कोविड-19 टीकाकरण पर अपडेट-409 वां दिन

भारत में कोविड-19 टीकाकरण कवरेज ने आज 177.67 करोड़ (1,77,67,18,549) के आंकड़े को पार कर लिया। आज शाम सात बजे तक टीके की 15 लाख से अधिक (15,93,931) खुराकें दी गईं। अब तक कोविड टीकाकरण के तहत पहचान की गई लाभार्थियों की विभिन्न श्रेणियों (एचसीडब्ल्यूएफएलडब्ल्यू और 60 वर्ष से अधिक) को 2 करोड़ से अधिक (2,00,84,507) एहतिहाती खुराक दी गई हैं। आज देर रात तक दिन की अंतिम रिपोर्ट तैयार होने के साथ दैनिक टीकाकरण के आंकड़ों में और बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। 

जनसंख्या के प्राथमिकता वाले समूहों के आधार पर टीके की खुराकों के कवरेज का निम्नलिखित तरीके से वर्गीकरण किया गया है:

 

 

 

 

टीके की खुराक का समग्र कवरेज

स्वास्थ्यकर्मी (एचसीडब्ल्यू)

पहली खुराक

10401595

दूसरी खुराक

9967653

एहतिहाती खुराक

4180854

अग्रिम मोर्चे के कार्यकर्ता (एफएलडब्ल्यू)

पहली खुराक

18409542

दूसरी खुराक

17443191

एहतिहाती खुराक

6231673

15-18 वर्ष का आयु वर्ग

पहली खुराक

54876416

 

दूसरी खुराक

27909986

18-44 वर्ष का आयु वर्ग

पहली खुराक

551851680

दूसरी खुराक

444586761

45-59 वर्ष का आयु वर्ग

पहली खुराक

202278996

दूसरी खुराक

180231553

60 वर्ष से अधिक

पहली खुराक

126416262

दूसरी खुराक

112260407

एहतिहाती खुराक

9671980

टीके की दी गई पहली खुराकों की कुल संख्या

964234491

टीके की दी गई दूसरी खुराकों की कुल संख्या

792399551

एहतिहाती खुराकों की संख्या

20084507

कुल

1776718549

टीकाकरण अभियान में आज की उपलब्धिजनसंख्या के प्राथमिकता वाले समूहों के आधार पर वर्गीकरण इस प्रकार हैः

 

 

दिनांकः 28 फरवरी 2022 (409 वां दिन)

स्वास्थ्यकर्मी (एचसीडब्ल्यू)

पहली खुराक

58

दूसरी खुराक

1244

एहतिहाती खुराक

9703

अग्रिम मोर्चे के कार्यकर्ता (एफएलडब्ल्यू)

पहली खुराक

88

दूसरी खुराक

1800

एहतिहाती खुराक

14220

15-18 वर्ष का आयु वर्ग

पहली खुराक

80632

 

दूसरी खुराक

415912

18-44 वर्ष का आयु वर्ग

पहली खुराक

99085

दूसरी खुराक

670285

45-59 वर्ष का आयु वर्ग

पहली खुराक

14290

दूसरी खुराक

142336

60 वर्ष से अधिक

पहली खुराक

12802

दूसरी खुराक

83149

एहतिहाती खुराक

48327

टीके की दी गई कुल पहली खुराक

206955

टीके की दी गई कुल दूसरी खुराक

1314726

एहतिहाती खुराक

72250

कुल

1593931

देश में सबसे ज्यादा जोखिम वाले आबादी समूहों को कोविड-19 से बचाने के एक उपकरण के रूप में इस टीकाकरण अभियान की उच्चतम स्तर पर नियमित रूप से समीक्षा और निगरानी की जाती है।


Comments