आप देखते रह गए...

डॉ. सुरेश कुमार मिश्रा उरतृप्त, मो. नं. 73 8657 8657

पता नहीं कहाँ से आया था। न जाने किस उम्मीद के साथ आया था। एक दुबला-पतला कुत्ता हमारे आंगन में निरीह आँखों से हमारी ओर देख रहा था। रह-रहकर भौंकने लगा। लगा हमारी देख-रेख करने आया है। विश्वासपात्र बनकर रहेगा। यही सोचकर रोटी का एक टुकड़ा उसे खाने के लिए दे दिया। दिन, महीने बने और महीने साल। कई सालों तक वह इसी तरह भौंकता रहा। वह बार-बार विश्वास दिलाता रहा कि मैं तुम्हारी देख-रेख कर रहा हूँ। तुम्हारा विश्वासपात्र हूँ।

कई सालों से उसी आंगन में रहने वाले लोगों पर उसका भौंकना कभी-कभार काटना हमें सोचने पर मजबूर कर रहा था। उसके भौंकने में इतना आक्रोश था कि मानो वह किसी अन्याय का विरोध कर रहा है। लगा कुत्ता भला हमारे साथ विश्वासघात कैसे कर सकता है? हो न हो हमीं में कोई ऐसा है जो धोखा देने की फिराक में बैठा है। हमने भौंकने वाले कुत्ते के चक्कर में अपने प्रति सहानुभूति रखने वालों को दूर करने के लिए आंगन में चारदिवारी खड़ी कर दी। बहुत सालों तक मिलजुलकर रहने वाले हम बाहर से आए कुत्ते के चलते अलग-थलग पड़ गए। अब हममें पहले जैसा प्यार नहीं रहा। अपना चूल्हा अलग कर चुके थे। एक-दूसरे को पीठ दिखाकर पीठ पीछे षड़यंत्र रचने लगे। एक-दूसरे पर लाठियाँ चलाने लगें। एक-दूसरे के खून के प्यासे बन गए।

हम निश्चिंत हो चले थे कि कोई हमारा क्या बिगाड़ सकता है? चूंकि आंगन में शेर जैसा कुत्ता पाल रखा है मजाल कोई हमारी ओर आँख उठाकर देखने की हिम्मत करे। कहते हैं अधिक निश्चिंतता भी एक बड़े खतरे का सबब होता है। हमने अपने कुत्ते पर बहुत विश्वास किया। उसे कुत्ते से शेर बनाया। खुद को शेर सा महसूस करने लगे। किंतु जिस दिन वह कुत्ता शेर बना उसी दिन से एक नया अध्याय आरंभ हुआ।

अब वह शेर बनकर हमारे खून का प्यासा बन चुका था। वह हमारी बनाई चारदीवारी के भीतर हमारा शिकार करने लगा। हमसे खिलवाड़ करने लगा। अलग-थलग पड़ने से एकता कम और संवेदना अधिक मरती है। हमारी कराह की किसी को परवाह नहीं थी। कुत्ते से शेर बनना और भरोसा से धोखा खाना हमारी वर्तमान पीढ़ी के लिए नई बोतल में पुरानी शराब सी लगी। हम अपनी बनायी संकीर्णताओं की चारदीवारी के भीतर फंसकर रह गए। हमारे टुकड़ों पर पला कुत्ता शेर जो बन गया था! न अपना दुखड़ा सुना सकते थे और न किसी का सुन सकते थे। निस्सहायता की पराकाष्ठा इससे बढ़कर और क्या हो सकती थी? कतार में खड़े होकर शेर का शिकार बनने का यह किस्सा हमेशा से चला आ रहा है। चूंकि हम इंसान नहीं भेड़ थे, भेड़ हैं और भेड़ ही रहेगें इसलिए यह किस्सा हमारे साथ हमेशा दोहराया जाएगा।  अंतर केवल इतना होगा कि कुत्ते की शक्ल में शेर और इंसान की शक्ल में भेड़ बदलते रहेंगे।     

Attachments area

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

तुम मेरी पहली और आखरी आशा

बस और टेंपो की जोरदार टक्कर में 16 की मौत, कई लोग घायल