समय पर इलाज न कराया जाए तो इस बीमारी से जा सकती है आपकी आंख की रोशनी

 डायबिटिक रेटिनोपैथी  : समय पर इलाज न कराया जाए तो इस बीमारी से जा सकती है आपकी आंख की रोशनी

डॉ. महिपाल सचदेव
डायरेक्टर
सेंटर फॉर साइट नई दिल्ली


डायबिटिक रेटिनोपैथी आंख की एक समस्या है जिसके कारण अंधापन हो सकता है। यह तब होता है जब उच्च रक्त शर्करा आंख के पृश्ठ भाग में यानी रेटिना पर स्थित छोटी रक्त वाहिनियों को क्षतिग्रस्त कर देती है। डायबिटीज वाले सभी लोगों में यह समस्या होने का जोखिम होता है। डायबिटिक रेटिनोपैथी दोनों आंखों को प्रभावित कर सकती है। हो सकता है कि शुरुआत में आपको कोई लक्षण न दिखें। स्थिति के बिगडने के साथ, रक्त वाहिनियां कमजोर हो जाती हैं और रक्त तथा द्रव्य का रिसाव करती हैं। नई रक्त वाहिनियों के बढने पर वे भी रिसाव करती हैं और आपकी दृष्टि में बाधा उत्पन्न हो सकती है। डायबिटिक रेटिनोपैथी, आंखों की एक ऐसी बीमारी है, जिसकी वजह डायबिटीज होती है। जो मरीज सालों डायबिटीज के मरीज हैं उनमें यह बीमारी भी होने का खतरा कई गुणा ज्यादा होता है। यह आंखों के पर्दे की बीमारी, जिसमें मरीज के रेटिना यानी आंख के पर्दे जहां पर तस्वीर बनती है को प्रभावित कर देता है। यह एक ऐसी बीमारी है जिसका समय पर इलाज न कराया जाए तो मरीज की रोशनी हमेशा के लिए खत्म हो सकती है। मरीज जितना जल्दी व समय पर इलाज के लिए आते हैं, उनकी आंखों की रोशनी बचने की संभावना उतनी ज्यादा होती है।
जो लोग लंबे समय से डायबिटीज के मरीज उनका डायबिटीज अनकंट्रोल रहता है, उनमें यह बीमारी होने का खतरा ज्यादा रहता है। इसमें पर्दे में सूजन आ जाती है। कुछ मामले में ब्लीडिंग भी हो जाती है। मरीज को ठीक से दिखाई नहीं देता, धुंधला धुंधला दिखाई देता है। काले-काले धब्बे बन जाते हैं। ज्यादातर मामले में यह बीमारी बिना किसी लक्षण आए ही बढ़ता रहती है और जब मरीज में बीमारी की पहचान होती है, तब उनकी आंखे काफी खराब हो चुकी होती हैं। इसलिए जो डायबिटीज के मरीज हैं, उन्हें साल में एक बार अपने रेटिना की जांच जरूर कराना चाहिए, भले उनके आंखों में कोई लक्षण आए या नहीं आए, जांच जरूर कराना चाहिए।
डायबिटिक रेटिनोपैथी के इलाज की प्रक्रिया इस बात पर निर्भर करती है कि रोग किस चरण में है। अगर रोग बिल्कुल ही प्रारंभिक चरण में है तो फिर नियमित रूप से की जाने वाली जांच के माध्यम से सिर्फ  रोग के विकास पर ध्यान देना होता है। अगर रोग विकसित चरण में हो तो फिर नेत्र चिकित्सक यह निर्णय करता है कि मरीज की आंखों के लिए इलाज की कौन सी प्रक्रिया ठीक रहेगी। जहां तक लेजर थेरैपी का सवाल है तो यह प्रक्रिया तब अपनायी जाती है जब रेटिना या आयरिस में अधिक मात्रा में रक्त नलिकाएं बन गई हों। अगर सही समय पर मालूम हो जाए तो डायबिटिक रेटिनोपैथी नामक इस दृष्टि छीन लेने में सक्षम रोग को लेजर उपचार के माध्यम से रोका जा सकता है। वैसे इस बात को खूब अच्छी तरह से याद रखा जाना चाहिए कि लेजर उपचार आंखों को आगे किसी तरह के नुकसान से बचाने के लिए किया जाता है न कि दृष्टि में बेहतरी लाने के लिए। यह बहुत अधिक प्रभावी साबित हुआ है और 80 प्रतिशत मरीजों को अंधा होने से बचा सकता है।
लेजर उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती होना जरूरी नहीं है। सबसे पहले आंखों में ड्रॉप डाला जाता है। ड्रॉप के सहारे आंखों को सुन्न कर दिया जाता है ताकि मरीज को दर्द का एहसास न हो। मरीज को एक मशीन पर बैठाया जाता है और कॉर्निया पर एक छोटा कॉन्टैक्ट लेंस लगा दिया जाता है। इसके पश्चात् आंखों का लेजर उपचार किया जाता है। डायबिटिक मैक्यूलोपैथी के लेजर उपचार के अंतर्गत मैकुला के क्षेत्र में लेजर स्पॉट का प्रयोग किया जाता है जिससे रक्त नलिकाओं का रिसना रोका जा सके। प्रोलिफेरेटिव डायबिटिक रेटिनोपैथी की स्थिति में रेटिना के एक विस्तश्त इलाके में अधिक व्यापकता के साथ लेजर का उपयोग किया जाता है। इससे असामान्य नई नलिकाओं को गायब करने में सहायता मिलती है। इलाज की इस प्रक्रिया में एक से अधिक बार लेजर का प्रयोग किया जाता है। लेकिन लेजर उपचार के बाद भी नियमित रूप से आंखों की जांच जरूरी है ताकि इलाज के प्रभाव का मूल्यांकन किया जा सके तथा रोग के विकास पर नजर रखी जा सके. 
अगर यह बीमारी समय पर पकड़ ली जाती है, तो बहुत हद तक इसका इलाज है, लेकिन जितनी देरी होती है, इलाज का असर उतना कम होते जाता है। आमतौर पर मरीज को इससे बचने के लिए अपना शुगर लेवल कंट्रोल में रखना चाहिए। अगर मरीज शुगर व बीपी कंट्रोल में रखते हैं, तभी इलाज का असर भी होता है। उन्होंने कहा कि इसका मुख्य तौर पर दो इलाज हैं। पहला आंखों में इंजेक्शन है, दूसरा लेजर के जरिए इलाज है। लेकिन बीमारी बहुत बिगड़ जाने की स्थिति में सर्जरी ही इसका इलाज है। लेकिन इस बात पर निर्भर करता है कि मरीज की बीमारी किस स्टेज पर थी। इलाज करने वाले डॉक्टर ही बता सकते हैं कि किस मरीज में कौन सा इलाज का तरीका सही रहेगा। लेकिन सबसे ज्यादा जरूरी है कि जिन्हें डायबिटीज है वो मरीज साल में एक बार अपनी आंखें  की रेटिना का इलाज जरूर कराएं।

Comments

Popular posts from this blog

सकारात्मक अभिवृत्ति

Return टिकट तो कन्फर्म है

प्रशासन की नाक के नीचे चल रही बंगाली तंबाकू की कालाबाजारी, आखिर प्रशासन मौन क्यों