इतिहास के निषाद

भूगर्भ के गोंद में खेलता श्रृंगवेरपुर सामाज्य/संस्कृति का निषादों का इतिहास इतना बड़ा व मजबूत है कि उसके आगे कई विशाल सभ्यताए व संस्कृति न्यून हो जाती है।
#सिंधु घाटी सभ्यता, #मेसोपोटामिया की सभ्यता, सुमेरियन की सभ्यता तथा अन्य भारतीय ताम्र व कांस्य युगीन संस्कृतियो को जितनी दावेदारी के साथ हमारे बीच परोसा जाता है समझाया जाता है व किताबो में जगह दी जाती है ....उसका 20% भी कार्य #श्रृंगवेरपुर की प्राचीन संस्कृति तथा धरोहर पर खर्च किया जाता है तो परिणाम औरो से कही ज्यादा आता है।
आज जलांचल प्रगतिपथ का कारवां अपने महान पूर्वज के महान वैज्ञानिक साम्राज्य तक पहुँचा ....जहाँ महाराजा #गुहराज निषाद जी की प्रेरणा व आधारशिला देंखने को मिला! जो हजारो वर्षो से माँ गंगा के आंचल में कई सौ एकड़ में फैला मिला, जिसकी प्राचीर दीवारें, प्राचीन कुंड, प्राचीन अभेद किला ना जाने कितने शताब्दियों की गवाही दे रही है।

प्राचीन विश्व इतिहास मे कही भी ऐसी को तकनीक नही देंखने को नही मिलती है जो जल (पानी) को उसके तल से ऊपर उठा के अन्यत्र किसी और तल पर पहुचा सकें।
जो तकनीकी आज के वैज्ञानिक युग मे ही सम्भव हो पाता है पानी मोटर (टुल्लू) से ही।


Comments