरजिम्मेदार लोकतंत्र वाले लोग हैं, जिसमें ट्रेन और बस की गद्दियां बिना मतलब तोड़ डालते हैं। टेलीफोन का तांबे का तार चोरी हो जाता है। ट्रेन में सार्वजनिक सुविधा को फिट करते समय इस बात का ध्यान रखा जाता है कि इसे कोई निकाल न ले जाए।
गरीब-अमीर, पढ़ेलिखे-अनपढ़, सभी लोगों का यह देश है। सभी की मानसिकता अलग-अलग है। पर फिल्म और टीवी सभी को आकर्षित करने वाला माध्यम है। इसलिए लोग चाहें तो मनोरंजन के साथ-साथ एक जबरदस्त जनहित का माध्यम बना सकते हैं। मदर इंडिया से वेडनसडे तक हमने देखा है कि ऐसा हो सकता है। यहां कहने का मतलब यह नहीं कि बिपासा और करीना को समाजसेविका या फिर आमिर और सलमान खान को पूरी तरह देशभक्त की भूमिका में ही दिखाएं। कहने का तात्पर्य यह है कि करोड़ो लोगों के रोल माडल को बिलकुल नाजुक इस तरह के विषयों पर एकदम गैरजिम्मेदारी से पेश करने के बजाय थोड़ी जिम्मेदारी निभाएं।
जिस तरह जिम्मेदारी से शाहरुख खान अपनी रियल लाइफ में प्रेम के नाम पर कुरबान नहीं होते और सैकड़ो लड़कियों के बीच रहने के बावजूद अपनी पत्नी का गौरव बनाए हुए हैं, यह आज के टीनजरों को बताएं। अपने बच्चों के लिए समय निकालना, अपने व्यवसाय के विकास के लिए सचेत रहना और चेन स्मोकिंग छोड़ कर बहादुरी दिखाना, यह है रियल शाहरुख, वरना कमर हिला कर 'जोड़ी' बनाना डांस पर चांस लेता शाहरुख।
'डर' में शाहरुख ने एक प्रेमी के रूप में भयानक भूमिका अदा की थी। 'मेरी नहीं तो किसी की नहीं' इस तरह के उसके रोल से कितनी लड़कियों को तकलीफ झेलनी पड़ी होगी। 'एक दूजे के लिए' में कमल हसन और रति अग्निहोती की करुणांतिका से दुखी हो कर न जाने कितने प्रेमी-प्रेमिकाओं ने आत्महत्या कर ली थी। हम यह जानते हैं कि अगर हीरो परदे पर सिगरेट पीता है तो उसका समाज पर खासा असर पड़ता है। तो हम यह क्यों नहीं समझते कि जब टपोरियों की भूमिका कर के प्रेम के नाम पर गलत चेष्टा करेंगे, तब नादान उम्र के युवक-युवतियों पर क्या असर पड़ेगा? फिल्मों ने आज की जनरेशन को प्रेम के बारे में बहुत कुछ सोचने को मजबूर कर दिया है। शादी के पहले पढ़ने वाले जिस लड़के की कोई गर्लफ्रेंड नहीं है, उसकी हंसी उड़ाई जाती है। प्रेम करना ही है, यह जरूरी नहीं है। दोस्ती भी तो ऐसी ही है। इस पवित्रतम संबंध को बनाने के लिए हृदय से उठे तभी इस में पड़ें। और पड़ें तो पूरी पारदर्शिता के साथ संबंध निभाएं। बाकी देखादेखी या नासमझी से 'फूल तुम्हें भेजा है...' करने से परेशानी ही होगी।
ऐसे तमाम तेजस्वी लोग हैं, जो जवानी में अपनी पढ़ाई या व्यवसाय में इस तरह व्यस्त रहे कि उन्हें उस उम्र में प्यार नहीं हुआ। एक निश्चित उम्र में शादी की और अपने जीवनसाथी को भरपूर प्यार किया। पढ़ने की उम्र में खूब पढ़ाई की, अच्छी नौकरी प्राप्त की या व्यवसाय को आगे बढ़ाया और घर वालों की इच्छा से ब्याह किया। इस तरह के तमाम दंपत्ति बेहद सुखी हैं। हां, बच्चों के साथ जबरदस्ती नहीं करनी चाहिए। पर बच्चों को भी इस तरह की फालतू बातों से दूर रहना चाहिए।
बीस साल, तीस साल में प्रेम नहीं हुआ तो नहीं हुआ। दोस्त की बाइक पर पीछे सीट पर हर महीने नई लड़की बैठी दिखाई दे और तुम्हें कोई लिफ्ट न दे तो दुखी न हों। प्रेमी-प्रेमिका के इस स्वरूप के बदले प्रेम की अभिव्यक्ति मान कर व्यक्तिगत रूप से अनेक तरह से कर सकते हैं।
पढ़ने या कैरितर बनाने की उम्र में लक्ष्य पर नजर रखें। प्रेम के नाम पर इधर-उधर भटकते रहेंगें तो बहुत कुछ खो बैठेंगें। प्रेम के नाम पर बहुत ज्यादा भावुक होने या बहकने की जरूरत नहीं है। जिस उम्र में और जब यह तुम्हें मिलेगा, आप महक उठेंगें। 'थ्री ईडियट' का रेंचो (आमिर) याद है न? वह अपने काम में मशगूल रहता है और अंत में करीना विवाह के मंडप तक पहुंच जाती है, इसके बावजूद दोनों मिल जाते हैं। प्रेम ऐसा ही होता है, इसके लिए बहुत ज्यादा गंभीर न बनें, सहज बनें।

वीरेंद्र बहादुर सिंह 
जेड-436ए, सेक्टर-12,

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

तुम मेरी पहली और आखरी आशा

बस और टेंपो की जोरदार टक्कर में 16 की मौत, कई लोग घायल