चौतीस पुरातन प्रतिमाएँ मिली तपोभूम उज्जैन में


-डॉ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज’, इन्दौर

भगवान महावीर तपोभूमि सिद्ध क्षेत्र उज्जैन (मध्यप्रदेश) में व उसके आस पास के स्थानों से 34 पुरातन जिन प्रतिमाएँ प्राप्त हुईं हैं। इनमें अधिकतर प्रतिमाएँ खण्डित हैं। कुछ के केवल परिकरों के अंश ही हैं किन्तु ये बहुत महत्वपूर्ण प्रहितमाएँ हैं। अधिकतर प्रतिमाएँ तीर्थंकर और तीर्थंकरों से संबद्ध शासन देवी-देवताओं की मूर्तियाँ हैं।
दिनांक 26 नवम्बर 2022 तपोभूमि प्रणेता जैन आचार्य श्री प्रज्ञासागर जी मुनिराज ने इन प्रतिमओं के सर्वेक्षण व पहचान व समय ज्ञात करने हेतु पुरातत्त्वविदों को आमंत्रित किया था। जिनमें डॉ. नरेश पाठक-पूर्व पुरातत्त्व सर्वेक्षक मध्य प्रदेश, डॉ. रमेश यादव- पुरातत्त्व सर्वेक्षण अधिकारी- भोपाल, डॉ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज’, जैन संस्कृति शोध संस्थान- इन्दौर, डॉ. पुष्पेन्द्र सिंह जोधा-शोधाधिकारी, वाकणकर पुरातत्त्व शोध संस्थान- भोपाल और डॉ. नवीन जी- पुरातत्त्व विभाग, भोपाल प्रमुख हैं।





यहां प्राप्त प्रतिमाओं में दो मूर्तियों के पादपीठ पर प्राचीन देवनागरी लिपि में प्रशस्ति है। एक में संवत् है 12... सौ स्पष्ट है। दूसरी प्रतिमा की प्रशस्ति के साथ शंख लांछन भी स्पष्ट है।
आचार्य पुष्पदंत सागर जी के प्रखर शिष्य आचार्य प्रज्ञासागर ने डॉ. महेन्द्रकुमार जैन ‘मनुज’ को बताया कि इन प्रतिमाओं का पुरातत्त्व विभाग द्वारा सर्वेक्षण और पंजीयन का कार्य प्रारंभ हो गया है। सर्वेक्षण के उपरान्त इन्हें भगवान महावीर तपोभूमि सिद्ध क्षेत्र उज्जैन के संग्रहालय की आर्ट गैलरी में स्थाई रूप से प्रदर्शित किया जायगा। आचार्यश्री ने बताया कि भगवान महावीर का प्रभाव क्षेत्र होने से यहाँ निकटवर्ती क्षेत्रों में और भी पुरातन जैन प्रतिमाओं व उनके अवशेष प्राप्त होने की संभावना है। यहां शीघ्र ही एक शोध केन्द्र की स्थापना हो रही है, जिसके लिए विशाल पुस्तकालय स्थापित कर लिया गया है।

Comments